Ankur Bharti

Ankur Bharti Lives in Basti, Uttar Pradesh, India

❤single❤love * music* poetry*❤ Proffesion * always keep smile and love others❤Studies at Motilal Nehru National Institute Of Technology Allahabad💥Aim@become an example for society🤔 whatsapp@6386372308

  • Popular
  • Latest
  • Repost
  • Video

""

"न हृदय व्यथित है,न कहीं करुण का व्याप्त है, फिर भी ना जाने क्यों यह मन उदास है, प्यार बनकर उम्र भर जीवन में तेरे बहता रहा, आज फिर निशब्द हूं ,न जाने कैसी प्यास है। रातें ढल चुकी हैं ,सुबह श्वेत सी प्रकाश है, फिर भी ना जाने क्यों मन उदास है।।।"

न हृदय व्यथित है,न कहीं करुण का व्याप्त है,
 फिर भी ना जाने क्यों यह मन उदास है,
प्यार बनकर उम्र भर जीवन में तेरे बहता रहा,
 आज फिर निशब्द हूं ,न जाने कैसी प्यास है।
रातें ढल चुकी हैं ,सुबह श्वेत सी प्रकाश है,
फिर भी ना जाने क्यों मन उदास है।।।

#Life_A_Blank_Page

27 Love

""

"कभी पढ़ा करता था तुझे, किताबों की तरह। आखिर तूने फेंक ही दिया पुराने लिबासों की तरह। ऐ तूफान जरा सा तू अपनी हद में रहा कर, कभी हम भी जला करते थे चरागों की तरह।।"

कभी पढ़ा करता था तुझे, किताबों की तरह।
आखिर तूने फेंक ही दिया पुराने लिबासों की तरह।
ऐ तूफान जरा सा तू अपनी हद में रहा कर,
कभी हम भी जला करते थे चरागों की तरह।।

#Language_of_tears

23 Love

""

"भुला के सभी ख्वाहिशें, खुद को मिटा दिया हमने, अपने आप को कुछ इस कदर मिटा दिया हमने, रूशवा होकर लौटा करता था तेरी गलियों से हरदम, आज अपना नाम तेरी दुनिया से हटा दिया हमने।।।"

भुला के सभी ख्वाहिशें, खुद को मिटा दिया हमने,
अपने आप को कुछ इस कदर मिटा दिया हमने,
रूशवा होकर लौटा करता था तेरी गलियों से हरदम,
आज अपना नाम तेरी दुनिया से हटा दिया हमने।।।

#Biggest_dilemma

21 Love

""

"वो तो मुसाफिर हैं ठहरते ही नहीं। बनाने की बहुत कोशिश की पर वो मानते ही नहीं। इतने मशरूफ है वो बुलंदियों को छूने के लिए। हम बुलाते रहते हैं पर वो सुनते ही नहीं। बुलंदियों का बड़े से बड़ा मकाम छूओ। पर जो तुम्हारा ख्याल करता है उसकी भी परवाह करो। खुदा ना करे कि कोई बाधा आए तुम्हारे जीवन में। मंजिल की तरफ यूँ ही बढ़ते रहो।"

वो तो मुसाफिर हैं ठहरते  ही नहीं।
बनाने की बहुत कोशिश की पर वो मानते ही नहीं।
इतने मशरूफ है वो बुलंदियों को छूने के लिए।
 हम बुलाते रहते हैं पर वो सुनते ही नहीं।
बुलंदियों का बड़े से बड़ा मकाम छूओ।
पर जो तुम्हारा ख्याल करता है उसकी भी परवाह करो।
खुदा ना करे कि कोई बाधा आए तुम्हारे जीवन में।
मंजिल की तरफ यूँ ही बढ़ते रहो।

#power_of_words

20 Love

""

"सितारों की दुनिया हमें रास ना आई। जब से गांव आया हूं उदासी पास ना आई। भरी महफिल में भी हमें अकेलापन महसूस होता था। चंद अपनों के बीच आया हूं जबसे, तनहाई पास ना आई।"

सितारों की दुनिया  हमें रास ना आई।
जब से गांव आया हूं उदासी पास ना आई।
भरी महफिल में भी हमें अकेलापन महसूस होता था।
चंद अपनों के बीच आया हूं जबसे, तनहाई पास ना आई।

#feeling_loved

19 Love