Nojoto: Largest Storytelling Platform
wahegurusatnam4173
  • 747Stories
  • 25Followers
  • 6.3KLove
    2.2KViews

Vikas Sharma Shivaaya'

👆नाम -विकास शर्मा "शिवाया" कार्य - Affirmations Coach Tarot Card Reader & Coach Numerologist Mobile Numerologist Remedies Expert Actor (अभिनेता)- Author(लेखक)- Anchor (मंच संचालक ) -Blogger- Business Consultant (व्यापारिक सलाहकार )- Motivational Speaker- Spirtual Counselor- Social Worker- Singer (Bhajan-Bollywood-Gajal ) & Social Activist Voiceover Artist Work Experience-32 year's in Sales-Marketing & Administration in various industries like Consumer Durable-Real estate-Hospitality-Media-Inteeior Exterior-Courier Cargo-Events ई मेल -ujagarsamacharbaba2020@gmail.com दूरभाष -8619753510 28 सालों से पत्रकारिता एवं लेखन से जुड़ाव , राष्ट्रीय स्तर पर कई सरकारी एवं निजी कार्यक्रमों का मंच सञ्चालन राष्ट्रीय स्तर के कवि समेल्लन का मंच सञ्चालन फेसबुक -व्हाट्सप एवं अन्य ऑनलाइन पटलों पर लाइव कबिता पाठ राष्ट्रीय स्तर पर गायन -वाद विवाद -सामान्य ज्ञान -लेखन -कविता पाठ एवं समाज सेवा के क्षेत्र में कई पुरस्कार प्राप्त किंडल अमेजॉन द्वारा 4 किताबें प्रकाशित :- 1-बेगुनाह या गुनहगार -A Real Life Story (Part-1) 2-कोरोना और रिश्ते (Part-1) 3-अनकहे अनसुलझे सवाल प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी से 4-रावण से राम तक -Negativity to Positivity 7अन्य किताबें अभी लिखी जा रही हैं..., 2021 में फिल्म निर्माण में कदम ..., टीवी के लिए राष्ट्रीय स्तर पर 7 शोज की भूमिका एवं एक धारावाहिक की भूमिका तैयार

  • Popular
  • Latest
  • Video
fb620c786d2ee468f715cc5ad251fa31

Vikas Sharma Shivaaya'

Delay in Marriage?

©Vikas Sharma Shivaaya'
  Delay in Marriage?

Delay in Marriage? #समाज

0 Views

fb620c786d2ee468f715cc5ad251fa31

Vikas Sharma Shivaaya'

✒️📙जीवन की पाठशाला 📖🖋️

🙏 मेरे सतगुरु श्री बाबा लाल दयाल जी महाराज की जय 🌹

*मियां-बीबी दोनों मिल खूब कमाते हैं*
 *तीस लाख का पैकेज दोनों ही पाते हैं*

*सुबह आठ बजे नौकरियों* 
 *पर जाते हैं*
 *रात ग्यारह तक ही वापिस आते हैं*

*अपने परिवारिक रिश्तों से कतराते हैं*
 *अकेले रह कर वह कैरियर बनाते हैं*

*कोई कुछ मांग न ले वो मुंह छुपाते हैं*
 *भीड़ में रहकर भी अकेले रह जाते हैं*

*मोटे वेतन की नौकरी छोड़ नहीं पाते हैं*
 *अपने नन्हे मुन्ने को पाल नहीं पाते हैं*

*फुल टाइम की मेड ऐजेंसी से लाते हैं*
 *उसी के जिम्मे वो बच्चा छोड़ जाते हैं*

*परिवार को उनका बच्चा नहीं जानता है*
 *केवल आया'आंटी' को ही पहचानता है*

*दादा-दादी, नाना-नानी कौन होते है ?*
*अनजान है सबसे किसी को न मानता है*

*आया ही नहलाती है आया ही खिलाती है*
 *टिफिन भी रोज़ रोज़ आया ही बनाती है*

*यूनिफार्म पहना के स्कूल कैब में बिठाती है*
 *छुट्टी के बाद कैब से आया ही घर लाती है*

*नींद जब आती है तो आया ही सुलाती है*
 *जैसी भी उसको आती है लोरी सुनाती है*

*उसे सुलाने में अक्सर वो भी सो जाती है*
 *कभी जब मचलता है तो टीवी दिखाती है*

*जो टीचर मैम बताती है वही वो मानता है*
 *देसी खाना छोड कर पीजा बर्गर खाता है*

*वीक एन्ड पर मॉल में पिकनिक मनाता है*
 *संडे की छुट्टी मौम-डैड के संग बिताता है*

*वक्त नहीं रुकता है तेजी से गुजर जाता है*
 *वह स्कूल से निकल के कालेज में आता है*

*कान्वेन्ट में पढ़ने पर इंडिया कहाँ भाता है*
 *आगे पढाई करने वह विदेश चला जाता है*

*वहाँ नये दोस्त बनते हैं उनमें रम जाता है*
 *मां-बाप के पैसों से ही खर्चा चलाता है*

*धीरे-धीरे वहीं की संस्कृति में रंग जाता है*
 *मौम डैड से रिश्ता पैसों का रह जाता है*

*कुछ दिन में उसे काम वहीं मिल जाता है*
 *जीवन साथी शीघ्र ढूंढ वहीं बस जाता है*

*माँ बाप ने जो देखा ख्वाब वो टूट जाता है*
 *बेटे के दिमाग में भी कैरियर रह जाता है*

*बुढ़ापे में माँ-बाप अब अकेले रह जाते हैं*
 *जिनकी अनदेखी की उनसे आँखें चुराते हैं*

*क्यों इतना कमाया ये सोच के पछताते हैं*
 *घुट घुट कर जीते हैं खुद से भी शरमाते हैं*

*हाथ पैर ढीले हो जाते, चलने में दुख पाते हैं*
 *दाढ़-दाँत गिर जाते, मोटे चश्मे लग जाते हैं*

*कमर भी झुक जाती, कान नहीं सुन पाते हैं*
 *वृद्धाश्रम में दाखिल हो, जिंदा ही मर जाते हैं :*

