tags

New फैंसी रोशनी Status, Photo, Video

Find the latest Status about फैंसी रोशनी from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos.

  • Latest
  • Video

"अलोन रोशनी R. G.... "

अलोन रोशनी  R. G....

## अलोन रोशनी rg...

12 Love
1.0K Views
2 Share

""अकेला योद्धा" प्रनित कुलुङ राई हाँ, भेडाको झुण्ड में रेहकर भि, एक भेडाको पेहचान मिल जाता हैं। लेकिन जो बिना झुण्ड के भि राज करे उसे हि जंगल के राजा बुलाता हैं । हाँ लाँख तारे भि दुनियाँ को रोशनी देती हैं, भिंड में हि सहि अपने आप को पेहचान दिलाता हैं लेकिन जिस्के रोशनी लाख तारे को भि भारी पड़ जाता है जिस्के चमक लाख तारे को भि झुकनेको मझबुर कर जाता है वह भि अकेला चाँद हि होता है । हाँ, बुँन्द बुँन्द से सागर बनता है लेकिन सच तो यही है कि उस जलको सागर बन्ने के लिए भि एक बुँन्द जल कि जरूरत होता हैं, और जो बुँन्द उस सागरसे बाहर आकर भि अपना तलाब बना लेता हैं वही शैलाब लाने कि संक्षम रखता हैं। हाँ, एक प्राणी भि भिंड मे हि सुरक्षित रेहता हैं, सफलता पाने के लिए किसी के साथ कि जरूरत होता हैं, लेकिन जो अकेला हि आसमान में उड्ता हैं, उसका हि सबसे मजबुत पंख हुआ करते हैं और जो अकेला हि संघर्ष करके सफलताको चुम लेता हैं उसे हि अकसर लोक अकेला योद्धा बुलाता हैं ।"

"अकेला योद्धा"
प्रनित कुलुङ राई 

हाँ, भेडाको झुण्ड में रेहकर भि, 
एक भेडाको पेहचान मिल जाता हैं।
लेकिन जो बिना झुण्ड के भि राज करे 
उसे हि जंगल के राजा बुलाता हैं ।

हाँ लाँख तारे भि दुनियाँ को रोशनी देती हैं, 
भिंड में हि सहि अपने आप को पेहचान दिलाता हैं 
लेकिन जिस्के रोशनी लाख तारे को भि भारी पड़ जाता है 
जिस्के चमक लाख तारे को भि झुकनेको मझबुर कर जाता है 
वह भि अकेला चाँद हि होता है ।

हाँ, बुँन्द बुँन्द से सागर बनता है 
लेकिन सच तो यही है कि 
उस जलको सागर बन्ने के लिए भि 
एक बुँन्द जल कि जरूरत होता हैं, 
और जो बुँन्द उस सागरसे बाहर आकर भि 
अपना  तलाब बना लेता हैं 
वही शैलाब लाने कि  संक्षम रखता हैं। 

हाँ, एक प्राणी भि भिंड मे हि सुरक्षित रेहता हैं, 
सफलता पाने के लिए किसी के साथ कि जरूरत होता हैं, 
लेकिन जो अकेला हि आसमान में  उड्ता हैं, 
उसका हि सबसे मजबुत पंख हुआ करते हैं 
और जो अकेला हि संघर्ष करके सफलताको चुम लेता हैं 
उसे  हि अकसर लोक अकेला योद्धा बुलाता हैं ।

अकेला योद्धा

38 Love
798 Views

#Life #Poetry #Trending #latest
#Love #Lifeexperiences

जिंदगी में दर्द मिला बहुत था
लोगो का कर्ज मुझ पर बहुत था

दिल का मकान सुना था
घर पर

60 Love
796 Views
1 Share

रोशनी के नाम पर मुहब्बत जला गये

5 Love
664 Views
5 Share

"जहां रोशनी का मिलन हो रहा था"

17 Love
921 Views

#ability.
#मेरा यकीन जो किसी का #भरोश बना......
#लगा जेसे कोई कोना जो #उझाले से दूर होकर भी #रोशनी से शना......

