Akash Chandarana

Akash Chandarana

  • Latest
  • Video

""

"આપડે હંમેશા એજ જોઈએ કે બધા હસતા જ હોય છે. ક્યારે પણ આપડે એક વાર જોયું ને એ હસી ની પાછળ સુ છે. આજે આપડે બધા કોઈ ભી વસ્તુ લેવી હોય કે કામ કરવું હોય તો તરત કરી લઈએ છે કેમ કે આપડી પાસે પૈસા છે. પણ આપડે એ ગરીબ લોકો ને ભૂલી જઈએ છીએ જે લોકો પાસે પૈસા નથી ના રેહવા માટે ઘર. એ લોકો ભી ખુશ જ હોય છે. આપડે એક મિત્ર ની સમસ્યા પણ નથી સમજી સકતા. હા બોલવા માં આપડે મિત્ર છીએ પણ જ્યારે જરૂર હોય ત્યારે આપડે આપડા કામ માં હોઈએ. જો આજના યુગમાં આપડે સાચે ખુશ રેહવું હોઈ તો આપડે એક બીજાને જરૂરી હોય ત્યારે મદદ કરીએ. આપડે એક ગરીબ માણસ ની મદદ કરીએ અને પછી જોવો કે એ માણસ ના ચેહરા પર ની મુસ્કાન કેટલી અનમોલ હસે આપડા માટે. આ દુનિયા માં એક મિત્ર ની મદદ કરીને જોઈએ તો આપડે કેટલી ખુશી થશે. હંમેશા આપડે બીજાનો સાથ આપીને કેટલા ખુશ થઈએ. આજે બસ ખાલી એક સ્માઈલ થી એક બીજાને ઓળખી શકીએ. બસ આપડી એક મુસ્કાન બીજા લોકો માટે કેટલું સારું કામ કરી શકે. આપડે એ યાદ રાખવાનું કે હંમેશા આપડે ખુશ હોઈએ તો બીજાને ભી ખુશ કરીએ. એમના દુઃખ સમજીને એમનો સાથ આપીએ. આપડે આજથી એવું વિચારીએ કે હંમેશા જે લોકો ને ભુ મળીયે અજાણતા ભી આપડા થી એમનું દિલ ના દુખે. હમેશા સાથે રહીએ. એક બીજાને સમજીએ."

આપડે હંમેશા એજ જોઈએ કે બધા હસતા જ હોય છે. ક્યારે પણ આપડે એક વાર જોયું ને એ હસી ની પાછળ સુ છે. આજે આપડે બધા કોઈ ભી વસ્તુ લેવી હોય કે કામ કરવું હોય તો તરત કરી લઈએ છે કેમ કે આપડી પાસે પૈસા છે. પણ આપડે એ ગરીબ લોકો ને ભૂલી જઈએ છીએ જે લોકો પાસે પૈસા નથી ના રેહવા માટે ઘર. એ લોકો ભી ખુશ જ હોય છે. આપડે એક મિત્ર ની સમસ્યા પણ નથી સમજી સકતા. હા બોલવા માં આપડે મિત્ર છીએ પણ જ્યારે જરૂર હોય ત્યારે આપડે આપડા કામ માં હોઈએ. જો આજના યુગમાં આપડે સાચે ખુશ રેહવું હોઈ તો આપડે એક બીજાને જરૂરી હોય ત્યારે મદદ કરીએ. આપડે એક ગરીબ માણસ ની મદદ કરીએ અને પછી જોવો કે એ માણસ ના ચેહરા પર ની મુસ્કાન કેટલી અનમોલ હસે આપડા માટે. આ દુનિયા માં એક મિત્ર ની મદદ કરીને જોઈએ તો આપડે કેટલી ખુશી થશે. હંમેશા આપડે બીજાનો સાથ આપીને કેટલા ખુશ થઈએ.  આજે બસ ખાલી એક સ્માઈલ થી એક બીજાને ઓળખી શકીએ. બસ આપડી એક મુસ્કાન બીજા લોકો માટે કેટલું સારું કામ કરી શકે. આપડે એ યાદ રાખવાનું કે હંમેશા આપડે ખુશ હોઈએ તો બીજાને ભી ખુશ કરીએ. એમના દુઃખ સમજીને એમનો સાથ આપીએ. 

