tags

New रोशनी मेहंदी Status, Photo, Video

Find the latest Status about रोशनी मेहंदी from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos.

  • Latest
  • Video

"ख्वाबों में आते हो रोज़ अँधेरी रातों में होंट भी मुस्कुरा देते हैं बिना तुम्हे देख के कब आओगे तुम अंधेरों से उजालो में ताकि देख सकू चेहरा तुम्हारा अपनी इन निगाहो से जाते जाते अपना नाम तो बताते जाओ जनाब ताकि, सजाऊ हाथों पे मेहंदी अपने, तुम्हारे नाम से"

ख्वाबों में आते हो रोज़ अँधेरी रातों में
होंट भी मुस्कुरा देते हैं बिना तुम्हे देख के
कब आओगे तुम अंधेरों से उजालो में
ताकि देख सकू चेहरा तुम्हारा अपनी इन निगाहो से
जाते जाते अपना नाम तो बताते जाओ जनाब
ताकि, सजाऊ हाथों पे मेहंदी अपने, तुम्हारे नाम से

#merikahaani
#Dreams #NojotoFamily #nojotohindi #Nojoto #nojotoquotes #nojotopoetry #Nojotostories #Nojotovoice #Nojotovideo #nojotomusic #

457 Love
32.8K Views
13 Share

"और जो हुआ पूरा किसी दिन, दाग नजर आ जाएगा.. उधार की रोशनी का सच, साफ नजर आ जाएगा... मैंने उसको पास बिठाया आईना दिखाया, फिर थोड़ा समझाया.. इस सतह की रोशनी की, तू मुझे क्या दुहाई देता है.. उसके तो अंदर है वो नूर, जो बाहर दिखाई देता है... ©drVats वो छत पर लेटे लेटे एक दिन, शाम से जब रात हुई.. चांद दिखा मुझे आसमान में, चांद से मेरी बात हुई.. चांद बोला परेशान सा, कैसे अपने नूर को बरकरार रख पाता है.. मेरा आकार तो हर दिन, घटता बढ़ता जाता है.."

और जो हुआ पूरा किसी दिन, 
दाग नजर आ जाएगा..
उधार की रोशनी का सच,
 साफ नजर आ जाएगा...

मैंने उसको पास बिठाया
आईना दिखाया,
फिर थोड़ा समझाया..

इस सतह की रोशनी की, 
तू मुझे क्या दुहाई देता है.. 
उसके तो अंदर है वो नूर,
जो बाहर दिखाई देता है...
                ©drVats वो छत पर लेटे लेटे एक दिन, 
शाम से जब रात हुई.. 
चांद दिखा मुझे आसमान में,
 चांद से मेरी बात हुई..

चांद बोला परेशान सा,
कैसे अपने नूर को 

 बरकरार रख पाता है..
 मेरा आकार तो हर दिन,
 घटता बढ़ता जाता है..

चांद और वो #RashkeQamar means चाँद की ईर्ष्या..
So this poetry of mine best suited for the title.. Listen it up.. and react to it..
#Nojoto

414 Love
3.6K Views
19 Share

"अलोन रोशनी R. G.... "

अलोन रोशनी  R. G....