*सोचना की बच्चे अपने लिए पैदा कर रहे हो या विदेश की सेवा के लिए।*

*बेटा एडिलेड में, बेटी है न्यूयार्क।*
 *ब्राईट बच्चों के लिए, हुआ बुढ़ापा डार्क।*

*बेटा डालर में बंधा, सात समन्दर पार।*
 *चिता जलाने बाप की, गए पड़ोसी चार।*

*ऑन लाईन पर हो गए, सारे लाड़ दुलार।*
 *दुनियां छोटी हो गई, रिश्ते हैं बीमार।*

*बूढ़ा-बूढ़ी आँख में, भरते खारा नीर।*
 *हरिद्वार के घाट की, सिडनी में तकदीर।*

*तेरे डालर से भला, मेरा इक कलदार।*
 *रूखी-सूखी में सुखी,* 
*अपना घर संसार*
     अपनी दुआओं में हमें याद रखें 🙏

बाकी कल ,खतरा अभी टला नहीं है ,दो गज की दूरी और मास्क 😷 है जरूरी ....सावधान रहिये -सतर्क रहिये -निस्वार्थ नेक कर्म कीजिये -अपने इष्ट -सतगुरु को अपने आप को समर्पित कर दीजिये ....!
विकास शर्मा "शिवाया "
जयपुर -राजस्थान
"ASTRO सर्व समाधान"

©Vikas Sharma Shivaaya'
  ✒️📙जीवन की पाठशाला 📖🖋️

🙏 मेरे सतगुरु श्री बाबा लाल दयाल जी महाराज की जय 🌹

*मियां-बीबी दोनों मिल खूब कमाते हैं*
 *तीस लाख का पैकेज दोनों ही पाते हैं*

*सुबह आठ बजे नौकरियों*

✒️📙जीवन की पाठशाला 📖🖋️ 🙏 मेरे सतगुरु श्री बाबा लाल दयाल जी महाराज की जय 🌹 *मियां-बीबी दोनों मिल खूब कमाते हैं* *तीस लाख का पैकेज दोनों ही पाते हैं* *सुबह आठ बजे नौकरियों* #समाज

0 Views

fb620c786d2ee468f715cc5ad251fa31

Vikas Sharma Shivaaya'

✒️📙जीवन की पाठशाला 📖🖋️

🙏 मेरे सतगुरु श्री बाबा लाल दयाल जी महाराज की जय 🌹

*बहुत समय पहले की बात है , नयासर का राजा बड़ा प्रतापी था , दूर-दूर तक उसकी समृद्धि की चर्चाएं होती थी, उसके महल में हर एक सुख-सुविधा की वस्तु उपलब्ध थी पर फिर भी अंदर से उसका मन अशांत रहता था। उसने कई ज्योतिषियों और पंडितों से इसका कारण जानना चाहा, बहुत से विद्वानो से मिला, किसी ने कोई अंगूठी पहनाई तो किसी ने यज्ञ कराए , पर फिर भी राजा का दुःख दूर नहीं हुआ, उसे शांति नहीं मिली।*

*एक दिन भेष बदल कर राजा अपने राज्य की सैर पर निकला। घूमते- घूमते वह एक खेत के निकट से गुजरा , तभी उसकी नज़र एक किसान पर पड़ी , किसान ने फटे-पुराने वस्त्र धारण कर रखे थे और वह पेड़ की छाँव में बैठ कर भोजन कर रहा था।*

*किसान के वस्त्र देख राजा के मन में आया कि वह किसान को कुछ स्वर्ण मुद्राएं दे दे ताकि उसके जीवन मे कुछ खुशियां आ पाये।*

*राजा किसान के सम्मुख जा कर बोला – ” मैं एक राहगीर हूँ , मुझे तुम्हारे खेत पर ये चार स्वर्ण मुद्राएँ गिरी मिलीं , चूँकि यह खेत तुम्हारा है इसलिए ये मुद्राएं तुम ही रख लो।“*

*किसान – ” ना – ना सेठ जी , ये मुद्राएं मेरी नहीं हैं , इसे आप ही रखें या किसी और को दान कर दें , मुझे इनकी कोई आवश्यकता नहीं।“*

*किसान की यह प्रतिक्रिया राजा को बड़ी अजीब लगी , वह बोला , ” धन की आवश्यकता किसे नहीं होती भला आप लक्ष्मी को ना कैसे कर सकते हैं ?”*

*“सेठ जी , मैं रोज चार आने कमा लेता हूँ , और उतने में ही प्रसन्न रहता हूँ… “, किसान बोला।*

*“क्या ? आप सिर्फ चार आने की कमाई करते हैं , और उतने में ही प्रसन्न रहते हैं , यह कैसे संभव है !” , राजा ने अचरज से पुछा।*

*”सेठ जी”, किसान बोला ,” प्रसन्नता इस बात पर निर्भर नहीं करती की आप कितना कमाते हैं या आपके पास कितना धन है …. प्रसन्नता उस धन के प्रयोग पर निर्भर करती है।“*

*”तो तुम इन चार आने का क्या-क्या कर लेते हो ?, राजा ने उपहास के लहजे में प्रश्न किया।*

*किसान भी बेकार की बहस में नहीं पड़ना चाहता था उसने आगे बढ़ते हुए उत्तर दिया”*

*इन चार आनो में से एक मैं कुएं में डाल देता हूँ , दुसरे से कर्ज चुका देता हूँ , तीसरा उधार में दे देता हूँ और चौथा मिटटी में गाड़ देता हूँ ….”*

*राजा सोचने लगा , उसे यह उत्तर समझ नहीं आया। वह किसान से इसका अर्थ पूछना चाहता था , पर वो जा चुका था।*

*राजा ने अगले दिन ही सभा बुलाई और पूरे दरबार में कल की घटना कह सुनाई और सबसे किसान के उस कथन का अर्थ पूछने लगा।*

*दरबारियों ने अपने-अपने तर्क पेश किये पर कोई भी राजा को संतुष्ट नहीं कर पाया , अंत में किसान को ही दरबार में बुलाने का निर्णय लिया गया।*
 
*बहुत खोज-बीन के बाद किसान मिला और उसे कल की सभा में प्रस्तुत होने का निर्देश दिया गया।*