આપડે આજથી એવું વિચારીએ કે હંમેશા જે લોકો ને ભુ મળીયે અજાણતા ભી આપડા થી એમનું દિલ ના દુખે. હમેશા સાથે રહીએ. એક બીજાને સમજીએ.

#alone

3 Love
1 Share

""

"Smile (હસી) આજના યુગમાં આપડે એવા ઘણાં લોકો ને મળીયે છીએ જે લોકો હંમેશા હસતા જોવા મળે છે. લોકો ના ચેહરા ઉપર એક હસી જોઈએ છીએ. પણ આપડે ક્યારે એ નથી વિચાર કરતા કે હંમેશા ચેહરા પર કેમ હસી જ હોય છે. આપડે એવું લાગે કે સામે વરો માણસ ખુશ છે, કોઈ ચિંતા જ નથી. આપડે આપડા મિત્રો ને ભી હસતા જોઈએ છીએ હંમેશા. પણ ક્યારે આપડે એ જાણવા ની કોશિશ કરી કે ક્યારેક એ હસતા ચેહરા ની પાછળ ક્યાઈ કોઈ દુઃખ તો છુપાયેલ નથી ને. ક્યારે આપડે એમની આંખો માં દેખાતું દુઃખ જોયું જ નથી. આપડે હંમેશા નાની નાની વાતો પર ખુશ થતા હોઈએ છીએ. આપડે જ્યારે કોઈ જોડે વાત કરીએ ત્યારે અજાણતા આપડાથી એવું બોલાઈ જાય છે કે સામે વારા ને ખોટું લાગી જાય તો પણ એ આપડા માટે એ વાર ને ભૂલીને હસે છે પણ આપડે ક્યારે એ નથી વિચાર કરતા કે સામે સુ થયું હસે. TO BE CONTINUED."

Smile (હસી)
આજના યુગમાં આપડે એવા ઘણાં લોકો ને મળીયે છીએ જે લોકો હંમેશા હસતા જોવા મળે છે. લોકો ના ચેહરા ઉપર એક હસી જોઈએ છીએ. પણ આપડે ક્યારે એ નથી વિચાર કરતા કે હંમેશા ચેહરા પર કેમ હસી જ હોય છે. આપડે એવું લાગે કે સામે વરો માણસ ખુશ છે, કોઈ ચિંતા જ નથી. આપડે આપડા મિત્રો ને ભી હસતા જોઈએ છીએ હંમેશા. પણ ક્યારે આપડે એ જાણવા ની કોશિશ કરી કે ક્યારેક એ હસતા ચેહરા ની પાછળ ક્યાઈ કોઈ દુઃખ તો છુપાયેલ નથી ને. ક્યારે આપડે એમની આંખો માં દેખાતું દુઃખ જોયું જ નથી. 
 
આપડે હંમેશા નાની નાની વાતો પર ખુશ થતા હોઈએ છીએ. આપડે જ્યારે કોઈ જોડે વાત કરીએ ત્યારે અજાણતા આપડાથી એવું બોલાઈ જાય છે કે સામે વારા ને ખોટું લાગી જાય તો પણ એ આપડા માટે એ વાર ને ભૂલીને હસે છે પણ આપડે ક્યારે એ નથી વિચાર કરતા કે સામે સુ થયું હસે.