82 Love
671 Views

"और जो हुआ पूरा किसी दिन, दाग नजर आ जाएगा.. उधार की रोशनी का सच, साफ नजर आ जाएगा... मैंने उसको पास बिठाया आईना दिखाया, फिर थोड़ा समझाया.. इस सतह की रोशनी की, तू मुझे क्या दुहाई देता है.. उसके तो अंदर है वो नूर, जो बाहर दिखाई देता है... ©drVats वो छत पर लेटे लेटे एक दिन, शाम से जब रात हुई.. चांद दिखा मुझे आसमान में, चांद से मेरी बात हुई.. चांद बोला परेशान सा, कैसे अपने नूर को बरकरार रख पाता है.. मेरा आकार तो हर दिन, घटता बढ़ता जाता है.."

और जो हुआ पूरा किसी दिन, 
दाग नजर आ जाएगा..
उधार की रोशनी का सच,
 साफ नजर आ जाएगा...

मैंने उसको पास बिठाया
आईना दिखाया,
फिर थोड़ा समझाया..

इस सतह की रोशनी की, 
तू मुझे क्या दुहाई देता है.. 
उसके तो अंदर है वो नूर,
जो बाहर दिखाई देता है...
                ©drVats वो छत पर लेटे लेटे एक दिन, 
शाम से जब रात हुई.. 
चांद दिखा मुझे आसमान में,
 चांद से मेरी बात हुई..

चांद बोला परेशान सा,
कैसे अपने नूर को 

 बरकरार रख पाता है..
 मेरा आकार तो हर दिन,
 घटता बढ़ता जाता है..

चांद और वो #RashkeQamar means चाँद की ईर्ष्या..
So this poetry of mine best suited for the title.. Listen it up.. and react to it..
#Nojoto

410 Love
3.6K Views
19 Share

अब तो रोशनी से हमें डर लगता है,उसकी जगमगाहट ने तो सब कुछ छीना है

36 Love
274 Views

"😭"

😭

तेरे गाँव क़ि गलियों में बारात क़ि रोशनी है
मेरे घऱ का चिराग़ अपनी रोशनी खो रहा था
@A... sahu 📒🖋️ @Anu Khadka @Pratibha Tiwari(smile)🙂 Dr.Shru

4 Love
141 Views
7 Share

"सूरज और किरण कभी अलग नहीं होते है। सूरज की रोशनी कम हो तो किरण भी कम हो जाती है। ये एक रिश्ते का प्रतीक है जो साथ रहता है बिना किसी स्वार्थ के। देखा है मैने..देखा है मैने आज के रिश्तों को रंग बदलते हुए..."

सूरज और किरण कभी अलग नहीं होते है।
सूरज की रोशनी कम हो तो किरण भी कम हो जाती है।
ये एक रिश्ते का प्रतीक है जो साथ रहता है बिना किसी स्वार्थ के।
देखा है मैने..देखा है मैने आज के रिश्तों को रंग बदलते हुए...

सूरज और किरण का साथ...

17 Love
161 Views

Toofan ko apni dawaat kar
सिराज = चिराग (जो रोशनी करे)

#calm @Tarani Nayak(disha Indian). @Sangeeta Rathore (Shayra) @Taransh @Shawana Hashmi

74 Love
1.1K Views

"जो अगर मैं बताऊ तुझे अभी सच यकीन तुझे आयेगा नही सब्र रख वक़्त को ,वक़्त को कुछ ढल जाने दे ये जो चिरागों की हल्की हल्की रोशनी है इसे कुछ कम हो जाने दे सब्र रख वक़्त तुझे खुद सही गलत बतायेगा सच और झूठ का फर्क भी बतायेगा क्या सही था ओर क्या गलत तुझे खुद-ब-खुद समझ आयेगा"

