tags

New gmail comil Status, Photo, Video

Find the latest Status about gmail comil from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos.

  • Latest
  • Video

""

"तिळगूळ घ्या, गोड गोड बोला ! मकर संक्रांत गोड बोलायचा मुहूर्त समजूया कायम सर्वांशी गोड आणि गोडच बोलूया ! साऱ्यांनी गोड बोलावं हिच असते आपली अपेक्षा मग कटू बोलून दुसऱ्यांना का देतो आपण शिक्षा ? मागून कुठे मिळते, मानसन्मानाची भिक्षा त्यासाठी द्यावी लागते सौजन्याची परीक्षा ! समज,गैरसमज,क्रोध,अहंकार मनात धोका भरून नका करू आयुष्याचा प्रवास असा मन मारून ! आनंदाचा गुणाकार करू आणि दुःखांचा भागाकार नात्यांच्या नाजूक मडक्यांना देऊ छान सुंदर आकार ! गोड बोलण्याचा परिणाम असतो अत्तरासारखा सुगंधित होते जीवन, प्रश्न ही वाटतो उत्तरासारखा ! दवडू नका असा वाया एक एक क्षण मोलाचा ओठांवर हसू,जिभेवर अभंग असू द्या गोड बोलांचा ! - संतोष लक्ष्मण जाधव.©jsantosh. हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? चाहे कोई सोच हो, काम हो, या हो ईन्सान, बड़ी मुश्किल होतीं हैं इन सबकी पहचान दोष किसे दे,जब दिल हि बहक जाता हैं बेईमान ! दिल में लालच आये और जब बिगड जाये जज्बांत रूको, सोचो, देखो परिणाम फिर काम में बढाओ हात, सही वक्त का इंतजार और सही ईन्सान का साथ  बुजूर्गों की सलाह लो और समझलो पहले हर बात ! हर काम करने के हैं होतें अलग अलग रास्तें मन बना लो,आसान नहीं सही चुननें के वास्तें, नुकसान नहीं होगा, चाहे पैसौं का हो, या हो रिश्तें पर शायद जरा देर लगे मंजिल तक पहूँचते पहूँचते ! हर काम में फायदा हो, ये शायद मुमकीन नहीं हर काम में नुकसान हो, इसपर भी यकीन नहीं, तो फिर काम ऐसे करों, जो दिल को लगे सहीं उस काम से आनंद प्राप्त हो, दिल पर बोझ नहीं ! - संतोष लक्ष्मण जाधव ©jsantosh.9890064001.   7santoshjadhav@gmail.com हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? चाहे कोई सोच हो, काम हो, या हो ईन्सान, बड़ी मुश्किल होतीं हैं इन सबकी पहचान दोष किसे दे,जब दिल हि बहक जाता हैं बेईमान ! दिल में लालच आये और जब बिगड जाये जज्बांत रूको, सोचो, देखो परिणाम फिर काम में बढाओ हात, सही वक्त का इंतजार और सही ईन्सान का साथ  बुजूर्गों की सलाह लो और समझलो पहले हर बात ! हर काम करने के हैं होतें अलग अलग रास्तें मन बना लो,आसान नहीं सही चुननें के वास्तें, नुकसान नहीं होगा, चाहे पैसौं का हो, या हो रिश्तें पर शायद जरा देर लगे मंजिल तक पहूँचते पहूँचते ! हर काम में फायदा हो, ये शायद मुमकीन नहीं हर काम में नुकसान हो, इसपर भी यकीन नहीं, तो फिर काम ऐसे करों, जो दिल को लगे सहीं उस काम से आनंद प्राप्त हो, दिल पर बोझ नहीं ! - संतोष लक्ष्मण जाधव ©jsantosh.9890064001.   7santoshjadhav@gmail.com हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? चाहे कोई सोच हो, काम हो, या हो ईन्सान, बड़ी मुश्किल होतीं हैं इन सबकी पहचान दोष किसे दे,जब दिल हि बहक जाता हैं बेईमान ! दिल में लालच आये और जब बिगड जाये जज्बांत रूको, सोचो, देखो परिणाम फिर काम में बढाओ हात, सही वक्त का इंतजार और सही ईन्सान का साथ  बुजूर्गों की सलाह लो और समझलो पहले हर बात ! हर काम करने के हैं होतें अलग अलग रास्तें मन बना लो,आसान नहीं सही चुननें के वास्तें, नुकसान नहीं होगा, चाहे पैसौं का हो, या हो रिश्तें पर शायद जरा देर लगे मंजिल तक पहूँचते पहूँचते ! हर काम में फायदा हो, ये शायद मुमकीन नहीं हर काम में नुकसान हो, इसपर भी यकीन नहीं, तो फिर काम ऐसे करों, जो दिल को लगे सहीं उस काम से आनंद प्राप्त हो, दिल पर बोझ नहीं ! - संतोष लक्ष्मण जाधव ©jsantosh.9890064001.   7santoshjadhav@gmail.com हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? चाहे कोई सोच हो, काम हो, या हो ईन्सान, बड़ी मुश्किल होतीं हैं इन सबकी पहचान दोष किसे दे,जब दिल हि बहक जाता हैं बेईमान ! दिल में लालच आये और जब बिगड जाये जज्बांत रूको, सोचो, देखो परिणाम फिर काम में बढाओ हात, सही वक्त का इंतजार और सही ईन्सान का साथ  बुजूर्गों की सलाह लो और समझलो पहले हर बात ! हर काम करने के हैं होतें अलग अलग रास्तें मन बना लो,आसान नहीं सही चुननें के वास्तें, नुकसान नहीं होगा, चाहे पैसौं का हो, या हो रिश्तें पर शायद जरा देर लगे मंजिल तक पहूँचते पहूँचते ! हर काम में फायदा हो, ये शायद मुमकीन नहीं हर काम में नुकसान हो, इसपर भी यकीन नहीं, तो फिर काम ऐसे करों, जो दिल को लगे सहीं उस काम से आनंद प्राप्त हो, दिल पर बोझ नहीं ! - संतोष लक्ष्मण जाधव ©jsantosh.9890064001.   7santoshjadhav@gmail.com तिळगूळ घ्या, गोड गोड बोला ! मकर संक्रांत गोड बोलायचा मुहूर्त समजूया कायम सर्वांशी गोड आणि गोडच बोलूया ! साऱ्यांनी गोड बोलावं हिच असते आपली अपेक्षा मग कटू बोलून दुसऱ्यांना का देतो आपण शिक्षा ? मागून कुठे मिळते, मानसन्मानाची भिक्षा त्यासाठी द्यावी लागते सौजन्याची परीक्षा ! समज,गैरसमज,क्रोध,अहंकार मनात धोका भरून नका करू आयुष्याचा प्रवास असा मन मारून ! आनंदाचा गुणाकार करू आणि दुःखांचा भागाकार नात्यांच्या नाजूक मडक्यांना देऊ छान सुंदर आकार ! गोड बोलण्याचा परिणाम असतो अत्तरासारखा सुगंधित होते जीवन, प्रश्न ही वाटतो उत्तरासारखा ! दवडू नका असा वाया एक एक क्षण मोलाचा ओठांवर हसू,जिभेवर अभंग असू द्या गोड बोलांचा ! - संतोष लक्ष्मण जाधव.©jsantosh. हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? चाहे कोई सोच हो, काम हो, या हो ईन्सान, बड़ी मुश्किल होतीं हैं इन सबकी पहचान दोष किसे दे,जब दिल हि बहक जाता हैं बेईमान ! दिल में लालच आये और जब बिगड जाये जज्बांत रूको, सोचो, देखो परिणाम फिर काम में बढाओ हात, सही वक्त का इंतजार और सही ईन्सान का साथ  बुजूर्गों की सलाह लो और समझलो पहले हर बात ! हर काम करने के हैं होतें अलग अलग रास्तें मन बना लो,आसान नहीं सही चुननें के वास्तें, नुकसान नहीं होगा, चाहे पैसौं का हो, या हो रिश्तें पर शायद जरा देर लगे मंजिल तक पहूँचते पहूँचते ! हर काम में फायदा हो, ये शायद मुमकीन नहीं हर काम में नुकसान हो, इसपर भी यकीन नहीं, तो फिर काम ऐसे करों, जो दिल को लगे सहीं उस काम से आनंद प्राप्त हो, दिल पर बोझ नहीं ! - संतोष लक्ष्मण जाधव ©jsantosh.9890064001.   7santoshjadhav@gmail.com हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? चाहे कोई सोच हो, काम हो, या हो ईन्सान, बड़ी मुश्किल होतीं हैं इन सबकी पहचान दोष किसे दे,जब दिल हि बहक जाता हैं बेईमान ! दिल में लालच आये और जब बिगड जाये जज्बांत रूको, सोचो, देखो परिणाम फिर काम में बढाओ हात, सही वक्त का इंतजार और सही ईन्सान का साथ  बुजूर्गों की सलाह लो और समझलो पहले हर बात ! हर काम करने के हैं होतें अलग अलग रास्तें मन बना लो,आसान नहीं सही चुननें के वास्तें, नुकसान नहीं होगा, चाहे पैसौं का हो, या हो रिश्तें पर शायद जरा देर लगे मंजिल तक पहूँचते पहूँचते ! हर काम में फायदा हो, ये शायद मुमकीन नहीं हर काम में नुकसान हो, इसपर भी यकीन नहीं, तो फिर काम ऐसे करों, जो दिल को लगे सहीं उस काम से आनंद प्राप्त हो, दिल पर बोझ नहीं ! - संतोष लक्ष्मण जाधव ©jsantosh.9890064001.   7santoshjadhav@gmail.com हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? चाहे कोई सोच हो, काम हो, या हो ईन्सान, बड़ी मुश्किल होतीं हैं इन सबकी पहचान दोष किसे दे,जब दिल हि बहक जाता हैं बेईमान ! दिल में लालच आये और जब बिगड जाये जज्बांत रूको, सोचो, देखो परिणाम फिर काम में बढाओ हात, सही वक्त का इंतजार और सही ईन्सान का साथ  बुजूर्गों की सलाह लो और समझलो पहले हर बात ! हर काम करने के हैं होतें अलग अलग रास्तें मन बना लो,आसान नहीं सही चुननें के वास्तें, नुकसान नहीं होगा, चाहे पैसौं का हो, या हो रिश्तें पर शायद जरा देर लगे मंजिल तक पहूँचते पहूँचते ! हर काम में फायदा हो, ये शायद मुमकीन नहीं हर काम में नुकसान हो, इसपर भी यकीन नहीं, तो फिर काम ऐसे करों, जो दिल को लगे सहीं उस काम से आनंद प्राप्त हो, दिल पर बोझ नहीं ! - संतोष लक्ष्मण जाधव ©jsantosh.9890064001.   7santoshjadhav@gmail.com हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? चाहे कोई सोच हो, काम हो, या हो ईन्सान, बड़ी मुश्किल होतीं हैं इन सबकी पहचान दोष किसे दे,जब दिल हि बहक जाता हैं बेईमान ! दिल में लालच आये और जब बिगड जाये जज्बांत रूको, सोचो, देखो परिणाम फिर काम में बढाओ हात, सही वक्त का इंतजार और सही ईन्सान का साथ  बुजूर्गों की सलाह लो और समझलो पहले हर बात ! हर काम करने के हैं होतें अलग अलग रास्तें मन बना लो,आसान नहीं सही चुननें के वास्तें, नुकसान नहीं होगा, चाहे पैसौं का हो, या हो रिश्तें पर शायद जरा देर लगे मंजिल तक पहूँचते पहूँचते ! हर काम में फायदा हो, ये शायद मुमकीन नहीं हर काम में नुकसान हो, इसपर भी यकीन नहीं, तो फिर काम ऐसे करों, जो दिल को लगे सहीं उस काम से आनंद प्राप्त हो, दिल पर बोझ नहीं ! - संतोष लक्ष्मण जाधव ©jsantosh.9890064001.   7santoshjadhav@gmail.com"

