🇮🇳करिश्मा राठौर

🇮🇳करिश्मा राठौर Lives in Etah, Uttar Pradesh, India

फिर भी जीना है ✍️✍️.........🇮🇳

  • Popular
  • Latest
  • Repost
  • Video

""

"ख्वाब पलते हैं उन सूनी आँखों में भी, काश कोई खामोश ख्वाहिशें भी पढ़ पाता............."

ख्वाब पलते हैं उन सूनी आँखों में भी, 
काश कोई खामोश ख्वाहिशें भी पढ़ पाता.............

 

124 Love
5 Share

#morningstory

114 Love
2.0K Views
1 Share

""

"महत्वाकाक्षीं व्यक्ति हमेशा दुःखी रहता. है, अधूरी ख्वाहिशें.... अक्सर दम तोड़ जाती हैं अपेक्षाओं के तले..... और इंसान वक्त का तकाजा समझकर अफसोस के साथ साथ, नाकामी और उदासी को साथी समझने की भूल कर बैठता झुर्रियों और सफेदी के बीच उमर भी हिसाब पूछती है क्या खोया क्या पाया"

महत्वाकाक्षीं व्यक्ति हमेशा दुःखी रहता. है, 
अधूरी ख्वाहिशें.... 
अक्सर दम तोड़ जाती हैं
 अपेक्षाओं के तले.....
और इंसान वक्त का तकाजा समझकर 
अफसोस के साथ साथ,  
नाकामी और उदासी   
को साथी समझने की भूल कर बैठता 
झुर्रियों और सफेदी के बीच 
उमर भी हिसाब पूछती है क्या खोया क्या पाया

#sadness

108 Love

""

"तुम जीवन के समन्दऱ मे दूर साहिलो़ं तक साथ - साथ बहना मुश्किल भरी चट्टानों का सीना भेद प्रेम के तरू उगाते साथ - साथ बहना"

तुम  जीवन  के समन्दऱ मे 
दूर साहिलो़ं तक 
साथ  - साथ 
बहना
मुश्किल भरी चट्टानों का 
सीना भेद प्रेम के तरू उगाते
साथ - साथ
बहना

#मेरे#जीवनसाथी

106 Love
2 Share

""

"आज भी चुप हूँ क्योंकि मैं विधवा हूँ मगर मेरी कोख में मेरे पति की निशानी है मैंने अपने ही लोगों को कहते सुना है ऐसी औरत है जिसने अपने पति को खा लिया... मैं नयी नवेली ब्याहता थी क्या पता था विधवा होने का दंश जीने से ज्यादा रोज रोज मरने को मजबूर करेगा"

आज भी चुप हूँ 
क्योंकि मैं विधवा हूँ
मगर मेरी कोख में
मेरे पति की निशानी है
मैंने अपने  ही लोगों को कहते सुना है
ऐसी  औरत है जिसने अपने
पति को खा लिया... 
मैं नयी नवेली ब्याहता थी
क्या पता था 
विधवा होने का दंश 
जीने से ज्यादा 
रोज रोज  
मरने को मजबूर करेगा

#विधवा

105 Love