tags

Latest good luck exam text messages Image and Videos

Find the latest Image and Videos about good luck exam text messages from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos.

  • Latest Stories

What are crazy things people still believe in all over the earth?

Cannibalistic gum chewing in Turkey



In some parts of Turkey you may want to think twice before whipping out a piece of chewing gum. There is a belief that if you are chewing gum at night it’s bad luck. This is because at night instead of chewing gum, you’d actually be chewing rotting dead flesh (Eew).

Groaning cheese for a newborn



You’ve probably heard of Swiss cheese, cheddar cheese, or pepper jack cheese but have you heard of Groaning Cheese? In Medieval England, expectant mothers made what they called a ‘Groaning Cheese’ which was a large wheel of cheese that matured for nine months as the unborn baby grew. When the ‘groaning time’ or time of birth came, the whole family would celebrate by eating this cheese until nothing but the outer rind was left. The newborn would then be passed through the rind on Christening day to be blessed with a long and prosperous life. What a cheesy superstition!

Good luck horseshoe



Some people believe hanging a horseshoe in the bedroom or on a door knob with its ends pointing upwards will bring good luck and keep nightmares away. This belief comes from the fact that a horse shoe has seven holes, which is considered to be a lucky number. Also the fact that is made of iron can supposedly ward off evil spirits that may haunt you in your dreams.

Friday the 13th



Friday the 13th has been a source of superstition ever since the 19th century. Though it’s origin is shrouded in speculations and theories, it’s impact is quite evident. Many people will purposely avoid doing anything significant (like business meetings, socials, banquets, etc) due to the belief that the day is cursed and its a source of ill fortune.

Curse of the Opal stone



If your favorite stone is the Opal, you’re out of luck…literally since this stone is said to bring bad luck to whoever wears it. This superstition comes from the 1829 best selling novel ‘Anne of Geierstein’ by Sir Walter Scott. In the novel, Lady Hermione was falsely accused of being a demon due to her sudden death after a drop of holy water accidentally falls on her opal jewelry and changes its color. This book had such an effect on the image of the Opal that shortly after its publication, the Opal market crashed and Opal prices dropped by 50%.

Ringing of the Bells

Have you ever wondered why bells are always associated with weddings and special occasions? As it turns out, the association stems from the widely held belief that bells frighten evil spirits away. This belief originated during Queen Elizabeth’s reign for two reasons; to ask for prayers for the departed soul and to drive away the evil spirits who stood at the foot of the bed.

Bird poop equals riches



Don’t worry, you read the title right. In Russia, there is a belief that if a bird defecates on you, your car, or your property it’s a sign of good luck and may bring you riches. The more birds involved, the richer you’ll be! So next time a bird poops on you, count it all joy.

Old, new, borrowed, blue



This popular wedding tradition is said to have originated during the Victorian era and involves giving the bride various gifts. One of the gifts is something old and represents continuity; another is new and represents hope and the future; the third is borrowed and symbolizes borrowed happiness while the last is blue and is supposed to bring purity, love, and fidelity.

Black cats, bad luck



Most people have heard the saying that if a black cat crosses your path its bad luck (if you haven’t well now you have). This interesting superstition finds it’s origin in the middles ages. Single women (usually elderly) who associated themselves with many cats where believed to be witches who could become cats themselves. Thus a black cat crossing your path could actually be a witch.

Unlucky smoking triad



From the Crimean War through World War I, it was considered bad luck among soldiers to light three cigarettes with one match. It was theorized that by the time the third cigarette was lit, a sniper would have had the time to have the soldier in his sight, ready to make the kill. However, some believe that the superstition may have been invented by match tycoon Ivar Krueger to drum up more business.


Counting crows



No, im not referring to the 90′s band. It’s believed that the amount of crows in a murder has the ability to predict your fortune as exemplified by the popular phrase: “One’s bad / Two’s luck / Three’s health / Four’s wealth / Five’s sickness / Six is death.” More than six however seems to be up to the person whose counting.

Jinxed birds



The Wryneck or Jinxtorquilla are a breed of birds that can twist their heads very liberally. A superstitious belief among the locals is that if this bird twists its head towards you, death is on the horizon.

Soul capturing mirrors



Most people use mirrors daily which means, according to this superstition, most people are soulless. There is a superstition that states that looking into a mirror steals your soul. This helps explain why the evil queen uses a mirror to harm Snow White, why Narcissus was ensnared by his own reflection, and why soulless vampires have no reflection. Think twice before you look into the bathroom mirror…you have been warned.

Fingers crossed for good luck



To cross one’s fingers is a hand gesture commonly used for good luck. Which makes sense since it was used during ancient Christian persecution by believers to identify other believers as a sign of peace. Today however, this has evolved to excuse the telling of white lies which may have its roots in the belief that the power of the Christian cross may save a person from being sent to hell for telling a lie.

Photographic soul cage



When photography was first invented in the early 19th century, people all over the world held the unfounded belief that taking someone’s picture was akin to taking his/her soul. Thus if an enemy was able to obtain a photograph of you, he/she not only held your soul but also held a spiritual power over you. Thank goodness this is just a superstition, I can only imagine how many people would have power over me…(Facebook).

No 13



Not to be confused with Friday the 13th (which is a superstition of the actual day) but similar in nature, this superstition simply states that the number 13 is associated with bad luck. That’s why many architects refused (some still do) to design stairs that ended with 13 steps or buildings that ended with a 13th floor. The fear of the number 13 is so real to many people, that an actual phobia has been created to describe it; its called Triskaidekaphobia. (try to say that 13 times fast).

When you wish upon a star



The superstition involving wishing on the first star you see in the evening is somewhat uncertain. Some Europeans believed that the gods would occasionally peer down, and when they moved the sky, a star would escape and fall down. The Greeks also believed that the stars where falling human souls, and it was lucky to make a wish on them.

Opening an umbrella indoors



According to superstition, if you open an umbrella indoors you are literally asking for bad luck to “rain on you”. One explanation comes from the days when umbrellas were used as protection from the sun; opening one inside was an insult to the sun god who would then curse you with bad luck. Another theory states that an umbrella protects you against the storms of life, so opening one inside your house insults the guardian spirits of your home (whom also protects you from the storms of life), causing them to leave you unprotected.

New broom, new house, bad luck



There are many superstitions associated with brooms (heck, that could be a list all in itself) but there is one very curious and particular superstition that we want to caution you on. As the lore goes, you cannot sweep dirt out of a new house (or apartment) with a new broom unless you sweep something in first. If you don’t sweep something in first, then you will be sweeping out your good luck. Do not sweep out your good luck!

Lucky rabbit’s foot



To have this token is an unfortunate thing for the rabbit but a magnet of fortune for the wearer. According to superstition (which can be traced as far back as the seventh century BC) the rabbit’s supernatural luck could be exploited by taking the left hind foot of a rabbit that was shot (or captured) in a creepy cemetery on a full moon.(I still fail to see how this is lucky for the rabbit).

Knock on wood



The superstition of Knocking on wood, or simply saying “knock on wood” after making a hopeful statement, is a consequence of the idea that you’re tempting fate by acknowledging your good fortune. It’s possible that the expression comes from an ancient belief that good spirits lived in trees, so by knocking on something wooden, a person was calling on the spirits for protection. Another reason why we should all be tree huggers.

Breaking a mirror



We’ve already mentioned how mirrors are believed to be soul sucking mystical items (which is bad enough) but what happens when you break these devices? Why, seven years of bad luck of course! Some superstitious sources state that the trapped souls adversely influences your luck. And here you thought you were doing them a favor! Nope. Make sure those suckers stay inside that mirror!

“God bless you”



For many; saying “God Bless You” after someone sneezes is a gesture of politeness. However, the origin of this interesting superstition is somewhat two fold. On the one hand, it’s believed that the phrase originated with Pope Gregory the Great. He would say “God Bless You” to people who sneezed during the bubonic plague in hopes that the prayer would keep them safe. However another possible origin comes from the ancient belief that the soul escapes the body during a sneeze unless God prevented this by blessing them.

Four-leaf clover



Though the origin of wishing over a four-leaf clover is lost to antiquity it has long been a symbol of good luck and fortune. It has also been used in some traditions for finding a husband or a wife. The way this works (for you single people) is by first finding a four leaf clover (good luck with that one), if you happen to find one, you must then eat it (or put it inside your shoe…but eating it is more fun). After this, the luck powers activate and the first person you come in contact after the activation will be your future mate…(Word of warning, stay clear of anyone you don’t want as a future mate).

Itchy palms



There seems to be a lot of variations on this superstition, but the idea of having an itchy palm generally refers to someone who is greedy or has an insatiable desire for money. Some people believe that if the right palm itches, you will lose money, while an itchy left palm means that money is coming your way. If both palm itches…you may want to go to a doctor for that.

Beginner's luck

Usually grumbled by an expert who just lost a game to a novice, "beginner's luck" is the idea that newbies are unusually likely to win when they try out a sport, game or activity for the first time.

Beginners might come out ahead in some cases because the novice is less stressed out about winning. Too much anxiety, after all, can hamper performance. Or it could just be a statistical fluke, especially in chance-based gambling games.

Or, like many superstitions, a belief in beginner's luck might arise because of confirmation bias. Confirmation bias is a psychological phenomenon in which people are more likely to remember events that fit their worldview. If you believe you're going to win because you're a beginner, you're more likely to remember all the times you were right — and forget the times you ended up in last place.

Find a penny, pick it up,,,

And all day long, you'll have good luck. This little ditty may arise because finding money is lucky in and of itself. But it might also be a spin-off of another old rhyme, "See a pin, pick it up/ and all day long you'll have good luck/ See a pin, let it lay/ and your luck will pass away."

Don't walk under that ladder!

Frankly, this superstition is pretty practical. Who wants to be responsible for stumbling and knocking a carpenter off his perch? But one theory holds that this superstition arises from a Christian belief in the Holy Trinity: Since a ladder leaning against a wall forms a triangle, "breaking" that triangle was blasphemous.

Then again, another popular theory is that a fear of walking under a ladder has to do with its resemblance to a medieval gallows. We're sticking with the safety-first explanation for this one.

Bad luck comes in threes

Remember confirmation bias? The belief that bad luck comes in threes is a classic example. A couple of things go wrong, and believers may start to look for the next bit of bad luck. A lost shoe might be forgotten one day, but seen as the third in a series of bad breaks the next.

666

Three sixes in a row give some people the chills. It's a superstition that harks back to the Bible. In the Book of Revelation, 666 is given as the number of the "beast," and is often interpreted as the mark of Satan and a sign of the end times.

According to State University of New York at Buffalo anthropologist Philips Stevens, the writer of Revelation was writing to persecuted Christians in code, so the numbers and names in the book are contemporary references. Three sixes in a row is probably the numeric equivalent of the Hebrew letters for the first-century Roman Emperor Nero. [End of the World? Top Doomsday Fears]

Make a wish on a wishbone

The tradition of turkey bone tug-of-war goes back a long way. Legend has it that first-century Romans used to fight over dried wishbones — which they believed were good luck — and would accidentally break them, ushering in the idea that whoever has the largest bit of bone gets their wish. Bird bones have also been used in divination throughout history, with a supposed soothsayer throwing the bones and reading their patterns to predict the future.

