कव्यप्रिंस

कव्यप्रिंस Lives in Ahmedabad, Gujarat, India

हम तो फूलों की तरह खुद से बेबस है... तोड़ने वाले को भी खुसबू की सज़ा देते है। बस कुछ देर की खामोशी है, फिर शोर आएगा, तुम्हारा सिर्फ वक़्त आया है, हमारा दौर आएगा।। मेरी कहानी अभी तो शुरू भी नहीं हुई है,अभी तो शम्मा बांधना है, फिर से लौटा हूं इस रास्ते पर इस कदर तबाही मचाना है मेरी मौत की फरयाद तो सब करते है, उन्हें क्या पता उनके रास्ते में मेरी मां की दुआ आती है।। सब्र मेरी इतनी है कि सामने वाले की आंखे मुझे देखते ही झुक जाती है।। मुझे चाहोंगे तो मेरी हर फ़रियाद में होगे तुम.... पीठ पीछे खंजर मारोगे तो कल के अखबार में होगे तुम।। (कव्यप्रिंस)

  • Popular
  • Latest
  • Video

""

"अनुभवों को शब्दों में, मैं हर रोज़ गढ़ जाऊँ। भावना के अनन्त सागर में अन्दर तक उतर जाऊँ। सम्बन्ध हो या साहित्य हो रचे रोज नया "अनुराग" मैं रचता हूँ तो जीवित हूँ, न रचूँ तो मर जाऊँ। बोल दूँ या चुप रहूँ... की कर रहा वो भूल है. पाक मन से खेलना.. कितना बड़ा जुल्म है... © कव्यप्रिंस"

अनुभवों को शब्दों में, मैं हर रोज़ गढ़ जाऊँ।
भावना के अनन्त सागर में अन्दर तक उतर जाऊँ।
सम्बन्ध हो या साहित्य हो रचे रोज नया "अनुराग"
मैं रचता हूँ तो जीवित हूँ, न रचूँ तो मर जाऊँ।

बोल दूँ या चुप रहूँ...
की कर रहा वो भूल है.
पाक मन से खेलना..
कितना बड़ा जुल्म है...

© कव्यप्रिंस

#Moon #Truth #Life #Nojoto #Love #Faith #Struggle #Stranger #Choice #game

70 Love

""

"अजीब सी वो बात थी , जब पहली बात वाली रात थी अनकही अहसास में कुछ तो ख़ास थी उन्हें और हमे साथ बढ़ना था और वो हमारे पास थी।। दोनों हार कर आए थे जीने के लिए ज़िन्दगी में प्यार का रस सच का पीने के लिए दूर रहकर भी उन्होंने हमे समझ लिया अपने गम भुला कर मेरे साथ आगे चल दिया।। भरोसा था उन्हें हमारे इश्क के ऊपर इसलिए, अपनी रूह के साथ अपनी जिस्म को भी हमारे हवाले कर दिया मेरी अंधेरी राह की अब रोशनी भरी परछाई है मेरे साथ चलती है इसीलिए मेरे लिए खुदा ने बनाई है कहते है लंबे समय से मरने से अच्छा कुछ पल में जी ले गम आसुओं का दो घुट भरी प्याली में पी ले मेरा नशा तो उसके नज़रों के देखने से चढ़ता है मेरी खुशी का वो रास्ता है और ख्वाहिश है हमे की उनके लिए जी ले।। क्योंकि.... अनकही अहसास में कुछ तो खास थी... हमारी जान को साथ बढ़ना था और वो हमारे पास थी।। © कव्यप्रिंस"

अजीब सी वो बात थी , जब पहली बात वाली रात थी 
अनकही  अहसास में कुछ तो ख़ास थी 
उन्हें और हमे साथ बढ़ना था और वो हमारे पास थी।।

दोनों हार कर आए थे जीने के लिए
ज़िन्दगी में प्यार का रस सच का पीने के लिए
दूर रहकर भी उन्होंने हमे समझ लिया
अपने गम भुला कर मेरे साथ आगे चल दिया।।

भरोसा था उन्हें हमारे इश्क के ऊपर इसलिए,
अपनी रूह के साथ अपनी जिस्म को भी हमारे हवाले कर दिया
मेरी अंधेरी राह  की अब  रोशनी भरी परछाई है
मेरे साथ चलती है इसीलिए मेरे लिए खुदा ने बनाई है

कहते है लंबे समय से मरने से अच्छा कुछ पल में जी ले
गम आसुओं का दो घुट भरी प्याली में पी ले
मेरा नशा तो उसके  नज़रों के देखने से चढ़ता है
मेरी खुशी का वो रास्ता है और ख्वाहिश है हमे की उनके लिए जी ले।।

क्योंकि....

