Reetika Joshi

Reetika Joshi Lives in Pantnagar, Uttarakhand, India

यूंही नहीं like कर दीजिएगा कुछ पल ठहर कर हमको पढ़ लीजिएगा बड़े ही सीधे सादे से अल्फ़ाज़ है हमारे शांति से बस ध्यान दीजिएगा।। यूंही नहीं like कर दीजिएगा 🙏🙂 I love writing to express my self Recently complete my master's (M.Sc) in Botany

  • Popular
  • Latest
  • Repost
  • Video

""

"उम्र ने गजब की कलाकारी सीखा दी है मन के अल्फ़ाज़ अब आंखों में नहीं बहते रीतिका"

उम्र ने गजब की कलाकारी सीखा दी है
मन के अल्फ़ाज़ अब 
आंखों में नहीं बहते

रीतिका

 

184 Love
1 Share

""

"किसी सम्मान की लालसा नहीं सिर्फ समानता की अभिलाषा हैं रीतिका"

किसी सम्मान की लालसा नहीं

सिर्फ

समानता की अभिलाषा हैं



रीतिका

#international_womens_day

176 Love
2 Share

""

"चंद लफ्जों में लिपटा हुआ दर्द अक्सर मन से कलम तक पहुंच ही जाता हैं रीतिका"

चंद लफ्जों में लिपटा हुआ दर्द
अक्सर
मन से कलम तक पहुंच ही जाता हैं

रीतिका

 

173 Love

""

""पुष्प की अभिलाषा" मुझे तोड़ लेना वनमाली उस पथ पर देना तुम फेंक मातृभूमि पर शीश झुकाने जिस पथ जाते वीर अनेक"

"पुष्प की अभिलाषा"

मुझे तोड़ लेना वनमाली
उस पथ पर देना तुम फेंक 
मातृभूमि पर शीश झुकाने 
जिस पथ जाते वीर अनेक

#IndianArmy माखनलाल चतुर्वेदी जी की पंक्तियां।।।
मां के आंचल की लाज के लिए
सर्वस्व अपना बलिदान कर रहे है
धन्य हैं ऐसे कर्मवीर जो
रक्त से धरा को सीच रहे है।।

मैं ये बताने में हमेशा गर्व करती हूं कि मैं एक ऐसे परिवार से हूं, जिसकी हर पीढ़ी से देश की सेवा और रक्षा के लिए युवा सैनिक बने।।।
जब कभी मैं अज्ञानतावस यह पूछ लेती हूं क्या आपको डर नहीं लगता है, की आपको कभी भी मौत आ सकती है , तो वे सभी बोलते है गोली लगेगी तो खा लेंगे। डर तो हमने तब ही त्याग दिया था जब हमने देश रक्षा के लिए सैनिक बनना स्वी

171 Love

""

"गुफ्तगू वो भी हमारे ख़यालो से करते है जिनको सोच सोच कर अक्सर हम भी मुस्कुरा दिया करते हैं रीतका"

गुफ्तगू वो भी हमारे ख़यालो से करते है
जिनको सोच सोच कर
अक्सर हम भी मुस्कुरा दिया करते हैं



रीतका

 

169 Love