जो अगर मैं बताऊ तुझे अभी 
सच यकीन तुझे आयेगा नही 
सब्र रख वक़्त को ,वक़्त को 
कुछ ढल जाने दे ये जो चिरागों
की हल्की हल्की रोशनी है इसे
कुछ कम हो जाने दे सब्र रख
वक़्त तुझे खुद सही गलत बतायेगा
सच और झूठ का फर्क भी बतायेगा
क्या सही था ओर क्या गलत तुझे
खुद-ब-खुद समझ आयेगा

सब्र रख ....😊😊
#Bekhayali #nojoto #nojotohindi
#Loneliness #alone #poem #TeriMeriKahaani #Love #Challenge #story #NojotoFilms #OpenPoetry

79 Love
483 Views
12 Share

"पुलवामा 🇮🇳 सिर्फ जिक्र नहीं ऋणी हैं हम कहो भारत! #daminiquote ✍️ 🌠"

पुलवामा
🇮🇳
सिर्फ जिक्र नहीं
ऋणी हैं हम
कहो भारत!




#daminiquote ✍️
🌠

धमनियां हमारी भी फड़कती है
रक्त में प्रवाह तेज हो जाता है
वसंत जब बुलाता है हमें
दुपट्टों का रंग
सुर्ख हो जाता है
हलवे की महक पर मचलता है मन

15 Love
121 Views
2 Share

You can Read it here
👇👇👇👇👇👇👇👇👇

जीवन में तुम सदा ही "मुस्कुराते चलो",
खुशियां बाँटते चलो तुम प्यार लुटाते चलो।

ज़िन्दगी को तुम सेवामय भाव स

8 Love
189 Views

सारी मुझपे पड़ने वाली रोशनी ज़ाया गई !! -कुशल

#themodernpoets #themodernpoets #Hindi #urdu #Shayari #ghazal #ishq #New

45 Love
964 Views

"तेरे ख्यालों में बैठा मै तारे रोज गिनता हूं ढलती शाम में रोशनी से हर रोज मुलाकात करता हूं नहीं मिला तुज जैसा इस जहां में अब तक तेरे आने की आस में हर रोज इन्तजार करता हूं"

तेरे ख्यालों में बैठा मै तारे रोज गिनता हूं
ढलती शाम में रोशनी से हर रोज मुलाकात करता हूं
नहीं मिला तुज जैसा इस जहां में अब तक
तेरे आने की आस में हर रोज इन्तजार करता हूं

#Love #Khyal #nojoto #relationship_story
तेरे ख्यालों में बैठा मै तारे रोज गिनता हूं
ढलती शाम में रोशनी से हर रोज मुलाकात करता हूं
नहीं मिला

20 Love
174 Views

"सूरज और चांद से शुरु, यह नई कहानी है, दिन के उजाले के बाद, अंधेरी रात भी आनी है, दिन और रात की भी तो, यहीं तो जिंदगानी है, सूरज और चांद से शुरु, यह नई कहानी है, सूरज और चांद से शुरु, यह नई कहानी है, सूरज की रोशनी को भी, अपनी पहचान बनानी है, चांद की चांदनी को भी, फिर अपनी चमक दिखानी है, रोशनी और चांदनी की भी, तो यही जिन्दगानी है, सूरज और चांद से शुरु, यह नई कहानी है, सूरज और चांद से शुरु, यह नई कहानी है, सूरज जब चमकेगा, तो दिन का आंरभ होगा, रात के अंधेरे में तारो का, टिमटिम होगा, सूरज और तारो की भी यही जिन्दगानी है, सूरज और चांद से शुरु यह नई कहानी है। Meenakshi Sharma"

