tags

New रोशनी मिश्रा Status, Photo, Video

Find the latest Status about रोशनी मिश्रा from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos.

  • Latest
  • Video

चाइना को आईना
#HumBolenge #Deshbhakti
suggest topic :- Amit Thakur
अंतिम पँक्ति -प्रख्यात मिश्रा जी की
स्वर /लेखक :- कवि राहुल पाल
#nojot

399 Love
16.5K Views
10 Share

"Jo Dard Seene Mein Hai wo laboon Tak Laun Kaise Jo Haal-e-dil Hai wo HAL sunaun Kaise Halat-e-hayath Tu Nahin Hai Ye Mara ja raha hun Bataun kaise Ek Wada Kiya Tha Wada Wafa karunga is Ehd-e-Wafa per ab Mar Jaun Kaise Mein paunch gya tha uski dahleez Tak Uske Dil Mein Utar jaaun Kaise Barsaun Raha Hoon Uski Yaadon Mein yah Basti Yun Hi Choor Ke jaaun Kaise Mera Ek Nazariya Hai Main Ek Nazariya Rakhta hun main tere kufar pay Iman laun Kaise Nadeem Meri Soch Tak tum Soch Nahin Sakte yah baat gehri hai Tumhen samjhaun kaise"

Jo Dard  Seene Mein Hai wo laboon Tak Laun Kaise
 Jo Haal-e-dil Hai wo HAL sunaun Kaise
Halat-e-hayath Tu Nahin Hai Ye
 Mara ja raha hun Bataun kaise 
Ek Wada Kiya Tha Wada Wafa karunga
 is  Ehd-e-Wafa per ab Mar Jaun Kaise 
Mein paunch gya tha uski dahleez Tak
 Uske Dil Mein Utar jaaun Kaise 
Barsaun Raha Hoon Uski Yaadon Mein
 yah Basti Yun Hi Choor Ke jaaun Kaise
 Mera Ek Nazariya Hai Main Ek Nazariya Rakhta hun
 main tere kufar  pay  Iman laun Kaise 
Nadeem Meri Soch Tak tum Soch Nahin Sakte
 yah baat gehri hai Tumhen samjhaun kaise

#poetryunplugged

vidhi arora Priya Gupta karam vir Brar shiva filhal mr_abujar_05 Deepshikha Mishra JACK._.HADIYA._.87 vidhi arora Åk Êsh

426 Love
17.7K Views
1 Share

ہم کو معلوم ہے مرض اپنا
طبیب کیا کرے گا علاج اپنا
شفاء تو ملتی ہے بس ایک در سے
باقی کھول کے بیٹھے ہیں بس نظام اپنا
ہر روز ہی مرتا ہوں یہ کوئ

362 Love
11.2K Views

"और जो हुआ पूरा किसी दिन, दाग नजर आ जाएगा.. उधार की रोशनी का सच, साफ नजर आ जाएगा... मैंने उसको पास बिठाया आईना दिखाया, फिर थोड़ा समझाया.. इस सतह की रोशनी की, तू मुझे क्या दुहाई देता है.. उसके तो अंदर है वो नूर, जो बाहर दिखाई देता है... ©drVats वो छत पर लेटे लेटे एक दिन, शाम से जब रात हुई.. चांद दिखा मुझे आसमान में, चांद से मेरी बात हुई.. चांद बोला परेशान सा, कैसे अपने नूर को बरकरार रख पाता है.. मेरा आकार तो हर दिन, घटता बढ़ता जाता है.."

और जो हुआ पूरा किसी दिन, 
दाग नजर आ जाएगा..
उधार की रोशनी का सच,
 साफ नजर आ जाएगा...

मैंने उसको पास बिठाया
आईना दिखाया,
फिर थोड़ा समझाया..

इस सतह की रोशनी की, 
तू मुझे क्या दुहाई देता है.. 
उसके तो अंदर है वो नूर,
जो बाहर दिखाई देता है...
                ©drVats वो छत पर लेटे लेटे एक दिन, 
शाम से जब रात हुई.. 
चांद दिखा मुझे आसमान में,
 चांद से मेरी बात हुई..

