Tarani Nayak(disha Indian).

Tarani Nayak(disha Indian). Lives in Mainpur, Chhattisgarh, India

क्या हुआ की आज हम वृक्ष के फल की तरह नीचे गिर गये है।. याद रखना हमे एक दिन उसी गिरे हुए फल के बीज से अंकुरित एक विषाल वृक्ष बनना है।

  • Latest
  • Popular
  • Repost
  • Video

""

"वो हमपर अपना सारा प्यार लुटाती है कभी छुटकी कभी बच्चा तो कभी बेटा कहकर अपनापन दिखाती है उनकी रचनाएँ हमे कभी प्यार तो कभी साहस से लड़ना सिखाती है पर ना जाने वो अपने ही अंदर अपने सारे गम कैसे छुपा जाती है अपनी कलम से सच को सच बताने मे वो कभी नही कतराती है अक्सर इसलिए ही वो शेरनी कहलाती है। स्मिता❤️ ईशु दी को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएँ happy birthday di😊🎂🙏❤️ ©Tarani Nayak(disha Indian)."

वो हमपर अपना सारा प्यार लुटाती है
 कभी छुटकी कभी बच्चा तो कभी बेटा कहकर अपनापन दिखाती है
उनकी रचनाएँ हमे कभी प्यार तो कभी साहस से लड़ना सिखाती है
पर ना जाने वो अपने ही अंदर अपने सारे गम कैसे छुपा जाती है 
अपनी कलम से सच को सच बताने मे वो कभी नही कतराती है
अक्सर इसलिए ही वो शेरनी कहलाती है।


स्मिता❤️ ईशु दी को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएँ
happy birthday di😊🎂🙏❤️

©Tarani Nayak(disha Indian).

happy birthday Smita di🎂🙏❤️ @smita ❤️ ishu

132 Love
2 Share

"happy birthday sir in advance"

happy birthday sir in advance

happy birthday in advance sir जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएँ सर 🙏💐😊 @Mushtaq Taj Hashmi @Priya Gour @Govind Pandram @Kaleem Raza writer @Abdullah Qureshi @Naushad Ahmad @Vishal kumar "Vishal" @J P Lodhi. @Darshan Raj ........

180 Love
4.0K Views

""

"माना कि आज अंग्रेजी भाषा का बड़ा शोर है पर लोगो के जुबा पर हिन्दी के भी तो बोल है अंग्रेजी भाषा के सामने हिन्दी बोलने पर होती जिन्हे संकोच है याद रखना हमारी मातृभाषा हिन्दी ही सबसे अनमोल है भाषा को नही बल्कि इंसान को इंसान से बड़ने की एैसी होड़ है भाषा को हथियार बनाकर किसी को लाते आगे तो किसी को रखते पिछे की ओर है भाषा से आक कर किसी को कमजोर तो किसी को मजबुत कहना उनका भोर है भाषा पर आज तक ना किसी का कोई भी जोर है जब तक लोगो के मन में मातृभाषा के प्रति कोई भी शर्म या संकोच है तब तक मातृभाषा का संचार नही,ना ही बदलेगी भारत की कोई खोल है माना कि आज अंग्रेजी भाषा का बड़ा शोर है पर लोगो के जुबा पे हिन्दी के भी तो बोल है"

माना कि आज अंग्रेजी भाषा का बड़ा शोर है 
पर लोगो के जुबा पर हिन्दी के भी तो बोल है 

अंग्रेजी भाषा के सामने हिन्दी बोलने पर होती जिन्हे संकोच है
याद रखना हमारी मातृभाषा हिन्दी ही सबसे अनमोल है

भाषा को नही बल्कि इंसान को इंसान से बड़ने की एैसी होड़ है
भाषा को हथियार बनाकर किसी को लाते आगे 
तो किसी को रखते पिछे की ओर है 

भाषा से आक कर किसी को कमजोर
 तो किसी को मजबुत कहना उनका भोर है
भाषा पर आज तक ना किसी का कोई भी जोर है 

जब तक लोगो के मन में मातृभाषा के प्रति कोई भी शर्म या संकोच है 
तब तक मातृभाषा का संचार नही,ना ही बदलेगी भारत की कोई खोल है 