Most common one



1. A bird in the house is a sign of a death

2. A loaf of bread should never be turned upside down after a slice has been cut from it.

3. Never take a broom along when you move. Throw it out and buy a new one.

4. If the first butterfly you see in the year is white, you will have good luck all year.

5. If a black cat walks towards you, it brings good fortune, but if it walks away, it takes the good luck with it.

6. An acorn at the window will keep lightning out

7. A dog howling at night when someone in the house is sick is a bad omen.

8. It’s bad luck to leave a house through a different door than the one used to come into it.

9. A horseshoe hung in the bedroom will keep nightmares away.

10. If you catch a falling leaf on the first day of autumn you will not catch a cold all winter.

11. If a mirror in the house falls and breaks by itself, someone in the house will die soon.

12. Dropping an umbrella on the floor means that there will be a murder in the house.

13. All windows should be opened at the moment of death so that the soul can leave.

14. If the groom drops the wedding band during the ceremony, the marriage is doomed.

15. To dream of a lizard is a sign that you have a secret enemy.

16. If a friend gives you a knife, you should give him a coin, or your friendship will soon be broken.

17. You should never start a trip on Friday or you will meet misfortune.

18. Dream of running: a sign of a big change in your life.

19. If a clock which has not been working suddenly chimes, there will be a death in the family.

20. It is bad luck to light three cigarettes with the same match  

11 Love

"इत्तु से पैग़ाम मेरी ज़िंदगी के नाम। #kalakaksh #nosuicide #story #kahani #nojoto #nojotohindi जरा सुनये एक पते की बात,कहानी नहीं हकीकत हैं मेरे साथ। कुछ 2,3 साल पूरी बात हैं, जिंदगी जी रहा था खुलकर मैं। सभी के दिलों पर राज करता था,सभी अपनों के मुख से तारीफ़े अपनी सुना था। तब सब को मेरा नाम पता था अजय पर कोई ये नहीं जानता था कि ये वो ही अजय हैं जिसकी हम तारीफ़े करते नहीं थकते। कॉलेज का आखरी साल था तब घर में था कोई ,जो भगवान को प्यारा हो गया। महीने तक पता ना था कि जिंदगी कैसे चले रही हैं। किसी तरह ख़ुद को संभाल कर ,हिम्मत की, ज़िंदगी पहले की तरह जीने लगा। चर्चे हर तरह होने लगें थे मेरे, ज़िन्दगी अच्छी चल रही थी। कॉलेज का आखरी साल खत्म होने वाला था exam सर पर थे। exam से एक महीने पहले अचानक आँखों में दर्द होने लगा,इतना जो सहन नहीं होता था। जब भी थोड़ी सी रोशनी आँखों पर पड़ती ,पानी गंगा की तरह बहने लगता था। तब बस मुझे अंधेरे से प्यार हो गया,रोशनी मुझे बहुत सताती। दवाईयाँ हज़ार खा ली पर इत्तु सा भी आराम नहीं, जब तक दवाई का असर है तब तक ठीक, असर खत्म होती ही फिर पहले जैसा। ऐसा मेरे साथ दो महीने चलता रहा। ऐसी बीच मैंने exam भी दिया,तब मुझे होश नहीं ,कुछ पता नहीं की मैं हूँ कहाँ। Exam देनी जाता थी तब ये भी याद नहीं होता थी कि मैं जा कहाँ रहा हूँ और कहाँ पहुँच गया। किसी तरह exam दिये, exam के 1 महीने बाद मेरी आँखें ख़ुद ठीक हो गयी,जैसे कुछ हुआ ही ना हो। जब result आया तो देखा कि मेरा एक paper रहा गया। अब एक साल क्या करूँगा? ना जाने कैसे कैसे सवाल आये। एक दम सब से मिलना छूट गया,सारा दिन घर रहने लगा। तब मैंने paper rechecking का form fill किया था। क्योंकि मुझे पक्का पता था कि मेरी re नहीं आ सकती। Paper recheck में clear हो जायेगा। एक एक पल एक एक दिन की तरह गुजर रहा था,मानो ज़िन्दगी रुक गयी। मैं depression में चल गया। मुझे बस ये था कि घर बंध कर नहीं रहना हैं ,करना हैं कुछ बड़ा। पर कैसे? तब मुझे choching के बारे में पता चला ,मैंने फिर choching पर जाना शुरू किया। वहाँ भी नाम कमाया,मेरी पहचान मेरी कलाकारी थी। जहाँ भी जाता वही मेरी कलाकारी सब को भाटी। Choching पर जाते जाते,re-checking का result आया ,दुबारा पेपर देना होगा। बुरा तो लगा पर ...........................। मैंने फिर कोशिश की ,अच्छे से पेपर की तैयारी की और पेपर दिया। पेपर ऐसा किया थी कि कोई फेल ना कर सकें। Choching मेरी एक साल की पूरी होने वाली थी कि उसे से कुछ समय पहले result आ गया । result फेल। बर्दाश्त नहीं हुआ,ऐसा कैसे हो सकता हैं मैं shok, प्रोफेसर shok, parents shok. सभी ऐसा हो ही नहीं सकता, मैंने पेपर निकलवाया। एक महीने के बाद पेपर आया तो देखा कि पेपर सारा सारी ठीक हैं ।check करने वाले ने बिना गलती के no. कम दे रहे है इतना ही नही आधे पेपर में no. नहीं दिया। तब भी मैंने कोशिश करना नहीं छोड़ा, कोशिश करता रहा। मैंने अपने सभी प्रोफेसरो को दिखाया। सब की अलग अलग बात थी, कुछ ने कहा इसने कुछ नहीं होगा पेपर की दुबारा तैयारी करो, कुछ ने कहा कि कई बार टीचर सारे no. एक में दे देते हैं। इन्हीं सब बातों में 15 दिन निकल गया । किसी ने कोई help नहीं की। माने तब फिर से re-check के form fill कर दिया। जब re-checking का result आया तो फिर से re। मैं यूनिवर्सिटी गया पापा के साथ ,कई दिनों तक चक्कर लगते रहे। यूनिवर्सिटी में मैंने अपना paper सभी को दिखाया, पर वहाँ सब की बोलती बंद थी। बड़े से बड़े प्रोफेसर को दिखाया सब ने कहा ये पास हैं आराम से । जानबुझ कर फेल कर रखा हैं ।इन दिनों मैं इतना टूट गया कि कई बार मरने की कोशिश की,road पर चलते चलते ना जाने कितने बार ऐसा करना चाहा। पर mind में बस एक बात थी कि अगर मैंने आज ऐसा किया तो मेरे माँ-बाप का क्या होगा। मैंने कोर्ट केस करना चाहता तो यूनिवर्सिटी वालो ने फाइल दबा दी कहा अब टाइम ज्यादा हो गया, हमनें पहले का सारा रिकॉर्ड खत्म कर दिया। ये बात मई 2017 की है। हर तरह हाथ पैर मारने के बाद भी वही खड़ा था जहाँ पहले खड़ा था। इस के बाद मैं इतना टूट गया था की एक एक पल- एक एक दिन की तरह जा रहा था,फिर एक एक week की तरह ,फिर एक एक month की तरह। बस मुझे इतना याद रहता थी कि आज मंगलवार हैं आज शनिवार हैं मुझे मंदिर जाना हैं बस इससे ज्यादा कुछ नहीं। ऐसी बीच एक लड़की भी आए थी मेरी लाइफ में । जो कहती थी कि मैं तुम से प्यार करती हूँ तुम्हारे लिए कुछ भी कर सकती हूँ। उस लड़की ने मेरे करिब आकर मुझे इतना पागल कर दिया थी ,ऐसा कर दिया थी कि मुझे ये लगने लगा था कि अब ऐसी से शादी होगी। पर नियति को कुछ और ही मंजूर था। नवंबर 2017 को मैंने फिर से exam दिया। इस बार मैंने पहले ही सभी प्रोफेसर को बोल दिया था कि ये पेपर अब आप को clear करवाना है। उन्होंने मेरा पूरी मद्दत की। तब भी मुझे होश नहीं रहता था motivational video हजारों देखी कोई फर्क नहीं पड़ता था। इन्हीं दिनों के बीच मैंने mom-dad को कई बार बोला कि मुझे अब नही जीना हैं ,मुझे मार दो। गुस्से में ना जाने कितने बार कहा। फ़िर एक दिन मैंने yayah bhoot wala की poem सुनी अच्छी लगी , मुझे उसे बारे में सब जाना हैं सारी poem सुनी bt मुझे कुछ और भी चाहते था, सुनते सुनते एक दिन मैंने झुमके वाली की poem सुनी । मुझे इतनी अच्छी लगी कि download कर ली। तब मुझे इस लड़की के बारे में सब जाना था। तब मुझे nojoto के बारे में पता चल और मैंने nojoto डाउनलोड कर लिया। ये बात dec.2017 की हैं। तब कई बार मैं कॉलेज जाता हैं मेरे प्रोफेसर उन्मेष मिश्रा सर और राजल मैम ने मुझे हिम्मत दी कुछ नया शुरु करने की महीने भर के बाद हिम्मत कर के जनवरी में मैंने illusion art bnana start किया। एक के बाद एक art बनाता गया। और झुमके वाली की हर बात मेरे खुश रहने की वजह बने लगी थी। उस वक़्त मैंने अपनी खुशी और अपना दर्द लिखा। मेरे हर दर्द पर मरहम का काम सत्यप्रेम सर ने किया। मेरी हर nojoto स्टोर जो मैं फेसबुक पर add करता था तब हमेशा msg कर तारिफ करते थे। और मैं sir को कहता ये सच हैं। खुद को संभाल ही लिया था कि मुझे पता कि मैं जिस पर आँख बंद कर के विश्वास कर रहा था ,जिससे मैं शादी करना चाहता था उसने ही मुझे धोखा दिया। ये बात मुझे पता चली, सब अपनी आँखों से देखा 12 feb.2018 को । दिल करा की अभी इसको मार दूँ, दो चार थप्पड़ लगाऊ। बहुत ज्यादा गुस्सा आया था पर मैंने ख़ुद को संभाला ,उस वहीँ छोड़ दिया ,कुछ नही कहा उसे। जो हुआ वो सब मैंने अपने खास friends को बताई उन्होंने उसे बात की तब भी अपनी गलती ना देख कर, मुझे ग़लत और खुद को सही बनाने लगी और मेरे दोस्तों के सामने मेरे हजार कमियां इस तरह गिनवाए जैसे मैं किसी का खून किया हो,किसी का बलात्कार किया हो। तब दोस्त ने बस एक बात कही मुझे ये की वो तेरे लायक नहीं। मैं खुद को सम्भाल नहीं पा रहा था। 14 feb.2018 को ही मैंने इस बारे में मैंने अपनी राजल mam से बात की जो हिंदी department की h.o.d हैं। उन्होंने मेरा Brain wosh किया। तब याद तो मिट गई पर feeling मुझे बहुत सताती थी। तब मेरी help सत्यप्रेम sir, love भाई और अनुष्का मैम ने की। उसका दिया सब कुछ खत्म कर दिया। पर जनवरी से ही धीरे धीरे मेरे खुश रहने की वजह झुमके वाली बने लगी थी। 15 feb 2018 से लगातार झुमके वाली पर लिखता रहा और साथ illusion art बनाता रहा। march में होली वाले दिन पहले बार मेरी मेरी झुमके वाली से बात हुई।उस दिन मैं बहुत खुश था। अपनी खुशी हर तरह बाँट रहा था। किसी तरह मैं ठीक हुआ। nojoto family का साथ मिला। पर किस्मत कुछ और चाहती था। exam का result आया फिर से re आई। फिर से पेपर निकलवाने हैं, फिर से सब को दिखाया,फिर से paper दुबारा चेक के लिए form fill किया । बस अब result का इंतज़ार हैं। आज भी लड़ रहा हूँ क़िस्मत से, देखना है कब देगी ये क़िस्मत साथ मेरा।"

इत्तु से पैग़ाम मेरी ज़िंदगी के नाम।

#kalakaksh #nosuicide #story #kahani #nojoto #nojotohindi 

जरा सुनये एक पते की बात,कहानी नहीं हकीकत हैं मेरे साथ।
कुछ 2,3 साल पूरी बात हैं, जिंदगी जी रहा था खुलकर मैं।
सभी के दिलों पर राज करता था,सभी अपनों के मुख से तारीफ़े अपनी सुना था।
तब सब को मेरा नाम पता था अजय पर कोई ये नहीं जानता था कि ये वो ही अजय हैं जिसकी हम तारीफ़े करते नहीं थकते।
कॉलेज का आखरी साल था तब घर में था कोई ,जो भगवान को प्यारा हो गया। महीने  तक पता ना था कि जिंदगी कैसे चले रही हैं। किसी तरह ख़ुद को संभाल कर ,हिम्मत  की, ज़िंदगी पहले की तरह जीने लगा।
चर्चे हर तरह होने लगें थे मेरे, ज़िन्दगी अच्छी चल रही थी। कॉलेज का आखरी साल खत्म होने वाला था exam सर पर थे। exam से एक महीने पहले अचानक आँखों में दर्द होने लगा,इतना जो सहन नहीं होता था। जब भी थोड़ी सी रोशनी आँखों पर पड़ती ,पानी गंगा की तरह बहने लगता था।
तब बस मुझे अंधेरे से प्यार हो गया,रोशनी मुझे बहुत सताती।
दवाईयाँ हज़ार खा ली पर इत्तु सा भी आराम नहीं, जब तक दवाई का असर है तब तक ठीक, असर खत्म होती ही फिर पहले जैसा।
ऐसा मेरे साथ दो महीने चलता रहा।
ऐसी बीच मैंने exam भी दिया,तब मुझे होश नहीं ,कुछ पता नहीं की मैं हूँ कहाँ।
Exam देनी जाता थी तब ये भी याद नहीं होता थी कि मैं जा कहाँ रहा हूँ और कहाँ पहुँच गया।
किसी तरह exam दिये, exam के 1 महीने बाद मेरी आँखें ख़ुद ठीक हो गयी,जैसे कुछ हुआ ही ना हो।


जब result आया तो देखा कि मेरा एक paper रहा गया। अब एक साल क्या करूँगा? ना जाने कैसे कैसे सवाल आये। एक दम सब से मिलना छूट गया,सारा दिन घर रहने लगा।