चांद बोला परेशान सा,
कैसे अपने नूर को 

 बरकरार रख पाता है..
 मेरा आकार तो हर दिन,
 घटता बढ़ता जाता है..

चांद और वो #RashkeQamar means चाँद की ईर्ष्या..
So this poetry of mine best suited for the title.. Listen it up.. and react to it..
#Nojoto

414 Love
3.6K Views
19 Share

😊गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं.....🎊🎉💐😊
😊🎶🎤गीत - ये धरा चाहिए......वो गगन चाहिए...💙💚💜
@Patel Gourav Kumar @mahi sharma @anshima Tiwari Vam

77 Love
2.0K Views
30 Share

بات حق کی اور اپنوں کی آجائے تو, حق کا ساتھ دینا, کیونکہ اپنوں نے تو دنیا میں ہی چھوڑ جانا ہے, اور حق نے قبر میں میں بھی ساتھ نبھانا ہے. Kir

134 Love
2.2K Views

" मेरी मौत पर " " शिवांश मिश्रा "
● Jhootha Tera Pyaar - Shivansh Mishra .
● Please Do Like Share Comment For This Beautiful Post * Drop A L

96 Love
1.4K Views
2 Share

""प्यारी हंसी" (कविता)"

"प्यारी हंसी"
(कविता)

#sitarmusic
प्यारी हंसी
(यतीश कुमार)
आवाज़ --- संयोगिता मिश्रा

68 Love
1.4K Views

"अलोन रोशनी R. G.... "

अलोन रोशनी  R. G....

## अलोन रोशनी rg...

12 Love
1.0K Views
2 Share

सारी मुझपे पड़ने वाली रोशनी ज़ाया गई !! -कुशल

#themodernpoets #themodernpoets #Hindi #urdu #Shayari #ghazal #ishq #New

45 Love
967 Views

कोरोना और मधुशाला पर कविता || द्वारा - तनय मिश्रा
#TalkOnline

37 Love
1.0K Views
7 Share

https://www.facebook.com/TENDURIYA/
#prince_tenduriya #shayri #Shayari #Lovequotes #Love #ishq #Shayar #mohabbat #Poetry #hindishayari Veer

73 Love
1.3K Views
1 Share

#पिया रे
नमस्कार दोस्तो एक नया और स्वरचित गीत लेकर एकबार भी मैं संदीप शिखर मिश्रा आपके सामने उपस्थित हूँ, आशा करता हूँ, इस गीत को भी पिछले ग

49 Love
2.7K Views

#Life #Poetry #Trending #latest
#Love #Lifeexperiences

जिंदगी में दर्द मिला बहुत था
लोगो का कर्ज मुझ पर बहुत था

दिल का मकान सुना था
घर पर

60 Love
796 Views
1 Share

""अकेला योद्धा" प्रनित कुलुङ राई हाँ, भेडाको झुण्ड में रेहकर भि, एक भेडाको पेहचान मिल जाता हैं। लेकिन जो बिना झुण्ड के भि राज करे उसे हि जंगल के राजा बुलाता हैं । हाँ लाँख तारे भि दुनियाँ को रोशनी देती हैं, भिंड में हि सहि अपने आप को पेहचान दिलाता हैं लेकिन जिस्के रोशनी लाख तारे को भि भारी पड़ जाता है जिस्के चमक लाख तारे को भि झुकनेको मझबुर कर जाता है वह भि अकेला चाँद हि होता है । हाँ, बुँन्द बुँन्द से सागर बनता है लेकिन सच तो यही है कि उस जलको सागर बन्ने के लिए भि एक बुँन्द जल कि जरूरत होता हैं, और जो बुँन्द उस सागरसे बाहर आकर भि अपना तलाब बना लेता हैं वही शैलाब लाने कि संक्षम रखता हैं। हाँ, एक प्राणी भि भिंड मे हि सुरक्षित रेहता हैं, सफलता पाने के लिए किसी के साथ कि जरूरत होता हैं, लेकिन जो अकेला हि आसमान में उड्ता हैं, उसका हि सबसे मजबुत पंख हुआ करते हैं और जो अकेला हि संघर्ष करके सफलताको चुम लेता हैं उसे हि अकसर लोक अकेला योद्धा बुलाता हैं ।"