 TO BE CONTINUED.

smile

#alone

5 Love
1 Share

""

"वक़्त। आज शायद हम उस राह पर खड़े है जहां किसीके पास वक़्त नहीं। अगर वक़्त है तो सिर्फ अपने लिए। अपनी खुशियों के लिए अपनी तमन्नवो के लिए। खुद के लिए। आज कहने को तो एक पूरा परिवार साथ रहता है लेकिन अगर हम देखे तो वो सिर्फ एक नाम के लिए साथ है। अपने दोस्तो और समाज को दिखाने के लिए साथ है। लेकिन देखे तो पता चले के सब अपने काम में व्यस्त है। कोन कहा है क्या कर रहा है किसी को पता नहीं होता। आज हम सब वक़्त की इहमियत को भूल चुके है। पहले एक समय था जब हम एक दूसरे के पास बैठकर अपने सुख दुःख की बाते करते और आज एक समय है के हम साथ बैठकर भी एक दूसरे से अलग हो चुके है। पहले हम दूसरो के सुख दुःख मै हिस्सा बनकर उनके साथ अपने सुख दुःख बांटते और एक दूसरे को कठिन परिस्थिति में साथ देते। और आज हमे ये भी पता नहीं होता के हमारे पड़ोस में कोन रहता है या क्या चल रहा है। आज अगर हमारे पास वक़्त है तो वो सिर्फ हमारे लिए। दिन भर हाथ में फोन लिए बाते करते है। किसी के पास बैठकर बात तक करने का समय नहीं है हमारे पास। यहां तक कि अपने परिवार से भी फोन से बाते होती है। हम सब को मिलकर अपने उस वक़्त को याद करना चाहिए जब खुशी सिर्फ एक घरमे नहीं बल्कि पूरे मोहले मै आती थी। आज शायद हम उस समय को भूल चुके है। लेकिन हा हमें ये भी याद रखना है के हम समय को भूल सकते है लेकिन समय हमें कभी नहीं भूल सकता। हमें फिरसे वक़्त की कदर करना सीखना पड़ेगा वरना एक दिन ऐसा आएगा के हमारे पास सब कुछ होगा लेकिन हम हमारे परिवार को और उनके साथ बिताए हुए वक़्त को फिरसे नहीं पा सकेंगे। आज भी हमारे पास वक़्त है के हम थोड़ी देर अपने परिवार के साथ बैठे और बाते करे। अगर हम ऐसा नहीं कर सकते तो आने वाले भविष्य मै हम इसी समय के लिए तरसेंगे लेकिन तब हमारे हाथ से हमारा वक़्त निकल चुका होगा।"

वक़्त। 
आज शायद हम उस राह पर खड़े है जहां किसीके पास वक़्त नहीं। अगर वक़्त है तो सिर्फ अपने लिए। अपनी खुशियों के लिए अपनी तमन्नवो के लिए। खुद के लिए। आज कहने को तो एक पूरा परिवार साथ रहता है लेकिन अगर हम देखे तो वो सिर्फ एक नाम के लिए साथ है। अपने दोस्तो और समाज को दिखाने के लिए साथ है। लेकिन देखे तो पता चले के सब अपने काम में व्यस्त है। कोन कहा  है क्या कर रहा है किसी को पता नहीं होता। आज हम सब वक़्त की इहमियत को भूल चुके है। पहले एक समय था जब हम एक दूसरे के पास बैठकर अपने सुख दुःख की बाते करते और आज एक समय है के हम साथ बैठकर भी एक दूसरे से अलग हो चुके है। पहले हम दूसरो के सुख दुःख मै हिस्सा बनकर उनके साथ अपने सुख दुःख बांटते और एक दूसरे को कठिन परिस्थिति में साथ देते। और आज हमे ये भी पता नहीं होता के हमारे पड़ोस में कोन रहता है या क्या चल रहा है। आज अगर हमारे पास वक़्त है तो वो सिर्फ हमारे लिए। दिन भर हाथ में फोन लिए बाते करते है। किसी के पास बैठकर बात तक करने का समय नहीं है हमारे पास। यहां तक कि अपने परिवार से भी फोन से बाते होती है। 
हम सब को मिलकर अपने उस वक़्त को याद करना चाहिए जब खुशी सिर्फ एक घरमे नहीं बल्कि पूरे मोहले मै आती थी। आज शायद हम उस समय को भूल चुके है। लेकिन हा हमें ये भी याद रखना है के हम समय को भूल सकते है लेकिन समय हमें कभी नहीं भूल सकता। हमें फिरसे वक़्त की कदर करना सीखना पड़ेगा वरना एक दिन ऐसा आएगा के हमारे पास सब कुछ होगा लेकिन हम हमारे परिवार को और उनके साथ बिताए हुए वक़्त को फिरसे नहीं पा सकेंगे। आज भी हमारे पास वक़्त है के हम थोड़ी देर अपने परिवार के साथ बैठे और बाते करे। अगर हम ऐसा नहीं कर सकते तो आने वाले भविष्य मै हम इसी समय के लिए तरसेंगे लेकिन तब हमारे हाथ से हमारा वक़्त निकल चुका होगा।