## अलोन रोशनी rg...

12 Love
1.0K Views
2 Share

सारी मुझपे पड़ने वाली रोशनी ज़ाया गई !! -कुशल

#themodernpoets #themodernpoets #Hindi #urdu #Shayari #ghazal #ishq #New

45 Love
967 Views

#Life #Poetry #Trending #latest
#Love #Lifeexperiences

जिंदगी में दर्द मिला बहुत था
लोगो का कर्ज मुझ पर बहुत था

दिल का मकान सुना था
घर पर

60 Love
796 Views
1 Share

""अकेला योद्धा" प्रनित कुलुङ राई हाँ, भेडाको झुण्ड में रेहकर भि, एक भेडाको पेहचान मिल जाता हैं। लेकिन जो बिना झुण्ड के भि राज करे उसे हि जंगल के राजा बुलाता हैं । हाँ लाँख तारे भि दुनियाँ को रोशनी देती हैं, भिंड में हि सहि अपने आप को पेहचान दिलाता हैं लेकिन जिस्के रोशनी लाख तारे को भि भारी पड़ जाता है जिस्के चमक लाख तारे को भि झुकनेको मझबुर कर जाता है वह भि अकेला चाँद हि होता है । हाँ, बुँन्द बुँन्द से सागर बनता है लेकिन सच तो यही है कि उस जलको सागर बन्ने के लिए भि एक बुँन्द जल कि जरूरत होता हैं, और जो बुँन्द उस सागरसे बाहर आकर भि अपना तलाब बना लेता हैं वही शैलाब लाने कि संक्षम रखता हैं। हाँ, एक प्राणी भि भिंड मे हि सुरक्षित रेहता हैं, सफलता पाने के लिए किसी के साथ कि जरूरत होता हैं, लेकिन जो अकेला हि आसमान में उड्ता हैं, उसका हि सबसे मजबुत पंख हुआ करते हैं और जो अकेला हि संघर्ष करके सफलताको चुम लेता हैं उसे हि अकसर लोक अकेला योद्धा बुलाता हैं ।"

"अकेला योद्धा"
प्रनित कुलुङ राई 

हाँ, भेडाको झुण्ड में रेहकर भि, 
एक भेडाको पेहचान मिल जाता हैं।
लेकिन जो बिना झुण्ड के भि राज करे 
उसे हि जंगल के राजा बुलाता हैं ।

हाँ लाँख तारे भि दुनियाँ को रोशनी देती हैं, 
भिंड में हि सहि अपने आप को पेहचान दिलाता हैं 
लेकिन जिस्के रोशनी लाख तारे को भि भारी पड़ जाता है 
जिस्के चमक लाख तारे को भि झुकनेको मझबुर कर जाता है 
वह भि अकेला चाँद हि होता है ।

हाँ, बुँन्द बुँन्द से सागर बनता है 
लेकिन सच तो यही है कि 
उस जलको सागर बन्ने के लिए भि 
एक बुँन्द जल कि जरूरत होता हैं, 
और जो बुँन्द उस सागरसे बाहर आकर भि 
अपना  तलाब बना लेता हैं 
वही शैलाब लाने कि  संक्षम रखता हैं। 

हाँ, एक प्राणी भि भिंड मे हि सुरक्षित रेहता हैं, 
सफलता पाने के लिए किसी के साथ कि जरूरत होता हैं, 
लेकिन जो अकेला हि आसमान में  उड्ता हैं, 
उसका हि सबसे मजबुत पंख हुआ करते हैं 
और जो अकेला हि संघर्ष करके सफलताको चुम लेता हैं 
उसे  हि अकसर लोक अकेला योद्धा बुलाता हैं ।

अकेला योद्धा

38 Love
798 Views

रोशनी के नाम पर मुहब्बत जला गये

5 Love
664 Views
5 Share

"यह कैसा अंत हीन इंतजार पसरा है काली सड़क सा जिसका कोई ओर ना छोर यह कैसा.. तुमने बहुत ही आवाज है मुझे पर मैंने हमेशा ही अनसुनी की जिस हकीकत से भागा था उसी से बार-बार टकरा कर कर लहूलुहान होता रहता हूं अब यह कैसा.. तुम्हारी आंखें बहुत बोलती - छलकती थी तब क्या अब भी खुशी- गम सुख - दुख में छलकती रहती हैं रहती है भरी -भरी पर ना जाने क्यूँ मेरी आंखों में लगी रहती है अब सावन की झड़ी यह कैसा.. पहले नींद रहित आंखों को तुम्हारे सुंदर सपनों का लालच दे सुला देता था पर ना जाने क्यों अब इनमें कभी रात की गहराई उतर जाती है तो कभी तुम्हारा दर्द ना जाने कैसे हृदय में करता रहता है रोशनी और कराता रहता है सारी रात - रतजगे यह कैसा.. अब इतना तो जान गया हूं रास्तों के बदलने से तकदीर कहां बदला करती हैं थक गया हूं तुम्हारी धरोहर को संभालते - संभालते अब यह वसीयत किसी और को कैसे दे दूं जिस पर लिखा है बस तुम्हारा तुम्हारा ही नाम यह कैसा.. न जाने क्यूँ अब तो अपनी परछाई ही डराने लगी है जिंदगी तो वीरान रही कहीं मौत भी गुमनाम ना हो पूरा होना अभी बाकी है बिछुड़ने से पहले जो हम न मिल पाए आखिरी बार वह रुखसते-उधारी अभी बाकी है आ जाओ बस एक बार लगा लो मुझे गले तुम्हारा -दीदार - ऐ- हसरत- बाकी है अभी बाकी है अभी बाकी है... दीदार- ऐ -हसरत "