"अकेला योद्धा"
प्रनित कुलुङ राई 

हाँ, भेडाको झुण्ड में रेहकर भि, 
एक भेडाको पेहचान मिल जाता हैं।
लेकिन जो बिना झुण्ड के भि राज करे 
उसे हि जंगल के राजा बुलाता हैं ।

हाँ लाँख तारे भि दुनियाँ को रोशनी देती हैं, 
भिंड में हि सहि अपने आप को पेहचान दिलाता हैं 
लेकिन जिस्के रोशनी लाख तारे को भि भारी पड़ जाता है 
जिस्के चमक लाख तारे को भि झुकनेको मझबुर कर जाता है 
वह भि अकेला चाँद हि होता है ।

हाँ, बुँन्द बुँन्द से सागर बनता है 
लेकिन सच तो यही है कि 
उस जलको सागर बन्ने के लिए भि 
एक बुँन्द जल कि जरूरत होता हैं, 
और जो बुँन्द उस सागरसे बाहर आकर भि 
अपना  तलाब बना लेता हैं 
वही शैलाब लाने कि  संक्षम रखता हैं। 

हाँ, एक प्राणी भि भिंड मे हि सुरक्षित रेहता हैं, 
सफलता पाने के लिए किसी के साथ कि जरूरत होता हैं, 
लेकिन जो अकेला हि आसमान में  उड्ता हैं, 
उसका हि सबसे मजबुत पंख हुआ करते हैं 
और जो अकेला हि संघर्ष करके सफलताको चुम लेता हैं 
उसे  हि अकसर लोक अकेला योद्धा बुलाता हैं ।

अकेला योद्धा

38 Love
798 Views

#PulwamaAttack @tiger swami @Deepshikha @Rajat Agarwal (Melting Philosophy) @Rajat Sharma (insta id rajat_ek_khoya_sa_ladka) @कवि अमित मिश्रा

60 Love
646 Views

रोशनी के नाम पर मुहब्बत जला गये

5 Love
664 Views
5 Share

"यह कैसा अंत हीन इंतजार पसरा है काली सड़क सा जिसका कोई ओर ना छोर यह कैसा.. तुमने बहुत ही आवाज है मुझे पर मैंने हमेशा ही अनसुनी की जिस हकीकत से भागा था उसी से बार-बार टकरा कर कर लहूलुहान होता रहता हूं अब यह कैसा.. तुम्हारी आंखें बहुत बोलती - छलकती थी तब क्या अब भी खुशी- गम सुख - दुख में छलकती रहती हैं रहती है भरी -भरी पर ना जाने क्यूँ मेरी आंखों में लगी रहती है अब सावन की झड़ी यह कैसा.. पहले नींद रहित आंखों को तुम्हारे सुंदर सपनों का लालच दे सुला देता था पर ना जाने क्यों अब इनमें कभी रात की गहराई उतर जाती है तो कभी तुम्हारा दर्द ना जाने कैसे हृदय में करता रहता है रोशनी और कराता रहता है सारी रात - रतजगे यह कैसा.. अब इतना तो जान गया हूं रास्तों के बदलने से तकदीर कहां बदला करती हैं थक गया हूं तुम्हारी धरोहर को संभालते - संभालते अब यह वसीयत किसी और को कैसे दे दूं जिस पर लिखा है बस तुम्हारा तुम्हारा ही नाम यह कैसा.. न जाने क्यूँ अब तो अपनी परछाई ही डराने लगी है जिंदगी तो वीरान रही कहीं मौत भी गुमनाम ना हो पूरा होना अभी बाकी है बिछुड़ने से पहले जो हम न मिल पाए आखिरी बार वह रुखसते-उधारी अभी बाकी है आ जाओ बस एक बार लगा लो मुझे गले तुम्हारा -दीदार - ऐ- हसरत- बाकी है अभी बाकी है अभी बाकी है... दीदार- ऐ -हसरत "

