कवि केशव पाल

कवि केशव पाल

  • Popular Stories
  • Latest Stories

"ये दिल अब भी उदास है। पता नहीं किसकी तलाश है।।"

ये दिल अब भी उदास है।
पता नहीं किसकी तलाश है।।

 

236 Love
31 Share

"Valentine quotes in hindi अब और क्या गम उठाऊं इस जहां के लिए...। गुजर रही है जिंदगी बस एक तेरे हां के लिए...।।"

Valentine quotes in hindi अब और क्या गम उठाऊं इस जहां के लिए...।
गुजर रही है जिंदगी बस एक तेरे हां के लिए...।।

 

216 Love
24 Share

"टेढ़ी लहजों से ही तो लफ्ज़ जहर बनता है। नफरत से मकान मोहब्बत से घर बनता है।। -keshav pal"

टेढ़ी लहजों से ही तो लफ्ज़ जहर बनता है।
नफरत से मकान मोहब्बत से घर बनता है।।

-keshav pal

 

20 Love

",,,,,,,,,मोहब्बत तो वो मुझसे, करती ही नहीं थी,,,,,,, ,,,,,,,,,हाँ पर नफरत भी, नहीं करती थी,,,,,,,,,"

,,,,,,,,,मोहब्बत तो वो मुझसे,
            करती ही नहीं थी,,,,,,,
,,,,,,,,,हाँ पर नफरत भी,
             नहीं करती थी,,,,,,,,,

 

17 Love

"Mujhe Dar Lagta hai ki    " बेपनाह मोहब्बत " न कभी तुम कह पाये,न कभी हम कह पाये,           चंद लफ्जों मे,सारा प्यार कैसे कहूँ...?         तेरे ही यादो के डेरे है,दिल से रूह तक,           तू जो मेरा नहीं ,ये गम कैसे सहूँ...?        ख्वाबों मे तू ही,ख्यालों मे तू ही,           बस एक तुम बिन,अब कैसे रहूँ...?                       तू है नदी मेरी,मै हूँ धार तेरी           बिन तेरे अधुरा मै,अकेला कैसे बहूँ...? न कभी तुम कह पाये,न कभी हम कह पाये, चंद लफ्जों मे,सारा प्यार कैसे कहूँ...?  "

Mujhe Dar Lagta hai ki                    " बेपनाह मोहब्बत "

          न कभी तुम कह पाये,न कभी हम कह पाये,
          चंद लफ्जों मे,सारा प्यार कैसे कहूँ...?

          तेरे ही यादो के डेरे है,दिल से रूह तक,
          तू जो मेरा नहीं ,ये गम कैसे सहूँ...?

          ख्वाबों मे तू ही,ख्यालों मे तू ही,
          बस एक तुम बिन,अब कैसे रहूँ...?
            
          तू है नदी मेरी,मै हूँ धार तेरी
          बिन तेरे अधुरा मै,अकेला कैसे बहूँ...?

          न कभी तुम कह पाये,न कभी हम कह पाये,
          चंद लफ्जों मे,सारा प्यार कैसे कहूँ...?

 

   " बेपनाह मोहब्बत "

न कभी तुम कह पाये,न कभी हम कह पाये,
          चंद लफ्जों मे,सारा प्यार कैसे कहूँ...?

        तेरे ही यादो के डेरे है,दिल से रूह तक,
          तू जो मेरा नहीं ,ये गम कैसे सहूँ...?

       ख्वाबों मे तू ही,ख्यालों मे तू ही,
          बस एक तुम बिन,अब कैसे रहूँ...?
           
          तू है नदी मेरी,मै हूँ धार तेरी
          बिन तेरे अधुरा मै,अकेला कैसे बहूँ...?

न कभी तुम कह पाये,न कभी हम कह पाये,
चंद लफ्जों मे,सारा प्यार कैसे कहूँ...?

 

12 Love