सूरज और चांद से शुरु,
यह नई कहानी है,
दिन के उजाले के बाद,
अंधेरी रात भी आनी है,
दिन और रात की भी तो,
यहीं तो जिंदगानी है,
सूरज और चांद से शुरु,
यह नई कहानी है,
सूरज और चांद से शुरु,
यह नई कहानी है,
सूरज की रोशनी को भी,
अपनी पहचान बनानी है,
चांद की चांदनी को भी,
फिर अपनी चमक दिखानी है,
रोशनी और चांदनी की भी,
तो यही जिन्दगानी है,
सूरज और चांद से शुरु,
यह नई कहानी है,
सूरज और चांद से शुरु,
यह नई कहानी है,
सूरज जब चमकेगा,
तो दिन का आंरभ होगा,
रात के अंधेरे में तारो का,
टिमटिम होगा,
सूरज और तारो की भी यही जिन्दगानी है,
सूरज और चांद से शुरु यह नई कहानी है।
Meenakshi Sharma

#Dreams
सूरज और चांद से शुरु यह नई कहानी है

39 Love
260 Views
1 Share

"मोहब्बत मुकद्दर है कोई ख़्वाब नही। ये वो अदा है जिसमें हर कोई कामयाब नही। जिन्हें मिलती मंज़िल उंगलियों पे वो खुश है। मगर जो पागल हुए उनका कोई हिसाब नही। Haters .."

मोहब्बत मुकद्दर है कोई ख़्वाब नही।
ये वो अदा है जिसमें हर कोई कामयाब नही।
जिन्हें मिलती मंज़िल उंगलियों पे वो खुश है।
मगर जो पागल हुए उनका कोई हिसाब नही। Haters ..

दिल मे आरज़ू के दिये जलते रहेगे।
आँखों से मोती निकलते रहेगे।
तुम शमा बन कर दिल में रोशनी करो।
हम मोम की तरह पिघलते रहेंगे।unknown Romeo Aktha

11 Love
77 Views

"● नये उजाले ● चरागों से कहदो की मत करे रोशन आशियाँ मेरा, मैं उजालों के लिए आंगन मे आज चाँद लाया हूँ।। नोचकर निचोड़ ली रोशनी मैने आसमान के सितारों से मैं अंधेरों में खोये जुगनुओं के लिए नए अरमान लाया हूँ।। कैद है जो पिंजरों में ख्यालों के पंछी एक अरसे से, मैं उड़ने के लिए उनके,एक खुला आसमान लाया हूँ।। जाकर हवाओं से कहदो की बगावत न करे,हद में रहे, मै दरगाह से खुद-खुदा का ये फरमान लाया हूँ।। इस मुसलसल रंग बदलते जमाने पर एतबार ना करना कभी, मैं हक़ीक़ी अर्हम फकीरों का ये पैगाम लाया हूँ।। ना शायर हूँ,"विक्की" ना ही तक़रीर का इल्म है मुझे, मैं अल्फ़ाज़ों के रास्ते चन्द बे-कफ़न लाशों के लिए जान लाया हूँ।।"

●  नये उजाले  ● 

चरागों से कहदो की मत करे रोशन आशियाँ मेरा,
 मैं उजालों के लिए आंगन मे आज चाँद लाया हूँ।।

नोचकर निचोड़ ली रोशनी मैने आसमान के सितारों से
मैं अंधेरों में खोये जुगनुओं के लिए नए अरमान लाया हूँ।।

कैद है जो पिंजरों में ख्यालों के पंछी एक अरसे से,
मैं उड़ने के लिए उनके,एक खुला आसमान लाया हूँ।।


जाकर हवाओं से कहदो की बगावत न करे,हद में रहे,
मै दरगाह से खुद-खुदा का ये फरमान लाया हूँ।।

इस मुसलसल रंग बदलते जमाने पर एतबार ना करना कभी,
मैं हक़ीक़ी अर्हम फकीरों का ये पैगाम लाया हूँ।।

ना शायर हूँ,"विक्की" ना ही तक़रीर का इल्म है मुझे,
मैं अल्फ़ाज़ों के रास्ते चन्द बे-कफ़न लाशों के लिए जान लाया हूँ।।

● नये उजाले ●

5 Love
45 Views
1 Share

जुगनू कभी रोशनी के मोहताज नहीं होते..