यह कैसा अंत हीन इंतजार 
पसरा है काली सड़क सा 
जिसका कोई ओर ना छोर 
यह कैसा.. 
तुमने बहुत ही आवाज है मुझे
पर मैंने हमेशा ही अनसुनी की
जिस हकीकत से भागा था
उसी से बार-बार टकरा कर
कर लहूलुहान होता रहता हूं अब 
यह कैसा.. 
तुम्हारी आंखें बहुत 
बोलती - छलकती थी तब
क्या अब भी खुशी- गम 
सुख - दुख में छलकती रहती हैं
रहती है भरी -भरी
पर ना जाने क्यूँ मेरी आंखों
में लगी रहती है अब सावन की झड़ी
यह कैसा.. 
पहले नींद रहित आंखों को
तुम्हारे सुंदर सपनों का 
लालच दे सुला देता था
पर ना जाने क्यों अब इनमें
कभी रात की गहराई उतर जाती है तो कभी तुम्हारा दर्द 
ना जाने कैसे हृदय में
करता रहता है रोशनी
और कराता रहता है
सारी रात - रतजगे 
यह कैसा.. 
अब इतना तो जान गया हूं
रास्तों के बदलने से 
तकदीर कहां बदला करती हैं
थक गया हूं तुम्हारी धरोहर को 
संभालते - संभालते अब 
यह वसीयत किसी और को 
कैसे दे दूं जिस पर लिखा है 
बस तुम्हारा तुम्हारा ही नाम
यह कैसा.. 
न जाने क्यूँ अब तो अपनी 
परछाई ही डराने लगी है 
जिंदगी तो वीरान रही 
कहीं मौत भी गुमनाम ना हो 
पूरा होना अभी बाकी है 
बिछुड़ने से पहले जो 
हम न मिल पाए आखिरी बार
वह रुखसते-उधारी अभी बाकी है
आ जाओ बस एक बार 
लगा लो मुझे गले 
तुम्हारा -दीदार - ऐ- हसरत- बाकी है 
अभी बाकी है अभी बाकी है... दीदार- ऐ -हसरत

#krishna_flute

23 Love
482 Views
4 Share

"जहां रोशनी का मिलन हो रहा था"

17 Love
921 Views

#ability.
#मेरा यकीन जो किसी का #भरोश बना......
#लगा जेसे कोई कोना जो #उझाले से दूर होकर भी #रोशनी से शना......

82 Love
671 Views

"रोशनी ये बनाई क्यों? "

रोशनी ये बनाई क्यों?

#LockdownStories #nojoto #Poetry #Amj #nasiransh #TalkOnline #ghazal

27 Love
456 Views

"सूरज और किरण कभी अलग नहीं होते है। सूरज की रोशनी कम हो तो किरण भी कम हो जाती है। ये एक रिश्ते का प्रतीक है जो साथ रहता है बिना किसी स्वार्थ के। देखा है मैने..देखा है मैने आज के रिश्तों को रंग बदलते हुए..."

सूरज और किरण कभी अलग नहीं होते है।
सूरज की रोशनी कम हो तो किरण भी कम हो जाती है।
ये एक रिश्ते का प्रतीक है जो साथ रहता है बिना किसी स्वार्थ के।
देखा है मैने..देखा है मैने आज के रिश्तों को रंग बदलते हुए...

सूरज और किरण का साथ...

17 Love
161 Views

अब तो रोशनी से हमें डर लगता है,उसकी जगमगाहट ने तो सब कुछ छीना है

36 Love
274 Views

"😭"

😭

तेरे गाँव क़ि गलियों में बारात क़ि रोशनी है
मेरे घऱ का चिराग़ अपनी रोशनी खो रहा था
@A... sahu 📒🖋️ @Anu Khadka @Pratibha Tiwari(smile)🙂 Dr.Shru

4 Love
141 Views
7 Share

"अगर ज़िन्दगी मेरी कहानी तुम सुनाओगी तो हाँ तुम्हारे हिसाब से अपने हर किरदार में कुछ लापरवाह कुछ अधूरी सी रही हूँ मैं . . . . . . हूँ तो मैं भी जिद्दी वही लिखूंगी वही करूँगी जो मैने सोचा है तो ए जिंदगी लिखो तुम मेरा किरदार पर मैं करूँगी वही जिसकी हु में हक़दार तुम लिखना वो लापरवाह सा मेरा किरदार पर मैं फिर भी करूंगी अपनी ख्वाइशें साकार"