तब मैंने paper rechecking का form fill किया था। क्योंकि मुझे पक्का पता था कि मेरी re नहीं आ सकती।
Paper recheck में clear हो जायेगा। एक एक पल एक एक दिन की तरह गुजर रहा था,मानो ज़िन्दगी रुक गयी।   मैं depression में चल गया। मुझे बस ये था कि घर बंध कर नहीं रहना हैं ,करना हैं कुछ बड़ा। पर कैसे?
तब मुझे choching के बारे में पता चला ,मैंने फिर choching पर जाना शुरू किया। वहाँ भी नाम कमाया,मेरी पहचान मेरी कलाकारी थी। जहाँ भी जाता वही मेरी कलाकारी  सब को भाटी।
Choching पर जाते जाते,re-checking का result आया ,दुबारा पेपर देना होगा। बुरा तो लगा पर ...........................।


मैंने फिर कोशिश की ,अच्छे से पेपर की तैयारी की और  पेपर दिया। पेपर ऐसा किया थी कि कोई फेल ना कर सकें।

Choching मेरी एक साल की पूरी होने वाली थी कि उसे से कुछ समय पहले result आ गया । result फेल।
बर्दाश्त नहीं हुआ,ऐसा कैसे हो सकता हैं मैं shok, प्रोफेसर shok, parents shok. सभी ऐसा हो ही नहीं सकता, मैंने पेपर निकलवाया। एक महीने के बाद पेपर आया तो देखा कि पेपर सारा सारी ठीक हैं ।check करने वाले ने बिना गलती के no. कम दे रहे है इतना ही नही आधे पेपर में no. नहीं दिया।  तब भी मैंने कोशिश करना नहीं छोड़ा, कोशिश करता रहा।

मैंने अपने सभी प्रोफेसरो को दिखाया। सब की अलग अलग बात थी, कुछ ने कहा इसने कुछ नहीं होगा पेपर की दुबारा तैयारी करो, कुछ ने कहा कि कई बार टीचर सारे no. एक में दे देते हैं। इन्हीं सब बातों में 15 दिन निकल गया । किसी ने कोई help नहीं की। 

माने तब फिर से re-check के form fill कर दिया। जब re-checking का result आया तो फिर से re। मैं यूनिवर्सिटी गया पापा के साथ ,कई दिनों तक चक्कर लगते रहे। यूनिवर्सिटी में मैंने अपना paper सभी को दिखाया, पर वहाँ सब की बोलती बंद थी। बड़े से बड़े प्रोफेसर को दिखाया सब ने कहा ये पास हैं आराम से ।
जानबुझ कर फेल कर रखा हैं ।इन दिनों मैं इतना टूट गया कि कई बार मरने की कोशिश की,road पर चलते चलते ना जाने कितने बार ऐसा करना चाहा। 
पर
mind में बस एक बात थी कि अगर मैंने आज ऐसा किया तो मेरे माँ-बाप का क्या होगा।
 मैंने कोर्ट केस करना चाहता तो यूनिवर्सिटी वालो ने फाइल दबा दी कहा अब टाइम ज्यादा हो गया, हमनें पहले का सारा रिकॉर्ड खत्म कर दिया।
ये बात मई 2017  की है। हर तरह हाथ पैर मारने के बाद भी वही खड़ा था जहाँ पहले खड़ा था। 
इस के बाद मैं इतना टूट गया था की एक एक पल- एक एक दिन की तरह जा रहा था,फिर एक एक week की तरह ,फिर एक एक month की तरह।
बस मुझे इतना याद रहता थी कि आज मंगलवार हैं आज शनिवार हैं मुझे मंदिर जाना हैं बस इससे ज्यादा कुछ नहीं।
ऐसी बीच एक लड़की भी आए थी मेरी लाइफ में । जो कहती थी कि मैं तुम से प्यार करती हूँ तुम्हारे लिए कुछ भी कर सकती हूँ। उस लड़की ने मेरे करिब आकर मुझे इतना पागल कर दिया थी ,ऐसा कर दिया थी कि मुझे ये लगने लगा था कि अब ऐसी से शादी होगी। पर नियति को कुछ और ही मंजूर था।


नवंबर 2017 को मैंने फिर से exam दिया। इस बार मैंने पहले ही सभी प्रोफेसर को बोल दिया था कि ये पेपर अब आप को clear करवाना है। उन्होंने मेरा पूरी मद्दत की।  तब भी मुझे होश नहीं रहता था motivational video हजारों देखी कोई फर्क नहीं पड़ता था। इन्हीं दिनों  के बीच मैंने mom-dad को कई बार बोला कि मुझे अब नही जीना हैं ,मुझे मार दो। गुस्से में ना जाने कितने बार कहा। फ़िर एक दिन मैंने yayah bhoot wala की poem सुनी अच्छी लगी , मुझे उसे बारे में सब जाना हैं सारी poem सुनी bt मुझे कुछ और भी चाहते था, सुनते सुनते एक दिन मैंने झुमके वाली की poem सुनी । मुझे इतनी अच्छी लगी कि download कर ली। तब मुझे इस लड़की के बारे में सब जाना था। तब मुझे nojoto के बारे में पता चल और मैंने nojoto डाउनलोड कर लिया। ये बात dec.2017 की हैं।
तब कई बार मैं कॉलेज जाता हैं मेरे प्रोफेसर उन्मेष मिश्रा सर और राजल मैम ने मुझे हिम्मत दी कुछ नया शुरु करने की महीने भर के बाद हिम्मत कर के जनवरी में मैंने illusion art bnana start किया। एक के बाद एक art बनाता गया।
और झुमके वाली की हर बात मेरे खुश रहने की वजह बने लगी थी।
उस वक़्त मैंने अपनी खुशी और अपना दर्द लिखा। मेरे हर दर्द पर मरहम का काम सत्यप्रेम सर ने किया। मेरी हर  nojoto स्टोर जो मैं फेसबुक पर add करता था तब हमेशा msg कर तारिफ करते थे।
और मैं sir को कहता ये सच हैं।
खुद को संभाल ही लिया था कि मुझे पता कि मैं जिस पर आँख बंद कर के विश्वास कर रहा था ,जिससे मैं शादी करना चाहता था उसने ही मुझे धोखा दिया। ये बात मुझे पता चली, सब अपनी आँखों से देखा 12 feb.2018 को । दिल करा की अभी इसको मार दूँ, दो चार थप्पड़ लगाऊ। बहुत ज्यादा गुस्सा आया था पर मैंने ख़ुद को संभाला ,उस वहीँ छोड़ दिया ,कुछ नही कहा उसे। जो हुआ वो सब मैंने अपने खास friends को बताई उन्होंने उसे बात की तब भी अपनी गलती ना देख कर,
मुझे ग़लत और  खुद को सही बनाने लगी और मेरे दोस्तों के सामने मेरे हजार कमियां इस तरह गिनवाए जैसे मैं किसी का खून किया हो,किसी का बलात्कार किया हो। तब दोस्त ने बस एक बात कही मुझे ये की वो तेरे लायक नहीं। मैं खुद को सम्भाल नहीं पा रहा था। 14 feb.2018 को ही मैंने इस बारे में मैंने अपनी राजल mam से बात की जो हिंदी department की h.o.d हैं। उन्होंने मेरा Brain wosh किया। तब याद तो मिट गई पर feeling मुझे बहुत सताती थी।

तब मेरी help सत्यप्रेम sir, love भाई और अनुष्का मैम ने की।
 उसका दिया सब कुछ खत्म कर दिया। पर जनवरी से ही धीरे धीरे मेरे खुश रहने की वजह झुमके वाली बने लगी थी। 15 feb 2018 से लगातार झुमके वाली पर लिखता रहा और साथ illusion art बनाता रहा। march में होली वाले दिन पहले बार मेरी मेरी झुमके वाली से बात हुई।उस दिन मैं बहुत खुश था। अपनी खुशी हर तरह बाँट रहा था। किसी तरह मैं ठीक हुआ। nojoto family का साथ मिला।  पर किस्मत कुछ और चाहती था। exam का result आया फिर से re आई। फिर से पेपर निकलवाने हैं, फिर से सब को दिखाया,फिर से paper दुबारा चेक के लिए form fill किया । बस अब result का इंतज़ार हैं। 
आज भी लड़ रहा हूँ क़िस्मत से, देखना है कब देगी ये क़िस्मत साथ मेरा।

इत्तु से पैग़ाम मेरी ज़िंदगी के नाम।

#kalakaksh #NoSuicide #story #kahani @Nojoto">#@Nojoto @Nojoto">#@Nojotohindi

जरा सुनये एक पते की बात,कहानी नहीं हकीकत हैं मेरे साथ।
कुछ 2,3 साल पूरी बात हैं, जिंदगी जी रहा था खुलकर मैं।
सभी के दिलों पर राज करता था,सभी अपनों के मुख से तारीफ़े अपनी सुना था।
तब सब को मेरा नाम पता था अजय पर कोई ये नहीं जानता था कि ये वो ही अजय हैं जिसकी हम तारीफ़े करते नहीं थकते।
कॉलेज का आखरी साल था तब घर में था कोई ,जो भगवान को प्यारा हो गया। महीने तक पता ना था कि जिंदगी कैसे चले रही हैं। किसी तरह ख़ुद को संभाल कर ,हिम्मत की, ज़िंदगी पहले की तरह जीने लगा।
चर्चे हर तरह होने लगें थे मेरे, ज़िन्दगी अच्छी चल रही थी। कॉलेज का आखरी साल खत्म होने वाला था exam सर पर थे। exam से एक महीने पहले अचानक आँखों में दर्द होने लगा,इतना जो सहन नहीं होता था। जब भी थोड़ी सी रोशनी आँखों पर पड़ती ,पानी गंगा की तरह बहने लगता था।
तब बस मुझे अंधेरे से प्यार हो गया,रोशनी मुझे बहुत सताती।
दवाईयाँ हज़ार खा ली पर इत्तु सा भी आराम नहीं, जब तक दवाई का असर है तब तक ठीक, असर खत्म होती ही फिर पहले जैसा।
ऐसा मेरे साथ दो महीने चलता रहा।
ऐसी बीच मैंने exam भी दिया,तब मुझे होश नहीं ,कुछ पता नहीं की मैं हूँ कहाँ।
Exam देनी जाता थी तब ये भी याद नहीं होता थी कि मैं जा कहाँ रहा हूँ और कहाँ पहुँच गया।
किसी तरह exam दिये, exam के 1 महीने बाद मेरी आँखें ख़ुद ठीक हो गयी,जैसे कुछ हुआ ही ना हो।


जब result आया तो देखा कि मेरा एक paper रहा गया। अब एक साल क्या करूँगा? ना जाने कैसे कैसे सवाल आये। एक दम सब से मिलना छूट गया,सारा दिन घर रहने लगा।

तब मैंने paper rechecking का form fill किया था। क्योंकि मुझे पक्का पता था कि मेरी re नहीं आ सकती।
Paper recheck में clear हो जायेगा। एक एक पल एक एक दिन की तरह गुजर रहा था,मानो ज़िन्दगी रुक गयी। मैं depression में चल गया। मुझे बस ये था कि घर बंध कर नहीं रहना हैं ,करना हैं कुछ बड़ा। पर कैसे?
तब मुझे choching के बारे में पता चला ,मैंने फिर choching पर जाना शुरू किया। वहाँ भी नाम कमाया,मेरी पहचान मेरी कलाकारी थी। जहाँ भी जाता वही मेरी कलाकारी सब को भाटी।
Choching पर जाते जाते,re-checking का result आया ,दुबारा पेपर देना होगा। बुरा तो लगा पर ...........................।


मैंने फिर कोशिश की ,अच्छे से पेपर की तैयारी की और पेपर दिया। पेपर ऐसा किया थी कि कोई फेल ना कर सकें।

Choching मेरी एक साल की पूरी होने वाली थी कि उसे से कुछ समय पहले result आ गया । result फेल।
बर्दाश्त नहीं हुआ,ऐसा कैसे हो सकता हैं मैं shok, प्रोफेसर shok, parents shok. सभी ऐसा हो ही नहीं सकता, मैंने पेपर निकलवाया। एक महीने के बाद पेपर आया तो देखा कि पेपर सारा सारी ठीक हैं ।check करने वाले ने बिना गलती के no. कम दे रहे है इतना ही नही आधे पेपर में no. नहीं दिया। तब भी मैंने कोशिश करना नहीं छोड़ा, कोशिश करता रहा।

मैंने अपने सभी प्रोफेसरो को दिखाया। सब की अलग अलग बात थी, कुछ ने कहा इसने कुछ नहीं होगा पेपर की दुबारा तैयारी करो, कुछ ने कहा कि कई बार टीचर सारे no. एक में दे देते हैं। इन्हीं सब बातों में 15 दिन निकल गया । किसी ने कोई help नहीं की।

