Yogini Kajol Pathak

Yogini Kajol Pathak Lives in Jaunpur, Uttar Pradesh, India

इन दो नैनों की हद कुछ ना,ये देख सके आखिर कितना,? मेरे हिय की प्यास बुझी ना हरी,दे दो श्याम मोंहे दो और नैना..!🌹🌹

  • Popular
  • Latest
  • Repost
  • Video

""

"हम जैसे शख्शियत को भी बेजान कर दिया! मान गए इश्क तुमने कमाल कर दिया,!"

हम जैसे शख्शियत को भी बेजान कर दिया!
मान गए इश्क तुमने कमाल कर
 दिया,!

#i#thought#Hardening#people#cantbreaks#inlove#nojotoenglish#nojotoenglish# @Varsha Singh Baghel(शिल्पी) @Saurav Tiwari FAIZ 『A』LAM

80 Love
2 Share

#myvoice #no means no#Plz guys don't do it is not oky for Our society #बोलना तो होगा ही# @Khan Perfect💞 @Kapil Nayyar @Sachin Ahir @Varsha Singh Baghel(शिल्पी) @आशुतोष यादव

80 Love
1.9K Views

"वर्षा सिंह शिल्पी बघेल जी की एक प्यारी सी गजल,,!"

वर्षा सिंह शिल्पी बघेल जी की एक प्यारी सी गजल,,!

#zaruritha #Nojoto #nojotoshayri#gazal#wrriten by Varsha ji# @Varsha Singh Baghel(शिल्पी) @Saurav Tiwari @FAIZ 『A』LAM @Shikha Sharma @shivam tiwari

68 Love
1.8K Views

""

"वो तो आएगी ही आना उसका काम है जिसको वास्ता नहीं,,,, अच्छी -बुरी चींजों से हाँ,,,,,,,,,, उसी का नाम याद है,,! कड़वी हो,या हो" मीठी पर एक बात है, साहब "याद" होती बहुत लाजवाब है,।"

वो तो आएगी ही आना उसका काम है
जिसको वास्ता नहीं,,,,
अच्छी -बुरी चींजों से 
हाँ,,,,,,,,,,
उसी का नाम याद है,,!
कड़वी हो,या हो" मीठी पर एक बात है,
साहब "याद" होती बहुत लाजवाब है,।

#dearmamories# pooja negi# @"गुमनाम" @Sachin Ahir @Saurabh Pandit @Saurav Tiwari

63 Love

""

"नारी हो तुम, सृजन कर्ता हो तुम, ना सभ्यता का विनाश करो,! भविष्य पलता है आँचल में तुम्हारे, करके जग को प्रकाशित,उसका सुभाष करो! तुम संजीवनी समाज की, तुम ही संरचना करता हो, तुम युगो-युगों की द्योतक हो ,तुम ही काली दुर्गा हो! अरे कर्म की बड़ी सुभागिनी,नारी जन्म पाई हो, तुम जग की जननी,अरे तुम प्रकृति की जाई हो! बन उदन्ड ,बनकर उजड्ड ,ना अपना मान हरो, तुम गंगा-यमुना,सीता-अनुसईया हो,नाज करो! कभी देख तुम्हारी सादगी,मन देवो का भी हरता है, तुम सुन्दरता की मूरत हो,धन तुम्हारी लज्जा है! करुण रूदन की क्रन्दन हो,तुम हर्ष की चन्दन हो, तुम नूतन नवल नंदन हो,तुम वर्षा सी अभिनन्दन हो! कभी मन हर्षित हो जाता है,देख तुम्हारे मर्यादा को, हृदय कुपित हो जाता है,देख तुम्हारे अशिष्टता को! शिव तांडव ना कर बैठे,ये श्रृगांर तेरा न हर बैठे, तु प्रकृति की अदभुद देनी,स्वाभिमान ना तुमसे ले बैठे! जग में सबकी पराकाष्ठा है,माना की वीर बड़ी हो तुम, खोओ न दौलत सौम्य सी,बड़ी अनमोल धरोहर हो तुम! गंगा की निर्मल धार हो तुम,देवों के गले का हार हो तुम, संसार का सारा मान तुम,अदभुद अतुलनिय सार हो तुम,! मधुरता क्युँ खो देती हो,क्युँ मानहानि कर लेती हो,? क्युँ ममता जैसी मूरत को,कुरूप रुप दे देती हो !? खुद संरक्छण कर सको इतना बाहुबल तुम में है, मणिकर्णिका तुम,झलकारी तुम,दुर्गावती तुम में हैं, संसार सकल सुन्दरता,सहित समाहित तुम में हैं!! ---#Yogini kajol pathak"

