Deep Shikha

Deep Shikha Lives in Bhagalpur, Bihar, India

तुम डाल-डाल हजारों औजारों को लिए मेरे स्कंधों को ढूंढते रहो मगर जरा ठहरो जनाब जरा ठहरो अरे मैं तो इत्र हूँ बन हवा सदा फिजाओं को महकाती मिलुंगी " 😉

  • Popular
  • Latest
  • Video

"या न करो ये इश्क है साहब कोई व्यापारिक समझौता नहीं जो तुम्हें हर बात की लिखीत प्रमाण दूँ।"

या न करो
ये इश्क है साहब
कोई व्यापारिक समझौता नहीं
जो तुम्हें हर बात की
लिखीत प्रमाण दूँ।

# 💞

182 Love
3 Share

"दिल बेचैन था करने को जिनका दीदार वो निकला किसी और का प्यार... 🤗🤗🤗🤗"

दिल बेचैन था करने को जिनका दीदार
वो निकला किसी और का प्यार...

🤗🤗🤗🤗

#👀💘

167 Love
3 Share

"तुमने शायद अपने विषय कोर्स के सीमाओं से बांध रक्खी होगी मेरी मोहब्बत को जानां कभी वक्त मिले तो देख लेना मेरे दिल के कमरे में, मैंने तुम्हें खुदा बना तेरी मोहब्बत के एहसासों को कतरे-कतरे में बिखेर रक्खा है"

तुमने शायद अपने विषय कोर्स के सीमाओं से बांध रक्खी होगी मेरी मोहब्बत को
जानां
कभी वक्त मिले तो देख लेना मेरे दिल के कमरे में,
मैंने तुम्हें खुदा बना 
तेरी मोहब्बत के एहसासों को कतरे-कतरे में बिखेर रक्खा है

# मेरी जिंदगी 😉

164 Love
2 Share

"टूटा दिल Day 04 टूटा दिल, कई अरमानों का घर... मैंने पिरो के रक्खी है । हां , झुठे मुस्कानों के भीतर..."

टूटा दिल Day 04  टूटा दिल,
 कई अरमानों का घर...
 मैंने पिरो के रक्खी है ।
हां ,
 झुठे मुस्कानों के भीतर...

#december

163 Love
1 Share

"प्रेम अंधा नहीं होता साहब , इसके कुछ शर्तें लोगों कि आंखें छीन लेती हैं ।"

प्रेम अंधा नहीं होता साहब ,

 इसके कुछ शर्तें लोगों कि आंखें छीन लेती हैं ।

#प्रेम

162 Love
2 Share
×

More Like This