माने तब फिर से re-check के form fill कर दिया। जब re-checking का result आया तो फिर से re। मैं यूनिवर्सिटी गया पापा के साथ ,कई दिनों तक चक्कर लगते रहे। यूनिवर्सिटी में मैंने अपना paper सभी को दिखाया, पर वहाँ सब की बोलती बंद थी। बड़े से बड़े प्रोफेसर को दिखाया सब ने कहा ये पास हैं आराम से ।
जानबुझ कर फेल कर रखा हैं ।इन दिनों मैं इतना टूट गया कि कई बार मरने की कोशिश की,road पर चलते चलते ना जाने कितने बार ऐसा करना चाहा।
पर
mind में बस एक बात थी कि अगर मैंने आज ऐसा किया तो मेरे माँ-बाप का क्या होगा।
मैंने कोर्ट केस करना चाहता तो यूनिवर्सिटी वालो ने फाइल दबा दी कहा अब टाइम ज्यादा हो गया, हमनें पहले का सारा रिकॉर्ड खत्म कर दिया।
ये बात मई 2017 की है। हर तरह हाथ पैर मारने के बाद भी वही खड़ा था जहाँ पहले खड़ा था।
इस के बाद मैं इतना टूट गया था की एक एक पल- एक एक दिन की तरह जा रहा था,फिर एक एक week की तरह ,फिर एक एक month की तरह।
बस मुझे इतना याद रहता थी कि आज मंगलवार हैं आज शनिवार हैं मुझे मंदिर जाना हैं बस इससे ज्यादा कुछ नहीं।
ऐसी बीच एक लड़की भी आए थी मेरी लाइफ में । जो कहती थी कि मैं तुम से प्यार करती हूँ तुम्हारे लिए कुछ भी कर सकती हूँ। उस लड़की ने मेरे करिब आकर मुझे इतना पागल कर दिया थी ,ऐसा कर दिया थी कि मुझे ये लगने लगा था कि अब ऐसी से शादी होगी। पर नियति को कुछ और ही मंजूर था।


नवंबर 2017 को मैंने फिर से exam दिया। इस बार मैंने पहले ही सभी प्रोफेसर को बोल दिया था कि ये पेपर अब आप को clear करवाना है। उन्होंने मेरा पूरी मद्दत की। तब भी मुझे होश नहीं रहता था motivational video हजारों देखी कोई फर्क नहीं पड़ता था। इन्हीं दिनों के बीच मैंने mom-dad को कई बार बोला कि मुझे अब नही जीना हैं ,मुझे मार दो। गुस्से में ना जाने कितने बार कहा। फ़िर एक दिन मैंने yayah bhoot wala की poem सुनी अच्छी लगी , मुझे उसे बारे में सब जाना हैं सारी poem सुनी bt मुझे कुछ और भी चाहते था, सुनते सुनते एक दिन मैंने झुमके वाली की poem सुनी । मुझे इतनी अच्छी लगी कि download कर ली। तब मुझे इस लड़की के बारे में सब जाना था। तब मुझे nojoto के बारे में पता चल और मैंने nojoto डाउनलोड कर लिया। ये बात dec.2017 की हैं।
तब कई बार मैं कॉलेज जाता हैं मेरे प्रोफेसर उन्मेष मिश्रा सर और राजल मैम ने मुझे हिम्मत दी कुछ नया शुरु करने की महीने भर के बाद हिम्मत कर के जनवरी में मैंने illusion art bnana start किया। एक के बाद एक art बनाता गया।
और झुमके वाली की हर बात मेरे खुश रहने की वजह बने लगी थी।
उस वक़्त मैंने अपनी खुशी और अपना दर्द लिखा। मेरे हर दर्द पर मरहम का काम सत्यप्रेम सर ने किया। मेरी हर nojoto स्टोर जो मैं फेसबुक पर add करता था तब हमेशा msg कर तारिफ करते थे।
और मैं sir को कहता ये सच हैं।
खुद को संभाल ही लिया था कि मुझे पता कि मैं जिस पर आँख बंद कर के विश्वास कर रहा था ,जिससे मैं शादी करना चाहता था उसने ही मुझे धोखा दिया। ये बात मुझे पता चली, सब अपनी आँखों से देखा 12 feb.2018 को । दिल करा की अभी इसको मार दूँ, दो चार थप्पड़ लगाऊ। बहुत ज्यादा गुस्सा आया था पर मैंने ख़ुद को संभाला ,उस वहीँ छोड़ दिया ,कुछ नही कहा उसे। जो हुआ वो सब मैंने अपने खास friends को बताई उन्होंने उसे बात की तब भी अपनी गलती ना देख कर,
मुझे ग़लत और खुद को सही बनाने लगी और मेरे दोस्तों के सामने मेरे हजार कमियां इस तरह गिनवाए जैसे मैं किसी का खून किया हो,किसी का बलात्कार किया हो। तब दोस्त ने बस एक बात कही मुझे ये की वो तेरे लायक नहीं। मैं खुद को सम्भाल नहीं पा रहा था। 14 feb.2018 को ही मैंने इस बारे में मैंने अपनी राजल mam से बात की जो हिंदी department की h.o.d हैं। उन्होंने मेरा Brain wosh किया। तब याद तो मिट गई पर feeling मुझे बहुत सताती थी।

तब मेरी help सत्यप्रेम sir, love भाई और अनुष्का मैम ने की।
उसका दिया सब कुछ खत्म कर दिया। पर जनवरी से ही धीरे धीरे मेरे खुश रहने की वजह झुमके वाली बने लगी थी। 15 feb 2018 से लगातार झुमके वाली पर लिखता रहा और साथ illusion art बनाता रहा। march में होली वाले दिन पहले बार मेरी मेरी झुमके वाली से बात हुई।उस दिन मैं बहुत खुश था। अपनी खुशी हर तरह बाँट रहा था। किसी तरह मैं ठीक हुआ। nojoto family का साथ मिला। पर किस्मत कुछ और चाहती था। exam का result आया फिर से re आई। फिर से पेपर निकलवाने हैं, फिर से सब को दिखाया,फिर से paper दुबारा चेक के लिए form fill किया । बस अब result का इंतज़ार हैं।
आज भी लड़ रहा हूँ क़िस्मत से, देखना है कब देगी ये क़िस्मत साथ मेरा।
@Satyaprem @Nojoto @Love Prashar @Dalchand @Anushka Verma

52 Love

"लहराती जुल्फें सफेद सूट और OMR शीट के साथ अन्दर की ओर आती वो उस दिन एकदम कमाल लग रहीं थी उन्हे देखते ही........ तेज होती धड़कनें एक रोमैंटिक सी दिल में बजती धुन और सनसनाती हवॉओं के संग एक नया दिल....... प्यार की बस्ती में दस्तक दे रहा था"

लहराती जुल्फें                                   
सफेद सूट                                           
और OMR शीट  के साथ                  
अन्दर की ओर आती वो                    
उस दिन एकदम कमाल लग रहीं थी
उन्हे देखते ही........                           
तेज होती धड़कनें                               
                        एक रोमैंटिक सी दिल में बजती धुन                         
      और सनसनाती हवॉओं  के संग               
एक नया दिल.......                            
        प्यार की बस्ती में दस्तक दे रहा था

हुआ कुछ यूं कि मेरा उस दिन मैथ्स का paper second ka exam tha...
और लगभग सभी स्टूडेन्टस exam हॉल में आ चुके थे और एक invigilator (sir) भी लेकिन अभी 10 min समय बचा था तो अभी exam start nhi hua tha
तभी अचानक एक female invigilator अन्दर आतें दिखी और उसके बाद का जो सीन था उसने मुझे लिखने के लिये मजबूर कर दिया खैर हमेशा लिखने के लिये मेरे दिमाग में exam के समय की आता है और मेरे फिर मेरे exam का तो एकदम......😛😛😛 यूं तो मै चाहती थी उस समय मैं जो देख पा रही थी उसको लफ्जों में उतार दूं पर .....................
फिर क्या exam और अपने दिमाग में आती पंक्तियों को बैलेंस करने की कोशिश में लगी रही और इस तरह 2 घण्टे बीत गये
और फिर बाहर आते ही जब मैनें ये सब उत्सुकता से अपनी दोस्तों से कहने लगी तो मेरी एक दोस्त ने मुझे एक तेज का थप्पड़ लगाया और याद दिलाया कि आज का paper खराब हो चुका है पेपर बहुत कठिन था आज का कुछ होश है तब जाकर में मेरे दिमाग से ये भूत थोड़ा उतरा फिर मैनें सोचा और कहा चलो कोई नही हर तरफ प्रेम की हवायें तो बही और मुझे एक अच्छी पंक्ति मिली और exam हॉल पूरा का पूरा रोमैंटिक हो उठा था हर तरफ मैथ-मैथ नही बल्कि इश्क-इश्क महक रहा था बस फिर क्या paper खराब होने की tension के बावजूद भी मेरी इस हरकत पर सब हंसते हुये बाहर निकली but हॉ ये पहली बार था जब paper खराब होने के बाद मुझे तनिक भी दुख नही हुआ था ।लेकिन exam हॉल में plz कोई poetry मत लिखियेगा 😛
यकीन मानिये जब परिणाम आयेगा exam का तब बहुत अफसोस होगा कि काश ये पेपर भी ध्यान से देती तो...........😶😶😶
#nojoto
#nojotohindi

96 Love

#Good good good good good good good good good good good good good good good good good good good good good good good good good good

5 Love

"I wasnt able to save them. (read the caption)"

I wasnt able to save them. 
(read the caption)

It was a routine morning, I was preparing my breakfast and was getting ready to start studying for my exam.
Until I heard people cursing someone and a heard a faint cry.
It was coming from my neighbouring flat, this was strange cause I don't have any neighbours.
Maybe the flat owner finally found a tenant for there bad conditioned flat.
Their voice was getting louder each minute and the cries were getting low.
I reached to my balcony to see what's going on.
The only way I could do that is by peeping, and I saw two old Male and a very old lady cursing a girl.
I wasn't able to recognise her face, as I didn't have my glasses with me at that time.
At the time I was listening to them,
Someone came closer to the balcony.
I thought they saw me, interfering in their private property.
I rushed inside of my flat, but Phew they come to shut the balcony window.
The arguments continued till 12.
And then everything went deadly silent.
At the time I was doing this, my eggs were burned as I left them on the stove and I didn't turn it off. so I had to eat bread butter in breakfast,
After having my breakfast.
I started studying for my exam that was tomorrow and I hadn't prepared for it yet.
I was studying then I heard loud pop music, coming from that same flat.
I couldn't study due to that loud music.
So I got up and went to that flat.
I rang the flat bell thrice but no one responded maybe cause of the loud music and then I shouted who is the asshole. Shut the damn music.
And the music stopped.
A girl opened the door, she seemed to be 20 yrs old.
She had these golden hair highlights and an adorable face.
she questioned me are you the one? That said asshole?
I replied..yeah, I didn't know that a girl lives there and was playing loud music.
And the very moment I said yeah,
She punched me in my face and said grow up moron.
And shut the door.
It was quite a punch, maybe she broke my nose or messed with my brain.
I got up, she again started playing loud music.
I rang the flats bell again,
She opened the door and said what do you want looser.
I replied, please if you could lower the music a little bit, I have my exam tomorrow and I hadn't studied for that. That's why my response was like that when you didn't listen. I am sorry.
She looked at my face and said ok, I would stop the music and that was a good welcoming punch, I am sveni.
I replied I am Abby. Thanks for the punch,
I was going and I slipped.
On her and I fall on the floor and our lips touched and we kissed.
And I was like I am fucked.
Run Abby run. ..
I got up and rushed to my room. I sat on my studying table and started studying for my exam.i studied the whole day.
At night I was so tired, I even didn't use my phone. I slept early and woke up at 7.
Cause my exam was at 8 Am.
I rushed to my exam centre and the exam was easy. The exam got over at 10:30.
I went to my home, and I passed by scenes flat.
I knocked at his flat, but no one responded. Suddenly the door opened.
It was not locked, I walked through his flat It was almost empty, there were blood drops on the following.
I followed that blood drop trails it took me to the bathroom, sveni was lying on the bathroom floor, with a deep cut on his hand and blood was all around her. I was completely numb on seeing this, I lift her up. I don't know where I got the strength to lift her up. I rushed to the lift.
With sveni in my hands and blood coming from that wound.
I took her to the nearest hospital in my car.
I put her on a stretcher on reaching hospital and doctors took her to the emergency room, they came out and said we couldn't save her.
But there is something we need to tell you.
We lost two lives, one of seven and the child she was carrying.
I was like she was pregnant.
There was a note in her pocket and doctors gave me that note.
I am not sure, I had a one night stand, I got pregnant and my parents think that I am a slut, a whore, the guy didn't take her responsibility and I didn't have the courage to be a single mother and face the world.
I am ending two lives cause society wouldn't have accepted me and I don't have the courage to face my parents.

She didn't take the responsibility of the child, not the guy.
The one who didn't even saw the world died before he or she could say his or her first words.

