कवि आदेश दुबे

कवि आदेश दुबे Lives in Gyanpur, Uttar Pradesh, India

मैं एक कवि हूँ ,कविता है मेरी ज़िन्दगी। कल्पना है मेरी पुजा, पुजा है मेरी बंदगी।।

  • Latest
  • Popular
  • Video

""

"लालच में गई BJP का हो गया बंटाधार, शिवसेना भी लालच में ही की कांग्रेस से प्यार। लालच ने दो मित्रों के बीच खड़ी की दीवार, मित्र बना बैरी और बैरी बन गया खेवनहार।।"

लालच में गई BJP का हो गया बंटाधार, 
शिवसेना भी लालच में ही की कांग्रेस से प्यार। 
लालच ने दो मित्रों के बीच खड़ी की दीवार, 
मित्र बना बैरी और बैरी बन गया खेवनहार।।

दोस्त दुश्मन

7 Love
1 Share

""

"न्याय की आशा में मैं गया था ज्ञानपुर थाने, रिस्वतखोरो ने मुझे ही पहुचा दिया जेलखाने। वर्दी बिकी इमान बिका, टूटा मेरा सारा गुरुर, योगी तेरे शासन में भी, न्याय है मजबुर।।"

न्याय की आशा में मैं गया था ज्ञानपुर थाने,
रिस्वतखोरो ने मुझे ही पहुचा दिया जेलखाने।
वर्दी बिकी इमान बिका, टूटा मेरा सारा गुरुर,
योगी तेरे शासन में भी, न्याय है मजबुर।।

अन्याय

9 Love
1 Share

""

"बात कुर्सी की आती है तो इमान सबके डगमगाते हैं। शिवसेना ,बीजेपी ,कांग्रेस सभी अपनी जात दिखाते हैं।।"

बात कुर्सी की आती है तो इमान सबके डगमगाते हैं। 
शिवसेना ,बीजेपी ,कांग्रेस
सभी अपनी जात दिखाते हैं।।

राजनीति

9 Love
1 Share

जागीर

10 Love

""

"न माया मिली न राम ,कुर्सी के लिए संग्राम। लगा राष्ट्रपति शासन, सपना हुआ सिंहासन।।"

न माया मिली न राम ,कुर्सी के लिए संग्राम।
लगा राष्ट्रपति शासन, सपना हुआ सिंहासन।।

राजनीति

21 Love
1 Share