यह कैसा अंत हीन इंतजार 
पसरा है काली सड़क सा 
जिसका कोई ओर ना छोर 
यह कैसा.. 
तुमने बहुत ही आवाज है मुझे
पर मैंने हमेशा ही अनसुनी की
जिस हकीकत से भागा था
उसी से बार-बार टकरा कर
कर लहूलुहान होता रहता हूं अब 
यह कैसा.. 
तुम्हारी आंखें बहुत 
बोलती - छलकती थी तब
क्या अब भी खुशी- गम 
सुख - दुख में छलकती रहती हैं
रहती है भरी -भरी
पर ना जाने क्यूँ मेरी आंखों
में लगी रहती है अब सावन की झड़ी
यह कैसा.. 
पहले नींद रहित आंखों को
तुम्हारे सुंदर सपनों का 
लालच दे सुला देता था
पर ना जाने क्यों अब इनमें
कभी रात की गहराई उतर जाती है तो कभी तुम्हारा दर्द 
ना जाने कैसे हृदय में
करता रहता है रोशनी
और कराता रहता है
सारी रात - रतजगे 
यह कैसा.. 
अब इतना तो जान गया हूं
रास्तों के बदलने से 
तकदीर कहां बदला करती हैं
थक गया हूं तुम्हारी धरोहर को 
संभालते - संभालते अब 
यह वसीयत किसी और को 
कैसे दे दूं जिस पर लिखा है 
बस तुम्हारा तुम्हारा ही नाम
यह कैसा.. 
न जाने क्यूँ अब तो अपनी 
परछाई ही डराने लगी है 
जिंदगी तो वीरान रही 
कहीं मौत भी गुमनाम ना हो 
पूरा होना अभी बाकी है 
बिछुड़ने से पहले जो 
हम न मिल पाए आखिरी बार
वह रुखसते-उधारी अभी बाकी है
आ जाओ बस एक बार 
लगा लो मुझे गले 
तुम्हारा -दीदार - ऐ- हसरत- बाकी है 
अभी बाकी है अभी बाकी है... दीदार- ऐ -हसरत

#krishna_flute

23 Love
482 Views
4 Share

"जहां रोशनी का मिलन हो रहा था"

17 Love
921 Views

#ability.
#मेरा यकीन जो किसी का #भरोश बना......
#लगा जेसे कोई कोना जो #उझाले से दूर होकर भी #रोशनी से शना......

82 Love
671 Views

चाइना को आईना
#HumBolenge #Deshbhakti
suggest topic :- Amit Thakur
अंतिम पँक्ति -प्रख्यात मिश्रा जी की
स्वर /लेखक :- कवि राहुल पाल
#nojot

399 Love
16.5K Views
10 Share

"Jo Dard Seene Mein Hai wo laboon Tak Laun Kaise Jo Haal-e-dil Hai wo HAL sunaun Kaise Halat-e-hayath Tu Nahin Hai Ye Mara ja raha hun Bataun kaise Ek Wada Kiya Tha Wada Wafa karunga is Ehd-e-Wafa per ab Mar Jaun Kaise Mein paunch gya tha uski dahleez Tak Uske Dil Mein Utar jaaun Kaise Barsaun Raha Hoon Uski Yaadon Mein yah Basti Yun Hi Choor Ke jaaun Kaise Mera Ek Nazariya Hai Main Ek Nazariya Rakhta hun main tere kufar pay Iman laun Kaise Nadeem Meri Soch Tak tum Soch Nahin Sakte yah baat gehri hai Tumhen samjhaun kaise"

Jo Dard  Seene Mein Hai wo laboon Tak Laun Kaise
 Jo Haal-e-dil Hai wo HAL sunaun Kaise
Halat-e-hayath Tu Nahin Hai Ye
 Mara ja raha hun Bataun kaise 
Ek Wada Kiya Tha Wada Wafa karunga
 is  Ehd-e-Wafa per ab Mar Jaun Kaise 
Mein paunch gya tha uski dahleez Tak
 Uske Dil Mein Utar jaaun Kaise 
Barsaun Raha Hoon Uski Yaadon Mein
 yah Basti Yun Hi Choor Ke jaaun Kaise
 Mera Ek Nazariya Hai Main Ek Nazariya Rakhta hun
 main tere kufar  pay  Iman laun Kaise 
Nadeem Meri Soch Tak tum Soch Nahin Sakte
 yah baat gehri hai Tumhen samjhaun kaise

