Harsha Rajendra Wadiya

Harsha Rajendra Wadiya Lives in Kota, Rajasthan, India

Everything is transient here जय हिंद जय भारत Jai Hind 🇮🇳 jai Bharat ✍️🙏

  • Popular
  • Latest
  • Repost
  • Video

""

"शक्ति सहज विरल। शक्ति सहन अटल। शक्ति सन्मय संगलन। शक्ति सशक्त संकलन। शक्ति विरूपन्यासी क्षण। शक्ति शिवाय कण कण। ©Harsha Rajendra Wadiya"

शक्ति सहज विरल।
शक्ति सहन अटल।

शक्ति सन्मय संगलन।
शक्ति सशक्त संकलन।

 शक्ति विरूपन्यासी क्षण।
 शक्ति शिवाय कण कण।

©Harsha Rajendra Wadiya

#navratri2020

82 Love
4 Share

""

"जब परिस्थिती वश हो सकता हैं। तो परिस्थितियों को ही वश में करे। ©Harsha Rajendra Wadiya"

जब  परिस्थिती वश हो सकता हैं।
        तो परिस्थितियों को ही वश में करे।

©Harsha Rajendra Wadiya

#lost

80 Love

""

"प्रतिस्पर्धा से परे। रहे साफल्य खरे। होते देखी है शख्सियत एक। बहुगुणायमी हैं, त्याग अनेक। आपने हमे शक्ति सम्पन्न बनाया। विद्यार्थियों को वास्तविक पथ दिखाया। आप जैसे गुरू से शिक्षा की गरिमा बची है। प्रतिभा से भारत की प्रगती प्रतिमा रची हैं। शत शत नमन🙏🙏 सर 🌹💐🇮🇳 Jai Hind ©Harsha Rajendra Wadiya"

प्रतिस्पर्धा से परे।
रहे साफल्य खरे।

होते देखी है शख्सियत एक।
बहुगुणायमी हैं, त्याग अनेक।

आपने हमे शक्ति सम्पन्न बनाया।
विद्यार्थियों को वास्तविक पथ दिखाया।

आप जैसे गुरू से शिक्षा की गरिमा बची है।
प्रतिभा से भारत की प्रगती प्रतिमा रची हैं।

शत शत नमन🙏🙏 सर 🌹💐🇮🇳 Jai Hind

©Harsha Rajendra Wadiya

 

78 Love
1 Share

""

"चाहें कितने भी विलग थलग हो लेकिन हिंदी भाषा हमे एक बनाये रखती हैं। 🌱🌸🌱"

चाहें कितने भी विलग थलग हो लेकिन
 हिंदी भाषा हमे एक बनाये रखती हैं।



🌱🌸🌱

#Hindidiwas

66 Love
1 Share

""

"सती संगम शिव संजोग। शिव विलग शिव वियोग। द्रवित सती अग्नित्रास। शिव जोग महासन्यास। शिव विरहा सती अस्त। शिव सँसारा भये विस्मृत। तप तपर्ण हिमालया सुता। कैलाश अर्धांग प्रेम दूता। गिरीजा त्वम नमस्ते गौरी। शंकर त्वमेव रागते महागौरी। आदियोगी महायोगिनी शक्ति। नमस्तुभ्यं नमस्तुभ्यं आदिशक्ति। 🌼🌼🌼 ©Harsha Rajendra Wadiya"

सती संगम शिव संजोग।
शिव विलग शिव वियोग।

द्रवित सती अग्नित्रास।
शिव जोग महासन्यास।

शिव विरहा  सती अस्त।
  शिव सँसारा भये विस्मृत।

तप तपर्ण हिमालया सुता।
कैलाश अर्धांग प्रेम दूता।

गिरीजा त्वम नमस्ते गौरी।
शंकर त्वमेव रागते महागौरी।

आदियोगी महायोगिनी शक्ति।
नमस्तुभ्यं नमस्तुभ्यं आदिशक्ति।

🌼🌼🌼

©Harsha Rajendra Wadiya

 

66 Love
1 Share