दीपक तिवारी

दीपक तिवारी

हूं मैं बेसुध , सा शायर न कुछ होस हैं रोता हूं तब से , जब से हस्ना शिखा सबने है जालिम ये दिल्लगी , अफसोस है।

  • Latest
  • Video

""

"वक़्त को संभालना तो आसान है वक़्त पे वो हर काम करो , जो कल पे डालना है। वो वक़्त तुम्हारा होगा"

वक़्त को संभालना तो आसान है
वक़्त पे वो हर काम करो , जो कल पे डालना है।
वो वक़्त तुम्हारा होगा

#वक़्त

6 Love

#not_for_all
#but_yes_fir_some_it_is

3 Love
9 Views

#saath
मेरे साथ जब तेरा साथ होता है,
यारी तो है ही , मगर कुछ अपनों वाली बात होता है।
ऐ मेरी नसीब शुक्रिया तेरा , जो जिना सीखा हमने एक दुसरे से , यही तो जीने का अंदाज़ होता है।

5 Love

""

"ज़िन्दगी के इस पन्ने पर यू साफ-साफ है, कोई न होता इस होता इस मिट्टी पे अपना , अपने तो होते सिर्फ #maa-baap हैं। 🥰"

ज़िन्दगी के इस पन्ने पर यू  साफ-साफ है,
कोई न होता इस होता इस मिट्टी पे अपना ,
अपने तो होते सिर्फ #maa-baap हैं। 🥰

😘#मा_बाप 😍
☺️#ज़िन्दगी 🥰

7 Love

"#teri_bewafai"

#teri_bewafai

#teri_bewfai😔

6 Love
30 Views