अगर ज़िन्दगी मेरी कहानी तुम सुनाओगी
तो हाँ तुम्हारे हिसाब से अपने हर किरदार में 
कुछ लापरवाह कुछ अधूरी सी रही हूँ मैं
.
.
.
.
.
.
 हूँ तो मैं भी जिद्दी
वही लिखूंगी वही करूँगी जो मैने सोचा है 
तो ए जिंदगी लिखो तुम मेरा किरदार 
पर मैं करूँगी वही जिसकी हु में हक़दार
तुम लिखना वो लापरवाह सा मेरा किरदार 
पर मैं फिर भी करूंगी अपनी ख्वाइशें साकार

अगर ज़िन्दगी मेरी कहानी तुम सुनाओगी
तो हाँ तुम्हारे हिसाब से अपने हर किरदार में
कुछ लापरवाह कुछ अधूरी सी रही हूँ मैं
वही अपनी जिद अपनी शर्तो

12 Love
174 Views

""कहते है सूरज के रोशनी का कोई मुक़ाबला नही होता। रेत के समन्दर का कोई किनारा नही होता। अक्सर, गुम हो जाती है वो हस्तियां, जिन्हे रेत पे चलने का कोई तजूर्बा नही होता।" :-Ron @rutba"

"कहते है सूरज के रोशनी का कोई मुक़ाबला नही होता।  
रेत के समन्दर का कोई किनारा नही होता।  
अक्सर, गुम हो जाती है वो हस्तियां,
जिन्हे रेत पे चलने का कोई तजूर्बा नही होता।"
   
                                           :-Ron
                                              @rutba

#rutba#Present#Album#aisehi#by#RON#

6 Love
106 Views

"जो अगर मैं बताऊ तुझे अभी सच यकीन तुझे आयेगा नही सब्र रख वक़्त को ,वक़्त को कुछ ढल जाने दे ये जो चिरागों की हल्की हल्की रोशनी है इसे कुछ कम हो जाने दे सब्र रख वक़्त तुझे खुद सही गलत बतायेगा सच और झूठ का फर्क भी बतायेगा क्या सही था ओर क्या गलत तुझे खुद-ब-खुद समझ आयेगा"

जो अगर मैं बताऊ तुझे अभी 
सच यकीन तुझे आयेगा नही 
सब्र रख वक़्त को ,वक़्त को 
कुछ ढल जाने दे ये जो चिरागों
की हल्की हल्की रोशनी है इसे
कुछ कम हो जाने दे सब्र रख
वक़्त तुझे खुद सही गलत बतायेगा
सच और झूठ का फर्क भी बतायेगा
क्या सही था ओर क्या गलत तुझे
खुद-ब-खुद समझ आयेगा

सब्र रख ....😊😊
#Bekhayali #nojoto #nojotohindi
#Loneliness #alone #poem #TeriMeriKahaani #Love #Challenge #story #NojotoFilms #OpenPoetry

79 Love
483 Views
12 Share

"पुलवामा 🇮🇳 सिर्फ जिक्र नहीं ऋणी हैं हम कहो भारत! #daminiquote ✍️ 🌠"

पुलवामा
🇮🇳
सिर्फ जिक्र नहीं
ऋणी हैं हम
कहो भारत!




#daminiquote ✍️
🌠

धमनियां हमारी भी फड़कती है
रक्त में प्रवाह तेज हो जाता है
वसंत जब बुलाता है हमें
दुपट्टों का रंग
सुर्ख हो जाता है
हलवे की महक पर मचलता है मन

15 Love
121 Views
2 Share

वो चांद छिप गया कहां, वो चांदनी कहां गई
जो बस रही थी रूह में, वो रोशनी कहां गई

उदास है ये रात और फ़िज़ा भी है उमस भरी
कभी जो मेरे दिल में थ

21 Love
197 Views

जिस नगर की डगर हम खड़े हैं अभी
पार कर जाएंगे यह शहर साथ ही,
काल के काल से जीत जाएंगे हम
फिर से दिनकर नया छीन लाएंगे हम।...

