suryachoudhery

suryachoudhery

ना थके कभी पैर ना हिम्मत हारी है हौसला है जिंदगी में कुछ कर दिखाने का इसीलिए अभी भी सफर जारी हैं

  • Latest
  • Popular
  • Video

आज हम ऐसे समाज का हिस्सा हैं दोस्तो, जहां बाप की इज्जत बेटी के हाथो मे होती है, लेकिन बाप की जायदाद के कागज, बेटों के हाथो के होते है। ©suryachoudhery

#विचार #BookLife  आज हम ऐसे समाज का हिस्सा हैं दोस्तो,
जहां बाप की इज्जत बेटी के हाथो मे होती है,
लेकिन बाप की जायदाद के कागज,
बेटों के हाथो के होते है।

©suryachoudhery

#BookLife

13 Love

कमजोर व्यक्ति तब रूक जाते हैं जब वो थक जाते हैं और आगे नहीं चल पाते, लेकिन एक विजेता तभी रूकता है जब वो विजय हो जाता है। ©suryachoudhery

#विचार #Books  कमजोर व्यक्ति तब रूक जाते हैं जब वो थक जाते हैं और आगे नहीं चल पाते,
लेकिन एक विजेता तभी रूकता है जब वो विजय हो जाता है।

©suryachoudhery

#Books

17 Love

जिन्दगी का हर एक छोटा हिस्सा ही हमारी जिदंगी की सफ़लता का बड़ा हिस्सा होता है। ©suryachoudhery

#विचार #shaadi  जिन्दगी का हर एक छोटा हिस्सा ही
हमारी जिदंगी की सफ़लता का बड़ा हिस्सा होता है।

©suryachoudhery

#shaadi

17 Love

हंसी में छिपे खामोशियों को महसूस किया है I मैखाने में बुजुर्गों को भी जवान होते देखा है I हमने इन्शानो को जरुरत के बाद अनजान होते देखा है I क्यों भूल जाते है इंसान अपनी अस्तित्व पैसा आते ही I दुनियां ने बड़े - बड़े राज महराजा को फ़क़ीर होते देखा है ©suryachoudhery

#विचार #humantouch  हंसी में छिपे खामोशियों को महसूस किया है I
मैखाने में बुजुर्गों को भी जवान होते देखा है I
हमने इन्शानो को जरुरत के बाद अनजान होते देखा है I
क्यों भूल जाते है इंसान अपनी अस्तित्व पैसा आते ही I
दुनियां ने बड़े - बड़े राज महराजा को फ़क़ीर होते देखा है

©suryachoudhery

#humantouch

16 Love

गलती जीवन का एक पन्ना है लेकिन रिश्ता पूरी एक किताब है जरूरत पड़ने पर गलती का एक पन्ना फाड़ देना, लेकिन एक पन्ने के लिए पूरी किताब कभी ना खो देना… ©suryachoudhery

#विचार #Books  गलती जीवन का एक पन्ना है
लेकिन रिश्ता पूरी एक किताब है
जरूरत पड़ने पर गलती का एक
पन्ना फाड़ देना,
लेकिन एक पन्ने के
लिए पूरी किताब कभी ना खो देना…

©suryachoudhery

#Books

17 Love

छरहरी काया मेरी जाने कहाँ छूट गई छाने लगा मुझ पे मोटापा मेरे राम जी मारवाड़ी सेठ जैसा, पेट मेरा फूल गया कल को पड़े न कहीं छापा मेरे राम जी रसभरे बैन कहाँ, घर में भी चैन कहाँ खो न बैठूँ किसी दिन आपा मेरे राम जी ©suryachoudhery

#विचार  छरहरी काया मेरी जाने 

कहाँ छूट गई 

छाने लगा मुझ पे मोटापा 

मेरे राम जी 

मारवाड़ी सेठ जैसा, 

पेट मेरा फूल गया 

कल को पड़े न कहीं छापा 

मेरे राम जी 

रसभरे बैन कहाँ, घर 

में भी चैन कहाँ 

खो न बैठूँ किसी दिन आपा 

मेरे राम जी

©suryachoudhery

छरहरी काया मेरी जाने कहाँ छूट गई छाने लगा मुझ पे मोटापा मेरे राम जी मारवाड़ी सेठ जैसा, पेट मेरा फूल गया कल को पड़े न कहीं छापा मेरे राम जी रसभरे बैन कहाँ, घर में भी चैन कहाँ खो न बैठूँ किसी दिन आपा मेरे राम जी ©suryachoudhery

15 Love

Trending Topic