2 Love
2 Share

What are crazy things people still believe in all over the earth?

Cannibalistic gum chewing in Turkey



In some parts of Turkey you may want to think twice before whipping out a piece of chewing gum. There is a belief that if you are chewing gum at night it’s bad luck. This is because at night instead of chewing gum, you’d actually be chewing rotting dead flesh (Eew).

Groaning cheese for a newborn



You’ve probably heard of Swiss cheese, cheddar cheese, or pepper jack cheese but have you heard of Groaning Cheese? In Medieval England, expectant mothers made what they called a ‘Groaning Cheese’ which was a large wheel of cheese that matured for nine months as the unborn baby grew. When the ‘groaning time’ or time of birth came, the whole family would celebrate by eating this cheese until nothing but the outer rind was left. The newborn would then be passed through the rind on Christening day to be blessed with a long and prosperous life. What a cheesy superstition!

Good luck horseshoe



Some people believe hanging a horseshoe in the bedroom or on a door knob with its ends pointing upwards will bring good luck and keep nightmares away. This belief comes from the fact that a horse shoe has seven holes, which is considered to be a lucky number. Also the fact that is made of iron can supposedly ward off evil spirits that may haunt you in your dreams.

Friday the 13th



Friday the 13th has been a source of superstition ever since the 19th century. Though it’s origin is shrouded in speculations and theories, it’s impact is quite evident. Many people will purposely avoid doing anything significant (like business meetings, socials, banquets, etc) due to the belief that the day is cursed and its a source of ill fortune.

Curse of the Opal stone



If your favorite stone is the Opal, you’re out of luck…literally since this stone is said to bring bad luck to whoever wears it. This superstition comes from the 1829 best selling novel ‘Anne of Geierstein’ by Sir Walter Scott. In the novel, Lady Hermione was falsely accused of being a demon due to her sudden death after a drop of holy water accidentally falls on her opal jewelry and changes its color. This book had such an effect on the image of the Opal that shortly after its publication, the Opal market crashed and Opal prices dropped by 50%.

Ringing of the Bells

Have you ever wondered why bells are always associated with weddings and special occasions? As it turns out, the association stems from the widely held belief that bells frighten evil spirits away. This belief originated during Queen Elizabeth’s reign for two reasons; to ask for prayers for the departed soul and to drive away the evil spirits who stood at the foot of the bed.

Bird poop equals riches



Don’t worry, you read the title right. In Russia, there is a belief that if a bird defecates on you, your car, or your property it’s a sign of good luck and may bring you riches. The more birds involved, the richer you’ll be! So next time a bird poops on you, count it all joy.

Old, new, borrowed, blue



This popular wedding tradition is said to have originated during the Victorian era and involves giving the bride various gifts. One of the gifts is something old and represents continuity; another is new and represents hope and the future; the third is borrowed and symbolizes borrowed happiness while the last is blue and is supposed to bring purity, love, and fidelity.

Black cats, bad luck



Most people have heard the saying that if a black cat crosses your path its bad luck (if you haven’t well now you have). This interesting superstition finds it’s origin in the middles ages. Single women (usually elderly) who associated themselves with many cats where believed to be witches who could become cats themselves. Thus a black cat crossing your path could actually be a witch.

Unlucky smoking triad



From the Crimean War through World War I, it was considered bad luck among soldiers to light three cigarettes with one match. It was theorized that by the time the third cigarette was lit, a sniper would have had the time to have the soldier in his sight, ready to make the kill. However, some believe that the superstition may have been invented by match tycoon Ivar Krueger to drum up more business.


Counting crows



No, im not referring to the 90′s band. It’s believed that the amount of crows in a murder has the ability to predict your fortune as exemplified by the popular phrase: “One’s bad / Two’s luck / Three’s health / Four’s wealth / Five’s sickness / Six is death.” More than six however seems to be up to the person whose counting.

Jinxed birds



The Wryneck or Jinxtorquilla are a breed of birds that can twist their heads very liberally. A superstitious belief among the locals is that if this bird twists its head towards you, death is on the horizon.

Soul capturing mirrors



Most people use mirrors daily which means, according to this superstition, most people are soulless. There is a superstition that states that looking into a mirror steals your soul. This helps explain why the evil queen uses a mirror to harm Snow White, why Narcissus was ensnared by his own reflection, and why soulless vampires have no reflection. Think twice before you look into the bathroom mirror…you have been warned.

Fingers crossed for good luck



To cross one’s fingers is a hand gesture commonly used for good luck. Which makes sense since it was used during ancient Christian persecution by believers to identify other believers as a sign of peace. Today however, this has evolved to excuse the telling of white lies which may have its roots in the belief that the power of the Christian cross may save a person from being sent to hell for telling a lie.

Photographic soul cage



When photography was first invented in the early 19th century, people all over the world held the unfounded belief that taking someone’s picture was akin to taking his/her soul. Thus if an enemy was able to obtain a photograph of you, he/she not only held your soul but also held a spiritual power over you. Thank goodness this is just a superstition, I can only imagine how many people would have power over me…(Facebook).

No 13



Not to be confused with Friday the 13th (which is a superstition of the actual day) but similar in nature, this superstition simply states that the number 13 is associated with bad luck. That’s why many architects refused (some still do) to design stairs that ended with 13 steps or buildings that ended with a 13th floor. The fear of the number 13 is so real to many people, that an actual phobia has been created to describe it; its called Triskaidekaphobia. (try to say that 13 times fast).

When you wish upon a star



The superstition involving wishing on the first star you see in the evening is somewhat uncertain. Some Europeans believed that the gods would occasionally peer down, and when they moved the sky, a star would escape and fall down. The Greeks also believed that the stars where falling human souls, and it was lucky to make a wish on them.

Opening an umbrella indoors



According to superstition, if you open an umbrella indoors you are literally asking for bad luck to “rain on you”. One explanation comes from the days when umbrellas were used as protection from the sun; opening one inside was an insult to the sun god who would then curse you with bad luck. Another theory states that an umbrella protects you against the storms of life, so opening one inside your house insults the guardian spirits of your home (whom also protects you from the storms of life), causing them to leave you unprotected.

New broom, new house, bad luck



There are many superstitions associated with brooms (heck, that could be a list all in itself) but there is one very curious and particular superstition that we want to caution you on. As the lore goes, you cannot sweep dirt out of a new house (or apartment) with a new broom unless you sweep something in first. If you don’t sweep something in first, then you will be sweeping out your good luck. Do not sweep out your good luck!

Lucky rabbit’s foot



To have this token is an unfortunate thing for the rabbit but a magnet of fortune for the wearer. According to superstition (which can be traced as far back as the seventh century BC) the rabbit’s supernatural luck could be exploited by taking the left hind foot of a rabbit that was shot (or captured) in a creepy cemetery on a full moon.(I still fail to see how this is lucky for the rabbit).

Knock on wood



The superstition of Knocking on wood, or simply saying “knock on wood” after making a hopeful statement, is a consequence of the idea that you’re tempting fate by acknowledging your good fortune. It’s possible that the expression comes from an ancient belief that good spirits lived in trees, so by knocking on something wooden, a person was calling on the spirits for protection. Another reason why we should all be tree huggers.

Breaking a mirror



We’ve already mentioned how mirrors are believed to be soul sucking mystical items (which is bad enough) but what happens when you break these devices? Why, seven years of bad luck of course! Some superstitious sources state that the trapped souls adversely influences your luck. And here you thought you were doing them a favor! Nope. Make sure those suckers stay inside that mirror!

“God bless you”



For many; saying “God Bless You” after someone sneezes is a gesture of politeness. However, the origin of this interesting superstition is somewhat two fold. On the one hand, it’s believed that the phrase originated with Pope Gregory the Great. He would say “God Bless You” to people who sneezed during the bubonic plague in hopes that the prayer would keep them safe. However another possible origin comes from the ancient belief that the soul escapes the body during a sneeze unless God prevented this by blessing them.

Four-leaf clover



Though the origin of wishing over a four-leaf clover is lost to antiquity it has long been a symbol of good luck and fortune. It has also been used in some traditions for finding a husband or a wife. The way this works (for you single people) is by first finding a four leaf clover (good luck with that one), if you happen to find one, you must then eat it (or put it inside your shoe…but eating it is more fun). After this, the luck powers activate and the first person you come in contact after the activation will be your future mate…(Word of warning, stay clear of anyone you don’t want as a future mate).

Itchy palms



There seems to be a lot of variations on this superstition, but the idea of having an itchy palm generally refers to someone who is greedy or has an insatiable desire for money. Some people believe that if the right palm itches, you will lose money, while an itchy left palm means that money is coming your way. If both palm itches…you may want to go to a doctor for that.

Beginner's luck

Usually grumbled by an expert who just lost a game to a novice, "beginner's luck" is the idea that newbies are unusually likely to win when they try out a sport, game or activity for the first time.

Beginners might come out ahead in some cases because the novice is less stressed out about winning. Too much anxiety, after all, can hamper performance. Or it could just be a statistical fluke, especially in chance-based gambling games.

Or, like many superstitions, a belief in beginner's luck might arise because of confirmation bias. Confirmation bias is a psychological phenomenon in which people are more likely to remember events that fit their worldview. If you believe you're going to win because you're a beginner, you're more likely to remember all the times you were right — and forget the times you ended up in last place.

Find a penny, pick it up,,,

And all day long, you'll have good luck. This little ditty may arise because finding money is lucky in and of itself. But it might also be a spin-off of another old rhyme, "See a pin, pick it up/ and all day long you'll have good luck/ See a pin, let it lay/ and your luck will pass away."

Don't walk under that ladder!

Frankly, this superstition is pretty practical. Who wants to be responsible for stumbling and knocking a carpenter off his perch? But one theory holds that this superstition arises from a Christian belief in the Holy Trinity: Since a ladder leaning against a wall forms a triangle, "breaking" that triangle was blasphemous.

Then again, another popular theory is that a fear of walking under a ladder has to do with its resemblance to a medieval gallows. We're sticking with the safety-first explanation for this one.

Bad luck comes in threes

Remember confirmation bias? The belief that bad luck comes in threes is a classic example. A couple of things go wrong, and believers may start to look for the next bit of bad luck. A lost shoe might be forgotten one day, but seen as the third in a series of bad breaks the next.

666

Three sixes in a row give some people the chills. It's a superstition that harks back to the Bible. In the Book of Revelation, 666 is given as the number of the "beast," and is often interpreted as the mark of Satan and a sign of the end times.

According to State University of New York at Buffalo anthropologist Philips Stevens, the writer of Revelation was writing to persecuted Christians in code, so the numbers and names in the book are contemporary references. Three sixes in a row is probably the numeric equivalent of the Hebrew letters for the first-century Roman Emperor Nero. [End of the World? Top Doomsday Fears]

Make a wish on a wishbone

The tradition of turkey bone tug-of-war goes back a long way. Legend has it that first-century Romans used to fight over dried wishbones — which they believed were good luck — and would accidentally break them, ushering in the idea that whoever has the largest bit of bone gets their wish. Bird bones have also been used in divination throughout history, with a supposed soothsayer throwing the bones and reading their patterns to predict the future.