धैर्य धीरज धरो

18 Love
130 Views
2 Share

"ख्वाबों में आते हो रोज़ अँधेरी रातों में होंट भी मुस्कुरा देते हैं बिना तुम्हे देख के कब आओगे तुम अंधेरों से उजालो में ताकि देख सकू चेहरा तुम्हारा अपनी इन निगाहो से जाते जाते अपना नाम तो बताते जाओ जनाब ताकि, सजाऊ हाथों पे मेहंदी अपने, तुम्हारे नाम से"

ख्वाबों में आते हो रोज़ अँधेरी रातों में
होंट भी मुस्कुरा देते हैं बिना तुम्हे देख के
कब आओगे तुम अंधेरों से उजालो में
ताकि देख सकू चेहरा तुम्हारा अपनी इन निगाहो से
जाते जाते अपना नाम तो बताते जाओ जनाब
ताकि, सजाऊ हाथों पे मेहंदी अपने, तुम्हारे नाम से

#merikahaani
#Dreams #NojotoFamily #nojotohindi #Nojoto #nojotoquotes #nojotopoetry #Nojotostories #Nojotovoice #Nojotovideo #nojotomusic #

457 Love
32.8K Views
13 Share

"और जो हुआ पूरा किसी दिन, दाग नजर आ जाएगा.. उधार की रोशनी का सच, साफ नजर आ जाएगा... मैंने उसको पास बिठाया आईना दिखाया, फिर थोड़ा समझाया.. इस सतह की रोशनी की, तू मुझे क्या दुहाई देता है.. उसके तो अंदर है वो नूर, जो बाहर दिखाई देता है... ©drVats वो छत पर लेटे लेटे एक दिन, शाम से जब रात हुई.. चांद दिखा मुझे आसमान में, चांद से मेरी बात हुई.. चांद बोला परेशान सा, कैसे अपने नूर को बरकरार रख पाता है.. मेरा आकार तो हर दिन, घटता बढ़ता जाता है.."

और जो हुआ पूरा किसी दिन, 
दाग नजर आ जाएगा..
उधार की रोशनी का सच,
 साफ नजर आ जाएगा...

मैंने उसको पास बिठाया
आईना दिखाया,
फिर थोड़ा समझाया..

इस सतह की रोशनी की, 
तू मुझे क्या दुहाई देता है.. 
उसके तो अंदर है वो नूर,
जो बाहर दिखाई देता है...
                ©drVats वो छत पर लेटे लेटे एक दिन, 
शाम से जब रात हुई.. 
चांद दिखा मुझे आसमान में,
 चांद से मेरी बात हुई..

चांद बोला परेशान सा,
कैसे अपने नूर को 

 बरकरार रख पाता है..
 मेरा आकार तो हर दिन,
 घटता बढ़ता जाता है..

चांद और वो #RashkeQamar means चाँद की ईर्ष्या..
So this poetry of mine best suited for the title.. Listen it up.. and react to it..
#Nojoto

414 Love
3.6K Views
19 Share

"अलोन रोशनी R. G.... "

अलोन रोशनी  R. G....