13 Love
72 Views

"अलोन रोशनी R. G.... "

अलोन रोशनी  R. G....

## अलोन रोशनी rg...

12 Love
1.0K Views
2 Share

""अकेला योद्धा" प्रनित कुलुङ राई हाँ, भेडाको झुण्ड में रेहकर भि, एक भेडाको पेहचान मिल जाता हैं। लेकिन जो बिना झुण्ड के भि राज करे उसे हि जंगल के राजा बुलाता हैं । हाँ लाँख तारे भि दुनियाँ को रोशनी देती हैं, भिंड में हि सहि अपने आप को पेहचान दिलाता हैं लेकिन जिस्के रोशनी लाख तारे को भि भारी पड़ जाता है जिस्के चमक लाख तारे को भि झुकनेको मझबुर कर जाता है वह भि अकेला चाँद हि होता है । हाँ, बुँन्द बुँन्द से सागर बनता है लेकिन सच तो यही है कि उस जलको सागर बन्ने के लिए भि एक बुँन्द जल कि जरूरत होता हैं, और जो बुँन्द उस सागरसे बाहर आकर भि अपना तलाब बना लेता हैं वही शैलाब लाने कि संक्षम रखता हैं। हाँ, एक प्राणी भि भिंड मे हि सुरक्षित रेहता हैं, सफलता पाने के लिए किसी के साथ कि जरूरत होता हैं, लेकिन जो अकेला हि आसमान में उड्ता हैं, उसका हि सबसे मजबुत पंख हुआ करते हैं और जो अकेला हि संघर्ष करके सफलताको चुम लेता हैं उसे हि अकसर लोक अकेला योद्धा बुलाता हैं ।"

"अकेला योद्धा"
प्रनित कुलुङ राई 

हाँ, भेडाको झुण्ड में रेहकर भि, 
एक भेडाको पेहचान मिल जाता हैं।
लेकिन जो बिना झुण्ड के भि राज करे 
उसे हि जंगल के राजा बुलाता हैं ।

हाँ लाँख तारे भि दुनियाँ को रोशनी देती हैं, 
भिंड में हि सहि अपने आप को पेहचान दिलाता हैं 
लेकिन जिस्के रोशनी लाख तारे को भि भारी पड़ जाता है 
जिस्के चमक लाख तारे को भि झुकनेको मझबुर कर जाता है 
वह भि अकेला चाँद हि होता है ।

हाँ, बुँन्द बुँन्द से सागर बनता है 
लेकिन सच तो यही है कि 
उस जलको सागर बन्ने के लिए भि 
एक बुँन्द जल कि जरूरत होता हैं, 
और जो बुँन्द उस सागरसे बाहर आकर भि 
अपना  तलाब बना लेता हैं 
वही शैलाब लाने कि  संक्षम रखता हैं। 

हाँ, एक प्राणी भि भिंड मे हि सुरक्षित रेहता हैं, 
सफलता पाने के लिए किसी के साथ कि जरूरत होता हैं, 
लेकिन जो अकेला हि आसमान में  उड्ता हैं, 
उसका हि सबसे मजबुत पंख हुआ करते हैं 
और जो अकेला हि संघर्ष करके सफलताको चुम लेता हैं 
उसे  हि अकसर लोक अकेला योद्धा बुलाता हैं ।

अकेला योद्धा

38 Love
798 Views

#Life #Poetry #Trending #latest
#Love #Lifeexperiences

जिंदगी में दर्द मिला बहुत था
लोगो का कर्ज मुझ पर बहुत था

दिल का मकान सुना था
घर पर

60 Love
796 Views
1 Share

रोशनी के नाम पर मुहब्बत जला गये

5 Love
664 Views
5 Share

"जहां रोशनी का मिलन हो रहा था"

17 Love
921 Views

#ability.
#मेरा यकीन जो किसी का #भरोश बना......
#लगा जेसे कोई कोना जो #उझाले से दूर होकर भी #रोशनी से शना......

