Suresh सिंह کٹوچ

Suresh सिंह کٹوچ Lives in Tokyo, Tokyo, Japan

Philosophical_Economist, Journalist, Writer, Poet, Current Affairs Analyst

  • Popular
  • Latest
  • Repost
  • Video

""

"I stand in full support of #DomicileLaw Survival of the Fittest👍 #Corruption👎 #FakeDegrees👎 #ModiJi #Salute🙋‍♂️ J&K against #Corruption, #Nepotism #Inequality #Arbitrariness #जयहिन्द 🇮🇳🇮🇳🇮🇳"

I stand in full support of #DomicileLaw
Survival of the Fittest👍
#Corruption👎
#FakeDegrees👎
#ModiJi #Salute🙋‍♂️
J&K against #Corruption, #Nepotism
#Inequality
#Arbitrariness 
#जयहिन्द 🇮🇳🇮🇳🇮🇳

 

17 Love
3 Share

""

"When I go far away ************* I find myself in a better way A journey starts into my heart And then the heart beats a lot But feels a little lost. It sings & rings And then it makes a lot of strings A joy & a frustration it brings Joy for all it possesses And frustration for what it desired but somehow missed. It plummets & then resurrects Then suddenly it acts And then reacts. A pall of gloom & then again a joy & bloom A sort of mixed emotions & commotions And this all nothing but imaginations. Still what is there And what I can't bear Is something rare A different kind of feeling And that too without any sealing. Come on yaar Don't go so far, comes, a lone voice from deep inside the heart, And then it rips me apart, isolated a lot. I make a new start. I travel back Travelling back on the same track, I face a lot of flack Optionless, but I take no smack Just give a click to my mind A little, I rescind my heart And then I find myself over again! 〰️©️Aakash✍(P.11/2020)"

When I go far away
      *************
I find myself in a better way
A journey starts into my heart
And then the heart beats a lot 
But feels a little lost.

It sings & rings
And then it makes a lot of strings
A joy & a frustration it brings
Joy for all it possesses 
And frustration for what it desired but somehow missed.

It plummets & then resurrects
Then suddenly it acts
And then reacts.
A pall of gloom & then again a joy & bloom
A sort of mixed emotions & commotions 
And this all nothing but imaginations.

Still what is there
And what I can't bear 
Is something rare
A different kind of feeling 
And that too without any sealing.

Come on yaar
Don't go so far, 
comes, a lone voice from deep inside the heart,
And then it rips me apart, isolated a lot.
I make a new start.

I travel back 
Travelling back on the same track, I face a lot of flack
Optionless, but I  take no smack
Just give a click to my mind
A little, I rescind my heart
And then I find myself over again!

〰️©️Aakash✍(P.11/2020)

When I go far away
By ✍️SSK✍️

12 Love

""

"मेरे शहर में ये सन्नाटा क्यों है यार इन गलियों में हर शख्स क्यों है लाचार वो चहल पहल कहाँ खो गयी किसने किया ये अत्याचार। वो चहक्ते चहरे मुरछित से क्यों नज़र आ रहे बताए तो कोई दिलदार। मेरे शहर में चहकती थीं जो चिड़ियाँ वो आज शोक सन्तपत क्यों दिखती हैं चिड़ियाँ। ये कोरोना का कहर हुआ है कैसा क्यों फैला है मेरे शहर में सन्नाटा ऐसा? ये सन्नाटा जो फैला है ऐसा, मेरे शहर के मजदूरों के पास नहीं है काम और न पैसा। मेरे आका तुने डहाया है ये कहर कैसा तुने क्यों कर दिया है हमें लाचार ऐसा। मेरे शहर में जो फैला है ये घौर सन्नाटा अब तो हर शख़्स दूर से कर रहा है टाटा। अपने अपनों से दूर हो गये हैं देखो मेरे शहर में लोग कोरोना से कितने मजबूर हो गया हैं। अब तो कुछ समझ नहीं आता औ मेरे दाता कोरोना फैलाएगा ऐसा सन्नाटा, ये तो आकाश भी समझ नहीं पाता। ~©️Ãâķãşh"

मेरे शहर में ये सन्नाटा क्यों है यार 
इन गलियों में हर शख्स क्यों है लाचार 

वो चहल पहल कहाँ खो गयी
किसने किया ये अत्याचार। 

वो चहक्ते चहरे मुरछित से क्यों नज़र आ रहे
बताए तो कोई दिलदार। 

मेरे शहर में चहकती थीं जो चिड़ियाँ 
वो आज शोक सन्तपत क्यों दिखती हैं चिड़ियाँ। 

ये कोरोना का कहर हुआ है कैसा 
क्यों फैला है मेरे शहर में सन्नाटा ऐसा?

