Best zayn 2015 Stories

Suggested Stories

Discover & Read Best Stories about zayn 2015. Also Read about .

  • Latest Stories

zayn malik sketch
zayn malik sketch by me
#Sketch
#sketching
#Zayn
#icarusfalls #nojotophoto

6 Love
0 Comment
BAHUBALI - One of the Best Indian Movie Product! 
 So,  14th July 2015 @ 10:20 pm, after full day's work and a beer, I went to watch Bahubali. 
Perception before the movie: Actually, I didn't saw the trailer of the movie, and because a friend booked it, I went to see it. The only few things I saw about the movie was that it has done huge amount of business in few days, so what? Sallu Bhai's Movies does.. SRK's typical romantic movies does.. Aamir PK did.. 
I though, I will sit relax and if I feel sleepy I will go off to sleep. 
Perception during the movie: When movie started, there were little illogical scenes of how a guy climbs on a huge mountain basis a mask, which to the hero's imagination is a awesome Hot Girl. 
Moreover, almost 20 people left when the first love song came and the Hero was ripping Heroine and doing some mad romantic illogical steps. I stayed calm, even when my friend said "Ghar Chale Kya ? Sab Log ja rahe h".  But till that time also, there quite a few scenes where the story grips you and makes you think, Bhai Waah!
As the movie progressed, it became so much engaging and entertaining that you can't take a susu break too, apart from one more idiotically place song, which reminds me - why do Indian movies need songs to thrive when the other things are good. 
And the movie goes on and on and on ... it doesn't let you take your eye off the screen. It just hooks you on. There were several things in movie which beats standard of Indian Cinema. The director has taken the movie to another LEVEL of Indian cinema. 
Perception after the movie: Various movie sequences keep coming back to your head, wanting to see more. I wont reveal the suspense as to what happens, but still would say - its sequel should have been released in 2015. 

Quite a few thoughts come to my mind - 
How would the idea person of the movie would have convinced producer/investor to put 250 Cr for this movie, and that too just the first half of the story?How many presentations and excel sheets would have gone in to it?How many pre-production meetings discussing the details and scaled would have happened to execute this level of project?I think that to think and execute this project with an fantastic final product is in itself a mark of how detailed oriented and execution focussed its people would have been. I truly recommend everyone to go and watch this film in theaters, because on Laptop or TV - you wouldn't understand the scale and breadth of it. 
Awaiting its next part in 2016...

BAHUBALI - One of the Best Indian Movie Product!
So, 14th July 2015 @ 10:20 pm, after full day's work and a beer, I went to watch Bahubali.
Perception before the movie: Actually, I didn't saw the trailer of the movie, and because a friend booked it, I went to see it. The only few things I saw about the movie was that it has done huge amount of business in few days, so what? Sallu Bhai's Movies does.. SRK's typical romantic movies does.. Aamir PK did..
I though, I will sit relax and if I feel sleepy I will go off to sleep.
Perception during the movie: When movie started, there were little illogical scenes of how a guy climbs on a huge mountain basis a mask, which to the hero's imagination is a awesome Hot Girl.
Moreover, almost 20 people left when the first love song came and the Hero was ripping Heroine and doing some mad romantic illogical steps. I stayed calm, even when my friend said "Ghar Chale Kya ? Sab Log ja rahe h". But till that time also, there quite a few scenes where the story grips you and makes you think, Bhai Waah!
As the movie progressed, it became so much engaging and entertaining that you can't take a susu break too, apart from one more idiotically place song, which reminds me - why do Indian movies need songs to thrive when the other things are good.
And the movie goes on and on and on ... it doesn't let you take your eye off the screen. It just hooks you on. There were several things in movie which beats standard of Indian Cinema. The director has taken the movie to another LEVEL of Indian cinema.
Perception after the movie: Various movie sequences keep coming back to your head, wanting to see more. I wont reveal the suspense as to what happens, but still would say - its sequel should have been released in 2015.

Quite a few thoughts come to my mind -
How would the idea person of the movie would have convinced producer/investor to put 250 Cr for this movie, and that too just the first half of the story?How many presentations and excel sheets would have gone in to it?How many pre-production meetings discussing the details and scaled would have happened to execute this level of project?I think that to think and execute this project with an fantastic final product is in itself a mark of how detailed oriented and execution focussed its people would have been. I truly recommend everyone to go and watch this film in theaters, because on Laptop or TV - you wouldn't understand the scale and breadth of it.
Awaiting its next part in 2016...

