madhukar singh chauhan

madhukar singh chauhan Lives in Shahjahanpur, Uttar Pradesh, India

गर दिल है गंदा तो दिखावे की सफाई न करना , जो तोड़े दूसरों का दिल उससे बफाई ना करना । पढ़ो मेरे शब्दों को दिल से अपना दर्द मिलेगा , मुझे फॉलो ना करके तुम भी बेवफाई ना करना ।। ,,,,,,,,,,,,,; Madhukar singh chauhan https://youtu.be/XWDd9VH9v8g

Newindianpoems.blogspot.com

  • Popular Stories
  • Latest Stories

"मुलाकात करने के बाद लापता रहता है दिल, जो ना दिखे वो तो बगावत करता है दिल। डरता है मचलता है देखकर व्हाट्सएप पे डीपी, उसकी यादों में सो-कर भी जागता रहता है दिल।।       - Madhukar singh chauhan"

मुलाकात करने के बाद लापता रहता है दिल,
जो ना दिखे वो तो बगावत करता है दिल।
डरता है मचलता है देखकर व्हाट्सएप पे डीपी,
उसकी यादों में सो-कर भी जागता रहता है दिल।।

      - Madhukar singh chauhan

 

39 Love

"why ...........?"

why ...........?

#Nojoto

33 Love

शायद वो खो चुका है किसी और के प्यार में ।

साल बिता दिए है हमने जिस के इंतजार में ।।

वो मेरी झूठी बुराइयां बताते हैं दूसरों को ।

जिनकी अच्छाइयां छपवा दी हमने अखबार में ।।
written by madhukar singh chauhan

#nojoto

31 Love

"हम भगवा वाले जब तक झेलते है तब तक झेलते हैं। और जब पेलते हैं तो जिंदगी भर के लिए पेल देते हैं ।।"

हम भगवा वाले जब तक झेलते है तब तक झेलते हैं।

और जब पेलते हैं तो जिंदगी भर के लिए पेल देते हैं ।।

https://hindi.pratilipi.com/story/AMrV1DUGgcCo?utm_source=android&utm_campaign=content_share


इस मातृ दिवस पर माता सरस्वती के द्वारा आशीर्वाद प्राप्त करें ।
And support me to rating it of 5☆
And comment

30 Love

"संकटों के तिमिर में , जब जिंदगी सताए। घूम-घूम पृथ्वी पे, पाप रंग दिखाएं।। जब अपना रंग उतरे , बेरंग हो मनुज जब। विचलित हो प्राण तन में , तो मां ही याद आए।।"

संकटों के तिमिर में ,
जब जिंदगी सताए।
 घूम-घूम पृथ्वी पे,
 पाप रंग दिखाएं।।
जब अपना रंग उतरे ,
बेरंग हो मनुज जब।
विचलित हो प्राण तन में ,
तो मां ही याद आए।।

 

29 Love
3 Share