वक़्त

#reading

7 Love

""

"काश वो मेरे साथ होते। हमारे जीवन में ना जाने कितने ही लोग आते है और जाते है। कोई होता है जो हमेशा याद रहता है चाहे अच्छे के लिए या बुरे के लिए। लेकिन कुछ लोग ऐसे होते हो जो हमारे लिए सबसे बढ़कर दुनिया से बढ़कर होते है। हम चाहे या ना चाहे लेकिन उनके ना होने पर हमें ऐसा लगता है के जैसे हम एकेले हो गए है। हमारा कोई नहीं है साथ देने के लिए और तब हम बोलते है के काश वो मेरे साथ होते। आज इंसान उस जगह पर जहा उसे सिर्फ अपनी खुशियों का ख्याल है बस उसे अपने सिवाय किसी और के बारे में ना सोचना है ना सुनना है। लेकिन जभी वो इंसान खुद को एकेला पाएगा तब उसे अपने सबसे अच्छे दोस्त या उसी साथी की याद आएगी जिससे वो दूर हो चुका हो। तब शायद वो एक ही बात बोलेगा के काश वो मेरे साथ होते। हमे अब सिर्फ यही करना के हम चाहे जो करे लेकिन हमेशा उस इंसान को इहमियत दे जो हमारे लिए हमेशा तैयार हो। चाहे हमारे दुख मै हो या सुख मै। उस इंसान की कद्र करना सीखना चाहिए जो हमारे साथ हो हमारे पास हो हमारे दिल में हो। क्युकी शायद कभी ये दिन ना आए के हम सबसे अमीर बने गए या हमने अपने सपने पूरे किए और खुशियां पाली लेकिन एक ऐसे इंसान को खो बैठे जिसके ना होने पर हमें अपने सफल होने पर गर्व ना हो और बस एक ही बात सोचे और बोले के काश वो मेरे साथ होते।"

काश वो मेरे साथ होते। 
हमारे जीवन में ना जाने कितने ही लोग आते है और जाते है। कोई होता है जो हमेशा याद रहता है चाहे अच्छे के लिए या बुरे के लिए। लेकिन कुछ लोग ऐसे होते हो जो हमारे लिए सबसे बढ़कर दुनिया से बढ़कर होते है। हम चाहे या ना चाहे लेकिन उनके ना होने पर हमें ऐसा लगता है के जैसे हम एकेले हो गए है। हमारा कोई नहीं है साथ देने के लिए और तब हम बोलते है के काश वो मेरे साथ होते।

आज इंसान उस जगह पर जहा उसे सिर्फ अपनी खुशियों का ख्याल है बस उसे अपने सिवाय किसी और के बारे में ना सोचना है ना सुनना है। लेकिन जभी वो इंसान खुद को एकेला पाएगा तब उसे अपने सबसे अच्छे दोस्त या उसी साथी की याद आएगी जिससे वो दूर हो चुका हो। तब शायद वो एक ही बात बोलेगा के काश वो मेरे साथ होते। 

हमे अब सिर्फ यही करना के हम चाहे जो करे लेकिन हमेशा उस इंसान को इहमियत दे जो हमारे लिए हमेशा तैयार हो। चाहे हमारे दुख मै हो या सुख मै। उस इंसान की कद्र करना सीखना चाहिए जो हमारे  साथ हो हमारे पास हो हमारे दिल में हो। क्युकी शायद कभी ये दिन ना आए के हम सबसे अमीर बने गए या हमने अपने सपने पूरे किए और खुशियां पाली लेकिन एक ऐसे इंसान को खो बैठे जिसके ना होने पर हमें अपने सफल होने पर गर्व ना हो और बस एक ही बात सोचे और बोले के काश वो मेरे साथ होते।