*राजा ने किसान को उस दिन अपने भेष बदल कर भ्रमण करने के बारे में बताया और सम्मान पूर्वक दरबार में बैठाया।*

*” मैं तुम्हारे उत्तर से प्रभावित हूँ , और तुम्हारे चार आने का हिसाब जानना चाहता हूँ;  बताओ, तुम अपने कमाए चार आने किस तरह खर्च करते हो जो तुम इतना प्रसन्न और संतुष्ट रह पाते हो ?” , राजा ने प्रश्न किया।*

 *किसान बोला ,” हुजूर , जैसा की मैंने बताया था , मैं एक आना कुएं में डाल देता हूँ , यानि अपने परिवार के भरण-पोषण में लगा देता हूँ, दुसरे से मैं कर्ज चुकता हूँ , यानि इसे मैं अपने वृद्ध माँ-बाप की सेवा में लगा देता हूँ , तीसरा मैं उधार दे देता हूँ , यानि अपने बच्चों की शिक्षा-दीक्षा में लगा देता हूँ, और चौथा मैं मिटटी में गाड़ देता हूँ , यानि मैं एक पैसे की बचत कर लेता हूँ ताकि समय आने पर मुझे किसी से माँगना ना पड़े और मैं इसे धार्मिक सामजिक या अन्य आवश्यक कार्यों में लगा सकूँ। “*

*राजा को अब किसान की बात समझ आ चुकी थी। राजा की समस्या का समाधान हो चुका था , वह जान चुका था की यदि उसे प्रसन्न एवं संतुष्ट रहना है तो उसे भी अपने अर्जित किये धन का सही-सही उपयोग करना होगा।*

 *शिक्षा*

*मित्रों, देखा जाए तो पहले की अपेक्षा लोगों की आमदनी बढ़ी है पर क्या उसी अनुपात में हमारी प्रसन्नता भी बढ़ी है ? पैसों के मामलों में हम कहीं न कहीं गलती कर रहे हैं , लाइफ को बैलेंस्ड बनाना ज़रूरी है और इसके लिए हमें अपनी आमदनी और उसके इस्तेमाल पर ज़रूर गौर करना चाहिए, नहीं तो भले हम लाखों रूपये कमा लें पर फिर भी प्रसन्न एवं संतुष्ट नहीं रह पाएंगे !*

अपनी दुआओं में हमें याद रखें 🙏

बाकी कल ,खतरा अभी टला नहीं है ,दो गज की दूरी और मास्क 😷 है जरूरी ....सावधान रहिये -सतर्क रहिये -निस्वार्थ नेक कर्म कीजिये -अपने इष्ट -सतगुरु को अपने आप को समर्पित कर दीजिये ....!
विकास शर्मा "शिवाया "
जयपुर -राजस्थान
"ASTRO सर्व समाधान "

©Vikas Sharma Shivaaya'
  ✒️📙जीवन की पाठशाला 📖🖋️

🙏 मेरे सतगुरु श्री बाबा लाल दयाल जी महाराज की जय 🌹

*बहुत समय पहले की बात है , नयासर का राजा बड़ा प्रतापी था , दूर-दूर तक उसकी समृद्धि की चर्चाएं होती थी, उसके महल में हर एक सुख-सुविधा की वस्तु उपलब्ध थी पर फिर भी अंदर से उसका मन अशांत रहता था। उसने कई ज्योतिषियों और पंडितों से इसका कारण जानना चाहा, बहुत से विद्वानो से मिला, किसी ने कोई अंगूठी पहनाई तो किसी ने यज्ञ कराए , पर फिर भी राजा का दुःख दूर नहीं हुआ, उसे शांति नहीं मिली।*

*एक दिन भेष बदल कर राजा अपने राज्य की सैर

✒️📙जीवन की पाठशाला 📖🖋️ 🙏 मेरे सतगुरु श्री बाबा लाल दयाल जी महाराज की जय 🌹 *बहुत समय पहले की बात है , नयासर का राजा बड़ा प्रतापी था , दूर-दूर तक उसकी समृद्धि की चर्चाएं होती थी, उसके महल में हर एक सुख-सुविधा की वस्तु उपलब्ध थी पर फिर भी अंदर से उसका मन अशांत रहता था। उसने कई ज्योतिषियों और पंडितों से इसका कारण जानना चाहा, बहुत से विद्वानो से मिला, किसी ने कोई अंगूठी पहनाई तो किसी ने यज्ञ कराए , पर फिर भी राजा का दुःख दूर नहीं हुआ, उसे शांति नहीं मिली।* *एक दिन भेष बदल कर राजा अपने राज्य की सैर #समाज

0 Views

fb620c786d2ee468f715cc5ad251fa31

Vikas Sharma Shivaaya'

12 Ways To Raise Your Vibration

1) Expressing your gratitude 
2) Giving and receiving love 
3) Generosity
4) Meditation and Breathwork
5) Forgiveness
6) Eat high-vibe foods (living fruits and veggies)
7) Reduce or eliminate toxins such as alcohol from the body.
8)Thinking positive thoughts
9) Avoiding the news and any other low-vibing entertainment or media.
10) Practice Self-care 
11) Exercise & spend time in Nature 
12) By making sure your relationships are healthy!

©Vikas Sharma Shivaaya'
  12 Ways To Raise Your Vibration

1) Expressing your gratitude 
2) Giving and receiving love 
3) Generosity
4) Meditation and Breathwork
5) Forgiveness
6) Eat high-vibe foods (living fruits and veggies)

12 Ways To Raise Your Vibration 1) Expressing your gratitude 2) Giving and receiving love 3) Generosity 4) Meditation and Breathwork 5) Forgiveness 6) Eat high-vibe foods (living fruits and veggies) #समाज

0 Views

fb620c786d2ee468f715cc5ad251fa31

Vikas Sharma Shivaaya'

ॐ नमः शिवाय:*

ॐसर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे  निरामयाः।                                                सर्वे भद्राणि पश्यन्तु मा  कश्चिद्दुः खभाग्भवेत् ।                                 ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ॥

