Prem Pankti Saini

Prem Pankti Saini Lives in Nagaur, Rajasthan, India

बहता सा नीर हूँ, ठहरना नहीं जानती। शांत तो कभी गंभीर हूँ, सहना नहीं जानती। निर्मल तो कंही मलिन हूँ,

  • Latest Stories
  • Popular Stories