नारी हो तुम, सृजन कर्ता हो तुम,
ना सभ्यता का विनाश करो,!
भविष्य पलता है आँचल में तुम्हारे,
करके जग को प्रकाशित,उसका सुभाष करो!
तुम संजीवनी समाज की, तुम ही संरचना करता हो,
तुम युगो-युगों की द्योतक हो ,तुम ही काली दुर्गा हो!
अरे कर्म की बड़ी सुभागिनी,नारी जन्म पाई हो,
तुम जग की जननी,अरे तुम प्रकृति की जाई हो!
बन उदन्ड ,बनकर उजड्ड ,ना अपना मान हरो,
तुम गंगा-यमुना,सीता-अनुसईया हो,नाज करो!
कभी देख तुम्हारी सादगी,मन देवो का भी हरता है,
तुम सुन्दरता की मूरत हो,धन तुम्हारी लज्जा है!
करुण रूदन की क्रन्दन हो,तुम हर्ष की चन्दन हो,
तुम नूतन नवल नंदन हो,तुम वर्षा सी अभिनन्दन हो!
कभी मन हर्षित हो जाता है,देख तुम्हारे मर्यादा को,
हृदय कुपित हो जाता है,देख तुम्हारे अशिष्टता को!
शिव तांडव ना कर बैठे,ये श्रृगांर तेरा न हर बैठे,
तु प्रकृति की अदभुद देनी,स्वाभिमान ना तुमसे ले बैठे!
जग में सबकी पराकाष्ठा है,माना की वीर बड़ी हो तुम,
खोओ न दौलत सौम्य सी,बड़ी अनमोल धरोहर हो तुम!
गंगा की निर्मल धार हो तुम,देवों के गले का हार हो तुम, 
संसार का सारा मान तुम,अदभुद अतुलनिय सार हो तुम,!
मधुरता क्युँ खो देती हो,क्युँ मानहानि कर लेती हो,?
क्युँ ममता जैसी मूरत को,कुरूप रुप दे देती हो !?
खुद संरक्छण कर सको इतना बाहुबल तुम में है,
मणिकर्णिका तुम,झलकारी तुम,दुर्गावती तुम में हैं,
संसार सकल सुन्दरता,सहित समाहित तुम में हैं!!

               ---#Yogini kajol pathak

plz#veins #Nojoto #Women #Culture #nojotohindi @Shivam Tiwari @Yishu Tiwari @Saurav Tiwari @आशुतोष यादव @Varsha Singh Baghel(शिल्पी) @Rajesh rajak #शोहरत आजकल लगभग हर जगह मिल जाते हैं लेकिन #सहूलियत कहीं कहीं देखने को मिलता है आज सुबह उठते ही बड़ी ही कर्कश आवाज कानों में पड़ी तो दिल ने कहा कि जरा देखा जाए क्या बात है, एक महिला की कर्कश आवाज ?बहुत गलत बात मैं किसी एक पक्ष की बात नहीं कर रही! हो सकता उस महिला के साथ गलत हुआ हो,जो हमारी धरोहर है सादगी से रहना वह बड़ी जरूरी चीज है! इस पर सवाल उठा रही ह

54 Love
1 Share