"सभी सुखी होवें, सभी रोगमुक्त रहें, सभी मंगलमय घटनाओं के साक्षी बनें और किसी को भी दुःख का भागी न बनना पड़े।"
                          🙏🏻🙏🏻🙏🏻
एकांत साधना, आत्म चिंतन, आत्म मंथन, आत्म निरिक्षण, आत्म शोधन, आत्मोत्थान  को  समर्पित इस
"भारतीय नववर्ष, चैत्र शुक्ल प्रतिपदा विक्रमी संवत् 2080 (22 मार्च 2023)" और पावन नवरात्रों की आप सभी को हार्दिक बधाई  एवं शुभकामनाएँ ।
                          🙏🏻🙏🏻🙏🏻
*नव वर्ष/नवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाएं पूरे परिवार सहित।*

*किसी भी बीमारी को ठीक करने के लिए यह Affirmation 7 बार पानी में दृष्टि देकर चार्ज करे।*

1) में मास्टर सुप्रीम सर्जन हूं।
I am Master Supreme Surgeon.
2) में मास्टर ऑलमाइटी हूं।
I am Master Almighty.
3) में मास्टर सर्व शक्तिमान हूं।
I am Master Powerful.
4) में परम पवित्र आत्मा हूं।
I am Pure Soul.
5) में एवर हैल्थी आत्मा हूं।
I am ever Healthy Soul.

मेरे मस्तक और नैनो से पवित्र सफेद रंग की किरणे निकल कर पानी में जा रही है, शुक्रिया जलतत्व शुक्रियागुरु /इष्ट / बाबा, पानी अब ईश्वरीय जड़ी बुटी बन चुका है। यह पानी आप पानी के मटके में और चाय में भी मिला कर घर के सभी सदस्यों को पीला सकते हो।🙏

आप का हर लम्हा शुभ , सुखद, मंगलमय व स्वस्थ हो।🌹🌹

©Vikas Sharma Shivaaya'
  ॐ नमः शिवाय:* ॐसर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे निरामयाः। सर्वे भद्राणि पश्यन्तु मा कश्चिद्दुः खभाग्भवेत् । ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ॥ "सभी सुखी होवें, सभी रोगमुक्त रहें, सभी मंगलमय घटनाओं के साक्षी बनें और किसी को भी दुःख का भागी न बनना पड़े।" 🙏🏻🙏🏻🙏🏻 एकांत साधना, आत्म चिंतन, आत्म मंथन, आत्म निरिक्षण, आत्म शोधन, आत्मोत्थान को समर्पित इस "भारतीय नववर्ष, चैत्र शुक्ल प्रतिपदा विक्रमी संवत् 2080 (22 मार्च 2023)" और पावन नवरात्रों की आप सभी को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ । 🙏🏻🙏🏻🙏🏻 *नव वर्ष/नवरात्रों की हार्

ॐ नमः शिवाय:* ॐसर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे निरामयाः। सर्वे भद्राणि पश्यन्तु मा कश्चिद्दुः खभाग्भवेत् । ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ॥ "सभी सुखी होवें, सभी रोगमुक्त रहें, सभी मंगलमय घटनाओं के साक्षी बनें और किसी को भी दुःख का भागी न बनना पड़े।" 🙏🏻🙏🏻🙏🏻 एकांत साधना, आत्म चिंतन, आत्म मंथन, आत्म निरिक्षण, आत्म शोधन, आत्मोत्थान को समर्पित इस "भारतीय नववर्ष, चैत्र शुक्ल प्रतिपदा विक्रमी संवत् 2080 (22 मार्च 2023)" और पावन नवरात्रों की आप सभी को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ । 🙏🏻🙏🏻🙏🏻 *नव वर्ष/नवरात्रों की हार् #समाज

0 Views

fb620c786d2ee468f715cc5ad251fa31

Vikas Sharma Shivaaya'

✒️📙जीवन की पाठशाला 📖🖋️

🙏 मेरे सतगुरु श्री बाबा लाल दयाल जी महाराज की जय 🌹

राम नाम अति मीठा है कोई गा के/भज के  देख ले तनिक ...,

एक बार एक राजा ने गाँव में राम कथा करवाई और कहा की सभी  ब्राह्मणो को राम कथा के लिए आमंत्रित  किया जाय  , राजा ने सबको राम कथा पढने के लिए  यथा स्थान दिया...,

एक ब्राह्मण अंगुटा छाप था उसको पठना लिखना कुछ आता नही था , वो ब्राह्मण सबसे पीछे बैठ गया , और सोचा की जब पास वाला पन्ना पलटेगा तब मैं भी पलट दूंगा.. ,

काफी देर देखा की पास बैठा व्यक्ति पन्ना नही पलट रहा है, उतने में राजा श्रदा पूर्वक सबको नमन करते चक्कर लगाते लगाते उस सज्जन के समीप आने लगे, तो उस ने एक ही रट लगादी 
की "अब राजा पूछेगा तो क्या कहूँगा "-"अब राजा पूछेगा तो क्या कहूँगा "?

उस सज्जन की ये बात सुनकर पास में बैठा व्यक्ति भी रट लगाने लग गया  ,की "तेरी गति सो मेरी गति -तेरी गति सो मेरी गति ,"

उतने में तीसरा व्यक्ति बोला ," ये पोल कब तक चलेगी -ये पोल कब तक चलेगी ?

चोथा बोला,जबतक चलता है चलने दे -जबतक चलता है चलने दे , 
वे चारों  अपने सिर नीचे किये इस तरह की रट लगाये बैठे हैं की ...
1 "अब राजा पूछेगा तो क्या कहूँगा.. 
2 "तेरी गति सो मेरी गति.. 
3 "ये पोल कब तक चलेगी.. 
4 "जबतक चलता है चलने दे..

जब राजा ने उन  चारों के स्वर सुने , राजा ने पूछा की ये सब क्या गा रहे है, ऐसे प्रसंग तो रामायण में हम ने पहले कभी नही सुने ... 

उतने में ,एक महात्मा उठे और बोले महाराज ये सब रामायण का ही प्रसंग बता रहे है :
पहला व्यक्ति है ये बहुत विद्वान है , ये बात सुमन ने ( अयोध्याकाण्ड ) में कही , राम लक्ष्मण सीता जी को वन में छोड़ , घर लौटते  है तब ये बात सुमन कहते हैं की -"अब राजा  पूछेंगे तो क्या कहूँगा ? ...अब राजा  पूछेंगे तो क्या कहूँगा ?

