$ubha$

$ubha$"शुभ" Lives in Allahabad, Uttar Pradesh, India

🙏🌹STUDENT🌹🙏 LEARNER...✍️ 📌All poetry copyright✍️ मुझे नहीं पता.... वफ़ा के मायने क्या-क्या हैं....?? मुझे जो भी प्यार से पुकारता है....... उसका हो जाता हूँ मैं......🤟.. #Uशुभ

  • Popular
  • Latest
  • Video

""

"इसपल की ख़ुशी ही.. है हकीकत..., बाकी सब अफसाने हैं। जी लो इसपल को तुम... किसी तरह..., बाकी गुजरे जमाने हैं।"

इसपल की ख़ुशी ही..
है हकीकत...,
बाकी सब अफसाने हैं।
जी लो इसपल को तुम...
किसी तरह...,
बाकी गुजरे जमाने हैं।

#इसपल की #ख़ुशी ही..
है #हकीकत...,
बाकी #सब #अफसाने हैं।
#जी लो इसपल को #तुम...
किसी तरह...,
#बाकी #गुजरे #जमाने हैं।
#Uशुभ

129 Love
1 Share

""

"You and I Kissing is a merging of two lips, two souls and two spirits that makes them Divine. ~ Anonymous. *** "The kiss is the Mystical consecration of two souls who eagerly express in a sensory way that which they live in their interior." SOURCE: Love written by Samael Aun Weor."

You and I  Kissing is a merging of two lips, two souls and two spirits that makes them Divine. 

~ Anonymous.

*** "The kiss is the Mystical consecration of two souls who eagerly express in a sensory way that which they live in their interior."

SOURCE: Love written by Samael Aun Weor.

#kissing is a #merging of two #Lips, two #Souls and two #Spirits that makes them #Divine.

~ Anonymous.

*** "The #kiss is the #mystical consecration of two souls who eagerly #express in a sensory way that which they #Live in their interior."

SOURCE: #Love written by #Samael #Aun #Weor.

127 Love

""

"मेरी चाहत का तुम बस इतना सा मान रखना। तू कितनी भी दूर रहे पर मेरा ख्याल रखना। मिज़ह पे उभरी तबस्सुम की बूंदे पूछती हैं हाल तेरा, मेरा न सही पर मेरे आंसुओं का ख़्याल रखना।। ख़ामोश दोपहर सा हो जाता हूँ मैं बिन तेरे। तसव्वुर में यादें मेरी ,लेती हैं तेरे संग फेरे। मेरे इन यादों को हरपल अपने पास रखना, तू कितनी भी दूर रहे पर मेरा ख़्याल रखना। इंतजार तेरा दिल को जब पत्थर कर दे न। आ के तुम दिल पे मेरे अपने हाथ रख देना। इस दिल को कभी न तुम ज़ार-ज़ार करना, तू कितनी भी दूर रहे पर मेरा ख़्याल रखना।"

मेरी चाहत का तुम बस इतना सा मान रखना।
तू  कितनी भी दूर रहे पर मेरा ख्याल रखना।
मिज़ह पे उभरी तबस्सुम की बूंदे पूछती हैं हाल तेरा,
मेरा न सही पर मेरे आंसुओं का ख़्याल रखना।।

ख़ामोश दोपहर सा हो जाता हूँ मैं बिन तेरे।
तसव्वुर में यादें मेरी ,लेती हैं तेरे संग फेरे।
मेरे इन यादों को हरपल अपने पास रखना,
तू कितनी भी दूर रहे पर मेरा ख़्याल रखना।

इंतजार तेरा दिल को जब  पत्थर कर दे न।
आ के तुम दिल पे मेरे अपने हाथ रख  देना।
इस दिल को कभी न तुम ज़ार-ज़ार करना,
तू कितनी भी दूर रहे पर मेरा ख़्याल रखना।

मेरी #चाहत का तुम बस इतना सा मान रखना।
तू कितनी भी दूर रहे पर मेरा #ख्याल रखना।
#मिज़ह पे उभरी #तबस्सुम की बूंदे पूछती हैं हाल तेरा,
मेरा न सही पर मेरे #आंसुओं का ख़्याल रखना।।

#ख़ामोश दोपहर सा हो जाता हूँ मैं बिन तेरे।
#तसव्वुर में #यादें मेरी ,लेती हैं तेरे संग #फेरे
मेरे इन यादों को #हरपल अपने पास रखना,

113 Love
1 Share

""

"न तनहाई का डर है,न रुसवाई का डर है। मुझे सिर्फ तेरी जुदाई का डर है। न बादल गरजने का,न बिजली चमकने का, बे मौसम तुझ बिन मौसम-ए-हरजाई का डर है। दिल के बदले अब जान मांगने लगे हैं लोग, इस मोहब्बत के अब महंगाई का डर है। कैसी गुलामी,कैसी मक्कारी मोहब्बत में, दिल के बदले अश्कों की भरपाई का डर है। कांटों पे भी चल सकते हैं हम तुम संग, हाथ छूटने पे मुझे कांटों के चुभाई का डर है। साथ है तू तो सारा जहाँ साथ है मेरे, नहीं तो सारी दुनिया की बेवफ़ाई का डर है।"

न तनहाई का डर है,न रुसवाई का डर है।
मुझे सिर्फ तेरी जुदाई का डर है।

न बादल गरजने का,न बिजली चमकने का,
बे मौसम तुझ बिन मौसम-ए-हरजाई का डर है।

दिल के बदले अब जान मांगने लगे हैं लोग,
इस मोहब्बत के अब महंगाई का डर है।

कैसी गुलामी,कैसी मक्कारी मोहब्बत में,
दिल के बदले अश्कों की भरपाई का डर है।

कांटों पे भी चल सकते हैं हम तुम संग,
हाथ छूटने पे मुझे कांटों के चुभाई का डर है।

साथ है तू तो सारा जहाँ साथ है मेरे,
नहीं तो सारी दुनिया की बेवफ़ाई का डर है।

#तनहाई का डर है,न #रुसवाई का डर है।
मुझे सिर्फ तेरी #जुदाई का डर है।

#बादल गरजने का,न #बिजली चमकने का,
बे मौसम तुझ बिन #मौसम-ए-हरजाई का डर है।

दिल के बदले अब #जान मांगने लगे हैं #लोग,
इस #मोहब्बत के अब महंगाई का डर है।

109 Love
1 Share

#Love#Life#Uशुभ

106 Love