## अलोन रोशनी rg...

12 Love
1.0K Views
2 Share

सारी मुझपे पड़ने वाली रोशनी ज़ाया गई !! -कुशल

#themodernpoets #themodernpoets #Hindi #urdu #Shayari #ghazal #ishq #New

45 Love
967 Views

#Life #Poetry #Trending #latest
#Love #Lifeexperiences

जिंदगी में दर्द मिला बहुत था
लोगो का कर्ज मुझ पर बहुत था

दिल का मकान सुना था
घर पर

60 Love
796 Views
1 Share

""अकेला योद्धा" प्रनित कुलुङ राई हाँ, भेडाको झुण्ड में रेहकर भि, एक भेडाको पेहचान मिल जाता हैं। लेकिन जो बिना झुण्ड के भि राज करे उसे हि जंगल के राजा बुलाता हैं । हाँ लाँख तारे भि दुनियाँ को रोशनी देती हैं, भिंड में हि सहि अपने आप को पेहचान दिलाता हैं लेकिन जिस्के रोशनी लाख तारे को भि भारी पड़ जाता है जिस्के चमक लाख तारे को भि झुकनेको मझबुर कर जाता है वह भि अकेला चाँद हि होता है । हाँ, बुँन्द बुँन्द से सागर बनता है लेकिन सच तो यही है कि उस जलको सागर बन्ने के लिए भि एक बुँन्द जल कि जरूरत होता हैं, और जो बुँन्द उस सागरसे बाहर आकर भि अपना तलाब बना लेता हैं वही शैलाब लाने कि संक्षम रखता हैं। हाँ, एक प्राणी भि भिंड मे हि सुरक्षित रेहता हैं, सफलता पाने के लिए किसी के साथ कि जरूरत होता हैं, लेकिन जो अकेला हि आसमान में उड्ता हैं, उसका हि सबसे मजबुत पंख हुआ करते हैं और जो अकेला हि संघर्ष करके सफलताको चुम लेता हैं उसे हि अकसर लोक अकेला योद्धा बुलाता हैं ।"

"अकेला योद्धा"
प्रनित कुलुङ राई 

हाँ, भेडाको झुण्ड में रेहकर भि, 
एक भेडाको पेहचान मिल जाता हैं।
लेकिन जो बिना झुण्ड के भि राज करे 
उसे हि जंगल के राजा बुलाता हैं ।

हाँ लाँख तारे भि दुनियाँ को रोशनी देती हैं, 
भिंड में हि सहि अपने आप को पेहचान दिलाता हैं 
लेकिन जिस्के रोशनी लाख तारे को भि भारी पड़ जाता है 
जिस्के चमक लाख तारे को भि झुकनेको मझबुर कर जाता है 
वह भि अकेला चाँद हि होता है ।

हाँ, बुँन्द बुँन्द से सागर बनता है 
लेकिन सच तो यही है कि 
उस जलको सागर बन्ने के लिए भि 
एक बुँन्द जल कि जरूरत होता हैं, 
और जो बुँन्द उस सागरसे बाहर आकर भि 
अपना  तलाब बना लेता हैं 
वही शैलाब लाने कि  संक्षम रखता हैं। 

हाँ, एक प्राणी भि भिंड मे हि सुरक्षित रेहता हैं, 
सफलता पाने के लिए किसी के साथ कि जरूरत होता हैं, 
लेकिन जो अकेला हि आसमान में  उड्ता हैं, 
उसका हि सबसे मजबुत पंख हुआ करते हैं 
और जो अकेला हि संघर्ष करके सफलताको चुम लेता हैं 
उसे  हि अकसर लोक अकेला योद्धा बुलाता हैं ।

अकेला योद्धा

38 Love
798 Views

रोशनी के नाम पर मुहब्बत जला गये

5 Love
664 Views
5 Share

"यह कैसा अंत हीन इंतजार पसरा है काली सड़क सा जिसका कोई ओर ना छोर यह कैसा.. तुमने बहुत ही आवाज है मुझे पर मैंने हमेशा ही अनसुनी की जिस हकीकत से भागा था उसी से बार-बार टकरा कर कर लहूलुहान होता रहता हूं अब यह कैसा.. तुम्हारी आंखें बहुत बोलती - छलकती थी तब क्या अब भी खुशी- गम सुख - दुख में छलकती रहती हैं रहती है भरी -भरी पर ना जाने क्यूँ मेरी आंखों में लगी रहती है अब सावन की झड़ी यह कैसा.. पहले नींद रहित आंखों को तुम्हारे सुंदर सपनों का लालच दे सुला देता था पर ना जाने क्यों अब इनमें कभी रात की गहराई उतर जाती है तो कभी तुम्हारा दर्द ना जाने कैसे हृदय में करता रहता है रोशनी और कराता रहता है सारी रात - रतजगे यह कैसा.. अब इतना तो जान गया हूं रास्तों के बदलने से तकदीर कहां बदला करती हैं थक गया हूं तुम्हारी धरोहर को संभालते - संभालते अब यह वसीयत किसी और को कैसे दे दूं जिस पर लिखा है बस तुम्हारा तुम्हारा ही नाम यह कैसा.. न जाने क्यूँ अब तो अपनी परछाई ही डराने लगी है जिंदगी तो वीरान रही कहीं मौत भी गुमनाम ना हो पूरा होना अभी बाकी है बिछुड़ने से पहले जो हम न मिल पाए आखिरी बार वह रुखसते-उधारी अभी बाकी है आ जाओ बस एक बार लगा लो मुझे गले तुम्हारा -दीदार - ऐ- हसरत- बाकी है अभी बाकी है अभी बाकी है... दीदार- ऐ -हसरत "