फिर कहा की ये दूसरा कहता है की -तेरी गति सो मेरी गति , महात्मा बोले महाराज ये तो इनसे भी ज्यादा  विद्द्वान है ,( किष्किन्धाकाण्ड ) में जब हनुमान जी, राम लक्ष्मण जी को अपने दोनों कंधे पर बिठा कर सुग्रीव के पास गए तब ये बात राम जी ने कही थी की , सुग्रीव ! तेरी गति सो मेरी गति , तेरी पत्नीको बाली ने रख लिया और मेरी पत्नी का रावण ने हरण कर लिया..

राजा ने आदरसे फिर पूछा , की महात्मा जी ! ये तीसरा बोल रहा है की ये पोल कब तक चलेगी , ये बात कभी किसी संत ने नही कही ? , बोले महाराज ये तो और भी ज्ञानी है ,( लंकाकाण्ड ) में अंगद जी ने रावण की भरी सभा में अपना पैर जमाया  , तब ये प्रसंग मेधनाथ ने अपने पिता रावन से किया की, पिता श्री ! ये पोल कब तक चलेगी , पहले एक वानर आया और वो हमारी लंका जला कर चला गया , और अब ये कहता है की मेरे पैर को कोई यहाँ से हटा दे तो भगवान श्री राम बिना युद्द किये वापिस   लौट जायेंगे...,

फिर राजा बोले की ये चोथा क्या बोल रहा है ? वो बोले  महाराज ये इतना बड़ा विद्वान है की कोई इनकी बराबरी कर ही नही सकता ,ये मंदोदरी की बात कर रहे है , मंदोदरी ने कई बार रावण से कहा की , स्वामी ! आप जिद्द छोड़, सीता जी को आदर सहित राम जी को सौंप दीजिये अन्यथा अनर्थ हो जायगा , तब ये बात रावण ने मंदोदरी से कही की ( जबतक चलता है चलने दे )...,

मेरे तो दोनों हाथ में लड्डू है ,अगर मैं राम के हाथो मारा गया तो मेरी मुक्ति हो जाएगी , इस अदम शरीर से भजन -वजन तो कुछ होता नही , और में युद्द जीत  गया तो त्रिलोकी में भी मेरी जय जयकार हो जाएगी.. ,

राजा इन सब बातो से चकित रह गए बोले की आज हमे ऐसा अदभुत प्रसंग सूनने को मिला जिसे की आज तक हमने नही सुना , राजा इतने प्रसन्न  हुए की उस महात्मा से बोले की आप जो कहें वो दान देने को राजी हूँ मैं इन ब्राह्मणों को ...,

उस महात्मा ने उन अनपढ़ अंगुटा  छाप ब्रहमिन भक्तो को अनेको दान दक्षिणा दिलवा दी ...

इन सब बातो का एक ही सार है  की कोई अज्ञानी , कोई नास्तिक , कोई कैसा भी क्यों न हो , रामायण , भागवत ,जैसे महान ग्रंथो को श्रदा पूर्वक  छूने मात्र से ही सब संकटो से मुक्त हो जाता  है , और अगर वो भगवान का सच्चा प्रेमी हो तो उनकी तो बात ही क्या है , मत पूछिये की वे कितने धनी  हो जाते हैं ...!
    🚩🌹जय जय श्री राम 🌹🚩

अपनी दुआओं में हमें याद रखें 🙏

बाकी कल ,खतरा अभी टला नहीं है ,दो गज की दूरी और मास्क 😷 है जरूरी ....सावधान रहिये -सतर्क रहिये -निस्वार्थ नेक कर्म कीजिये -अपने इष्ट -सतगुरु को अपने आप को समर्पित कर दीजिये ....!
विकास शर्मा "शिवाया "
जयपुर -राजस्थान
"ASTRO सर्व समाधान "

©Vikas Sharma Shivaaya'
  ✒️📙जीवन की पाठशाला 📖🖋️

🙏 मेरे सतगुरु श्री बाबा लाल दयाल जी महाराज की जय 🌹

राम नाम अति मीठा है कोई गा के/भज के  देख ले तनिक ...,

एक बार एक राजा ने गाँव में राम कथा करवाई और कहा की सभी  ब्राह्मणो को राम कथा के लिए आमंत्रित  किया जाय  , राजा ने सबको राम कथा पढने के लिए  यथा स्थान दिया...,

✒️📙जीवन की पाठशाला 📖🖋️ 🙏 मेरे सतगुरु श्री बाबा लाल दयाल जी महाराज की जय 🌹 राम नाम अति मीठा है कोई गा के/भज के देख ले तनिक ..., एक बार एक राजा ने गाँव में राम कथा करवाई और कहा की सभी ब्राह्मणो को राम कथा के लिए आमंत्रित किया जाय , राजा ने सबको राम कथा पढने के लिए यथा स्थान दिया..., #समाज

0 Views

fb620c786d2ee468f715cc5ad251fa31

Vikas Sharma Shivaaya'

*सुबह के शुभ संकेत : जानिए सुबह के 10 शुभ संकेत जो बता देते हैं कैसे गुजरेगा दिन*

प्रात: काल में हमारा मस्तिष्क बहुत ही संवेदनशील होता है। ऐसे में यदि वह सकारात्मक बातें ग्रहण करता है, तो जीवन में सकारात्मक घटनाएं ही घटती हैं, लेकिन यदि वह लगातार नकारात्मकता ग्रहण करता है तो जीवन में नकारात्मकता ही घटित होती है। अत: हमारी सुबह यदि शुभ दर्शन और शुभ कार्यों के साथ शुरू होगी तो संपूर्ण दिन भी शुभ ही होगा।
 
*शुभ संकेत :-*

1️⃣सुबह उठते ही अगर शंख या मंदिर की घंटियों की आवाज सुनाई दे तो यह शुभ होता है।
 
2️⃣नारियल, शंख, मोर, हंस या फूल आपको सुबह-सुबह दिख जाए तो समझिए आपका पूरा दिन शुभ बीतने वाला है।
 
3️⃣यदि सुबह घर से निकलते ही आपको कोई सफाईकर्मी दिखाई दे तो इसे भी शुभ संकेत माना जाता है।
 