तिळगूळ घ्या, गोड गोड बोला ! 

मकर संक्रांत गोड बोलायचा मुहूर्त समजूया
कायम सर्वांशी गोड आणि गोडच बोलूया ! 

साऱ्यांनी गोड बोलावं हिच असते आपली अपेक्षा
मग कटू बोलून दुसऱ्यांना का देतो आपण शिक्षा ?

मागून कुठे मिळते, मानसन्मानाची भिक्षा
त्यासाठी द्यावी लागते सौजन्याची परीक्षा ! 

समज,गैरसमज,क्रोध,अहंकार मनात धोका भरून
नका करू आयुष्याचा प्रवास असा मन मारून ! 

आनंदाचा गुणाकार करू आणि दुःखांचा भागाकार 
नात्यांच्या नाजूक मडक्यांना देऊ छान सुंदर आकार ! 

गोड बोलण्याचा परिणाम असतो अत्तरासारखा
सुगंधित होते जीवन, प्रश्न ही वाटतो उत्तरासारखा ! 

दवडू नका असा वाया एक एक क्षण मोलाचा 
ओठांवर हसू,जिभेवर अभंग असू द्या गोड बोलांचा ! 

- संतोष लक्ष्मण जाधव.©jsantosh. 



हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? 

हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ?
चाहे कोई सोच हो, काम हो, या हो ईन्सान, 
बड़ी मुश्किल होतीं हैं इन सबकी पहचान
दोष किसे दे,जब दिल हि बहक जाता हैं बेईमान ! 

दिल में लालच आये और जब बिगड जाये जज्बांत 
रूको, सोचो, देखो परिणाम फिर काम में बढाओ हात, 
सही वक्त का इंतजार और सही ईन्सान का साथ  
बुजूर्गों की सलाह लो और समझलो पहले हर बात ! 

हर काम करने के हैं होतें अलग अलग रास्तें 
मन बना लो,आसान नहीं सही चुननें के वास्तें, 
नुकसान नहीं होगा, चाहे पैसौं का हो, या हो रिश्तें
पर शायद जरा देर लगे मंजिल तक पहूँचते पहूँचते !

हर काम में फायदा हो, ये शायद मुमकीन नहीं 
हर काम में नुकसान हो, इसपर भी यकीन नहीं, 
तो फिर काम ऐसे करों, जो दिल को लगे सहीं
उस काम से आनंद प्राप्त हो, दिल पर बोझ नहीं ! 
- संतोष लक्ष्मण जाधव ©jsantosh.9890064001.
  7santoshjadhav@gmail.com 








हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? 

हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ?
चाहे कोई सोच हो, काम हो, या हो ईन्सान, 
बड़ी मुश्किल होतीं हैं इन सबकी पहचान
दोष किसे दे,जब दिल हि बहक जाता हैं बेईमान ! 

