Prince Daya Kakkar

Prince Daya Kakkar Lives in Almora, Uttarakhand, India

my hobbies lyrics writing, poem and reading

  • Popular
  • Latest
  • Video

""

"ऊँचा नीचा डाना छन हरी भरी स्यारा छन, हाथ दातुली कमर में ज्योड़ घास काटनी घस्यार छन . सफेद रंग बादल या नीला रंग आसमान छन, छोटे छोटे गावं य़ा पाथरो मकान छन . रूड़ी दिनो में घाम य़ा बाजक बोटो छाया छन, नौला गधेरा धारा या ठंड़ी हवा ठंड़ो ठंड़ो पानी छन . अाडू खुमानी पुलम या काफल की दाणी छन, गढ़वाली कुमाउनी बोली या मीठी मीठी वाणी छन. टेड़ी मेड़ी सड़क या तालो में ताल नैनीताल छन, चारो ओर पहाड़ या ऊँचा हिमाला छन. चारो धामं या देवी देवता वास छन कुटंम्ब परिवार रखिया राज खुशी देवभूमि लो गु आश छन ........"

ऊँचा नीचा डाना  छन 
हरी  भरी  स्यारा छन,
हाथ  दातुली  कमर में  ज्योड़ 
घास  काटनी घस्यार छन .

सफेद रंग  बादल या 
नीला  रंग  आसमान  छन,
छोटे छोटे गावं  य़ा 
पाथरो मकान छन .

रूड़ी दिनो में  घाम  य़ा 
बाजक   बोटो छाया छन,
नौला  गधेरा  धारा  या 
ठंड़ी हवा  ठंड़ो ठंड़ो पानी  छन .

अाडू खुमानी  पुलम या 
काफल की दाणी  छन,
गढ़वाली कुमाउनी बोली या 
मीठी मीठी वाणी छन.

टेड़ी  मेड़ी सड़क या 
तालो में ताल नैनीताल छन,
चारो ओर पहाड़  या 
ऊँचा  हिमाला छन.

चारो धामं या 
देवी देवता वास छन 
कुटंम्ब परिवार रखिया राज खुशी 
देवभूमि लो गु आश  छन ........

my uttrakhand

18 Love
2 Share

""

"🌺🌺🌺🌺🌺🌺 ऊँचा नीचा डाना छन हरी भरी स्यारा छन, हाथ दातुली कमर में ज्योड़ घास काटनी घस्यार छन . 🌺🌺🌺🌺🌺🌺"

🌺🌺🌺🌺🌺🌺

ऊँचा नीचा डाना  छन 
हरी  भरी  स्यारा छन,
हाथ  दातुली  कमर में  ज्योड़ 
घास  काटनी घस्यार छन .

🌺🌺🌺🌺🌺🌺

 

13 Love
3 Share

""

"अनलिमिटेड मोहब्बत फूलो जैसी तेरी मुखड़ी खुशबू सुंघी दौड़ी आ जानु धरती मै देखी रुप तेरो देखी देखी मोहीत है जानु तु रूड़ी घाम जैसी मैं सुरजन फूल फूल जानू   तुग ना देखा उदास है जानू   तुग देखा ख़ुशी है जानू तु फूलुक बाग हुणी भवारा बणी उडी ऊल आपण प्यार क गीत गुंनगुनाते साथ तेरो भैटी जुल ........"

अनलिमिटेड मोहब्बत फूलो जैसी  तेरी  मुखड़ी 
खुशबू  सुंघी  दौड़ी  आ  जानु 

धरती मै  देखी रुप  तेरो 
देखी  देखी  मोहीत  है  जानु 

तु  रूड़ी घाम जैसी
मैं सुरजन फूल फूल जानू
  तुग ना देखा उदास है जानू
  तुग देखा ख़ुशी है जानू

तु फूलुक बाग हुणी 
भवारा  बणी  उडी  ऊल 
आपण  प्यार क गीत  गुंनगुनाते 
साथ तेरो  भैटी  जुल ........

 

12 Love
1 Share

""

"आमा त्यर बनाई आलु गुटूक गरम चहा, गुड़ कटक , कतुक भल लागू बचपन मैं त्यर दगड़ , म्यर झकड़ त्यर बचूण .म्यर आस् पोछण् कतुक भल लागू त्यर नऊण खाणु खीलूण पूठम भैटाबेर त्यर घुमूण कतुक भल लागू लुक्ये छीपैबेर चीज खीलूण हारूहीतक काथ सूणुन कतुक भल लागू आमा त्यर बुलाण तेरी याद और गुणगांन् गांन कतुक भल लागू"

आमा त्यर बनाई  आलु  गुटूक 
गरम चहा,      गुड़  कटक ,
कतुक भल लागू

बचपन  मैं  त्यर  दगड़ , म्यर झकड़ 
त्यर बचूण .म्यर आस्  पोछण् 
कतुक भल लागू

त्यर नऊण  खाणु खीलूण  
पूठम भैटाबेर त्यर घुमूण 
कतुक भल लागू

 लुक्ये छीपैबेर  चीज खीलूण 
हारूहीतक  काथ  सूणुन 
कतुक भल लागू

आमा  त्यर बुलाण 
तेरी याद और गुणगांन् गांन 
कतुक भल लागू

grandmother poem kumauni language

11 Love
1 Share

""

"त्यर प्यार में नीद हराई हराई मेरी भूख एक मिस कॉल ल् मार दिनी पगली नीहुन इतन् दुख ....."

त्यर प्यार में नीद  हराई 
हराई  मेरी   भूख 
एक मिस कॉल  ल् मार  दिनी  पगली 
नीहुन इतन् दुख .....

kumauni sad shayri

10 Love