4️⃣धर्मग्रंथों और ऋषि-मुनियों के अनुसार ऐसा माना जाता है कि हमारे हाथों की हथेलियों में दैवीय शक्तियां निवास करती हैं। अत: सुबह सुबह हाथों को देखना शुभ होता है।
 
5️⃣यदि सुबह उठते ही गाय दिखे या उसकी आवाज सुनाई दें तो समझें दिन बेहद शुभ होने वाला।
 
6️⃣सुबह सुबह जल का पक्षी, सफेद फूल, हाथी, मित्र आदि को देखना भी शुभ माना जाता है।
 
7️⃣सुबह के समय में आग का दिखना या हवन को देखना भी शुभ माना गया है।
 
8️⃣गोबर, सोना, तांबा, हरी घास देखना भी सुबह के लिए शुभ माना गया है।
 
9️⃣सुबह सुबह श्रृंगार की हुई सुहागन स्त्री का दर्शन बड़ा ही शुभ माना जाता है।
 
🔟सुबह-सुबह हवन देखना भी शुभ और मंगलकारी माना जाता है।

©Vikas Sharma Shivaaya'
  *सुबह के शुभ संकेत : जानिए सुबह के 10 शुभ संकेत जो बता देते हैं कैसे गुजरेगा दिन*

प्रात: काल में हमारा मस्तिष्क बहुत ही संवेदनशील होता है। ऐसे में यदि वह सकारात्मक बातें ग्रहण करता है, तो जीवन में सकारात्मक घटनाएं ही घटती हैं, लेकिन यदि वह लगातार नकारात्मकता ग्रहण करता है तो जीवन में नकारात्मकता ही घटित होती है। अत: हमारी सुबह यदि शुभ दर्शन और शुभ कार्यों के साथ शुरू होगी तो संपूर्ण दिन भी शुभ ही होगा।
 
*शुभ संकेत :-*

1️⃣सुबह उठते ही अगर शंख या मंदिर की घंटियों की आवाज सुनाई दे तो यह शुभ होता

*सुबह के शुभ संकेत : जानिए सुबह के 10 शुभ संकेत जो बता देते हैं कैसे गुजरेगा दिन* प्रात: काल में हमारा मस्तिष्क बहुत ही संवेदनशील होता है। ऐसे में यदि वह सकारात्मक बातें ग्रहण करता है, तो जीवन में सकारात्मक घटनाएं ही घटती हैं, लेकिन यदि वह लगातार नकारात्मकता ग्रहण करता है तो जीवन में नकारात्मकता ही घटित होती है। अत: हमारी सुबह यदि शुभ दर्शन और शुभ कार्यों के साथ शुरू होगी तो संपूर्ण दिन भी शुभ ही होगा। *शुभ संकेत :-* 1️⃣सुबह उठते ही अगर शंख या मंदिर की घंटियों की आवाज सुनाई दे तो यह शुभ होता #समाज

0 Views

fb620c786d2ee468f715cc5ad251fa31

Vikas Sharma Shivaaya'

*Basic -Advance- & Professional Tarot Card Course -3 in 1*

*बेसिक -एडवांस एवं प्रोफेशनल टैरो कार्ड कोर्स -3कोर्स एक फीस में*

+++++++++++++++++++++++

*9 Days Maa Aadishakti Course Free Free Free Free*

Course starts from: Thursday,16th March,2023

कोर्स प्रारम्भ :आज गुरुवार , दिनांक :16th मार्च ,2023


Timing:5:15 to 6:30pm
समय :सांय :5:15 -6:39pm

Class Mode: 3-4 Days in a week- Alternate Day

कक्षाएं हफ्ते में 3-4 दिन ,एक दिन छोड़ कर ...

Medium :Hindi/English Mix

भाषा :हिंदी एवं इंग्लिश दोनों 

*What is covered:क्या पढ़ाया जायेगा*?
👉Origin of Tarot,टैरो क्या है ?
👉History & Basic of Tarot-टैरो का इतिहास एवं विस्तृत जानकारी  
👉How to connect Tarot with Karma's theory-Shakun Shastra-Numerology- Astrology-Colours symbolism-टैरो से कैसे सम्बन्ध स्थापित करें ? आपके कर्मों -शकुन शास्त्र -अंकगणित एवं टैरो में फोटो के आधार पर 

👉7 Chakra's-शरीर के सात चक्र एवं टैरो 
👉Understanding the concepts of Tarot-टैरो के सिद्धांत 
👉Basic fundamentals to understand every card without memorizing-कैसे हर टैरो कार्ड को बिना रटे याद रखा जाए 
👉Division of Cards-Types of Cards in Tarot along with their purpose-टैरो कार्ड कितने प्रकार के एवं उनसे जुडी आपकी बातें 
👉Sequence of Cards as per the theory of 5 Elements-टैरो एवं पंच तत्त्व 
👉Description of Cards as per Astrology & Vastu (Planets & Directions)-हर टैरो कार्ड क्या कहता है आपके बारे में (ज्योतिष -वास्तु -ग्रहों एवं दिशाओं के अनुसार )
👉How to use 5 Elements of nature in Tarot Readings-पंच तत्वों का प्राकर्तिक सिद्धांत एवं टैरो 
👉Detailed meaning & interpretation of Major & Minor arcana-प्रत्येक मेजर एवं माइनर अरकाना कार्ड की जुबान 
👉How to charge & clean your cards for accurate professional readings-कार्ड को कैसे साफ़ करें एवं चार्ज करें एक सही भविष्यवाणी के लिए 
👉Preparations before conducting a professional Tarot Card reading-टैरो को व्यवसाय बनाने से पूर्व की सावधानियां 
👉How to read Tarot Cards for different situations of life-टैरो को जीवन की भिन्न भिन्न परिस्तिथियों के हिसाब से कैसे पढें 
👉Learn to do accurate time predictions through Tarot Cards-टैरो द्वारा समय गणना कैसे करें 
👉Remedies as per Tarot (Astrological, Numeroligcal & Energy)-टैरो द्वारा ज्योतिषीय -अंकगणित एवं उर्जात्मक उपाय 
👉How to frame proper questions to get correct answers all the time-टैरो से सही प्रश्न कैसे पूछें 
👉Learn to make Life Cards to provide instant results to clients-टैरो से तुरंत उपचार/परिणाम के लिए कैसे पूछें 
👉How to find lost objects using Tarot-टैरो से खोई हुई वस्तु /इंसान /जानवर के बारे में कैसे पता करें 
👉Black Magic confirmation & removal through Tarot Reading-टैरो से काले जादू एवं उपाय कैसे जानें 
👉Learn unique spreads used by Professionals all over the world-कैसे दुनिया भर में टैरो को मिलाया जाता है 
👉How to do Vedic spread(Shiv Shakti-Brahma -Vishnu -Mahesh ,etc)-टैरो को आध्यात्मिक तरीके से जैसे शिव शक्ति ,ब्रह्मा विष्णु महेश द्वारा कैसे मिलाया जाता है 
👉Tarot attunement process to get started as a professional
👉How to do yearly predictions using Tarot Cards-टैरो द्वारा दिन प्रतिदिन -साप्ताहिक -मासिक -वार्षिक भविष्यवाणी कैसे की जाती है 
👉Providing Daily guidance using Tarot spreads
Card cutting & Energy resonance rituals for ending Tarot sessions
-👉Special Meditation to get connected with whole universe & provide deep insights through Divine Energy & Many more topics covered-टैरो द्वारा ध्यान कैसे लगाया जाता है और भी बहुत कुछ 