दिल में लालच आये और जब बिगड जाये जज्बांत 
रूको, सोचो, देखो परिणाम फिर काम में बढाओ हात, 
सही वक्त का इंतजार और सही ईन्सान का साथ  
बुजूर्गों की सलाह लो और समझलो पहले हर बात ! 

हर काम करने के हैं होतें अलग अलग रास्तें 
मन बना लो,आसान नहीं सही चुननें के वास्तें, 
नुकसान नहीं होगा, चाहे पैसौं का हो, या हो रिश्तें
पर शायद जरा देर लगे मंजिल तक पहूँचते पहूँचते !

हर काम में फायदा हो, ये शायद मुमकीन नहीं 
हर काम में नुकसान हो, इसपर भी यकीन नहीं, 
तो फिर काम ऐसे करों, जो दिल को लगे सहीं
उस काम से आनंद प्राप्त हो, दिल पर बोझ नहीं ! 
- संतोष लक्ष्मण जाधव ©jsantosh.9890064001.
  7santoshjadhav@gmail.com 













हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? 

हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ?
चाहे कोई सोच हो, काम हो, या हो ईन्सान, 
बड़ी मुश्किल होतीं हैं इन सबकी पहचान
दोष किसे दे,जब दिल हि बहक जाता हैं बेईमान ! 

दिल में लालच आये और जब बिगड जाये जज्बांत 
रूको, सोचो, देखो परिणाम फिर काम में बढाओ हात, 
सही वक्त का इंतजार और सही ईन्सान का साथ  
बुजूर्गों की सलाह लो और समझलो पहले हर बात ! 

हर काम करने के हैं होतें अलग अलग रास्तें 
मन बना लो,आसान नहीं सही चुननें के वास्तें, 
नुकसान नहीं होगा, चाहे पैसौं का हो, या हो रिश्तें
पर शायद जरा देर लगे मंजिल तक पहूँचते पहूँचते !

हर काम में फायदा हो, ये शायद मुमकीन नहीं 
हर काम में नुकसान हो, इसपर भी यकीन नहीं, 
तो फिर काम ऐसे करों, जो दिल को लगे सहीं
उस काम से आनंद प्राप्त हो, दिल पर बोझ नहीं ! 
- संतोष लक्ष्मण जाधव ©jsantosh.9890064001.
  7santoshjadhav@gmail.com 








हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? 

हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ?
चाहे कोई सोच हो, काम हो, या हो ईन्सान, 
बड़ी मुश्किल होतीं हैं इन सबकी पहचान
दोष किसे दे,जब दिल हि बहक जाता हैं बेईमान ! 

दिल में लालच आये और जब बिगड जाये जज्बांत 
रूको, सोचो, देखो परिणाम फिर काम में बढाओ हात, 
सही वक्त का इंतजार और सही ईन्सान का साथ  
बुजूर्गों की सलाह लो और समझलो पहले हर बात ! 

हर काम करने के हैं होतें अलग अलग रास्तें 
मन बना लो,आसान नहीं सही चुननें के वास्तें, 
नुकसान नहीं होगा, चाहे पैसौं का हो, या हो रिश्तें
पर शायद जरा देर लगे मंजिल तक पहूँचते पहूँचते !

हर काम में फायदा हो, ये शायद मुमकीन नहीं 
हर काम में नुकसान हो, इसपर भी यकीन नहीं, 
तो फिर काम ऐसे करों, जो दिल को लगे सहीं
उस काम से आनंद प्राप्त हो, दिल पर बोझ नहीं ! 
- संतोष लक्ष्मण जाधव ©jsantosh.9890064001.
  7santoshjadhav@gmail.com 






















    तिळगूळ घ्या, गोड गोड बोला ! 

मकर संक्रांत गोड बोलायचा मुहूर्त समजूया
कायम सर्वांशी गोड आणि गोडच बोलूया ! 

साऱ्यांनी गोड बोलावं हिच असते आपली अपेक्षा
मग कटू बोलून दुसऱ्यांना का देतो आपण शिक्षा ?

मागून कुठे मिळते, मानसन्मानाची भिक्षा
त्यासाठी द्यावी लागते सौजन्याची परीक्षा ! 

समज,गैरसमज,क्रोध,अहंकार मनात धोका भरून
नका करू आयुष्याचा प्रवास असा मन मारून ! 

आनंदाचा गुणाकार करू आणि दुःखांचा भागाकार 
नात्यांच्या नाजूक मडक्यांना देऊ छान सुंदर आकार ! 

गोड बोलण्याचा परिणाम असतो अत्तरासारखा
सुगंधित होते जीवन, प्रश्न ही वाटतो उत्तरासारखा ! 

दवडू नका असा वाया एक एक क्षण मोलाचा 
ओठांवर हसू,जिभेवर अभंग असू द्या गोड बोलांचा ! 

- संतोष लक्ष्मण जाधव.©jsantosh. 



हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? 

हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ?
चाहे कोई सोच हो, काम हो, या हो ईन्सान, 
बड़ी मुश्किल होतीं हैं इन सबकी पहचान
दोष किसे दे,जब दिल हि बहक जाता हैं बेईमान ! 

दिल में लालच आये और जब बिगड जाये जज्बांत 
रूको, सोचो, देखो परिणाम फिर काम में बढाओ हात, 
सही वक्त का इंतजार और सही ईन्सान का साथ  
बुजूर्गों की सलाह लो और समझलो पहले हर बात ! 

हर काम करने के हैं होतें अलग अलग रास्तें 
मन बना लो,आसान नहीं सही चुननें के वास्तें, 
नुकसान नहीं होगा, चाहे पैसौं का हो, या हो रिश्तें
पर शायद जरा देर लगे मंजिल तक पहूँचते पहूँचते !

हर काम में फायदा हो, ये शायद मुमकीन नहीं 
हर काम में नुकसान हो, इसपर भी यकीन नहीं, 
तो फिर काम ऐसे करों, जो दिल को लगे सहीं
उस काम से आनंद प्राप्त हो, दिल पर बोझ नहीं ! 
- संतोष लक्ष्मण जाधव ©jsantosh.9890064001.
  7santoshjadhav@gmail.com 








हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? 

हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ?
चाहे कोई सोच हो, काम हो, या हो ईन्सान, 
बड़ी मुश्किल होतीं हैं इन सबकी पहचान
दोष किसे दे,जब दिल हि बहक जाता हैं बेईमान ! 

दिल में लालच आये और जब बिगड जाये जज्बांत 
रूको, सोचो, देखो परिणाम फिर काम में बढाओ हात, 
सही वक्त का इंतजार और सही ईन्सान का साथ  
बुजूर्गों की सलाह लो और समझलो पहले हर बात ! 

हर काम करने के हैं होतें अलग अलग रास्तें 
मन बना लो,आसान नहीं सही चुननें के वास्तें, 
नुकसान नहीं होगा, चाहे पैसौं का हो, या हो रिश्तें
पर शायद जरा देर लगे मंजिल तक पहूँचते पहूँचते !

हर काम में फायदा हो, ये शायद मुमकीन नहीं 
हर काम में नुकसान हो, इसपर भी यकीन नहीं, 
तो फिर काम ऐसे करों, जो दिल को लगे सहीं
उस काम से आनंद प्राप्त हो, दिल पर बोझ नहीं ! 
- संतोष लक्ष्मण जाधव ©jsantosh.9890064001.
  7santoshjadhav@gmail.com 













हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? 

हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ?
चाहे कोई सोच हो, काम हो, या हो ईन्सान, 
बड़ी मुश्किल होतीं हैं इन सबकी पहचान
दोष किसे दे,जब दिल हि बहक जाता हैं बेईमान ! 

दिल में लालच आये और जब बिगड जाये जज्बांत 
रूको, सोचो, देखो परिणाम फिर काम में बढाओ हात, 
सही वक्त का इंतजार और सही ईन्सान का साथ  
बुजूर्गों की सलाह लो और समझलो पहले हर बात ! 

हर काम करने के हैं होतें अलग अलग रास्तें 
मन बना लो,आसान नहीं सही चुननें के वास्तें, 
नुकसान नहीं होगा, चाहे पैसौं का हो, या हो रिश्तें
पर शायद जरा देर लगे मंजिल तक पहूँचते पहूँचते !

हर काम में फायदा हो, ये शायद मुमकीन नहीं 
हर काम में नुकसान हो, इसपर भी यकीन नहीं, 
तो फिर काम ऐसे करों, जो दिल को लगे सहीं
उस काम से आनंद प्राप्त हो, दिल पर बोझ नहीं ! 
- संतोष लक्ष्मण जाधव ©jsantosh.9890064001.
  7santoshjadhav@gmail.com 








हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? 

हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ?
चाहे कोई सोच हो, काम हो, या हो ईन्सान, 
बड़ी मुश्किल होतीं हैं इन सबकी पहचान
दोष किसे दे,जब दिल हि बहक जाता हैं बेईमान ! 

दिल में लालच आये और जब बिगड जाये जज्बांत 
रूको, सोचो, देखो परिणाम फिर काम में बढाओ हात, 
सही वक्त का इंतजार और सही ईन्सान का साथ  
बुजूर्गों की सलाह लो और समझलो पहले हर बात ! 

हर काम करने के हैं होतें अलग अलग रास्तें 
मन बना लो,आसान नहीं सही चुननें के वास्तें, 
नुकसान नहीं होगा, चाहे पैसौं का हो, या हो रिश्तें
पर शायद जरा देर लगे मंजिल तक पहूँचते पहूँचते !

हर काम में फायदा हो, ये शायद मुमकीन नहीं 
हर काम में नुकसान हो, इसपर भी यकीन नहीं, 
तो फिर काम ऐसे करों, जो दिल को लगे सहीं
उस काम से आनंद प्राप्त हो, दिल पर बोझ नहीं ! 
- संतोष लक्ष्मण जाधव ©jsantosh.9890064001.
  7santoshjadhav@gmail.com

#हर गलत पहले सहीं क्यों लगता हैं भगवान? @सूर्यकांत राठौर @Sunil Kumar Upadhyay @Sewli Karmakar @Divya Joshi

0 Love

""

"*4-URGENT REQUIREMENT REPUTED EXPORT GARMENTS COMPANY IN DELHI - NOIDA* 👉 *KNITS ASST MERCHANDISE/ SAMPLING-CORDINATOR(T-shirt)* Salary:- 25,000 to 30,000 pm *LOCATION:- NOIDA.* *Email:- jobsnoida7@gmail.com* 👉 *ASST MERCHANDISE(WOVEN High fashion Garments)* Salary:- 25,000 to 30,000 pm *LOCATION:- NOIDA.* *jobsnoida7@gmail.com* 👉 *ACCOUNTS EXECUTIVE* Salary:- 20,000 to 30,000 pm *LOCATION:- NOIDA.* *jobsnoida7@gmail.com* 👉 *ACCOUNTS ASST.* Salary:- 15,000 to 20,000 pm *LOCATION:- NOIDA* *jobsnoida7@gmail.com* *REGARDS* *Ajeet Singh -7303127089* jobsnoida7@gmail.com"

*4-URGENT REQUIREMENT REPUTED EXPORT GARMENTS COMPANY IN DELHI - NOIDA*


👉 *KNITS ASST MERCHANDISE/ SAMPLING-CORDINATOR(T-shirt)*
Salary:- 25,000 to 30,000 pm
*LOCATION:- NOIDA.*
 *Email:- jobsnoida7@gmail.com* 


👉 *ASST MERCHANDISE(WOVEN High fashion Garments)*
Salary:- 25,000 to 30,000 pm
*LOCATION:-  NOIDA.*
*jobsnoida7@gmail.com*


👉 *ACCOUNTS EXECUTIVE*
Salary:- 20,000 to 30,000 pm
*LOCATION:- NOIDA.*
*jobsnoida7@gmail.com*


👉 *ACCOUNTS ASST.*
Salary:- 15,000 to 20,000 pm
*LOCATION:- NOIDA*
*jobsnoida7@gmail.com*

*REGARDS*
*Ajeet Singh -7303127089*
jobsnoida7@gmail.com

#Job #noida #garments

#shore

7 Love
1 Share

""

"ARABIAN PENINSULA CLIMATE TIME SCALE is proposed&designed by me to study the Arabian peninsula climate and it's weather problems and natural calamities.Find out in all websites by searching it's aforesaid name or can get by sending your email to irlapatigangadhar255@gmail.com. Scientists who make this scale have trouble in making it, Kindly take my assistance in making this scale. Email I'd to contact me is gangadhar19582058@gmail.com.I will create a model time scale and send the same to your study. For this, you must send the list of events of climate just like dust storms, monsoon low pressure systems etc. last 140 years since 1880 formed over the Arabian Peninsula.In addition to this, a certain amount should be sent for expenses."

ARABIAN PENINSULA CLIMATE TIME SCALE is proposed&designed by me to study the Arabian peninsula climate and it's weather problems and natural calamities.Find out in all websites by searching it's aforesaid name or can get by sending your email to irlapatigangadhar255@gmail.com. Scientists who make this scale have trouble in making it, Kindly take my assistance in making this scale. Email I'd to contact me is gangadhar19582058@gmail.com.I will create a model time scale and send the same to your study. For this, you must send the list of events of climate just  like dust storms, monsoon low pressure systems etc. last 140 years since 1880 formed over the Arabian Peninsula.In addition to this, a certain amount should be sent for expenses.

ARABIAN PENINSULA CLIMATE TIME SCALE is proposed&designed by me to study the Arabian peninsula climate and it's weather problems and natural calamities.Find out in all websites by searching it's aforesaid name or can get by sending your email to irlapatigangadhar255@gmail.com. Scientists who make this scale have trouble in making it, Kindly take my assistance in making this scale. Email I'd to contact me is gangadhar19582058@gmail.com.I will create a model time scale and send the same to your st

7 Love

" mominmarwat01@gmail.com momin7063@gmail.com the registered y t"


mominmarwat01@gmail.com momin7063@gmail.com the registered y t

mominmarwat01@gmail.com

7 Love
24 Views

""

"Poetry Stage"

Poetry Stage

कृपया कैप्शन ध्यान से पढ़िए........👇


प्रिय लेखकों/कवियों/शायरों, 👉हार्दिक स्वागत है आपका हमारी Poetry and Shayari Youtube Video Competition -04 में
👉 आपको इस प्रतियोगिता के लिए अपनी लिखी कोई भी खूबसूरत रचना की वीडियो बनाकर हमें हमारे Email address पर भेजनी होगी। ध्यान दीजिएगा रचना आपकी ही लिखी हुई होनी चाहिए।

हमारा ईमेल 👉Email address - poetrystage786@gmail.com

9 Love

""