#poetryunplugged

vidhi arora Priya Gupta karam vir Brar shiva filhal mr_abujar_05 Deepshikha Mishra JACK._.HADIYA._.87 vidhi arora Åk Êsh

426 Love
17.7K Views
1 Share

ہم کو معلوم ہے مرض اپنا
طبیب کیا کرے گا علاج اپنا
شفاء تو ملتی ہے بس ایک در سے
باقی کھول کے بیٹھے ہیں بس نظام اپنا
ہر روز ہی مرتا ہوں یہ کوئ

362 Love
11.2K Views

"और जो हुआ पूरा किसी दिन, दाग नजर आ जाएगा.. उधार की रोशनी का सच, साफ नजर आ जाएगा... मैंने उसको पास बिठाया आईना दिखाया, फिर थोड़ा समझाया.. इस सतह की रोशनी की, तू मुझे क्या दुहाई देता है.. उसके तो अंदर है वो नूर, जो बाहर दिखाई देता है... ©drVats वो छत पर लेटे लेटे एक दिन, शाम से जब रात हुई.. चांद दिखा मुझे आसमान में, चांद से मेरी बात हुई.. चांद बोला परेशान सा, कैसे अपने नूर को बरकरार रख पाता है.. मेरा आकार तो हर दिन, घटता बढ़ता जाता है.."

और जो हुआ पूरा किसी दिन, 
दाग नजर आ जाएगा..
उधार की रोशनी का सच,
 साफ नजर आ जाएगा...

मैंने उसको पास बिठाया
आईना दिखाया,
फिर थोड़ा समझाया..

इस सतह की रोशनी की, 
तू मुझे क्या दुहाई देता है.. 
उसके तो अंदर है वो नूर,
जो बाहर दिखाई देता है...
                ©drVats वो छत पर लेटे लेटे एक दिन, 
शाम से जब रात हुई.. 
चांद दिखा मुझे आसमान में,
 चांद से मेरी बात हुई..

चांद बोला परेशान सा,
कैसे अपने नूर को 

 बरकरार रख पाता है..
 मेरा आकार तो हर दिन,
 घटता बढ़ता जाता है..

चांद और वो #RashkeQamar means चाँद की ईर्ष्या..
So this poetry of mine best suited for the title.. Listen it up.. and react to it..
#Nojoto

414 Love
3.6K Views
19 Share

😊गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं.....🎊🎉💐😊
😊🎶🎤गीत - ये धरा चाहिए......वो गगन चाहिए...💙💚💜
@Patel Gourav Kumar @mahi sharma @anshima Tiwari Vam

77 Love
2.0K Views
30 Share

بات حق کی اور اپنوں کی آجائے تو, حق کا ساتھ دینا, کیونکہ اپنوں نے تو دنیا میں ہی چھوڑ جانا ہے, اور حق نے قبر میں میں بھی ساتھ نبھانا ہے. Kir

134 Love
2.2K Views

" मेरी मौत पर " " शिवांश मिश्रा "
● Jhootha Tera Pyaar - Shivansh Mishra .
● Please Do Like Share Comment For This Beautiful Post * Drop A L

96 Love
1.4K Views
2 Share

""प्यारी हंसी" (कविता)"

"प्यारी हंसी"
(कविता)

#sitarmusic
प्यारी हंसी
(यतीश कुमार)
आवाज़ --- संयोगिता मिश्रा

68 Love
1.4K Views

"अलोन रोशनी R. G.... "

अलोन रोशनी  R. G....

## अलोन रोशनी rg...

12 Love
1.0K Views
2 Share

सारी मुझपे पड़ने वाली रोशनी ज़ाया गई !! -कुशल

#themodernpoets #themodernpoets #Hindi #urdu #Shayari #ghazal #ishq #New

45 Love
967 Views

कोरोना और मधुशाला पर कविता || द्वारा - तनय मिश्रा
#TalkOnline

37 Love
1.0K Views
7 Share

https://www.facebook.com/TENDURIYA/
#prince_tenduriya #shayri #Shayari #Lovequotes #Love #ishq #Shayar #mohabbat #Poetry #hindishayari Veer