*E.E:7,777/-Regular*

*Friendship/Couple Offer:If you join along with one your friend/colleague:6,666/-*

*For Old students of any Course:5,555/-*

*भुगतान माध्यम:9903573558 (Anjali gupta)Gpay, phonepe, paytm no*

Recording & PDF provide

प्रतिदिन की क्लास की रिकॉर्डिंग  एवं कोर्स के समापन पर PDF मिलेगी 

Lifetime Support by Vikas Sharma'Shivaaya'

Share screenshot of payment with your full name &  -mailid..

*Note:If you join with 7,777/-than you will get 9 days Maa Aadi Shakti Navratri Course value of Rs.2121/-is totally free as gift.*

*अगर आप नियमित भुगतान 7777/- द्वारा -एक के साथ एक भुगतान 6666/-  द्वारा  या पुराने विद्यार्थी के भुगतान 5555/- द्वारा कोर्स ज्वाइन करते हैं तो आपको नवरात्री के प्रसाद स्वरुप माँ आदिशक्ति का 9 दिन का कोर्स जिसकी फीस 2121/- है निशुल्क कराया जायेगा !

Than ,Any reason for waiting,join fast 

तो इंतजार किस बात का ?

©Vikas Sharma Shivaaya'
  *Basic -Advance- & Professional Tarot Card Course -3 in 1*

*बेसिक -एडवांस एवं प्रोफेशनल टैरो कार्ड कोर्स -3कोर्स एक फीस में*

+++++++++++++++++++++++

*9 Days Maa Aadishakti Course Free Free Free Free*

*Basic -Advance- & Professional Tarot Card Course -3 in 1* *बेसिक -एडवांस एवं प्रोफेशनल टैरो कार्ड कोर्स -3कोर्स एक फीस में* +++++++++++++++++++++++ *9 Days Maa Aadishakti Course Free Free Free Free* #समाज

0 Views

fb620c786d2ee468f715cc5ad251fa31

Vikas Sharma Shivaaya'

✒️📙जीवन की पाठशाला 📖🖋️

🙏 मेरे सतगुरु श्री बाबा लाल दयाल जी महाराज की जय 🌹

*दार्शनिक सुकरात दिखने में कुरुप थे। वह एक दिन अकेले बैठे हुए आईना हाथ मे लिए अपना चेहरा देख रहे थे।*

*तभी उनका एक शिष्य कमरे मे आया ; सुकरात को आईना देखते हुए देख उसे कुछ अजीब लगा । वह कुछ बोला नही सिर्फ मुस्कराने लगा। विद्वान सुकरात शिष्य की मुस्कराहट देख कर सब समझ गए और कुछ देर बाद बोले ,”मैं तुम्हारे मुस्कराने का मतलब समझ रहा हूँ……शायद तुम सोच रहे हो कि मुझ जैसा कुरुप आदमी आईना क्यों देख रहा है ?”*

*शिष्य कुछ नहीं बोला , उसका सिर शर्म से झुक गया।*

*सुकरात ने फिर बोलना शुरु किया , “शायद तुम नहीं जानते कि मैं आईना क्यों देखता हूँ”*

*“नहीं ” , शिष्य बोला ।*

 *गुरु जी ने कहा “मैं कुरूप हूं इसलिए रोजाना आईना देखता हूं”। आईना देख कर मुझे अपनी कुरुपता का भान हो जाता है। मैं अपने रूप को जानता हूं। इसलिए मैं हर रोज कोशिश करता हूं कि अच्छे काम करुं ताकि मेरी यह कुरुपता ढक जाए।शिष्य को ये बहुत शिक्षाप्रद लगी । परंतु उसने एक शंका प्रकट की- ” तब गुरू जी, इस तर्क के अनुसार सुंदर लोगों को तो आईना नही देखना चाहिए ?”*

 *“ऐसी बात नही!” सुकरात समझाते हुए बोले ,” उन्हे भी आईना अवश्य देखना चाहिए”! इसलिए ताकि उन्हे ध्यॉन रहे कि वे जितने सुंदर दीखते हैं उतने ही सुंदर काम करें, कहीं बुरे काम उनकी सुंदरता को ढक ना ले और परिणामवश उन्हें कुरूप ना बना दे ।*

 *शिष्य को गुरु जी की बात का रहस्य मालूम हो गया। वह गुरु के आगे नतमस्तक हो गया।*

*शिक्षा*

*प्रिय मित्रो, कहने का भाव यह है कि सुन्दरता मन व् भावों से दिखती है। शरीर की सुन्दरता तात्कालिक है जब कि मन और विचारों की सुन्दरता की सुगंध दूर-दूर तक फैलती है।*