82 Love
671 Views

"और जो हुआ पूरा किसी दिन, दाग नजर आ जाएगा.. उधार की रोशनी का सच, साफ नजर आ जाएगा... मैंने उसको पास बिठाया आईना दिखाया, फिर थोड़ा समझाया.. इस सतह की रोशनी की, तू मुझे क्या दुहाई देता है.. उसके तो अंदर है वो नूर, जो बाहर दिखाई देता है... ©drVats वो छत पर लेटे लेटे एक दिन, शाम से जब रात हुई.. चांद दिखा मुझे आसमान में, चांद से मेरी बात हुई.. चांद बोला परेशान सा, कैसे अपने नूर को बरकरार रख पाता है.. मेरा आकार तो हर दिन, घटता बढ़ता जाता है.."

और जो हुआ पूरा किसी दिन, 
दाग नजर आ जाएगा..
उधार की रोशनी का सच,
 साफ नजर आ जाएगा...

मैंने उसको पास बिठाया
आईना दिखाया,
फिर थोड़ा समझाया..

इस सतह की रोशनी की, 
तू मुझे क्या दुहाई देता है.. 
उसके तो अंदर है वो नूर,
जो बाहर दिखाई देता है...
                ©drVats वो छत पर लेटे लेटे एक दिन, 
शाम से जब रात हुई.. 
चांद दिखा मुझे आसमान में,
 चांद से मेरी बात हुई..

चांद बोला परेशान सा,
कैसे अपने नूर को 

 बरकरार रख पाता है..
 मेरा आकार तो हर दिन,
 घटता बढ़ता जाता है..

चांद और वो #RashkeQamar means चाँद की ईर्ष्या..
So this poetry of mine best suited for the title.. Listen it up.. and react to it..
#Nojoto

410 Love
3.6K Views
19 Share

अब तो रोशनी से हमें डर लगता है,उसकी जगमगाहट ने तो सब कुछ छीना है

36 Love
274 Views

"😭"

😭

तेरे गाँव क़ि गलियों में बारात क़ि रोशनी है
मेरे घऱ का चिराग़ अपनी रोशनी खो रहा था
@A... sahu 📒🖋️ @Anu Khadka @Pratibha Tiwari(smile)🙂 Dr.Shru

4 Love
141 Views
7 Share

"सूरज और किरण कभी अलग नहीं होते है। सूरज की रोशनी कम हो तो किरण भी कम हो जाती है। ये एक रिश्ते का प्रतीक है जो साथ रहता है बिना किसी स्वार्थ के। देखा है मैने..देखा है मैने आज के रिश्तों को रंग बदलते हुए..."

सूरज और किरण कभी अलग नहीं होते है।
सूरज की रोशनी कम हो तो किरण भी कम हो जाती है।
ये एक रिश्ते का प्रतीक है जो साथ रहता है बिना किसी स्वार्थ के।
देखा है मैने..देखा है मैने आज के रिश्तों को रंग बदलते हुए...

सूरज और किरण का साथ...

17 Love
161 Views

Toofan ko apni dawaat kar
सिराज = चिराग (जो रोशनी करे)

#calm @Tarani Nayak(disha Indian). @Sangeeta Rathore (Shayra) @Taransh @Shawana Hashmi

74 Love
1.1K Views

"जो अगर मैं बताऊ तुझे अभी सच यकीन तुझे आयेगा नही सब्र रख वक़्त को ,वक़्त को कुछ ढल जाने दे ये जो चिरागों की हल्की हल्की रोशनी है इसे कुछ कम हो जाने दे सब्र रख वक़्त तुझे खुद सही गलत बतायेगा सच और झूठ का फर्क भी बतायेगा क्या सही था ओर क्या गलत तुझे खुद-ब-खुद समझ आयेगा"