73 Love
1.3K Views
1 Share

#पिया रे
नमस्कार दोस्तो एक नया और स्वरचित गीत लेकर एकबार भी मैं संदीप शिखर मिश्रा आपके सामने उपस्थित हूँ, आशा करता हूँ, इस गीत को भी पिछले ग

49 Love
2.7K Views

#Life #Poetry #Trending #latest
#Love #Lifeexperiences

जिंदगी में दर्द मिला बहुत था
लोगो का कर्ज मुझ पर बहुत था

दिल का मकान सुना था
घर पर

60 Love
796 Views
1 Share

""अकेला योद्धा" प्रनित कुलुङ राई हाँ, भेडाको झुण्ड में रेहकर भि, एक भेडाको पेहचान मिल जाता हैं। लेकिन जो बिना झुण्ड के भि राज करे उसे हि जंगल के राजा बुलाता हैं । हाँ लाँख तारे भि दुनियाँ को रोशनी देती हैं, भिंड में हि सहि अपने आप को पेहचान दिलाता हैं लेकिन जिस्के रोशनी लाख तारे को भि भारी पड़ जाता है जिस्के चमक लाख तारे को भि झुकनेको मझबुर कर जाता है वह भि अकेला चाँद हि होता है । हाँ, बुँन्द बुँन्द से सागर बनता है लेकिन सच तो यही है कि उस जलको सागर बन्ने के लिए भि एक बुँन्द जल कि जरूरत होता हैं, और जो बुँन्द उस सागरसे बाहर आकर भि अपना तलाब बना लेता हैं वही शैलाब लाने कि संक्षम रखता हैं। हाँ, एक प्राणी भि भिंड मे हि सुरक्षित रेहता हैं, सफलता पाने के लिए किसी के साथ कि जरूरत होता हैं, लेकिन जो अकेला हि आसमान में उड्ता हैं, उसका हि सबसे मजबुत पंख हुआ करते हैं और जो अकेला हि संघर्ष करके सफलताको चुम लेता हैं उसे हि अकसर लोक अकेला योद्धा बुलाता हैं ।"

"अकेला योद्धा"
प्रनित कुलुङ राई 

हाँ, भेडाको झुण्ड में रेहकर भि, 
एक भेडाको पेहचान मिल जाता हैं।
लेकिन जो बिना झुण्ड के भि राज करे 
उसे हि जंगल के राजा बुलाता हैं ।

हाँ लाँख तारे भि दुनियाँ को रोशनी देती हैं, 
भिंड में हि सहि अपने आप को पेहचान दिलाता हैं 
लेकिन जिस्के रोशनी लाख तारे को भि भारी पड़ जाता है 
जिस्के चमक लाख तारे को भि झुकनेको मझबुर कर जाता है 
वह भि अकेला चाँद हि होता है ।

हाँ, बुँन्द बुँन्द से सागर बनता है 
लेकिन सच तो यही है कि 
उस जलको सागर बन्ने के लिए भि 
एक बुँन्द जल कि जरूरत होता हैं, 
और जो बुँन्द उस सागरसे बाहर आकर भि 
अपना  तलाब बना लेता हैं 
वही शैलाब लाने कि  संक्षम रखता हैं। 

हाँ, एक प्राणी भि भिंड मे हि सुरक्षित रेहता हैं, 
सफलता पाने के लिए किसी के साथ कि जरूरत होता हैं, 
लेकिन जो अकेला हि आसमान में  उड्ता हैं, 
उसका हि सबसे मजबुत पंख हुआ करते हैं 
और जो अकेला हि संघर्ष करके सफलताको चुम लेता हैं 
उसे  हि अकसर लोक अकेला योद्धा बुलाता हैं ।

अकेला योद्धा

38 Love
798 Views

#PulwamaAttack @tiger swami @Deepshikha @Rajat Agarwal (Melting Philosophy) @Rajat Sharma (insta id rajat_ek_khoya_sa_ladka) @कवि अमित मिश्रा

