Aashi Prajapati

Aashi Prajapati Lives in Varanasi, Uttar Pradesh, India

bnarsi bawaliya

  • Popular
  • Latest
  • Video

""

"ab afsos hai zindagi ke panno par 'pencil' se naa likh pane kaa... shyahi mitaa kar fir shuruaat nahi kar sakte.."

ab afsos hai zindagi ke panno par 'pencil' se naa likh pane kaa...

shyahi mitaa kar fir shuruaat nahi kar sakte..

#Pencil
#Nojoto
#Nojotochallenge
#Nojotowriting
#Hindi

89 Love

#nojoto
#nojotohindi
#nojotowriting
#nojotochallenge
#kavishala
#hindinama
#Aarakshan
#noj

84 Love

""

"अब समझ में नही आता कि इन्सान को इन्सान कैसे कहूँ? जो स्नान करे मिश्री-मेवे से और भूखे को बासी रोटी भी नसीब ना हो.. तो उसे भगवान कैसे कहूँ? और इन्सान को इन्सान कैसे कहूँ? जो आदमी घर के बरतन बेच जुआ खेल जाए और बच्चे बिन खाये खाली पेट सो जाए तो कैसे उस माँ की आँखें लहुलुहान ना कहूँ ? और इन्सान को इन्सान कैसे कहूँ? हर तरफ इज्जत-आबरू की लूट हुई पडी है... तो कैसे सबको हैवान ना कहूँ? और इन्सान को इन्सान कैसे कहूँ? हर चौराहे पर दंगे-फसाद हो रहें हैं तो कैसे उन्हें जातिवाद की कटार चलाने वाले शैतान ना कहूँ? और इन्सान को इन्सान कैसे कहूँ? हर ओर तो आरक्षण की लूट मची पडी है तो कैसे देश का भविष्य हैरान-परेशान ना कहूँ? और इन्सान को इन्सान कैसे कहूँ? गर नही थमा ये मंजर और चलती रही ये दरिंदगी तो कैसे इस लोक को शमशान ना कहूँ? और मुर्दे ही तो बसते हैं शमशानों में तो इन्सान को इन्सान कैसे कहूँ? ~आशी"

अब समझ में नही आता कि 
इन्सान को इन्सान कैसे कहूँ?

जो स्नान करे मिश्री-मेवे से
और भूखे को बासी रोटी भी नसीब ना हो..
तो उसे भगवान कैसे कहूँ?
और इन्सान को इन्सान कैसे कहूँ?

जो आदमी घर के बरतन बेच जुआ खेल जाए
और बच्चे बिन खाये खाली पेट सो जाए
तो कैसे उस माँ की आँखें लहुलुहान ना कहूँ ?
और इन्सान को इन्सान कैसे कहूँ?

हर तरफ इज्जत-आबरू की लूट हुई पडी है...
तो कैसे सबको हैवान ना कहूँ?
और इन्सान को इन्सान कैसे कहूँ?

हर चौराहे पर दंगे-फसाद हो रहें हैं 
तो कैसे उन्हें जातिवाद की कटार चलाने वाले शैतान ना कहूँ?
और इन्सान को इन्सान कैसे कहूँ?

हर ओर तो आरक्षण की लूट मची पडी है
तो कैसे देश का भविष्य हैरान-परेशान ना कहूँ?
और इन्सान को इन्सान कैसे कहूँ?

गर नही थमा ये मंजर
और चलती रही ये दरिंदगी 
तो कैसे इस लोक को शमशान ना कहूँ?
और मुर्दे ही तो बसते हैं शमशानों में 
तो इन्सान को इन्सान कैसे कहूँ?
~आशी

#Nojoto
#Nojotowritings
#Nojotohindi
#kavishala
#Nojotopoetry

61 Love

""

"तेरा नाम स्लेट पर लिखकर जब मिटाती हूँ...♡ अपने दिल में हर दफा तेरा नाम सजाती हूँ...♡ लोग कहते हैं मुझे तू बावली हो गयी है..♡ जब जब मैं तुझे सोच के मुस्काती हूँ...♡"

तेरा नाम स्लेट पर लिखकर जब मिटाती हूँ...♡
अपने दिल में हर दफा तेरा नाम सजाती हूँ...♡
लोग कहते हैं मुझे तू बावली हो गयी है..♡
जब जब मैं तुझे सोच के मुस्काती हूँ...♡


#Nojoto
#Nojotowriting
#kavishala
#Poetry
#Love
#tum

60 Love

#Nojoto
#Nojotokhabri
#Hindi
#kavishala
#Hindinama
#Love

58 Love
51 Views