जो अगर मैं बताऊ तुझे अभी 
सच यकीन तुझे आयेगा नही 
सब्र रख वक़्त को ,वक़्त को 
कुछ ढल जाने दे ये जो चिरागों
की हल्की हल्की रोशनी है इसे
कुछ कम हो जाने दे सब्र रख
वक़्त तुझे खुद सही गलत बतायेगा
सच और झूठ का फर्क भी बतायेगा
क्या सही था ओर क्या गलत तुझे
खुद-ब-खुद समझ आयेगा

सब्र रख ....😊😊
#Bekhayali #nojoto #nojotohindi
#Loneliness #alone #poem #TeriMeriKahaani #Love #Challenge #story #NojotoFilms #OpenPoetry

79 Love
483 Views
12 Share

"पुलवामा 🇮🇳 सिर्फ जिक्र नहीं ऋणी हैं हम कहो भारत! #daminiquote ✍️ 🌠"

पुलवामा
🇮🇳
सिर्फ जिक्र नहीं
ऋणी हैं हम
कहो भारत!




#daminiquote ✍️
🌠

धमनियां हमारी भी फड़कती है
रक्त में प्रवाह तेज हो जाता है
वसंत जब बुलाता है हमें
दुपट्टों का रंग
सुर्ख हो जाता है
हलवे की महक पर मचलता है मन

15 Love
121 Views
2 Share

You can Read it here
👇👇👇👇👇👇👇👇👇

जीवन में तुम सदा ही "मुस्कुराते चलो",
खुशियां बाँटते चलो तुम प्यार लुटाते चलो।

ज़िन्दगी को तुम सेवामय भाव स

8 Love
189 Views

सारी मुझपे पड़ने वाली रोशनी ज़ाया गई !! -कुशल

#themodernpoets #themodernpoets #Hindi #urdu #Shayari #ghazal #ishq #New

45 Love
964 Views

"तेरे ख्यालों में बैठा मै तारे रोज गिनता हूं ढलती शाम में रोशनी से हर रोज मुलाकात करता हूं नहीं मिला तुज जैसा इस जहां में अब तक तेरे आने की आस में हर रोज इन्तजार करता हूं"

तेरे ख्यालों में बैठा मै तारे रोज गिनता हूं
ढलती शाम में रोशनी से हर रोज मुलाकात करता हूं
नहीं मिला तुज जैसा इस जहां में अब तक
तेरे आने की आस में हर रोज इन्तजार करता हूं

#Love #Khyal #nojoto #relationship_story
तेरे ख्यालों में बैठा मै तारे रोज गिनता हूं
ढलती शाम में रोशनी से हर रोज मुलाकात करता हूं
नहीं मिला

20 Love
174 Views

"सूरज और चांद से शुरु, यह नई कहानी है, दिन के उजाले के बाद, अंधेरी रात भी आनी है, दिन और रात की भी तो, यहीं तो जिंदगानी है, सूरज और चांद से शुरु, यह नई कहानी है, सूरज और चांद से शुरु, यह नई कहानी है, सूरज की रोशनी को भी, अपनी पहचान बनानी है, चांद की चांदनी को भी, फिर अपनी चमक दिखानी है, रोशनी और चांदनी की भी, तो यही जिन्दगानी है, सूरज और चांद से शुरु, यह नई कहानी है, सूरज और चांद से शुरु, यह नई कहानी है, सूरज जब चमकेगा, तो दिन का आंरभ होगा, रात के अंधेरे में तारो का, टिमटिम होगा, सूरज और तारो की भी यही जिन्दगानी है, सूरज और चांद से शुरु यह नई कहानी है। Meenakshi Sharma"