माना कि आज अंग्रेजी भाषा का बड़ा शोर है 
पर लोगो के जुबा पे हिन्दी के भी तो बोल है

#HindiDiwas2020
माना कि आज अंग्रेजी भाषा का बड़ा शोर है
पर लोगो के जुबा पर हिन्दी के भी तो बोल है.......#nojoto#Hindi

129 Love
1 Share

""

"उनकी रचनाएँ हर बार दे जाती, नई सी सीख है कलम उनकी वहा चलते,जहा देश की हीत है प्रकृती के सुन्दरता का चित्रण कर,समके मन मे भरते जो प्रीत है सामाजिक मुद्दा उठाकर अपने लेखनी से, उजागर करते समाज की चीख है उन्ही का आज जन्मदिन है,जो अपनी रचना का प्रतीक है जिंदगी के हर मोड पर मिले आपको जीत क्योंकि आपके जीत मे हमारी भी जीत है बस हमेशा खुश रहो भाई इस बहन के तरफ से आपको यही आशीष है जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएँ प्रतीक भाई 😊🎂💐"

उनकी रचनाएँ हर बार दे जाती, नई सी सीख है 
कलम उनकी वहा चलते,जहा देश की हीत है 
प्रकृती के सुन्दरता का चित्रण कर,समके मन मे भरते जो प्रीत है 
सामाजिक मुद्दा उठाकर अपने लेखनी से, उजागर करते समाज की चीख है
 उन्ही का आज जन्मदिन है,जो अपनी रचना का प्रतीक है 
जिंदगी के हर मोड पर मिले आपको जीत
 क्योंकि आपके जीत मे हमारी भी जीत है
बस हमेशा खुश रहो भाई इस बहन के तरफ से आपको यही आशीष है 


 जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएँ प्रतीक भाई 😊🎂💐

जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएँ प्रतीक भाई 😊🎂💐 I wish allweys success of your life and study #allweys be happy #nojoto #Hindi..... @PRATIK BHALA (pratik writes)

102 Love
1 Share

""

"शस्त्र भी उनके पास है,नितियां भी हजार है । नही वो कोई द्रोणाचार्य,ना वो चाणक्य के भाँति कोई महान है । ज्ञान रूपी दीपक से अपने,सबके जीवन को प्रकाशित करना उनका कार्य है साधरण सा दिखने वाला वो शख्स,हां वो शख्स मेरे आचार्य है। जो सरलता से सिखाते हमको, लगता था उनका सरल स्वभाव है। नही समझने पर सुधार सिंग कहकर छड़ी से,करते थे हथेली पर वार है। उस वार से हथेली पर ना होते थे कोई घाव है । पर हा डर से ही सही सिख जाते, वो सिखाना चाहते थे जो हर बात है । साधारण सा दिखने वाला वो शख्स,हां वो शख्स मेरे आचार्य है । Happy teachers day😊🙏💐"

शस्त्र भी उनके पास है,नितियां भी हजार है ।
नही वो कोई द्रोणाचार्य,ना वो चाणक्य के भाँति कोई महान है ।
ज्ञान रूपी दीपक से अपने,सबके जीवन को प्रकाशित करना उनका कार्य है 
साधरण सा दिखने वाला वो शख्स,हां वो शख्स मेरे आचार्य है।

जो सरलता से सिखाते हमको, लगता था उनका सरल स्वभाव है।
नही समझने पर सुधार सिंग कहकर छड़ी से,करते थे हथेली पर वार है।
उस वार से हथेली पर ना होते थे कोई घाव है ।
 पर हा डर से ही सही सिख जाते, वो सिखाना चाहते थे जो हर बात है ।
साधारण सा दिखने वाला वो शख्स,हां वो शख्स मेरे आचार्य है ।
   Happy teachers day😊🙏💐

#teachersday2020 happy teachers day💐😊🙏
#nojoto#Hindi साधारण सा दिखने वाला वो शख्स हां वो शख्स मेरे आचार्य है।........

136 Love
1 Share