अनकही अहसास में कुछ तो खास थी...
हमारी जान को साथ बढ़ना था और वो हमारे पास थी।।

© कव्यप्रिंस

#twilight #Life #Nojoto #poem #Mahi #Love #Relationship #Bond #Strong

68 Love

""

"मेरे मौला ज़ख़्म को मरहम देना मेरे को तू हूर सी हमदम देना अब बंजर होने लगा हूं मैं ग़म से तुम मुझको छूकर ख़ुशी से नम देना वो गंगा सी पाक लड़की है मौला तू मुझको हरि द्वार का मौसम देना लब सूखे हैं सर्द रातों में अब भी इन्हें तुम इक लम्स कर शबनम देना ये पल जो है वस्ल का गुज़र रहा है तुम ये पल खुद को मत सनम देना मेरे मौला ज़ख्म को मरहम देना मेरी मोहब्बत को लंबी उम्र देना।। ©कव्यप्रिंस"

मेरे मौला ज़ख़्म को मरहम देना
मेरे को तू हूर सी हमदम देना

अब बंजर होने लगा हूं मैं ग़म से 
तुम मुझको छूकर ख़ुशी से नम देना

वो गंगा सी पाक लड़की है मौला
तू मुझको हरि द्वार का मौसम देना

लब सूखे हैं सर्द रातों में अब भी
इन्हें तुम इक लम्स कर शबनम देना

ये पल जो है वस्ल का गुज़र रहा है
तुम ये पल खुद को मत सनम देना

मेरे मौला ज़ख्म को मरहम देना
मेरी मोहब्बत को लंबी उम्र देना।।

©कव्यप्रिंस

#eidmubarak #Love #bemine #proud #Nojoto #Bond #Mah! #Life #Relationship #me

67 Love

""

"मेरा वक़्त मेरे करीब थी,ज़िन्दगी थोड़ी अजीब थी, सुकून तो अब मिला उसकी बाहों में, पहले हाथो की लकीरें ही बदनसीब थी।। अब नींद आती है मुझे चैन से जनता हूं इश्क उसका सिर्फ मेरे लिए है उसके चयन से कहते है मोहबब्त की लकीरें तो रब लिखता है जान लिया मैंने बहुत देर लगा दी आने में मेरी जिंदगी में अब पहचान लिए मैने।। ©कव्यप्रिंस"

मेरा वक़्त मेरे करीब थी,ज़िन्दगी थोड़ी अजीब थी,

सुकून तो अब मिला उसकी बाहों में,

पहले हाथो की लकीरें ही बदनसीब थी।।

अब नींद आती है मुझे चैन से
जनता हूं इश्क उसका सिर्फ मेरे लिए है उसके चयन से

कहते है मोहबब्त की लकीरें तो रब लिखता है जान लिया मैंने
बहुत देर लगा दी आने में मेरी जिंदगी में अब पहचान लिए मैने।।


©कव्यप्रिंस

#Time #Faith #natural #nojoto #Life #me #my #no #shayri #Poet

67 Love

""

"वो जमाने से क्या शिक़ायत करेंगे, जिन्हे मुकदर नसीब ना हो। वो मयखाने में क्या इजहरात करेंगे, जिन्हे पयमने से इश्क़ ना हो। अरे वो क्या घूमेंगे गुलशन के ख़्वाबों में, जो समझ ना सके दिल की इबादत को। जो जिये हमेशा हिमाकत से, वो कैसे जिएंगे मुहब्बत को। © कव्यप्रिंस"

वो जमाने से क्या शिक़ायत करेंगे,
जिन्हे मुकदर नसीब ना हो।
वो मयखाने में क्या इजहरात करेंगे,
जिन्हे पयमने से इश्क़ ना हो।

अरे वो क्या घूमेंगे गुलशन के ख़्वाबों में,
जो समझ ना सके दिल की इबादत को।
जो जिये हमेशा हिमाकत से,
वो कैसे जिएंगे मुहब्बत को।

© कव्यप्रिंस

#LastDay #Love #Nojoto #mindset #Theory_of_love #Student #Strange #Perfect

65 Love