यह कैसा अंत हीन इंतजार 
पसरा है काली सड़क सा 
जिसका कोई ओर ना छोर 
यह कैसा.. 
तुमने बहुत ही आवाज है मुझे
पर मैंने हमेशा ही अनसुनी की
जिस हकीकत से भागा था
उसी से बार-बार टकरा कर
कर लहूलुहान होता रहता हूं अब 
यह कैसा.. 
तुम्हारी आंखें बहुत 
बोलती - छलकती थी तब
क्या अब भी खुशी- गम 
सुख - दुख में छलकती रहती हैं
रहती है भरी -भरी
पर ना जाने क्यूँ मेरी आंखों
में लगी रहती है अब सावन की झड़ी
यह कैसा.. 
पहले नींद रहित आंखों को
तुम्हारे सुंदर सपनों का 
लालच दे सुला देता था
पर ना जाने क्यों अब इनमें
कभी रात की गहराई उतर जाती है तो कभी तुम्हारा दर्द 
ना जाने कैसे हृदय में
करता रहता है रोशनी
और कराता रहता है
सारी रात - रतजगे 
यह कैसा.. 
अब इतना तो जान गया हूं
रास्तों के बदलने से 
तकदीर कहां बदला करती हैं
थक गया हूं तुम्हारी धरोहर को 
संभालते - संभालते अब 
यह वसीयत किसी और को 
कैसे दे दूं जिस पर लिखा है 
बस तुम्हारा तुम्हारा ही नाम
यह कैसा.. 
न जाने क्यूँ अब तो अपनी 
परछाई ही डराने लगी है 
जिंदगी तो वीरान रही 
कहीं मौत भी गुमनाम ना हो 
पूरा होना अभी बाकी है 
बिछुड़ने से पहले जो 
हम न मिल पाए आखिरी बार
वह रुखसते-उधारी अभी बाकी है
आ जाओ बस एक बार 
लगा लो मुझे गले 
तुम्हारा -दीदार - ऐ- हसरत- बाकी है 
अभी बाकी है अभी बाकी है... दीदार- ऐ -हसरत

#krishna_flute

23 Love
482 Views
4 Share

"जहां रोशनी का मिलन हो रहा था"

17 Love
921 Views

#ability.
#मेरा यकीन जो किसी का #भरोश बना......
#लगा जेसे कोई कोना जो #उझाले से दूर होकर भी #रोशनी से शना......

82 Love
671 Views

"रोशनी ये बनाई क्यों? "

रोशनी ये बनाई क्यों?

#LockdownStories #nojoto #Poetry #Amj #nasiransh #TalkOnline #ghazal

27 Love
456 Views

"सूरज और किरण कभी अलग नहीं होते है। सूरज की रोशनी कम हो तो किरण भी कम हो जाती है। ये एक रिश्ते का प्रतीक है जो साथ रहता है बिना किसी स्वार्थ के। देखा है मैने..देखा है मैने आज के रिश्तों को रंग बदलते हुए..."

सूरज और किरण कभी अलग नहीं होते है।
सूरज की रोशनी कम हो तो किरण भी कम हो जाती है।
ये एक रिश्ते का प्रतीक है जो साथ रहता है बिना किसी स्वार्थ के।
देखा है मैने..देखा है मैने आज के रिश्तों को रंग बदलते हुए...

सूरज और किरण का साथ...

17 Love
161 Views

अब तो रोशनी से हमें डर लगता है,उसकी जगमगाहट ने तो सब कुछ छीना है

36 Love
274 Views

"😭"

😭

तेरे गाँव क़ि गलियों में बारात क़ि रोशनी है
मेरे घऱ का चिराग़ अपनी रोशनी खो रहा था
@A... sahu 📒🖋️ @Anu Khadka @Pratibha Tiwari(smile)🙂 Dr.Shru

4 Love
141 Views
7 Share

"अगर ज़िन्दगी मेरी कहानी तुम सुनाओगी तो हाँ तुम्हारे हिसाब से अपने हर किरदार में कुछ लापरवाह कुछ अधूरी सी रही हूँ मैं . . . . . . हूँ तो मैं भी जिद्दी वही लिखूंगी वही करूँगी जो मैने सोचा है तो ए जिंदगी लिखो तुम मेरा किरदार पर मैं करूँगी वही जिसकी हु में हक़दार तुम लिखना वो लापरवाह सा मेरा किरदार पर मैं फिर भी करूंगी अपनी ख्वाइशें साकार"