ये सन्नाटा जो फैला है ऐसा, 
मेरे शहर के मजदूरों के पास नहीं है काम और न पैसा।

मेरे आका तुने डहाया है ये कहर कैसा 
तुने क्यों कर दिया है हमें लाचार ऐसा। 

मेरे शहर में जो फैला है ये घौर सन्नाटा 
अब तो हर शख़्स दूर से कर रहा है टाटा।

अपने अपनों से दूर हो गये हैं 
देखो मेरे शहर में लोग कोरोना से कितने मजबूर हो गया हैं। 

अब तो कुछ समझ नहीं आता औ मेरे दाता 
कोरोना फैलाएगा ऐसा सन्नाटा, ये तो आकाश भी समझ नहीं पाता।

~©️Ãâķãşh

 

10 Love
5 Share

""

"When I go far away ************* I find myself in a better way A journey starts into my heart And then the heart beats a lot But feels a little lost. It sings & rings And then it makes a lot of strings A joy & a frustration it brings Joy for all it possesses And frustration for what it desired but somehow missed. It plummets & then resurrects Then suddenly it acts And then reacts. A pall of gloom & then again a joy & bloom A sort of mixed emotions & commotions And this all nothing but imaginations. Still what is there And what I can't bear Is something rare A different kind of feeling And that too without any sealing. Come on yaar Don't go so far, comes, a lone voice from deep inside the heart, And then it rips me apart, isolated a lot. I make a new start. I travel back Travelling back on the same track, I face a lot of flack Optionless, but I take no smack Just give a click to my mind A little, I rescind my heart And then I find myself over again! 〰️©️Aakash✍(P.11/2020)"

When I go far away
      *************
I find myself in a better way
A journey starts into my heart
And then the heart beats a lot 
But feels a little lost.

It sings & rings
And then it makes a lot of strings
A joy & a frustration it brings
Joy for all it possesses 
And frustration for what it desired but somehow missed.

It plummets & then resurrects
Then suddenly it acts
And then reacts.
A pall of gloom & then again a joy & bloom
A sort of mixed emotions & commotions 
And this all nothing but imaginations.

Still what is there
And what I can't bear 
Is something rare
A different kind of feeling 
And that too without any sealing.

Come on yaar
Don't go so far, 
comes, a lone voice from deep inside the heart,
And then it rips me apart, isolated a lot.
I make a new start.

I travel back 
Travelling back on the same track, I face a lot of flack
Optionless, but I  take no smack
Just give a click to my mind
A little, I rescind my heart
And then I find myself over again!

〰️©️Aakash✍(P.11/2020)

When I go far away
By ✍️SSK✍️

10 Love
2 Share

""

"एक सैनिक के दुख *** एक सैनिक के दुख का क्या बखान करूँ, वो देश की सुरक्षा में तैनात था, उसके जाने का क्या शौक करूँ। वो छौड़ कर गया था अपनी सुख सुविधाऐं, उसके बलिदान का क्या व्रतांत करूँ। एक सैनिक था वो, सैनानी की तरह लड़ा था वो, दुश्मनों की नापाक साज़िश को नाकाम करने को खड़ा था वो। देख कर दुश्मन को सामने वो हारा नहीं था, वो खूब लड़ा था और उसने कही दुश्मनों को मारा था। लगी थी जब गोली उसकी छाती को, फिर भी शूरवीर ने मारा था विश्वासगाती को। जब पुरा हुआ था उसका अभियान, तब त्यागे थे उसने अपने प्राण बढ़ाकर भारत का स्वाभिमान। उस सैनिक के दुख का क्या करूँ मैं बखान, आकाश से ऊंचा है जिसका आत्मसम्मान। एक सैनिक के दुख का क्या बखान करूँ, वो देश की सुरक्षा में तैनात था, उसके जाने का क्या शौक करूँ। #जयजवान #जयहिन्द🇮🇳🇮🇳🇮🇳 ~©️Âãķâşh✍(P.13/2020)"

एक सैनिक के दुख 
        ***
एक सैनिक के दुख का क्या बखान करूँ, 
वो देश की सुरक्षा में तैनात था, उसके जाने का क्या शौक करूँ। 

वो छौड़ कर गया था अपनी सुख सुविधाऐं,
उसके बलिदान का क्या व्रतांत करूँ। 

एक सैनिक था वो, सैनानी की तरह लड़ा था वो,
दुश्मनों की नापाक साज़िश को नाकाम करने को खड़ा था वो।

देख कर दुश्मन को सामने वो हारा नहीं था,
वो खूब लड़ा था और उसने कही दुश्मनों को मारा था।

लगी थी जब गोली उसकी छाती को,
फिर भी शूरवीर ने मारा था विश्वासगाती को।

जब पुरा हुआ था उसका अभियान, 
तब त्यागे थे उसने अपने प्राण बढ़ाकर भारत का स्वाभिमान। 

उस सैनिक के दुख का क्या करूँ मैं बखान, 
आकाश से ऊंचा है जिसका आत्मसम्मान। 

एक सैनिक के दुख का क्या बखान करूँ, 
वो देश की सुरक्षा में तैनात था, उसके जाने का क्या शौक करूँ। 
#जयजवान #जयहिन्द🇮🇳🇮🇳🇮🇳

~©️Âãķâşh✍(P.13/2020)

#SSK_Writes✍✍✍ #Poetry

PS: Dedicated to 05 #Handwara Martyrs: #Colonel_Ashutosh_Sharma, #Major_Anuj_Sood, #Naik_Rajesh,
#LanceNaik_Dinesh, & #SI_Shakeel_Qazi
who laid their lives (while trying to rescue the #Ungratefuls) in the service of the nation....‼‼‼ #जयहिन्द 🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳

10 Love