काश वो मेरे साथ होते

#flood

5 Love
1 Share

""

"बारिश। जभी कभी बारिश आती है कुछ रंग ऐसे लाती है के जैसे कोई बरसो बाद अपने घर आया हो। जैसे ही बरसात की बूंदे जमीन को छूती है तो उसके गिरने से एक मधुर आवाज सुनाई देती हैं। पता नई क्या होता है उस वक़्त हमें लेकिन जैसे बारिश की बूंदों को देखते ही मोर का मन नाचने का होता है वैसे ही हमारे दिल में एक अलग से खुशी होती है। ऐसा लगने लगता है के सारे बंधन तोड़ के बस हम भी उसी तरह नाचने झूमने लगे। जब पक्षियों की चेहकने की आवाज सुनाई देती है हम अपना ध्यान उसी मै लगाकर कहीं दूसरी दुनिया मै खो जाते है। बारिश एक ऐसी ऋतु है जहां हम फिर्से सबकुछ भूलकर अपने बचपन में चले जाते है। हमारा मन फिर्से छोटा बनकर दिल खोलकर खेलना चाहता है। ऐसा लगता है जैसे मानो हम कहीं दूसरी दुनिया मै चले गए हो । वो मिट्टी की भीनी खुशबू जो हमें हमारे मिट्टी के और करीब ले जाती है। वो सब जगह हरियाली आना और चारो तरफ से गुजरते पवन की आवाजे मानो लगता है के कुदरत एक मीठा मधुर संगीत सुना रही है और हम बस सुनते ही रहे कभी खत्म ना हो। अंत में मै सिर्फ यही बोलना चाहता हूं के हमें ऊपरवाले की दी हुई इस खूबसूरत दुनिया को हमेशा इसी तरह रखनी चाहिए नहीं तो आज हम जिस बारिश मै अपने बचपन को याद करके झूमते है कहीं ऐसा ना हो जाए के भविष्य में हम इसी खूबसूरती के लिए तरसते रहे।"

बारिश।
जभी कभी बारिश आती है कुछ रंग ऐसे लाती है के जैसे कोई बरसो बाद अपने घर आया हो। 
जैसे ही बरसात की बूंदे जमीन को छूती है तो उसके गिरने  से एक मधुर आवाज सुनाई देती हैं। पता नई क्या होता है उस वक़्त हमें लेकिन जैसे बारिश की बूंदों को देखते ही मोर का मन नाचने का होता है वैसे ही हमारे दिल में एक अलग से खुशी होती है। ऐसा लगने लगता है के सारे बंधन तोड़ के बस हम भी उसी तरह नाचने झूमने लगे। 

जब पक्षियों की चेहकने की आवाज सुनाई देती है हम अपना ध्यान उसी मै लगाकर कहीं दूसरी दुनिया मै खो जाते है। बारिश एक ऐसी ऋतु है जहां हम फिर्से सबकुछ भूलकर अपने बचपन में चले जाते है। 

हमारा मन फिर्से छोटा बनकर दिल खोलकर खेलना चाहता है। ऐसा लगता है जैसे मानो हम कहीं दूसरी दुनिया मै चले गए हो । वो मिट्टी की भीनी खुशबू जो हमें हमारे मिट्टी के और करीब ले जाती है। वो सब जगह हरियाली आना और चारो तरफ  से गुजरते पवन की आवाजे मानो लगता है के कुदरत एक मीठा मधुर संगीत सुना रही है और हम बस सुनते ही रहे कभी खत्म ना हो। 
अंत में मै सिर्फ यही बोलना चाहता हूं के हमें ऊपरवाले की दी हुई इस खूबसूरत दुनिया को हमेशा इसी तरह रखनी चाहिए नहीं तो आज हम जिस बारिश मै अपने बचपन को याद करके झूमते है कहीं ऐसा ना हो जाए के भविष्य में हम इसी खूबसूरती के लिए तरसते रहे।

बारिश

#peace

9 Love
1 Share