nishi ignatius

nishi ignatius Lives in Bettiah, Bihar, India

https://www.youtube.com/channel/UC4z9ukKuFxLIYaJz1A0mC-g https://www.facebook.com/BookBazookaOfficial/photos/a.357133001335194/1015787122136442/

https://lovehumanitynnn.blogspot.com/2020/01/blog-post.html?spref=fb&m=1

  • Popular
  • Latest
  • Repost
  • Video

""

"आज का ज्ञान For perfection, needs several times practice."

आज का ज्ञान For perfection, needs several times practice.

#Perfect #practice #Knowledge #Life #diary #nojotohindi #nojotoopenmike

245 Love
9 Share

""

"#BestFriend'sDay For my friend, Because they understand our feeling. Because they also boost us. Because they always care us. And yes they know us. THAT'S WHY FRIENDS ARE PRECIOUS!!!"

#BestFriend'sDay For my friend,
Because they understand our feeling.
Because they also boost us.
Because they always care us.
And yes they know us.

THAT'S WHY FRIENDS ARE PRECIOUS!!!

#Friend #frienship #Life #inspire #Boost #Love #Precious #bestfriend #nojoto #nojotohindi #nojotopoerty #Hindi #diary

214 Love
7 Share

""

"दिन बस पेट भरने की भाग-दौड़ में ढलता है। दिन बस खुद की तलाश में ढलता है। दिन माँ की ममता में ढलता है। ढलता है बस ढलता है ये दिन किसी नुकड़ पर दूसरों के समाने हाथ फैला कर भी।"

दिन बस पेट भरने की भाग-दौड़ में ढलता है।
दिन बस खुद की तलाश में ढलता है।
दिन माँ की ममता में ढलता है।
ढलता है बस ढलता है ये दिन 
किसी नुकड़ पर दूसरों के समाने हाथ फैला कर भी।

#day #दिन #Nojoto

172 Love
13 Share

""

"चाँद के झलक पर आयी जो मुबारक त्योहार , आओ करे मिलके इसे यादगार । HAPPY EID TO ALL MY DEAR ONCE....😊 "

चाँद के झलक पर आयी जो मुबारक त्योहार ,
आओ करे मिलके इसे यादगार ।

HAPPY EID TO ALL MY DEAR ONCE....😊

#Nojoto #Quotes #poem

111 Love

""

"डर है दो दिनों का सफर ,लगता है क्यों बेफिकर? अनजान सी डगर में, यू खो गए हम किधर? अजनबी थी मंजिले ,रास्ते भी नई थी ,फिर क्यों इन रास्तों से ,डर का नाम नहीं आया? कमी को बदलना चाहा ,दुश्मनों को भी इंसान माना, पर डर कही हैं कि ये, इंसानियत से खुद ना मर जाना मौत से दोस्ती अच्छी ,और जिंदगी से दुश्मनी कहीं दोस्ती और दुश्मनी में ,डर है कि खुद ना मिट जाना करीबों को पता भी ना चले इन गुमशुदा जिंदगी का क्योंकि हमें डर है कि मेरी मौत उन्हें ना गुमशुदा कर दे।"

डर है
 दो दिनों का सफर ,लगता है क्यों बेफिकर?
 अनजान सी डगर में, यू खो गए हम किधर?
अजनबी थी मंजिले ,रास्ते भी  नई थी
  ,फिर क्यों इन रास्तों से ,डर का नाम नहीं आया?
कमी को बदलना चाहा ,दुश्मनों को भी इंसान माना,
पर डर कही हैं कि ये, इंसानियत से खुद ना मर जाना
 मौत से दोस्ती अच्छी ,और जिंदगी से दुश्मनी
 कहीं दोस्ती और दुश्मनी में ,डर है कि खुद ना मिट जाना
 करीबों को पता भी ना चले इन गुमशुदा जिंदगी का 
क्योंकि हमें डर है कि मेरी मौत उन्हें ना गुमशुदा कर दे।

 

104 Love