Deep Shikha

Deep Shikha Lives in Bhagalpur, Bihar, India

तुम डाल-डाल हजारों औजारों को लिए मेरे स्कंधों को ढूंढते रहो मगर जरा ठहरो जनाब जरा ठहरो अरे मैं तो इत्र हूँ बन हवा सदा फिजाओं को महकाती मिलुंगी " 😉

  • Popular Stories
  • Latest Stories

"तुमने शायद अपने विषय कोर्स के सीमाओं से बांध रक्खी होगी मेरी मोहब्बत को जानां कभी वक्त मिले तो देख लेना मेरे दिल के कमरे में, मैंने तुम्हें खुदा बना तेरी मोहब्बत के एहसासों को कतरे-कतरे में बिखेर रक्खा है"

तुमने शायद अपने विषय कोर्स के सीमाओं से बांध रक्खी होगी मेरी मोहब्बत को
जानां
कभी वक्त मिले तो देख लेना मेरे दिल के कमरे में,
मैंने तुम्हें खुदा बना 
तेरी मोहब्बत के एहसासों को कतरे-कतरे में बिखेर रक्खा है

# मेरी जिंदगी 😉

94 Love
1 Share

"या न करो ये इश्क है साहब कोई व्यापारिक समझौता नहीं जो तुम्हें हर बात की लिखीत प्रमाण दूँ।"

या न करो
ये इश्क है साहब
कोई व्यापारिक समझौता नहीं
जो तुम्हें हर बात की
लिखीत प्रमाण दूँ।

# 💞

94 Love
1 Share

"तुम डाल डाल हजारों औजारों को लिए मेरे पड़ों को ढुंढते रहो -2 मगर जरा ठहरो जनाब जरा ठहरो अरे मैं तो इत्र हूँ बन हवा सदैव फिजाओं को महकाती मिलुंगी ...।"

तुम डाल डाल हजारों औजारों को लिए मेरे पड़ों को ढुंढते रहो -2
मगर जरा ठहरो जनाब
 जरा ठहरो 
अरे मैं तो इत्र हूँ बन हवा सदैव फिजाओं को महकाती मिलुंगी ...।

#👸

85 Love

"ओंस की बूँद चेहरे पर पड़ रही थी। मेरी आंखें उस पल और संवर रही थीं ये जादू उस शर्दी कि रात की थी या मेरे साथिया की नरमी की यूं हीं नहीं वो रात पल-पल हसीन हीं होते जा रही थी"

ओंस की बूँद चेहरे पर पड़ रही थी।    मेरी आंखें उस पल और संवर रही थीं 
ये जादू उस शर्दी कि रात की थी
या मेरे साथिया की नरमी की
यूं हीं नहीं वो रात पल-पल
हसीन हीं होते जा रही थी

#🏘 🏡

85 Love
4 Share

"चाहे किसी भी सफर पे चलूं मै हर मोड़ सिर्फ और सिर्फ तुम्हारे ही घर का पता दे जाती है"

चाहे किसी भी सफर पे चलूं मै
हर मोड़ सिर्फ और सिर्फ
तुम्हारे ही घर का पता दे जाती है

#🏘 🏠 🏡

81 Love
2 Share