Most common one



1. A bird in the house is a sign of a death

2. A loaf of bread should never be turned upside down after a slice has been cut from it.

3. Never take a broom along when you move. Throw it out and buy a new one.

4. If the first butterfly you see in the year is white, you will have good luck all year.

5. If a black cat walks towards you, it brings good fortune, but if it walks away, it takes the good luck with it.

6. An acorn at the window will keep lightning out

7. A dog howling at night when someone in the house is sick is a bad omen.

8. It’s bad luck to leave a house through a different door than the one used to come into it.

9. A horseshoe hung in the bedroom will keep nightmares away.

10. If you catch a falling leaf on the first day of autumn you will not catch a cold all winter.

11. If a mirror in the house falls and breaks by itself, someone in the house will die soon.

12. Dropping an umbrella on the floor means that there will be a murder in the house.

13. All windows should be opened at the moment of death so that the soul can leave.

14. If the groom drops the wedding band during the ceremony, the marriage is doomed.

15. To dream of a lizard is a sign that you have a secret enemy.

16. If a friend gives you a knife, you should give him a coin, or your friendship will soon be broken.

17. You should never start a trip on Friday or you will meet misfortune.

18. Dream of running: a sign of a big change in your life.

19. If a clock which has not been working suddenly chimes, there will be a death in the family.

20. It is bad luck to light three cigarettes with the same match  

11 Love

"इत्तु से पैग़ाम मेरी ज़िंदगी के नाम। #kalakaksh #nosuicide #story #kahani #nojoto #nojotohindi जरा सुनये एक पते की बात,कहानी नहीं हकीकत हैं मेरे साथ। कुछ 2,3 साल पूरी बात हैं, जिंदगी जी रहा था खुलकर मैं। सभी के दिलों पर राज करता था,सभी अपनों के मुख से तारीफ़े अपनी सुना था। तब सब को मेरा नाम पता था अजय पर कोई ये नहीं जानता था कि ये वो ही अजय हैं जिसकी हम तारीफ़े करते नहीं थकते। कॉलेज का आखरी साल था तब घर में था कोई ,जो भगवान को प्यारा हो गया। महीने तक पता ना था कि जिंदगी कैसे चले रही हैं। किसी तरह ख़ुद को संभाल कर ,हिम्मत की, ज़िंदगी पहले की तरह जीने लगा। चर्चे हर तरह होने लगें थे मेरे, ज़िन्दगी अच्छी चल रही थी। कॉलेज का आखरी साल खत्म होने वाला था exam सर पर थे। exam से एक महीने पहले अचानक आँखों में दर्द होने लगा,इतना जो सहन नहीं होता था। जब भी थोड़ी सी रोशनी आँखों पर पड़ती ,पानी गंगा की तरह बहने लगता था। तब बस मुझे अंधेरे से प्यार हो गया,रोशनी मुझे बहुत सताती। दवाईयाँ हज़ार खा ली पर इत्तु सा भी आराम नहीं, जब तक दवाई का असर है तब तक ठीक, असर खत्म होती ही फिर पहले जैसा। ऐसा मेरे साथ दो महीने चलता रहा। ऐसी बीच मैंने exam भी दिया,तब मुझे होश नहीं ,कुछ पता नहीं की मैं हूँ कहाँ। Exam देनी जाता थी तब ये भी याद नहीं होता थी कि मैं जा कहाँ रहा हूँ और कहाँ पहुँच गया। किसी तरह exam दिये, exam के 1 महीने बाद मेरी आँखें ख़ुद ठीक हो गयी,जैसे कुछ हुआ ही ना हो। जब result आया तो देखा कि मेरा एक paper रहा गया। अब एक साल क्या करूँगा? ना जाने कैसे कैसे सवाल आये। एक दम सब से मिलना छूट गया,सारा दिन घर रहने लगा। तब मैंने paper rechecking का form fill किया था। क्योंकि मुझे पक्का पता था कि मेरी re नहीं आ सकती। Paper recheck में clear हो जायेगा। एक एक पल एक एक दिन की तरह गुजर रहा था,मानो ज़िन्दगी रुक गयी। मैं depression में चल गया। मुझे बस ये था कि घर बंध कर नहीं रहना हैं ,करना हैं कुछ बड़ा। पर कैसे? तब मुझे choching के बारे में पता चला ,मैंने फिर choching पर जाना शुरू किया। वहाँ भी नाम कमाया,मेरी पहचान मेरी कलाकारी थी। जहाँ भी जाता वही मेरी कलाकारी सब को भाटी। Choching पर जाते जाते,re-checking का result आया ,दुबारा पेपर देना होगा। बुरा तो लगा पर ...........................। मैंने फिर कोशिश की ,अच्छे से पेपर की तैयारी की और पेपर दिया। पेपर ऐसा किया थी कि कोई फेल ना कर सकें। Choching मेरी एक साल की पूरी होने वाली थी कि उसे से कुछ समय पहले result आ गया । result फेल। बर्दाश्त नहीं हुआ,ऐसा कैसे हो सकता हैं मैं shok, प्रोफेसर shok, parents shok. सभी ऐसा हो ही नहीं सकता, मैंने पेपर निकलवाया। एक महीने के बाद पेपर आया तो देखा कि पेपर सारा सारी ठीक हैं ।check करने वाले ने बिना गलती के no. कम दे रहे है इतना ही नही आधे पेपर में no. नहीं दिया। तब भी मैंने कोशिश करना नहीं छोड़ा, कोशिश करता रहा। मैंने अपने सभी प्रोफेसरो को दिखाया। सब की अलग अलग बात थी, कुछ ने कहा इसने कुछ नहीं होगा पेपर की दुबारा तैयारी करो, कुछ ने कहा कि कई बार टीचर सारे no. एक में दे देते हैं। इन्हीं सब बातों में 15 दिन निकल गया । किसी ने कोई help नहीं की। माने तब फिर से re-check के form fill कर दिया। जब re-checking का result आया तो फिर से re। मैं यूनिवर्सिटी गया पापा के साथ ,कई दिनों तक चक्कर लगते रहे। यूनिवर्सिटी में मैंने अपना paper सभी को दिखाया, पर वहाँ सब की बोलती बंद थी। बड़े से बड़े प्रोफेसर को दिखाया सब ने कहा ये पास हैं आराम से । जानबुझ कर फेल कर रखा हैं ।इन दिनों मैं इतना टूट गया कि कई बार मरने की कोशिश की,road पर चलते चलते ना जाने कितने बार ऐसा करना चाहा। पर mind में बस एक बात थी कि अगर मैंने आज ऐसा किया तो मेरे माँ-बाप का क्या होगा। मैंने कोर्ट केस करना चाहता तो यूनिवर्सिटी वालो ने फाइल दबा दी कहा अब टाइम ज्यादा हो गया, हमनें पहले का सारा रिकॉर्ड खत्म कर दिया। ये बात मई 2017 की है। हर तरह हाथ पैर मारने के बाद भी वही खड़ा था जहाँ पहले खड़ा था। इस के बाद मैं इतना टूट गया था की एक एक पल- एक एक दिन की तरह जा रहा था,फिर एक एक week की तरह ,फिर एक एक month की तरह। बस मुझे इतना याद रहता थी कि आज मंगलवार हैं आज शनिवार हैं मुझे मंदिर जाना हैं बस इससे ज्यादा कुछ नहीं। ऐसी बीच एक लड़की भी आए थी मेरी लाइफ में । जो कहती थी कि मैं तुम से प्यार करती हूँ तुम्हारे लिए कुछ भी कर सकती हूँ। उस लड़की ने मेरे करिब आकर मुझे इतना पागल कर दिया थी ,ऐसा कर दिया थी कि मुझे ये लगने लगा था कि अब ऐसी से शादी होगी। पर नियति को कुछ और ही मंजूर था। नवंबर 2017 को मैंने फिर से exam दिया। इस बार मैंने पहले ही सभी प्रोफेसर को बोल दिया था कि ये पेपर अब आप को clear करवाना है। उन्होंने मेरा पूरी मद्दत की। तब भी मुझे होश नहीं रहता था motivational video हजारों देखी कोई फर्क नहीं पड़ता था। इन्हीं दिनों के बीच मैंने mom-dad को कई बार बोला कि मुझे अब नही जीना हैं ,मुझे मार दो। गुस्से में ना जाने कितने बार कहा। फ़िर एक दिन मैंने yayah bhoot wala की poem सुनी अच्छी लगी , मुझे उसे बारे में सब जाना हैं सारी poem सुनी bt मुझे कुछ और भी चाहते था, सुनते सुनते एक दिन मैंने झुमके वाली की poem सुनी । मुझे इतनी अच्छी लगी कि download कर ली। तब मुझे इस लड़की के बारे में सब जाना था। तब मुझे nojoto के बारे में पता चल और मैंने nojoto डाउनलोड कर लिया। ये बात dec.2017 की हैं। तब कई बार मैं कॉलेज जाता हैं मेरे प्रोफेसर उन्मेष मिश्रा सर और राजल मैम ने मुझे हिम्मत दी कुछ नया शुरु करने की महीने भर के बाद हिम्मत कर के जनवरी में मैंने illusion art bnana start किया। एक के बाद एक art बनाता गया। और झुमके वाली की हर बात मेरे खुश रहने की वजह बने लगी थी। उस वक़्त मैंने अपनी खुशी और अपना दर्द लिखा। मेरे हर दर्द पर मरहम का काम सत्यप्रेम सर ने किया। मेरी हर nojoto स्टोर जो मैं फेसबुक पर add करता था तब हमेशा msg कर तारिफ करते थे। और मैं sir को कहता ये सच हैं। खुद को संभाल ही लिया था कि मुझे पता कि मैं जिस पर आँख बंद कर के विश्वास कर रहा था ,जिससे मैं शादी करना चाहता था उसने ही मुझे धोखा दिया। ये बात मुझे पता चली, सब अपनी आँखों से देखा 12 feb.2018 को । दिल करा की अभी इसको मार दूँ, दो चार थप्पड़ लगाऊ। बहुत ज्यादा गुस्सा आया था पर मैंने ख़ुद को संभाला ,उस वहीँ छोड़ दिया ,कुछ नही कहा उसे। जो हुआ वो सब मैंने अपने खास friends को बताई उन्होंने उसे बात की तब भी अपनी गलती ना देख कर, मुझे ग़लत और खुद को सही बनाने लगी और मेरे दोस्तों के सामने मेरे हजार कमियां इस तरह गिनवाए जैसे मैं किसी का खून किया हो,किसी का बलात्कार किया हो। तब दोस्त ने बस एक बात कही मुझे ये की वो तेरे लायक नहीं। मैं खुद को सम्भाल नहीं पा रहा था। 14 feb.2018 को ही मैंने इस बारे में मैंने अपनी राजल mam से बात की जो हिंदी department की h.o.d हैं। उन्होंने मेरा Brain wosh किया। तब याद तो मिट गई पर feeling मुझे बहुत सताती थी। तब मेरी help सत्यप्रेम sir, love भाई और अनुष्का मैम ने की। उसका दिया सब कुछ खत्म कर दिया। पर जनवरी से ही धीरे धीरे मेरे खुश रहने की वजह झुमके वाली बने लगी थी। 15 feb 2018 से लगातार झुमके वाली पर लिखता रहा और साथ illusion art बनाता रहा। march में होली वाले दिन पहले बार मेरी मेरी झुमके वाली से बात हुई।उस दिन मैं बहुत खुश था। अपनी खुशी हर तरह बाँट रहा था। किसी तरह मैं ठीक हुआ। nojoto family का साथ मिला। पर किस्मत कुछ और चाहती था। exam का result आया फिर से re आई। फिर से पेपर निकलवाने हैं, फिर से सब को दिखाया,फिर से paper दुबारा चेक के लिए form fill किया । बस अब result का इंतज़ार हैं। आज भी लड़ रहा हूँ क़िस्मत से, देखना है कब देगी ये क़िस्मत साथ मेरा।"

इत्तु से पैग़ाम मेरी ज़िंदगी के नाम।

#kalakaksh #nosuicide #story #kahani #nojoto #nojotohindi 

जरा सुनये एक पते की बात,कहानी नहीं हकीकत हैं मेरे साथ।
कुछ 2,3 साल पूरी बात हैं, जिंदगी जी रहा था खुलकर मैं।
सभी के दिलों पर राज करता था,सभी अपनों के मुख से तारीफ़े अपनी सुना था।
तब सब को मेरा नाम पता था अजय पर कोई ये नहीं जानता था कि ये वो ही अजय हैं जिसकी हम तारीफ़े करते नहीं थकते।
कॉलेज का आखरी साल था तब घर में था कोई ,जो भगवान को प्यारा हो गया। महीने  तक पता ना था कि जिंदगी कैसे चले रही हैं। किसी तरह ख़ुद को संभाल कर ,हिम्मत  की, ज़िंदगी पहले की तरह जीने लगा।
चर्चे हर तरह होने लगें थे मेरे, ज़िन्दगी अच्छी चल रही थी। कॉलेज का आखरी साल खत्म होने वाला था exam सर पर थे। exam से एक महीने पहले अचानक आँखों में दर्द होने लगा,इतना जो सहन नहीं होता था। जब भी थोड़ी सी रोशनी आँखों पर पड़ती ,पानी गंगा की तरह बहने लगता था।
तब बस मुझे अंधेरे से प्यार हो गया,रोशनी मुझे बहुत सताती।
दवाईयाँ हज़ार खा ली पर इत्तु सा भी आराम नहीं, जब तक दवाई का असर है तब तक ठीक, असर खत्म होती ही फिर पहले जैसा।
ऐसा मेरे साथ दो महीने चलता रहा।
ऐसी बीच मैंने exam भी दिया,तब मुझे होश नहीं ,कुछ पता नहीं की मैं हूँ कहाँ।
Exam देनी जाता थी तब ये भी याद नहीं होता थी कि मैं जा कहाँ रहा हूँ और कहाँ पहुँच गया।
किसी तरह exam दिये, exam के 1 महीने बाद मेरी आँखें ख़ुद ठीक हो गयी,जैसे कुछ हुआ ही ना हो।


जब result आया तो देखा कि मेरा एक paper रहा गया। अब एक साल क्या करूँगा? ना जाने कैसे कैसे सवाल आये। एक दम सब से मिलना छूट गया,सारा दिन घर रहने लगा।

