जन्नत

जन्नत Lives in Delhi, Delhi, India

I am writer and Social activist

  • Popular Stories
  • Latest Stories

"कभी कभी मन होता है मैं सबको रो कर दिखाऊँ लोग बार बार सबब पूछे और मैं उन्हें ना बताऊँ ✍🏻 जन्नत"

कभी कभी मन होता है मैं सबको रो कर दिखाऊँ
लोग बार बार सबब पूछे और  मैं उन्हें ना बताऊँ ✍🏻 जन्नत

 

14 Love

"मेरा ख़ुदा गवाह कि मैंने इबादत के लम्हों में और ख़ुसूसी दुआओं में किसी अपने से ज़्यादा और ख़ुदा से बढ़कर उसी का नाम पुकारा है.... ✍🏻 जन्नत ( कसक़)"

मेरा ख़ुदा गवाह कि मैंने इबादत के लम्हों में और ख़ुसूसी दुआओं में किसी अपने से ज़्यादा और ख़ुदा से बढ़कर उसी का नाम पुकारा है....  ✍🏻 जन्नत ( कसक़)

 

9 Love
4 Share

" ज़िन्दगी में हमारी भी इक ऐसा मरहला आने वाला है गूँज उठेगी ख़ामोशी जब, तेरा शोर मुझसे निराला है ✍🏻 जन्नत "

 ज़िन्दगी में हमारी भी इक ऐसा मरहला आने वाला है
गूँज उठेगी ख़ामोशी जब, तेरा शोर मुझसे निराला है
✍🏻 जन्नत

 

8 Love

"#OpenPoetry #अहमियत का मस'अला है सिवाय ज़ाती मस'अले के कुछ भी नहीं.... पैरोकारी आपकी करे कोई भी क्यूँ, करे ना करे ही ये ज़रूरी भी नहीं... ✍🏻 जन्नत"

#OpenPoetry #अहमियत का मस'अला है सिवाय ज़ाती मस'अले के कुछ भी नहीं.... 
पैरोकारी आपकी करे कोई भी क्यूँ, करे ना करे ही ये ज़रूरी भी नहीं...
 ✍🏻 जन्नत

 

7 Love
4 Share

"मौत इर्द गिर्द है ✍🏻 जन्नत"

मौत इर्द गिर्द है
✍🏻 जन्नत

 

7 Love
1 Share