"तिळगूळ घ्या, गोड गोड बोला ! मकर संक्रांत गोड बोलायचा मुहूर्त समजूया कायम सर्वांशी गोड आणि गोडच बोलूया ! साऱ्यांनी गोड बोलावं हिच असते आपली अपेक्षा मग कटू बोलून दुसऱ्यांना का देतो आपण शिक्षा ? मागून कुठे मिळते, मानसन्मानाची भिक्षा त्यासाठी द्यावी लागते सौजन्याची परीक्षा ! समज,गैरसमज,क्रोध,अहंकार मनात धोका भरून नका करू आयुष्याचा प्रवास असा मन मारून ! आनंदाचा गुणाकार करू आणि दुःखांचा भागाकार नात्यांच्या नाजूक मडक्यांना देऊ छान सुंदर आकार ! गोड बोलण्याचा परिणाम असतो अत्तरासारखा सुगंधित होते जीवन, प्रश्न ही वाटतो उत्तरासारखा ! दवडू नका असा वाया एक एक क्षण मोलाचा ओठांवर हसू,जिभेवर अभंग असू द्या गोड बोलांचा ! - संतोष लक्ष्मण जाधव.©jsantosh. हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? चाहे कोई सोच हो, काम हो, या हो ईन्सान, बड़ी मुश्किल होतीं हैं इन सबकी पहचान दोष किसे दे,जब दिल हि बहक जाता हैं बेईमान ! दिल में लालच आये और जब बिगड जाये जज्बांत रूको, सोचो, देखो परिणाम फिर काम में बढाओ हात, सही वक्त का इंतजार और सही ईन्सान का साथ  बुजूर्गों की सलाह लो और समझलो पहले हर बात ! हर काम करने के हैं होतें अलग अलग रास्तें मन बना लो,आसान नहीं सही चुननें के वास्तें, नुकसान नहीं होगा, चाहे पैसौं का हो, या हो रिश्तें पर शायद जरा देर लगे मंजिल तक पहूँचते पहूँचते ! हर काम में फायदा हो, ये शायद मुमकीन नहीं हर काम में नुकसान हो, इसपर भी यकीन नहीं, तो फिर काम ऐसे करों, जो दिल को लगे सहीं उस काम से आनंद प्राप्त हो, दिल पर बोझ नहीं ! - संतोष लक्ष्मण जाधव ©jsantosh.9890064001.   7santoshjadhav@gmail.com हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? चाहे कोई सोच हो, काम हो, या हो ईन्सान, बड़ी मुश्किल होतीं हैं इन सबकी पहचान दोष किसे दे,जब दिल हि बहक जाता हैं बेईमान ! दिल में लालच आये और जब बिगड जाये जज्बांत रूको, सोचो, देखो परिणाम फिर काम में बढाओ हात, सही वक्त का इंतजार और सही ईन्सान का साथ  बुजूर्गों की सलाह लो और समझलो पहले हर बात ! हर काम करने के हैं होतें अलग अलग रास्तें मन बना लो,आसान नहीं सही चुननें के वास्तें, नुकसान नहीं होगा, चाहे पैसौं का हो, या हो रिश्तें पर शायद जरा देर लगे मंजिल तक पहूँचते पहूँचते ! हर काम में फायदा हो, ये शायद मुमकीन नहीं हर काम में नुकसान हो, इसपर भी यकीन नहीं, तो फिर काम ऐसे करों, जो दिल को लगे सहीं उस काम से आनंद प्राप्त हो, दिल पर बोझ नहीं ! - संतोष लक्ष्मण जाधव ©jsantosh.9890064001.   7santoshjadhav@gmail.com हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? चाहे कोई सोच हो, काम हो, या हो ईन्सान, बड़ी मुश्किल होतीं हैं इन सबकी पहचान दोष किसे दे,जब दिल हि बहक जाता हैं बेईमान ! दिल में लालच आये और जब बिगड जाये जज्बांत रूको, सोचो, देखो परिणाम फिर काम में बढाओ हात, सही वक्त का इंतजार और सही ईन्सान का साथ  बुजूर्गों की सलाह लो और समझलो पहले हर बात ! हर काम करने के हैं होतें अलग अलग रास्तें मन बना लो,आसान नहीं सही चुननें के वास्तें, नुकसान नहीं होगा, चाहे पैसौं का हो, या हो रिश्तें पर शायद जरा देर लगे मंजिल तक पहूँचते पहूँचते ! हर काम में फायदा हो, ये शायद मुमकीन नहीं हर काम में नुकसान हो, इसपर भी यकीन नहीं, तो फिर काम ऐसे करों, जो दिल को लगे सहीं उस काम से आनंद प्राप्त हो, दिल पर बोझ नहीं ! - संतोष लक्ष्मण जाधव ©jsantosh.9890064001.   7santoshjadhav@gmail.com हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? चाहे कोई सोच हो, काम हो, या हो ईन्सान, बड़ी मुश्किल होतीं हैं इन सबकी पहचान दोष किसे दे,जब दिल हि बहक जाता हैं बेईमान ! दिल में लालच आये और जब बिगड जाये जज्बांत रूको, सोचो, देखो परिणाम फिर काम में बढाओ हात, सही वक्त का इंतजार और सही ईन्सान का साथ  बुजूर्गों की सलाह लो और समझलो पहले हर बात ! हर काम करने के हैं होतें अलग अलग रास्तें मन बना लो,आसान नहीं सही चुननें के वास्तें, नुकसान नहीं होगा, चाहे पैसौं का हो, या हो रिश्तें पर शायद जरा देर लगे मंजिल तक पहूँचते पहूँचते ! हर काम में फायदा हो, ये शायद मुमकीन नहीं हर काम में नुकसान हो, इसपर भी यकीन नहीं, तो फिर काम ऐसे करों, जो दिल को लगे सहीं उस काम से आनंद प्राप्त हो, दिल पर बोझ नहीं ! - संतोष लक्ष्मण जाधव ©jsantosh.9890064001.   7santoshjadhav@gmail.com तिळगूळ घ्या, गोड गोड बोला ! मकर संक्रांत गोड बोलायचा मुहूर्त समजूया कायम सर्वांशी गोड आणि गोडच बोलूया ! साऱ्यांनी गोड बोलावं हिच असते आपली अपेक्षा मग कटू बोलून दुसऱ्यांना का देतो आपण शिक्षा ? मागून कुठे मिळते, मानसन्मानाची भिक्षा त्यासाठी द्यावी लागते सौजन्याची परीक्षा ! समज,गैरसमज,क्रोध,अहंकार मनात धोका भरून नका करू आयुष्याचा प्रवास असा मन मारून ! आनंदाचा गुणाकार करू आणि दुःखांचा भागाकार नात्यांच्या नाजूक मडक्यांना देऊ छान सुंदर आकार ! गोड बोलण्याचा परिणाम असतो अत्तरासारखा सुगंधित होते जीवन, प्रश्न ही वाटतो उत्तरासारखा ! दवडू नका असा वाया एक एक क्षण मोलाचा ओठांवर हसू,जिभेवर अभंग असू द्या गोड बोलांचा ! - संतोष लक्ष्मण जाधव.©jsantosh. हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? चाहे कोई सोच हो, काम हो, या हो ईन्सान, बड़ी मुश्किल होतीं हैं इन सबकी पहचान दोष किसे दे,जब दिल हि बहक जाता हैं बेईमान ! दिल में लालच आये और जब बिगड जाये जज्बांत रूको, सोचो, देखो परिणाम फिर काम में बढाओ हात, सही वक्त का इंतजार और सही ईन्सान का साथ  बुजूर्गों की सलाह लो और समझलो पहले हर बात ! हर काम करने के हैं होतें अलग अलग रास्तें मन बना लो,आसान नहीं सही चुननें के वास्तें, नुकसान नहीं होगा, चाहे पैसौं का हो, या हो रिश्तें पर शायद जरा देर लगे मंजिल तक पहूँचते पहूँचते ! हर काम में फायदा हो, ये शायद मुमकीन नहीं हर काम में नुकसान हो, इसपर भी यकीन नहीं, तो फिर काम ऐसे करों, जो दिल को लगे सहीं उस काम से आनंद प्राप्त हो, दिल पर बोझ नहीं ! - संतोष लक्ष्मण जाधव ©jsantosh.9890064001.   7santoshjadhav@gmail.com हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? चाहे कोई सोच हो, काम हो, या हो ईन्सान, बड़ी मुश्किल होतीं हैं इन सबकी पहचान दोष किसे दे,जब दिल हि बहक जाता हैं बेईमान ! दिल में लालच आये और जब बिगड जाये जज्बांत रूको, सोचो, देखो परिणाम फिर काम में बढाओ हात, सही वक्त का इंतजार और सही ईन्सान का साथ  बुजूर्गों की सलाह लो और समझलो पहले हर बात ! हर काम करने के हैं होतें अलग अलग रास्तें मन बना लो,आसान नहीं सही चुननें के वास्तें, नुकसान नहीं होगा, चाहे पैसौं का हो, या हो रिश्तें पर शायद जरा देर लगे मंजिल तक पहूँचते पहूँचते ! हर काम में फायदा हो, ये शायद मुमकीन नहीं हर काम में नुकसान हो, इसपर भी यकीन नहीं, तो फिर काम ऐसे करों, जो दिल को लगे सहीं उस काम से आनंद प्राप्त हो, दिल पर बोझ नहीं ! - संतोष लक्ष्मण जाधव ©jsantosh.9890064001.   7santoshjadhav@gmail.com हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? चाहे कोई सोच हो, काम हो, या हो ईन्सान, बड़ी मुश्किल होतीं हैं इन सबकी पहचान दोष किसे दे,जब दिल हि बहक जाता हैं बेईमान ! दिल में लालच आये और जब बिगड जाये जज्बांत रूको, सोचो, देखो परिणाम फिर काम में बढाओ हात, सही वक्त का इंतजार और सही ईन्सान का साथ  बुजूर्गों की सलाह लो और समझलो पहले हर बात ! हर काम करने के हैं होतें अलग अलग रास्तें मन बना लो,आसान नहीं सही चुननें के वास्तें, नुकसान नहीं होगा, चाहे पैसौं का हो, या हो रिश्तें पर शायद जरा देर लगे मंजिल तक पहूँचते पहूँचते ! हर काम में फायदा हो, ये शायद मुमकीन नहीं हर काम में नुकसान हो, इसपर भी यकीन नहीं, तो फिर काम ऐसे करों, जो दिल को लगे सहीं उस काम से आनंद प्राप्त हो, दिल पर बोझ नहीं ! - संतोष लक्ष्मण जाधव ©jsantosh.9890064001.   7santoshjadhav@gmail.com हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? चाहे कोई सोच हो, काम हो, या हो ईन्सान, बड़ी मुश्किल होतीं हैं इन सबकी पहचान दोष किसे दे,जब दिल हि बहक जाता हैं बेईमान ! दिल में लालच आये और जब बिगड जाये जज्बांत रूको, सोचो, देखो परिणाम फिर काम में बढाओ हात, सही वक्त का इंतजार और सही ईन्सान का साथ  बुजूर्गों की सलाह लो और समझलो पहले हर बात ! हर काम करने के हैं होतें अलग अलग रास्तें मन बना लो,आसान नहीं सही चुननें के वास्तें, नुकसान नहीं होगा, चाहे पैसौं का हो, या हो रिश्तें पर शायद जरा देर लगे मंजिल तक पहूँचते पहूँचते ! हर काम में फायदा हो, ये शायद मुमकीन नहीं हर काम में नुकसान हो, इसपर भी यकीन नहीं, तो फिर काम ऐसे करों, जो दिल को लगे सहीं उस काम से आनंद प्राप्त हो, दिल पर बोझ नहीं ! - संतोष लक्ष्मण जाधव ©jsantosh.9890064001.   7santoshjadhav@gmail.com"