तब मैंने paper rechecking का form fill किया था। क्योंकि मुझे पक्का पता था कि मेरी re नहीं आ सकती।
Paper recheck में clear हो जायेगा। एक एक पल एक एक दिन की तरह गुजर रहा था,मानो ज़िन्दगी रुक गयी।   मैं depression में चल गया। मुझे बस ये था कि घर बंध कर नहीं रहना हैं ,करना हैं कुछ बड़ा। पर कैसे?
तब मुझे choching के बारे में पता चला ,मैंने फिर choching पर जाना शुरू किया। वहाँ भी नाम कमाया,मेरी पहचान मेरी कलाकारी थी। जहाँ भी जाता वही मेरी कलाकारी  सब को भाटी।
Choching पर जाते जाते,re-checking का result आया ,दुबारा पेपर देना होगा। बुरा तो लगा पर ...........................।


मैंने फिर कोशिश की ,अच्छे से पेपर की तैयारी की और  पेपर दिया। पेपर ऐसा किया थी कि कोई फेल ना कर सकें।

Choching मेरी एक साल की पूरी होने वाली थी कि उसे से कुछ समय पहले result आ गया । result फेल।
बर्दाश्त नहीं हुआ,ऐसा कैसे हो सकता हैं मैं shok, प्रोफेसर shok, parents shok. सभी ऐसा हो ही नहीं सकता, मैंने पेपर निकलवाया। एक महीने के बाद पेपर आया तो देखा कि पेपर सारा सारी ठीक हैं ।check करने वाले ने बिना गलती के no. कम दे रहे है इतना ही नही आधे पेपर में no. नहीं दिया।  तब भी मैंने कोशिश करना नहीं छोड़ा, कोशिश करता रहा।

मैंने अपने सभी प्रोफेसरो को दिखाया। सब की अलग अलग बात थी, कुछ ने कहा इसने कुछ नहीं होगा पेपर की दुबारा तैयारी करो, कुछ ने कहा कि कई बार टीचर सारे no. एक में दे देते हैं। इन्हीं सब बातों में 15 दिन निकल गया । किसी ने कोई help नहीं की। 

माने तब फिर से re-check के form fill कर दिया। जब re-checking का result आया तो फिर से re। मैं यूनिवर्सिटी गया पापा के साथ ,कई दिनों तक चक्कर लगते रहे। यूनिवर्सिटी में मैंने अपना paper सभी को दिखाया, पर वहाँ सब की बोलती बंद थी। बड़े से बड़े प्रोफेसर को दिखाया सब ने कहा ये पास हैं आराम से ।
जानबुझ कर फेल कर रखा हैं ।इन दिनों मैं इतना टूट गया कि कई बार मरने की कोशिश की,road पर चलते चलते ना जाने कितने बार ऐसा करना चाहा। 
पर
mind में बस एक बात थी कि अगर मैंने आज ऐसा किया तो मेरे माँ-बाप का क्या होगा।
 मैंने कोर्ट केस करना चाहता तो यूनिवर्सिटी वालो ने फाइल दबा दी कहा अब टाइम ज्यादा हो गया, हमनें पहले का सारा रिकॉर्ड खत्म कर दिया।
ये बात मई 2017  की है। हर तरह हाथ पैर मारने के बाद भी वही खड़ा था जहाँ पहले खड़ा था। 
इस के बाद मैं इतना टूट गया था की एक एक पल- एक एक दिन की तरह जा रहा था,फिर एक एक week की तरह ,फिर एक एक month की तरह।
बस मुझे इतना याद रहता थी कि आज मंगलवार हैं आज शनिवार हैं मुझे मंदिर जाना हैं बस इससे ज्यादा कुछ नहीं।
ऐसी बीच एक लड़की भी आए थी मेरी लाइफ में । जो कहती थी कि मैं तुम से प्यार करती हूँ तुम्हारे लिए कुछ भी कर सकती हूँ। उस लड़की ने मेरे करिब आकर मुझे इतना पागल कर दिया थी ,ऐसा कर दिया थी कि मुझे ये लगने लगा था कि अब ऐसी से शादी होगी। पर नियति को कुछ और ही मंजूर था।


नवंबर 2017 को मैंने फिर से exam दिया। इस बार मैंने पहले ही सभी प्रोफेसर को बोल दिया था कि ये पेपर अब आप को clear करवाना है। उन्होंने मेरा पूरी मद्दत की।  तब भी मुझे होश नहीं रहता था motivational video हजारों देखी कोई फर्क नहीं पड़ता था। इन्हीं दिनों  के बीच मैंने mom-dad को कई बार बोला कि मुझे अब नही जीना हैं ,मुझे मार दो। गुस्से में ना जाने कितने बार कहा। फ़िर एक दिन मैंने yayah bhoot wala की poem सुनी अच्छी लगी , मुझे उसे बारे में सब जाना हैं सारी poem सुनी bt मुझे कुछ और भी चाहते था, सुनते सुनते एक दिन मैंने झुमके वाली की poem सुनी । मुझे इतनी अच्छी लगी कि download कर ली। तब मुझे इस लड़की के बारे में सब जाना था। तब मुझे nojoto के बारे में पता चल और मैंने nojoto डाउनलोड कर लिया। ये बात dec.2017 की हैं।
तब कई बार मैं कॉलेज जाता हैं मेरे प्रोफेसर उन्मेष मिश्रा सर और राजल मैम ने मुझे हिम्मत दी कुछ नया शुरु करने की महीने भर के बाद हिम्मत कर के जनवरी में मैंने illusion art bnana start किया। एक के बाद एक art बनाता गया।
और झुमके वाली की हर बात मेरे खुश रहने की वजह बने लगी थी।
उस वक़्त मैंने अपनी खुशी और अपना दर्द लिखा। मेरे हर दर्द पर मरहम का काम सत्यप्रेम सर ने किया। मेरी हर  nojoto स्टोर जो मैं फेसबुक पर add करता था तब हमेशा msg कर तारिफ करते थे।
और मैं sir को कहता ये सच हैं।
खुद को संभाल ही लिया था कि मुझे पता कि मैं जिस पर आँख बंद कर के विश्वास कर रहा था ,जिससे मैं शादी करना चाहता था उसने ही मुझे धोखा दिया। ये बात मुझे पता चली, सब अपनी आँखों से देखा 12 feb.2018 को । दिल करा की अभी इसको मार दूँ, दो चार थप्पड़ लगाऊ। बहुत ज्यादा गुस्सा आया था पर मैंने ख़ुद को संभाला ,उस वहीँ छोड़ दिया ,कुछ नही कहा उसे। जो हुआ वो सब मैंने अपने खास friends को बताई उन्होंने उसे बात की तब भी अपनी गलती ना देख कर,
मुझे ग़लत और  खुद को सही बनाने लगी और मेरे दोस्तों के सामने मेरे हजार कमियां इस तरह गिनवाए जैसे मैं किसी का खून किया हो,किसी का बलात्कार किया हो। तब दोस्त ने बस एक बात कही मुझे ये की वो तेरे लायक नहीं। मैं खुद को सम्भाल नहीं पा रहा था। 14 feb.2018 को ही मैंने इस बारे में मैंने अपनी राजल mam से बात की जो हिंदी department की h.o.d हैं। उन्होंने मेरा Brain wosh किया। तब याद तो मिट गई पर feeling मुझे बहुत सताती थी।

तब मेरी help सत्यप्रेम sir, love भाई और अनुष्का मैम ने की।
 उसका दिया सब कुछ खत्म कर दिया। पर जनवरी से ही धीरे धीरे मेरे खुश रहने की वजह झुमके वाली बने लगी थी। 15 feb 2018 से लगातार झुमके वाली पर लिखता रहा और साथ illusion art बनाता रहा। march में होली वाले दिन पहले बार मेरी मेरी झुमके वाली से बात हुई।उस दिन मैं बहुत खुश था। अपनी खुशी हर तरह बाँट रहा था। किसी तरह मैं ठीक हुआ। nojoto family का साथ मिला।  पर किस्मत कुछ और चाहती था। exam का result आया फिर से re आई। फिर से पेपर निकलवाने हैं, फिर से सब को दिखाया,फिर से paper दुबारा चेक के लिए form fill किया । बस अब result का इंतज़ार हैं। 
आज भी लड़ रहा हूँ क़िस्मत से, देखना है कब देगी ये क़िस्मत साथ मेरा।

इत्तु से पैग़ाम मेरी ज़िंदगी के नाम।

#kalakaksh #NoSuicide #story #kahani @Nojoto">#@Nojoto @Nojoto">#@Nojotohindi

जरा सुनये एक पते की बात,कहानी नहीं हकीकत हैं मेरे साथ।
कुछ 2,3 साल पूरी बात हैं, जिंदगी जी रहा था खुलकर मैं।
सभी के दिलों पर राज करता था,सभी अपनों के मुख से तारीफ़े अपनी सुना था।
तब सब को मेरा नाम पता था अजय पर कोई ये नहीं जानता था कि ये वो ही अजय हैं जिसकी हम तारीफ़े करते नहीं थकते।
कॉलेज का आखरी साल था तब घर में था कोई ,जो भगवान को प्यारा हो गया। महीने तक पता ना था कि जिंदगी कैसे चले रही हैं। किसी तरह ख़ुद को संभाल कर ,हिम्मत की, ज़िंदगी पहले की तरह जीने लगा।
चर्चे हर तरह होने लगें थे मेरे, ज़िन्दगी अच्छी चल रही थी। कॉलेज का आखरी साल खत्म होने वाला था exam सर पर थे। exam से एक महीने पहले अचानक आँखों में दर्द होने लगा,इतना जो सहन नहीं होता था। जब भी थोड़ी सी रोशनी आँखों पर पड़ती ,पानी गंगा की तरह बहने लगता था।
तब बस मुझे अंधेरे से प्यार हो गया,रोशनी मुझे बहुत सताती।
दवाईयाँ हज़ार खा ली पर इत्तु सा भी आराम नहीं, जब तक दवाई का असर है तब तक ठीक, असर खत्म होती ही फिर पहले जैसा।
ऐसा मेरे साथ दो महीने चलता रहा।
ऐसी बीच मैंने exam भी दिया,तब मुझे होश नहीं ,कुछ पता नहीं की मैं हूँ कहाँ।
Exam देनी जाता थी तब ये भी याद नहीं होता थी कि मैं जा कहाँ रहा हूँ और कहाँ पहुँच गया।
किसी तरह exam दिये, exam के 1 महीने बाद मेरी आँखें ख़ुद ठीक हो गयी,जैसे कुछ हुआ ही ना हो।


जब result आया तो देखा कि मेरा एक paper रहा गया। अब एक साल क्या करूँगा? ना जाने कैसे कैसे सवाल आये। एक दम सब से मिलना छूट गया,सारा दिन घर रहने लगा।

तब मैंने paper rechecking का form fill किया था। क्योंकि मुझे पक्का पता था कि मेरी re नहीं आ सकती।
Paper recheck में clear हो जायेगा। एक एक पल एक एक दिन की तरह गुजर रहा था,मानो ज़िन्दगी रुक गयी। मैं depression में चल गया। मुझे बस ये था कि घर बंध कर नहीं रहना हैं ,करना हैं कुछ बड़ा। पर कैसे?
तब मुझे choching के बारे में पता चला ,मैंने फिर choching पर जाना शुरू किया। वहाँ भी नाम कमाया,मेरी पहचान मेरी कलाकारी थी। जहाँ भी जाता वही मेरी कलाकारी सब को भाटी।
Choching पर जाते जाते,re-checking का result आया ,दुबारा पेपर देना होगा। बुरा तो लगा पर ...........................।


मैंने फिर कोशिश की ,अच्छे से पेपर की तैयारी की और पेपर दिया। पेपर ऐसा किया थी कि कोई फेल ना कर सकें।

Choching मेरी एक साल की पूरी होने वाली थी कि उसे से कुछ समय पहले result आ गया । result फेल।
बर्दाश्त नहीं हुआ,ऐसा कैसे हो सकता हैं मैं shok, प्रोफेसर shok, parents shok. सभी ऐसा हो ही नहीं सकता, मैंने पेपर निकलवाया। एक महीने के बाद पेपर आया तो देखा कि पेपर सारा सारी ठीक हैं ।check करने वाले ने बिना गलती के no. कम दे रहे है इतना ही नही आधे पेपर में no. नहीं दिया। तब भी मैंने कोशिश करना नहीं छोड़ा, कोशिश करता रहा।

मैंने अपने सभी प्रोफेसरो को दिखाया। सब की अलग अलग बात थी, कुछ ने कहा इसने कुछ नहीं होगा पेपर की दुबारा तैयारी करो, कुछ ने कहा कि कई बार टीचर सारे no. एक में दे देते हैं। इन्हीं सब बातों में 15 दिन निकल गया । किसी ने कोई help नहीं की।

