Ranjeet Kumar Sinha

Ranjeet Kumar Sinha

  • Popular
  • Latest
  • Video

""

"मैं तो तुम्हारे पाओ के निशान उस रेत पर खोजा करता था जिसरेत पर कभी धूल के सिबा औऱ कुछ हासिल न हो सका औऱ मैं तुम्हें उस रेत की धुल मे खोजा करता था रंजीत"

मैं तो तुम्हारे पाओ के निशान उस रेत पर खोजा करता था जिसरेत पर कभी धूल के सिबा औऱ कुछ हासिल न हो सका औऱ मैं तुम्हें उस रेत की धुल मे खोजा करता था  


रंजीत

मैंने तुम्हें उस धूल मे खोजा जिसे कभी उस रेत से कुछ हासिल न हो सका

11 Love

""

"हम तो उस हबा के झोखो से बात किया करते थे जिस झोखो के आने से लोग अपना रास्ता बदल दिया करते थे इस बारिश की बूंदो मे तेरी लिपटे तो आज भी उठा काटती है जैसे समुन्दर मे सैलाब उठा करती है"

हम तो उस हबा के झोखो से बात किया करते थे जिस झोखो के आने से लोग अपना रास्ता बदल दिया करते थे

इस बारिश की बूंदो मे तेरी लिपटे तो आज भी उठा काटती है

जैसे समुन्दर मे सैलाब उठा करती है

तेरी लिपटे

8 Love

""

"तू जो हमेशा मुझे बोला करती है छोरदो ये बात तूमहे आज समझ नही आएगी जब आएगी तो आँख मे आँसू भी नही आ पायेगी क्यों कि ये बात बो टूटी पतंग के जैसा है डोर तो हाथों मे होती है पर कटने के बाद हमारी नही रहती क्यों कि हमारि नजरो के सामने ही उस टूटी पतंग को कोई औऱ उरा रहा होता है तुम मुझे क्या छोरने की बात कहती है बक्त मुझे खुद एक दिन छोरदेगा रंजीत"

तू जो हमेशा मुझे बोला करती है छोरदो ये बात

 तूमहे आज समझ नही आएगी जब आएगी तो

 आँख मे आँसू भी नही आ पायेगी क्यों कि ये

 बात बो टूटी पतंग के जैसा है डोर तो हाथों मे

 होती है पर कटने के बाद हमारी नही रहती क्यों

 कि हमारि नजरो के सामने ही उस टूटी पतंग को

 कोई औऱ उरा रहा होता है तुम मुझे क्या छोरने

 की बात कहती है बक्त मुझे खुद एक दिन

 छोरदेगा


रंजीत

बक्त खुद एक दिन मुझे छोरदेगा

8 Love

""

"तूने तो मुझे अंधा बना दिया किसी और का प्यार पाने को मैं अंध बिसबाश कर बैठा तुमहे न खोने को मैं तुझे खो भी न सका और तू किसी औऱ की हो भी न सकी तूझे कायनात पाने की होड़ थी और तेरी हाथो मे रेत की ढेर भी न थी"

तूने तो मुझे अंधा बना दिया किसी और का प्यार पाने को मैं अंध बिसबाश कर बैठा तुमहे न खोने को 

मैं तुझे खो भी न सका और तू किसी औऱ की हो भी न सकी 

तूझे कायनात पाने की होड़ थी

और तेरी हाथो मे रेत की ढेर भी न थी

तेरा प्यार भी अजूबा था

8 Love

""

"तेरी याद भी उस बंद कमरे मे परे धूल के जैसा है बरसाते तो कई आई पर उस बंद कमरे को साफ न करसकी तेरी याद भी कुछ ऐसे ही है हमसफर तो कई मिले पर तुझ जैसा एक भी न मिला जो तेरी याद को मेरे दिल से मिटा सके ऐसा एक भी न मिला"

तेरी याद भी उस बंद कमरे मे परे धूल के जैसा है बरसाते तो कई आई पर उस बंद कमरे को साफ न करसकी तेरी याद भी कुछ ऐसे ही है 
हमसफर तो कई मिले पर तुझ जैसा एक भी न मिला
जो तेरी याद को मेरे दिल से मिटा सके ऐसा एक भी न मिला

तेरी याद

#Stars&Me

8 Love