तिळगूळ घ्या, गोड गोड बोला ! 

मकर संक्रांत गोड बोलायचा मुहूर्त समजूया
कायम सर्वांशी गोड आणि गोडच बोलूया ! 

साऱ्यांनी गोड बोलावं हिच असते आपली अपेक्षा
मग कटू बोलून दुसऱ्यांना का देतो आपण शिक्षा ?

मागून कुठे मिळते, मानसन्मानाची भिक्षा
त्यासाठी द्यावी लागते सौजन्याची परीक्षा ! 

समज,गैरसमज,क्रोध,अहंकार मनात धोका भरून
नका करू आयुष्याचा प्रवास असा मन मारून ! 

आनंदाचा गुणाकार करू आणि दुःखांचा भागाकार 
नात्यांच्या नाजूक मडक्यांना देऊ छान सुंदर आकार ! 

गोड बोलण्याचा परिणाम असतो अत्तरासारखा
सुगंधित होते जीवन, प्रश्न ही वाटतो उत्तरासारखा ! 

दवडू नका असा वाया एक एक क्षण मोलाचा 
ओठांवर हसू,जिभेवर अभंग असू द्या गोड बोलांचा ! 

- संतोष लक्ष्मण जाधव.©jsantosh. 



हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? 

हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ?
चाहे कोई सोच हो, काम हो, या हो ईन्सान, 
बड़ी मुश्किल होतीं हैं इन सबकी पहचान
दोष किसे दे,जब दिल हि बहक जाता हैं बेईमान ! 

दिल में लालच आये और जब बिगड जाये जज्बांत 
रूको, सोचो, देखो परिणाम फिर काम में बढाओ हात, 
सही वक्त का इंतजार और सही ईन्सान का साथ  
बुजूर्गों की सलाह लो और समझलो पहले हर बात ! 

हर काम करने के हैं होतें अलग अलग रास्तें 
मन बना लो,आसान नहीं सही चुननें के वास्तें, 
नुकसान नहीं होगा, चाहे पैसौं का हो, या हो रिश्तें
पर शायद जरा देर लगे मंजिल तक पहूँचते पहूँचते !

हर काम में फायदा हो, ये शायद मुमकीन नहीं 
हर काम में नुकसान हो, इसपर भी यकीन नहीं, 
तो फिर काम ऐसे करों, जो दिल को लगे सहीं
उस काम से आनंद प्राप्त हो, दिल पर बोझ नहीं ! 
- संतोष लक्ष्मण जाधव ©jsantosh.9890064001.
  7santoshjadhav@gmail.com 








हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? 

हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ?
चाहे कोई सोच हो, काम हो, या हो ईन्सान, 
बड़ी मुश्किल होतीं हैं इन सबकी पहचान
दोष किसे दे,जब दिल हि बहक जाता हैं बेईमान ! 