अगर ज़िन्दगी मेरी कहानी तुम सुनाओगी
तो हाँ तुम्हारे हिसाब से अपने हर किरदार में 
कुछ लापरवाह कुछ अधूरी सी रही हूँ मैं
.
.
.
.
.
.
 हूँ तो मैं भी जिद्दी
वही लिखूंगी वही करूँगी जो मैने सोचा है 
तो ए जिंदगी लिखो तुम मेरा किरदार 
पर मैं करूँगी वही जिसकी हु में हक़दार
तुम लिखना वो लापरवाह सा मेरा किरदार 
पर मैं फिर भी करूंगी अपनी ख्वाइशें साकार

अगर ज़िन्दगी मेरी कहानी तुम सुनाओगी
तो हाँ तुम्हारे हिसाब से अपने हर किरदार में
कुछ लापरवाह कुछ अधूरी सी रही हूँ मैं
वही अपनी जिद अपनी शर्तो

12 Love
174 Views

""कहते है सूरज के रोशनी का कोई मुक़ाबला नही होता। रेत के समन्दर का कोई किनारा नही होता। अक्सर, गुम हो जाती है वो हस्तियां, जिन्हे रेत पे चलने का कोई तजूर्बा नही होता।" :-Ron @rutba"

"कहते है सूरज के रोशनी का कोई मुक़ाबला नही होता।  
रेत के समन्दर का कोई किनारा नही होता।  
अक्सर, गुम हो जाती है वो हस्तियां,
जिन्हे रेत पे चलने का कोई तजूर्बा नही होता।"
   
                                           :-Ron
                                              @rutba

#rutba#Present#Album#aisehi#by#RON#

6 Love
106 Views

"जो अगर मैं बताऊ तुझे अभी सच यकीन तुझे आयेगा नही सब्र रख वक़्त को ,वक़्त को कुछ ढल जाने दे ये जो चिरागों की हल्की हल्की रोशनी है इसे कुछ कम हो जाने दे सब्र रख वक़्त तुझे खुद सही गलत बतायेगा सच और झूठ का फर्क भी बतायेगा क्या सही था ओर क्या गलत तुझे खुद-ब-खुद समझ आयेगा"

जो अगर मैं बताऊ तुझे अभी 
सच यकीन तुझे आयेगा नही 
सब्र रख वक़्त को ,वक़्त को 
कुछ ढल जाने दे ये जो चिरागों
की हल्की हल्की रोशनी है इसे
कुछ कम हो जाने दे सब्र रख
वक़्त तुझे खुद सही गलत बतायेगा
सच और झूठ का फर्क भी बतायेगा
क्या सही था ओर क्या गलत तुझे
खुद-ब-खुद समझ आयेगा

सब्र रख ....😊😊
#Bekhayali #nojoto #nojotohindi
#Loneliness #alone #poem #TeriMeriKahaani #Love #Challenge #story #NojotoFilms #OpenPoetry

79 Love
483 Views
12 Share

"पुलवामा 🇮🇳 सिर्फ जिक्र नहीं ऋणी हैं हम कहो भारत! #daminiquote ✍️ 🌠"

पुलवामा
🇮🇳
सिर्फ जिक्र नहीं
ऋणी हैं हम
कहो भारत!




#daminiquote ✍️
🌠

धमनियां हमारी भी फड़कती है
रक्त में प्रवाह तेज हो जाता है
वसंत जब बुलाता है हमें
दुपट्टों का रंग
सुर्ख हो जाता है
हलवे की महक पर मचलता है मन

15 Love
121 Views
2 Share

वो चांद छिप गया कहां, वो चांदनी कहां गई
जो बस रही थी रूह में, वो रोशनी कहां गई

उदास है ये रात और फ़िज़ा भी है उमस भरी
कभी जो मेरे दिल में थ

21 Love
197 Views

जिस नगर की डगर हम खड़े हैं अभी
पार कर जाएंगे यह शहर साथ ही,
काल के काल से जीत जाएंगे हम
फिर से दिनकर नया छीन लाएंगे हम।...

धैर्य धीरज धरो

18 Love
130 Views
2 Share