60 Love
646 Views

रोशनी के नाम पर मुहब्बत जला गये

5 Love
664 Views
5 Share

"यह कैसा अंत हीन इंतजार पसरा है काली सड़क सा जिसका कोई ओर ना छोर यह कैसा.. तुमने बहुत ही आवाज है मुझे पर मैंने हमेशा ही अनसुनी की जिस हकीकत से भागा था उसी से बार-बार टकरा कर कर लहूलुहान होता रहता हूं अब यह कैसा.. तुम्हारी आंखें बहुत बोलती - छलकती थी तब क्या अब भी खुशी- गम सुख - दुख में छलकती रहती हैं रहती है भरी -भरी पर ना जाने क्यूँ मेरी आंखों में लगी रहती है अब सावन की झड़ी यह कैसा.. पहले नींद रहित आंखों को तुम्हारे सुंदर सपनों का लालच दे सुला देता था पर ना जाने क्यों अब इनमें कभी रात की गहराई उतर जाती है तो कभी तुम्हारा दर्द ना जाने कैसे हृदय में करता रहता है रोशनी और कराता रहता है सारी रात - रतजगे यह कैसा.. अब इतना तो जान गया हूं रास्तों के बदलने से तकदीर कहां बदला करती हैं थक गया हूं तुम्हारी धरोहर को संभालते - संभालते अब यह वसीयत किसी और को कैसे दे दूं जिस पर लिखा है बस तुम्हारा तुम्हारा ही नाम यह कैसा.. न जाने क्यूँ अब तो अपनी परछाई ही डराने लगी है जिंदगी तो वीरान रही कहीं मौत भी गुमनाम ना हो पूरा होना अभी बाकी है बिछुड़ने से पहले जो हम न मिल पाए आखिरी बार वह रुखसते-उधारी अभी बाकी है आ जाओ बस एक बार लगा लो मुझे गले तुम्हारा -दीदार - ऐ- हसरत- बाकी है अभी बाकी है अभी बाकी है... दीदार- ऐ -हसरत "

यह कैसा अंत हीन इंतजार 
पसरा है काली सड़क सा 
जिसका कोई ओर ना छोर 
यह कैसा.. 
तुमने बहुत ही आवाज है मुझे
पर मैंने हमेशा ही अनसुनी की
जिस हकीकत से भागा था
उसी से बार-बार टकरा कर
कर लहूलुहान होता रहता हूं अब 
यह कैसा.. 
तुम्हारी आंखें बहुत 
बोलती - छलकती थी तब
क्या अब भी खुशी- गम 
सुख - दुख में छलकती रहती हैं
रहती है भरी -भरी
पर ना जाने क्यूँ मेरी आंखों
में लगी रहती है अब सावन की झड़ी
यह कैसा.. 
पहले नींद रहित आंखों को
तुम्हारे सुंदर सपनों का 
लालच दे सुला देता था
पर ना जाने क्यों अब इनमें
कभी रात की गहराई उतर जाती है तो कभी तुम्हारा दर्द 
ना जाने कैसे हृदय में
करता रहता है रोशनी
और कराता रहता है
सारी रात - रतजगे 
यह कैसा.. 
अब इतना तो जान गया हूं
रास्तों के बदलने से 
तकदीर कहां बदला करती हैं
थक गया हूं तुम्हारी धरोहर को 
संभालते - संभालते अब 
यह वसीयत किसी और को 
कैसे दे दूं जिस पर लिखा है 
बस तुम्हारा तुम्हारा ही नाम
यह कैसा.. 
न जाने क्यूँ अब तो अपनी 
परछाई ही डराने लगी है 
जिंदगी तो वीरान रही 
कहीं मौत भी गुमनाम ना हो 
पूरा होना अभी बाकी है 
बिछुड़ने से पहले जो 
हम न मिल पाए आखिरी बार
वह रुखसते-उधारी अभी बाकी है
आ जाओ बस एक बार 
लगा लो मुझे गले 
तुम्हारा -दीदार - ऐ- हसरत- बाकी है 
अभी बाकी है अभी बाकी है... दीदार- ऐ -हसरत

#krishna_flute

23 Love
482 Views
4 Share

"जहां रोशनी का मिलन हो रहा था"

17 Love
921 Views

#ability.
#मेरा यकीन जो किसी का #भरोश बना......
#लगा जेसे कोई कोना जो #उझाले से दूर होकर भी #रोशनी से शना......

82 Love
671 Views