दिल में लालच आये और जब बिगड जाये जज्बांत 
रूको, सोचो, देखो परिणाम फिर काम में बढाओ हात, 
सही वक्त का इंतजार और सही ईन्सान का साथ  
बुजूर्गों की सलाह लो और समझलो पहले हर बात ! 

हर काम करने के हैं होतें अलग अलग रास्तें 
मन बना लो,आसान नहीं सही चुननें के वास्तें, 
नुकसान नहीं होगा, चाहे पैसौं का हो, या हो रिश्तें
पर शायद जरा देर लगे मंजिल तक पहूँचते पहूँचते !

हर काम में फायदा हो, ये शायद मुमकीन नहीं 
हर काम में नुकसान हो, इसपर भी यकीन नहीं, 
तो फिर काम ऐसे करों, जो दिल को लगे सहीं
उस काम से आनंद प्राप्त हो, दिल पर बोझ नहीं ! 
- संतोष लक्ष्मण जाधव ©jsantosh.9890064001.
  7santoshjadhav@gmail.com 













हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? 

हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ?
चाहे कोई सोच हो, काम हो, या हो ईन्सान, 
बड़ी मुश्किल होतीं हैं इन सबकी पहचान
दोष किसे दे,जब दिल हि बहक जाता हैं बेईमान ! 

दिल में लालच आये और जब बिगड जाये जज्बांत 
रूको, सोचो, देखो परिणाम फिर काम में बढाओ हात, 
सही वक्त का इंतजार और सही ईन्सान का साथ  
बुजूर्गों की सलाह लो और समझलो पहले हर बात ! 

हर काम करने के हैं होतें अलग अलग रास्तें 
मन बना लो,आसान नहीं सही चुननें के वास्तें, 
नुकसान नहीं होगा, चाहे पैसौं का हो, या हो रिश्तें
पर शायद जरा देर लगे मंजिल तक पहूँचते पहूँचते !

हर काम में फायदा हो, ये शायद मुमकीन नहीं 
हर काम में नुकसान हो, इसपर भी यकीन नहीं, 
तो फिर काम ऐसे करों, जो दिल को लगे सहीं
उस काम से आनंद प्राप्त हो, दिल पर बोझ नहीं ! 
- संतोष लक्ष्मण जाधव ©jsantosh.9890064001.
  7santoshjadhav@gmail.com 








हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? 

हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ?
चाहे कोई सोच हो, काम हो, या हो ईन्सान, 
बड़ी मुश्किल होतीं हैं इन सबकी पहचान
दोष किसे दे,जब दिल हि बहक जाता हैं बेईमान ! 

दिल में लालच आये और जब बिगड जाये जज्बांत 
रूको, सोचो, देखो परिणाम फिर काम में बढाओ हात, 
सही वक्त का इंतजार और सही ईन्सान का साथ  
बुजूर्गों की सलाह लो और समझलो पहले हर बात ! 

हर काम करने के हैं होतें अलग अलग रास्तें 
मन बना लो,आसान नहीं सही चुननें के वास्तें, 
नुकसान नहीं होगा, चाहे पैसौं का हो, या हो रिश्तें
पर शायद जरा देर लगे मंजिल तक पहूँचते पहूँचते !

हर काम में फायदा हो, ये शायद मुमकीन नहीं 
हर काम में नुकसान हो, इसपर भी यकीन नहीं, 
तो फिर काम ऐसे करों, जो दिल को लगे सहीं
उस काम से आनंद प्राप्त हो, दिल पर बोझ नहीं ! 
- संतोष लक्ष्मण जाधव ©jsantosh.9890064001.
  7santoshjadhav@gmail.com 






















    तिळगूळ घ्या, गोड गोड बोला ! 

मकर संक्रांत गोड बोलायचा मुहूर्त समजूया
कायम सर्वांशी गोड आणि गोडच बोलूया ! 

साऱ्यांनी गोड बोलावं हिच असते आपली अपेक्षा
मग कटू बोलून दुसऱ्यांना का देतो आपण शिक्षा ?

मागून कुठे मिळते, मानसन्मानाची भिक्षा
त्यासाठी द्यावी लागते सौजन्याची परीक्षा ! 

समज,गैरसमज,क्रोध,अहंकार मनात धोका भरून
नका करू आयुष्याचा प्रवास असा मन मारून ! 

आनंदाचा गुणाकार करू आणि दुःखांचा भागाकार 
नात्यांच्या नाजूक मडक्यांना देऊ छान सुंदर आकार ! 

गोड बोलण्याचा परिणाम असतो अत्तरासारखा
सुगंधित होते जीवन, प्रश्न ही वाटतो उत्तरासारखा ! 

दवडू नका असा वाया एक एक क्षण मोलाचा 
ओठांवर हसू,जिभेवर अभंग असू द्या गोड बोलांचा ! 

- संतोष लक्ष्मण जाधव.©jsantosh. 



हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? 

हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ?
चाहे कोई सोच हो, काम हो, या हो ईन्सान, 
बड़ी मुश्किल होतीं हैं इन सबकी पहचान
दोष किसे दे,जब दिल हि बहक जाता हैं बेईमान ! 

दिल में लालच आये और जब बिगड जाये जज्बांत 
रूको, सोचो, देखो परिणाम फिर काम में बढाओ हात, 
सही वक्त का इंतजार और सही ईन्सान का साथ  
बुजूर्गों की सलाह लो और समझलो पहले हर बात ! 

हर काम करने के हैं होतें अलग अलग रास्तें 
मन बना लो,आसान नहीं सही चुननें के वास्तें, 
नुकसान नहीं होगा, चाहे पैसौं का हो, या हो रिश्तें
पर शायद जरा देर लगे मंजिल तक पहूँचते पहूँचते !

हर काम में फायदा हो, ये शायद मुमकीन नहीं 
हर काम में नुकसान हो, इसपर भी यकीन नहीं, 
तो फिर काम ऐसे करों, जो दिल को लगे सहीं
उस काम से आनंद प्राप्त हो, दिल पर बोझ नहीं ! 
- संतोष लक्ष्मण जाधव ©jsantosh.9890064001.
  7santoshjadhav@gmail.com 








हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? 

हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ?
चाहे कोई सोच हो, काम हो, या हो ईन्सान, 
बड़ी मुश्किल होतीं हैं इन सबकी पहचान
दोष किसे दे,जब दिल हि बहक जाता हैं बेईमान ! 

दिल में लालच आये और जब बिगड जाये जज्बांत 
रूको, सोचो, देखो परिणाम फिर काम में बढाओ हात, 
सही वक्त का इंतजार और सही ईन्सान का साथ  
बुजूर्गों की सलाह लो और समझलो पहले हर बात ! 

हर काम करने के हैं होतें अलग अलग रास्तें 
मन बना लो,आसान नहीं सही चुननें के वास्तें, 
नुकसान नहीं होगा, चाहे पैसौं का हो, या हो रिश्तें
पर शायद जरा देर लगे मंजिल तक पहूँचते पहूँचते !

हर काम में फायदा हो, ये शायद मुमकीन नहीं 
हर काम में नुकसान हो, इसपर भी यकीन नहीं, 
तो फिर काम ऐसे करों, जो दिल को लगे सहीं
उस काम से आनंद प्राप्त हो, दिल पर बोझ नहीं ! 
- संतोष लक्ष्मण जाधव ©jsantosh.9890064001.
  7santoshjadhav@gmail.com 













हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? 

हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ?
चाहे कोई सोच हो, काम हो, या हो ईन्सान, 
बड़ी मुश्किल होतीं हैं इन सबकी पहचान
दोष किसे दे,जब दिल हि बहक जाता हैं बेईमान ! 

दिल में लालच आये और जब बिगड जाये जज्बांत 
रूको, सोचो, देखो परिणाम फिर काम में बढाओ हात, 
सही वक्त का इंतजार और सही ईन्सान का साथ  
बुजूर्गों की सलाह लो और समझलो पहले हर बात ! 

हर काम करने के हैं होतें अलग अलग रास्तें 
मन बना लो,आसान नहीं सही चुननें के वास्तें, 
नुकसान नहीं होगा, चाहे पैसौं का हो, या हो रिश्तें
पर शायद जरा देर लगे मंजिल तक पहूँचते पहूँचते !

हर काम में फायदा हो, ये शायद मुमकीन नहीं 
हर काम में नुकसान हो, इसपर भी यकीन नहीं, 
तो फिर काम ऐसे करों, जो दिल को लगे सहीं
उस काम से आनंद प्राप्त हो, दिल पर बोझ नहीं ! 
- संतोष लक्ष्मण जाधव ©jsantosh.9890064001.
  7santoshjadhav@gmail.com 








हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ? 

हर गलत पहले सही क्यों लगता हैं भगवान ?
चाहे कोई सोच हो, काम हो, या हो ईन्सान, 
बड़ी मुश्किल होतीं हैं इन सबकी पहचान
दोष किसे दे,जब दिल हि बहक जाता हैं बेईमान ! 

दिल में लालच आये और जब बिगड जाये जज्बांत 
रूको, सोचो, देखो परिणाम फिर काम में बढाओ हात, 
सही वक्त का इंतजार और सही ईन्सान का साथ  
बुजूर्गों की सलाह लो और समझलो पहले हर बात ! 

हर काम करने के हैं होतें अलग अलग रास्तें 
मन बना लो,आसान नहीं सही चुननें के वास्तें, 
नुकसान नहीं होगा, चाहे पैसौं का हो, या हो रिश्तें
पर शायद जरा देर लगे मंजिल तक पहूँचते पहूँचते !

हर काम में फायदा हो, ये शायद मुमकीन नहीं 
हर काम में नुकसान हो, इसपर भी यकीन नहीं, 
तो फिर काम ऐसे करों, जो दिल को लगे सहीं
उस काम से आनंद प्राप्त हो, दिल पर बोझ नहीं ! 
- संतोष लक्ष्मण जाधव ©jsantosh.9890064001.
  7santoshjadhav@gmail.com

#हर गलत पहले सहीं क्यों लगता हैं भगवान? @सूर्यकांत राठौर @Sunil Kumar Upadhyay @Sewli Karmakar @Divya Joshi

0 Love

""

"*4-URGENT REQUIREMENT REPUTED EXPORT GARMENTS COMPANY IN DELHI - NOIDA* 👉 *KNITS ASST MERCHANDISE/ SAMPLING-CORDINATOR(T-shirt)* Salary:- 25,000 to 30,000 pm *LOCATION:- NOIDA.* *Email:- jobsnoida7@gmail.com* 👉 *ASST MERCHANDISE(WOVEN High fashion Garments)* Salary:- 25,000 to 30,000 pm *LOCATION:- NOIDA.* *jobsnoida7@gmail.com* 👉 *ACCOUNTS EXECUTIVE* Salary:- 20,000 to 30,000 pm *LOCATION:- NOIDA.* *jobsnoida7@gmail.com* 👉 *ACCOUNTS ASST.* Salary:- 15,000 to 20,000 pm *LOCATION:- NOIDA* *jobsnoida7@gmail.com* *REGARDS* *Ajeet Singh -7303127089* jobsnoida7@gmail.com"

*4-URGENT REQUIREMENT REPUTED EXPORT GARMENTS COMPANY IN DELHI - NOIDA*


👉 *KNITS ASST MERCHANDISE/ SAMPLING-CORDINATOR(T-shirt)*
Salary:- 25,000 to 30,000 pm
*LOCATION:- NOIDA.*
 *Email:- jobsnoida7@gmail.com* 


👉 *ASST MERCHANDISE(WOVEN High fashion Garments)*
Salary:- 25,000 to 30,000 pm
*LOCATION:-  NOIDA.*
*jobsnoida7@gmail.com*


👉 *ACCOUNTS EXECUTIVE*
Salary:- 20,000 to 30,000 pm
*LOCATION:- NOIDA.*
*jobsnoida7@gmail.com*


👉 *ACCOUNTS ASST.*
Salary:- 15,000 to 20,000 pm
*LOCATION:- NOIDA*
*jobsnoida7@gmail.com*

*REGARDS*
*Ajeet Singh -7303127089*
jobsnoida7@gmail.com

#Job #noida #garments

#shore

7 Love
1 Share

""

"ARABIAN PENINSULA CLIMATE TIME SCALE is proposed&designed by me to study the Arabian peninsula climate and it's weather problems and natural calamities.Find out in all websites by searching it's aforesaid name or can get by sending your email to irlapatigangadhar255@gmail.com. Scientists who make this scale have trouble in making it, Kindly take my assistance in making this scale. Email I'd to contact me is gangadhar19582058@gmail.com.I will create a model time scale and send the same to your study. For this, you must send the list of events of climate just like dust storms, monsoon low pressure systems etc. last 140 years since 1880 formed over the Arabian Peninsula.In addition to this, a certain amount should be sent for expenses."

ARABIAN PENINSULA CLIMATE TIME SCALE is proposed&designed by me to study the Arabian peninsula climate and it's weather problems and natural calamities.Find out in all websites by searching it's aforesaid name or can get by sending your email to irlapatigangadhar255@gmail.com. Scientists who make this scale have trouble in making it, Kindly take my assistance in making this scale. Email I'd to contact me is gangadhar19582058@gmail.com.I will create a model time scale and send the same to your study. For this, you must send the list of events of climate just  like dust storms, monsoon low pressure systems etc. last 140 years since 1880 formed over the Arabian Peninsula.In addition to this, a certain amount should be sent for expenses.

ARABIAN PENINSULA CLIMATE TIME SCALE is proposed&designed by me to study the Arabian peninsula climate and it's weather problems and natural calamities.Find out in all websites by searching it's aforesaid name or can get by sending your email to irlapatigangadhar255@gmail.com. Scientists who make this scale have trouble in making it, Kindly take my assistance in making this scale. Email I'd to contact me is gangadhar19582058@gmail.com.I will create a model time scale and send the same to your st

7 Love

" mominmarwat01@gmail.com momin7063@gmail.com the registered y t"


mominmarwat01@gmail.com momin7063@gmail.com the registered y t

mominmarwat01@gmail.com

7 Love
24 Views

""

"Poetry Stage"

Poetry Stage

कृपया कैप्शन ध्यान से पढ़िए........👇


प्रिय लेखकों/कवियों/शायरों, 👉हार्दिक स्वागत है आपका हमारी Poetry and Shayari Youtube Video Competition -04 में
👉 आपको इस प्रतियोगिता के लिए अपनी लिखी कोई भी खूबसूरत रचना की वीडियो बनाकर हमें हमारे Email address पर भेजनी होगी। ध्यान दीजिएगा रचना आपकी ही लिखी हुई होनी चाहिए।

हमारा ईमेल 👉Email address - poetrystage786@gmail.com

9 Love