सूरज और चांद से शुरु,
यह नई कहानी है,
दिन के उजाले के बाद,
अंधेरी रात भी आनी है,
दिन और रात की भी तो,
यहीं तो जिंदगानी है,
सूरज और चांद से शुरु,
यह नई कहानी है,
सूरज और चांद से शुरु,
यह नई कहानी है,
सूरज की रोशनी को भी,
अपनी पहचान बनानी है,
चांद की चांदनी को भी,
फिर अपनी चमक दिखानी है,
रोशनी और चांदनी की भी,
तो यही जिन्दगानी है,
सूरज और चांद से शुरु,
यह नई कहानी है,
सूरज और चांद से शुरु,
यह नई कहानी है,
सूरज जब चमकेगा,
तो दिन का आंरभ होगा,
रात के अंधेरे में तारो का,
टिमटिम होगा,
सूरज और तारो की भी यही जिन्दगानी है,
सूरज और चांद से शुरु यह नई कहानी है।
Meenakshi Sharma

#Dreams
सूरज और चांद से शुरु यह नई कहानी है

39 Love
260 Views
1 Share

"मोहब्बत मुकद्दर है कोई ख़्वाब नही। ये वो अदा है जिसमें हर कोई कामयाब नही। जिन्हें मिलती मंज़िल उंगलियों पे वो खुश है। मगर जो पागल हुए उनका कोई हिसाब नही। Haters .."

मोहब्बत मुकद्दर है कोई ख़्वाब नही।
ये वो अदा है जिसमें हर कोई कामयाब नही।
जिन्हें मिलती मंज़िल उंगलियों पे वो खुश है।
मगर जो पागल हुए उनका कोई हिसाब नही। Haters ..

दिल मे आरज़ू के दिये जलते रहेगे।
आँखों से मोती निकलते रहेगे।
तुम शमा बन कर दिल में रोशनी करो।
हम मोम की तरह पिघलते रहेंगे।unknown Romeo Aktha

11 Love
77 Views

"● नये उजाले ● चरागों से कहदो की मत करे रोशन आशियाँ मेरा, मैं उजालों के लिए आंगन मे आज चाँद लाया हूँ।। नोचकर निचोड़ ली रोशनी मैने आसमान के सितारों से मैं अंधेरों में खोये जुगनुओं के लिए नए अरमान लाया हूँ।। कैद है जो पिंजरों में ख्यालों के पंछी एक अरसे से, मैं उड़ने के लिए उनके,एक खुला आसमान लाया हूँ।। जाकर हवाओं से कहदो की बगावत न करे,हद में रहे, मै दरगाह से खुद-खुदा का ये फरमान लाया हूँ।। इस मुसलसल रंग बदलते जमाने पर एतबार ना करना कभी, मैं हक़ीक़ी अर्हम फकीरों का ये पैगाम लाया हूँ।। ना शायर हूँ,"विक्की" ना ही तक़रीर का इल्म है मुझे, मैं अल्फ़ाज़ों के रास्ते चन्द बे-कफ़न लाशों के लिए जान लाया हूँ।।"

●  नये उजाले  ● 

चरागों से कहदो की मत करे रोशन आशियाँ मेरा,
 मैं उजालों के लिए आंगन मे आज चाँद लाया हूँ।।

नोचकर निचोड़ ली रोशनी मैने आसमान के सितारों से
मैं अंधेरों में खोये जुगनुओं के लिए नए अरमान लाया हूँ।।

कैद है जो पिंजरों में ख्यालों के पंछी एक अरसे से,
मैं उड़ने के लिए उनके,एक खुला आसमान लाया हूँ।।


जाकर हवाओं से कहदो की बगावत न करे,हद में रहे,
मै दरगाह से खुद-खुदा का ये फरमान लाया हूँ।।

इस मुसलसल रंग बदलते जमाने पर एतबार ना करना कभी,
मैं हक़ीक़ी अर्हम फकीरों का ये पैगाम लाया हूँ।।

ना शायर हूँ,"विक्की" ना ही तक़रीर का इल्म है मुझे,
मैं अल्फ़ाज़ों के रास्ते चन्द बे-कफ़न लाशों के लिए जान लाया हूँ।।

● नये उजाले ●

5 Love
45 Views
1 Share

जुगनू कभी रोशनी के मोहताज नहीं होते..

13 Love
72 Views