*भूमि और भवन पाने के उपाय*

        👉🏠🏠🏠🏠🏠👈

*अगर आप मकान बनाना चाहते हैं तो एक लाल कपड़े में 6 चुटकी कुमकुम, 6 लौंग, 9 बिंदिया, 9 मुट्ठी साफ़ मिट्टी और 6 कौड़ियाँ लपेट कर नदी में शुक्रवार को विसर्जित कर दें | माता की कृपा से आपको जल्द ही अपना मकान मिलेगा*

*एक मिट्टी की कोरी हांडी में दूध, दही, घी, शक्कर, मिश्री, कपूर डाल कर उस हांडी के आगे पद्मावति माता का जप करें और शुक्रवार को वो हांडी किसी नदी या तालाब में ले जा कर जमीन में गाड़ दें तो माता की कृपा से शीघ्र आपको भूमि और भवन प्राप्त होगा*

अपनी दुआओं में हमें याद रखें 🙏

बाकी कल ,खतरा अभी टला नहीं है ,दो गज की दूरी और मास्क 😷 है जरूरी ....सावधान रहिये -सतर्क रहिये -निस्वार्थ नेक कर्म कीजिये -अपने इष्ट -सतगुरु को अपने आप को समर्पित कर दीजिये ....!
विकास शर्मा "शिवाया "
जयपुर -राजस्थान
ASTRO सर्व समाधान

©Vikas Sharma Shivaaya'
  ✒️📙जीवन की पाठशाला 📖🖋️

🙏 मेरे सतगुरु श्री बाबा लाल दयाल जी महाराज की जय 🌹

*दार्शनिक सुकरात दिखने में कुरुप थे। वह एक दिन अकेले बैठे हुए आईना हाथ मे लिए अपना चेहरा देख रहे थे।*

*तभी उनका एक शिष्य कमरे मे आया ; सुकरात को आईना देखते हुए देख उसे कुछ अजीब लगा । वह कुछ बोला नही सिर्फ मुस्कराने लगा। विद्वान सुकरात शिष्य की मुस्कराहट देख कर सब समझ गए और कुछ देर बाद बोले ,”मैं तुम्हारे मुस्कराने का मतलब समझ रहा हूँ……शायद तुम सोच रहे हो कि मुझ जैसा कुरुप आदमी आईना क्यों देख रहा है ?”*

✒️📙जीवन की पाठशाला 📖🖋️ 🙏 मेरे सतगुरु श्री बाबा लाल दयाल जी महाराज की जय 🌹 *दार्शनिक सुकरात दिखने में कुरुप थे। वह एक दिन अकेले बैठे हुए आईना हाथ मे लिए अपना चेहरा देख रहे थे।* *तभी उनका एक शिष्य कमरे मे आया ; सुकरात को आईना देखते हुए देख उसे कुछ अजीब लगा । वह कुछ बोला नही सिर्फ मुस्कराने लगा। विद्वान सुकरात शिष्य की मुस्कराहट देख कर सब समझ गए और कुछ देर बाद बोले ,”मैं तुम्हारे मुस्कराने का मतलब समझ रहा हूँ……शायद तुम सोच रहे हो कि मुझ जैसा कुरुप आदमी आईना क्यों देख रहा है ?”* #समाज

0 Views

fb620c786d2ee468f715cc5ad251fa31

Vikas Sharma Shivaaya'

क्या हमारा खराब प्रारब्ध किसी उपाय से बदला जा सकता है ?*क्यों बदलें *प्रारब्ध खराब है तो भोग करके नष्ट कर दो।  लोभी आदमी टैक्सी के लिए पैसा खर्च न करके पैदल चला जाता है।  हम प्रारब्ध को मिटाने के लिये भगवान् का भजन क्यों खर्च करें।  शूरवीरता से उसको भोग लें।

भीष्म के शरीर में दो अंगुल भी जगह ऐसी नहीं बची थी, जहाँ बाण लगने से घाव न हुआ हो।  परन्तु उस अवस्था में भी वे कहते हैं कि मेरे जितने कर्म हैं,सब फल भुगताने के लिये आ जाओ ! 'पूर्वजन्म में जिन कर्मों का मेरे द्वारा संचय किया गया है, वे सभी रोग मेरे शरीर में उपस्थित हो जायँ।
मैं सबसे उऋण होकर भगवान् विष्णु के परमधाम को जाना चाहता हूँ।' (महाभारत, शान्ति० २०९)

©Vikas Sharma Shivaaya'
  क्या हमारा खराब प्रारब्ध किसी उपाय से बदला जा सकता है ?*क्यों बदलें *प्रारब्ध खराब है तो भोग करके नष्ट कर दो।  लोभी आदमी टैक्सी के लिए पैसा खर्च न करके पैदल चला जाता है।  हम प्रारब्ध को मिटाने के लिये भगवान् का भजन क्यों खर्च करें।  शूरवीरता से उसको भोग लें।

भीष्म के शरीर में दो अंगुल भी जगह ऐसी नहीं बची थी, जहाँ बाण लगने से घाव न हुआ हो।  परन्तु उस अवस्था में भी वे कहते हैं कि मेरे जितने कर्म हैं,सब फल भुगताने के लिये आ जाओ ! 'पूर्वजन्म में जिन कर्मों का मेरे द्वारा संचय किया गया है, वे सभी रो

क्या हमारा खराब प्रारब्ध किसी उपाय से बदला जा सकता है ?*क्यों बदलें *प्रारब्ध खराब है तो भोग करके नष्ट कर दो। लोभी आदमी टैक्सी के लिए पैसा खर्च न करके पैदल चला जाता है। हम प्रारब्ध को मिटाने के लिये भगवान् का भजन क्यों खर्च करें। शूरवीरता से उसको भोग लें। भीष्म के शरीर में दो अंगुल भी जगह ऐसी नहीं बची थी, जहाँ बाण लगने से घाव न हुआ हो। परन्तु उस अवस्था में भी वे कहते हैं कि मेरे जितने कर्म हैं,सब फल भुगताने के लिये आ जाओ ! 'पूर्वजन्म में जिन कर्मों का मेरे द्वारा संचय किया गया है, वे सभी रो #समाज

0 Views

loader
Nojoto: India's Largest Storytelling Platform

Install Nojoto AppGet upto ₹ 100 Cash

Home
Explore
Events
Notification
Profile