माने तब फिर से re-check के form fill कर दिया। जब re-checking का result आया तो फिर से re। मैं यूनिवर्सिटी गया पापा के साथ ,कई दिनों तक चक्कर लगते रहे। यूनिवर्सिटी में मैंने अपना paper सभी को दिखाया, पर वहाँ सब की बोलती बंद थी। बड़े से बड़े प्रोफेसर को दिखाया सब ने कहा ये पास हैं आराम से ।
जानबुझ कर फेल कर रखा हैं ।इन दिनों मैं इतना टूट गया कि कई बार मरने की कोशिश की,road पर चलते चलते ना जाने कितने बार ऐसा करना चाहा।
पर
mind में बस एक बात थी कि अगर मैंने आज ऐसा किया तो मेरे माँ-बाप का क्या होगा।
मैंने कोर्ट केस करना चाहता तो यूनिवर्सिटी वालो ने फाइल दबा दी कहा अब टाइम ज्यादा हो गया, हमनें पहले का सारा रिकॉर्ड खत्म कर दिया।
ये बात मई 2017 की है। हर तरह हाथ पैर मारने के बाद भी वही खड़ा था जहाँ पहले खड़ा था।
इस के बाद मैं इतना टूट गया था की एक एक पल- एक एक दिन की तरह जा रहा था,फिर एक एक week की तरह ,फिर एक एक month की तरह।
बस मुझे इतना याद रहता थी कि आज मंगलवार हैं आज शनिवार हैं मुझे मंदिर जाना हैं बस इससे ज्यादा कुछ नहीं।
ऐसी बीच एक लड़की भी आए थी मेरी लाइफ में । जो कहती थी कि मैं तुम से प्यार करती हूँ तुम्हारे लिए कुछ भी कर सकती हूँ। उस लड़की ने मेरे करिब आकर मुझे इतना पागल कर दिया थी ,ऐसा कर दिया थी कि मुझे ये लगने लगा था कि अब ऐसी से शादी होगी। पर नियति को कुछ और ही मंजूर था।


नवंबर 2017 को मैंने फिर से exam दिया। इस बार मैंने पहले ही सभी प्रोफेसर को बोल दिया था कि ये पेपर अब आप को clear करवाना है। उन्होंने मेरा पूरी मद्दत की। तब भी मुझे होश नहीं रहता था motivational video हजारों देखी कोई फर्क नहीं पड़ता था। इन्हीं दिनों के बीच मैंने mom-dad को कई बार बोला कि मुझे अब नही जीना हैं ,मुझे मार दो। गुस्से में ना जाने कितने बार कहा। फ़िर एक दिन मैंने yayah bhoot wala की poem सुनी अच्छी लगी , मुझे उसे बारे में सब जाना हैं सारी poem सुनी bt मुझे कुछ और भी चाहते था, सुनते सुनते एक दिन मैंने झुमके वाली की poem सुनी । मुझे इतनी अच्छी लगी कि download कर ली। तब मुझे इस लड़की के बारे में सब जाना था। तब मुझे nojoto के बारे में पता चल और मैंने nojoto डाउनलोड कर लिया। ये बात dec.2017 की हैं।
तब कई बार मैं कॉलेज जाता हैं मेरे प्रोफेसर उन्मेष मिश्रा सर और राजल मैम ने मुझे हिम्मत दी कुछ नया शुरु करने की महीने भर के बाद हिम्मत कर के जनवरी में मैंने illusion art bnana start किया। एक के बाद एक art बनाता गया।
और झुमके वाली की हर बात मेरे खुश रहने की वजह बने लगी थी।
उस वक़्त मैंने अपनी खुशी और अपना दर्द लिखा। मेरे हर दर्द पर मरहम का काम सत्यप्रेम सर ने किया। मेरी हर nojoto स्टोर जो मैं फेसबुक पर add करता था तब हमेशा msg कर तारिफ करते थे।
और मैं sir को कहता ये सच हैं।
खुद को संभाल ही लिया था कि मुझे पता कि मैं जिस पर आँख बंद कर के विश्वास कर रहा था ,जिससे मैं शादी करना चाहता था उसने ही मुझे धोखा दिया। ये बात मुझे पता चली, सब अपनी आँखों से देखा 12 feb.2018 को । दिल करा की अभी इसको मार दूँ, दो चार थप्पड़ लगाऊ। बहुत ज्यादा गुस्सा आया था पर मैंने ख़ुद को संभाला ,उस वहीँ छोड़ दिया ,कुछ नही कहा उसे। जो हुआ वो सब मैंने अपने खास friends को बताई उन्होंने उसे बात की तब भी अपनी गलती ना देख कर,
मुझे ग़लत और खुद को सही बनाने लगी और मेरे दोस्तों के सामने मेरे हजार कमियां इस तरह गिनवाए जैसे मैं किसी का खून किया हो,किसी का बलात्कार किया हो। तब दोस्त ने बस एक बात कही मुझे ये की वो तेरे लायक नहीं। मैं खुद को सम्भाल नहीं पा रहा था। 14 feb.2018 को ही मैंने इस बारे में मैंने अपनी राजल mam से बात की जो हिंदी department की h.o.d हैं। उन्होंने मेरा Brain wosh किया। तब याद तो मिट गई पर feeling मुझे बहुत सताती थी।

तब मेरी help सत्यप्रेम sir, love भाई और अनुष्का मैम ने की।
उसका दिया सब कुछ खत्म कर दिया। पर जनवरी से ही धीरे धीरे मेरे खुश रहने की वजह झुमके वाली बने लगी थी। 15 feb 2018 से लगातार झुमके वाली पर लिखता रहा और साथ illusion art बनाता रहा। march में होली वाले दिन पहले बार मेरी मेरी झुमके वाली से बात हुई।उस दिन मैं बहुत खुश था। अपनी खुशी हर तरह बाँट रहा था। किसी तरह मैं ठीक हुआ। nojoto family का साथ मिला। पर किस्मत कुछ और चाहती था। exam का result आया फिर से re आई। फिर से पेपर निकलवाने हैं, फिर से सब को दिखाया,फिर से paper दुबारा चेक के लिए form fill किया । बस अब result का इंतज़ार हैं।
आज भी लड़ रहा हूँ क़िस्मत से, देखना है कब देगी ये क़िस्मत साथ मेरा।
@Satyaprem @Nojoto @Love Prashar @Dalchand @Anushka Verma

52 Love

"लहराती जुल्फें सफेद सूट और OMR शीट के साथ अन्दर की ओर आती वो उस दिन एकदम कमाल लग रहीं थी उन्हे देखते ही........ तेज होती धड़कनें एक रोमैंटिक सी दिल में बजती धुन और सनसनाती हवॉओं के संग एक नया दिल....... प्यार की बस्ती में दस्तक दे रहा था"

लहराती जुल्फें                                   
सफेद सूट                                           
और OMR शीट  के साथ                  
अन्दर की ओर आती वो                    
उस दिन एकदम कमाल लग रहीं थी
उन्हे देखते ही........                           
तेज होती धड़कनें                               
                        एक रोमैंटिक सी दिल में बजती धुन                         
      और सनसनाती हवॉओं  के संग               
एक नया दिल.......                            
        प्यार की बस्ती में दस्तक दे रहा था

हुआ कुछ यूं कि मेरा उस दिन मैथ्स का paper second ka exam tha...
और लगभग सभी स्टूडेन्टस exam हॉल में आ चुके थे और एक invigilator (sir) भी लेकिन अभी 10 min समय बचा था तो अभी exam start nhi hua tha
तभी अचानक एक female invigilator अन्दर आतें दिखी और उसके बाद का जो सीन था उसने मुझे लिखने के लिये मजबूर कर दिया खैर हमेशा लिखने के लिये मेरे दिमाग में exam के समय की आता है और मेरे फिर मेरे exam का तो एकदम......😛😛😛 यूं तो मै चाहती थी उस समय मैं जो देख पा रही थी उसको लफ्जों में उतार दूं पर .....................
फिर क्या exam और अपने दिमाग में आती पंक्तियों को बैलेंस करने की कोशिश में लगी रही और इस तरह 2 घण्टे बीत गये
और फिर बाहर आते ही जब मैनें ये सब उत्सुकता से अपनी दोस्तों से कहने लगी तो मेरी एक दोस्त ने मुझे एक तेज का थप्पड़ लगाया और याद दिलाया कि आज का paper खराब हो चुका है पेपर बहुत कठिन था आज का कुछ होश है तब जाकर में मेरे दिमाग से ये भूत थोड़ा उतरा फिर मैनें सोचा और कहा चलो कोई नही हर तरफ प्रेम की हवायें तो बही और मुझे एक अच्छी पंक्ति मिली और exam हॉल पूरा का पूरा रोमैंटिक हो उठा था हर तरफ मैथ-मैथ नही बल्कि इश्क-इश्क महक रहा था बस फिर क्या paper खराब होने की tension के बावजूद भी मेरी इस हरकत पर सब हंसते हुये बाहर निकली but हॉ ये पहली बार था जब paper खराब होने के बाद मुझे तनिक भी दुख नही हुआ था ।लेकिन exam हॉल में plz कोई poetry मत लिखियेगा 😛
यकीन मानिये जब परिणाम आयेगा exam का तब बहुत अफसोस होगा कि काश ये पेपर भी ध्यान से देती तो...........😶😶😶
#nojoto
#nojotohindi

96 Love

#Good good good good good good good good good good good good good good good good good good good good good good good good good good

5 Love

"I wasnt able to save them. (read the caption)"

I wasnt able to save them. 
(read the caption)

It was a routine morning, I was preparing my breakfast and was getting ready to start studying for my exam.
Until I heard people cursing someone and a heard a faint cry.
It was coming from my neighbouring flat, this was strange cause I don't have any neighbours.
Maybe the flat owner finally found a tenant for there bad conditioned flat.
Their voice was getting louder each minute and the cries were getting low.
I reached to my balcony to see what's going on.
The only way I could do that is by peeping, and I saw two old Male and a very old lady cursing a girl.
I wasn't able to recognise her face, as I didn't have my glasses with me at that time.
At the time I was listening to them,
Someone came closer to the balcony.
I thought they saw me, interfering in their private property.
I rushed inside of my flat, but Phew they come to shut the balcony window.
The arguments continued till 12.
And then everything went deadly silent.
At the time I was doing this, my eggs were burned as I left them on the stove and I didn't turn it off. so I had to eat bread butter in breakfast,
After having my breakfast.
I started studying for my exam that was tomorrow and I hadn't prepared for it yet.
I was studying then I heard loud pop music, coming from that same flat.
I couldn't study due to that loud music.
So I got up and went to that flat.
I rang the flat bell thrice but no one responded maybe cause of the loud music and then I shouted who is the asshole. Shut the damn music.
And the music stopped.
A girl opened the door, she seemed to be 20 yrs old.
She had these golden hair highlights and an adorable face.
she questioned me are you the one? That said asshole?
I replied..yeah, I didn't know that a girl lives there and was playing loud music.
And the very moment I said yeah,
She punched me in my face and said grow up moron.
And shut the door.
It was quite a punch, maybe she broke my nose or messed with my brain.
I got up, she again started playing loud music.
I rang the flats bell again,
She opened the door and said what do you want looser.
I replied, please if you could lower the music a little bit, I have my exam tomorrow and I hadn't studied for that. That's why my response was like that when you didn't listen. I am sorry.
She looked at my face and said ok, I would stop the music and that was a good welcoming punch, I am sveni.
I replied I am Abby. Thanks for the punch,
I was going and I slipped.
On her and I fall on the floor and our lips touched and we kissed.
And I was like I am fucked.
Run Abby run. ..
I got up and rushed to my room. I sat on my studying table and started studying for my exam.i studied the whole day.
At night I was so tired, I even didn't use my phone. I slept early and woke up at 7.
Cause my exam was at 8 Am.
I rushed to my exam centre and the exam was easy. The exam got over at 10:30.
I went to my home, and I passed by scenes flat.
I knocked at his flat, but no one responded. Suddenly the door opened.
It was not locked, I walked through his flat It was almost empty, there were blood drops on the following.
I followed that blood drop trails it took me to the bathroom, sveni was lying on the bathroom floor, with a deep cut on his hand and blood was all around her. I was completely numb on seeing this, I lift her up. I don't know where I got the strength to lift her up. I rushed to the lift.
With sveni in my hands and blood coming from that wound.
I took her to the nearest hospital in my car.
I put her on a stretcher on reaching hospital and doctors took her to the emergency room, they came out and said we couldn't save her.
But there is something we need to tell you.
We lost two lives, one of seven and the child she was carrying.
I was like she was pregnant.
There was a note in her pocket and doctors gave me that note.
I am not sure, I had a one night stand, I got pregnant and my parents think that I am a slut, a whore, the guy didn't take her responsibility and I didn't have the courage to be a single mother and face the world.
I am ending two lives cause society wouldn't have accepted me and I don't have the courage to face my parents.

She didn't take the responsibility of the child, not the guy.
The one who didn't even saw the world died before he or she could say his or her first words.

2 Love
2 Share