ARZ-ए-SAYED

ARZ-ए-SAYED Lives in New Delhi, Delhi, India

एक इश्क़ खड़ा रेहता है किनारे पर, एक मोहब्बत मुग़ालते में देखती भी नहीं।। Arz-ए-Saye(D)

  • Latest Stories
  • Popular Stories
तहज़ीब से रुठेंगे
 और,
 तहज़ीब से मनाएंगे तुम्हे 
ये बातें हरगिस 

नहीं जताएंगे तुम्हें.....

ARZ-ए-SAYED

तहज़ीब से रुठेंगे
और,
तहज़ीब से मनाएंगे तुम्हे
ये बातें हरगिस

नहीं जताएंगे तुम्हें.....

ARZ-ए-SAYED

4 Love
0 Comment
3 Share
मुझे यकीं है की मेह्फ़िल में तुम तो तहजीब-ए-हिसाब में रहोगी

मग़र जो भी  तुम्हे ब-हिजाब देखेगा वो बे हिसाब हो जाएगा

ARZ-ए-SAYED

मुझे यकीं है की मेह्फ़िल में तुम तो तहजीब-ए-हिसाब में रहोगी।
मग़र जो भी तुम्हे ब-हिजाब देखेगा वो बे हिसाब हो जाएगा
Arz-ए-Sayed

3 Love
0 Comment
2 Share
बे-शक़ दो गज़ ज़मी मुअय्यन है मेरे लिए,कब्रिस्तान में.
 
मैं 

आखिरत की तैय्यारी

फिर करूँगा अगले रमज़ान में।

arz-ए-Sayed

बे-शक़ दो गज़ ज़मी मुअय्यन है मेरे लिए,कब्रिस्तान में.

मैं

आखिरत की तैय्यारी

फिर करूँगा अगले रमज़ान में।

arz-ए-Sayed

2 Love
0 Comment
2 Share
शायद;

तुम,चाहती तो समझ जाती मेरी चाहत को 

मैंने बड़ी तहज़ीब से, चाहा था.

तुम्हें अपनी चाहत जताना।।

S_A_Y_E_D

@j_$tyle Jeet Havaruni Dueby Deepika Dubey Kalyani Shukla

16 Love
0 Comment
2 Share
मेरे अन्दरू एक शायर ही तो है

और 

मुझमें बस्ता है कौन

कभी मैं खुद में ग़ालिब हूँ ,कभी गुस्से में जौन।

Arz-ए-Sayed

मेरे अन्दरू एक शायर ही तो है

और

मुझमें बस्ता है कौन

कभी मैं खुद में ग़ालिब हूँ ,कभी गुस्से में जौन।

Arz-ए-Sayed Mukesh Poonia Jeet Nidhi Dehru Havaruni Dueby @j_$tyle

4 Love
0 Comment
2 Share