7 Love
1 Comment

5 Best Movies of 2015
2015 was a pretty good year for new movies. Romantic fairytales and powerful biopics, crazy science fiction and epic historical dramas all hit the big screen. We’ve put together a list of the 5 movies that touched and inspired us the most, gave us food for thought and astounded us with their visual effects.
Perhaps you missed some of these, but if so, then you’ll have something to do during the long winter holidays!
The Martian

A Robinson Crusoe story, except it’s set in space. There’s not a huge amount of what we would call conventional action in this Ridley Scott movie. On of the members of the expedition to Mars (Matt Damon) is unable to leave the red planet with his fellow astronauts in time before a sand storm hits. He spends many gruelling months alone on this far off world trying to figure out how to survive for up to four years. Although it has a relatively straightforward plot at its heart, this movie is utterly captivating and beautifully shot, and its humour and spirit allows the audience to see life with all its difficulties from a different perspective, even if they seem overpowering at first.

Mad Max: Fury Road

A continuation of the story about how a future oil crisis on Earth submerges the planet in war and destruction. Gangs of thugs prowl around ready to tear anyone they see into shreds anybody for a drop of fuel. Even if you haven’t seen the previous parts, this movie is worth a watch. You can almost feel the kinesthetic energy and see the unbelievable beauty of the Namib Desert. You’ll also be reminded once again why Charlize Theron deserves large pay checks.
The Walk

This film was created by the producer of “Forrest Gump“, Robert Zemeckis. It tells the true story of the professional tightrope walker Philippe Petit who decided to ”walk" between the famous twin towers of the World Trade Center.

Everest

This movie recounts the tragic events that happened during an expedition to the Himalayas in 1996. Vivid camera work and intense drama dominate throughout the whole film. This movie will be remembered for a long time.

Spectre

Criticizing or praising the Bond series makes no difference, because it’s not going anywhere. It will always feature beautiful women, luxurious cars, nerve-wracking chases and of course, the handsome and brilliant Agent 007. Played once again by Daniel Craig, James Bond acquired a more believable character here. Now he is not only the invulnerable and impeccable hero, but he also suffers and shows the pain he experiences. The cast is also brilliant: Ralph Fiennes, Christoph Waltz and Monica Bellucci — need we say more?

3 Love
1 Comment
PEOPLE ARE AWESOME 2015 
 Annual compilation of the web’s best viral videos of 2015! 


List of Featured Awesome Things: 
Russian BASE Jump Swing
Weightlifter Holds Up 100lbs While Doing Chair Splits
Faceteam invades Spain - FIBA Basketball World Cup Iberia Flyers
Boracay Skimboarding - GoPro HD
The Coke Opening Ping Pong Trick Shot | EditingSports
GoPro: Gainer off Ponderosa Bridge
Biggest bicycle jump into a lake
Climbing the invisible spiral staircase
Erfolg kommt dann, wenn du tust, was du liebst
Highest Flying Push-Up
EPIC PARKOUR JUMP
Blind Precision Jump 
High Five
Patrick Laughlin pulls the first bike to bike transfer
When Brazil meets US football
Zoltan "The Magician" Torkos First Ever Darkslide Flip Surfing
Kuperkeikka!
Jeremiah Belledin BOSSIN Ollie Over 15 Decks
Found This Wave in My Laptop - Body Boarder 360 
Overshooting a massive kong? Parkour Ukemi
Hippie jump in the event: Dance with me! 
NDC Header Challenge
Individual Cycle Sport Stacking World Record 5.000 (William Orrell)
Acrobatic Surfers Perform Various Poses Riding Single Wave
Michal Navratil - jumped from hotel roof in St. Maarten 
Man Jumps Over Speeding Car
Kong to underbar
Front Flip of Flat
Tallinn BASE boogie
I am Jenin - Showreel 2012 -
Softball player hits crazy home run
Fear God
Freestyle kayak loop 
Arat, two year old gymnast
Over your gym partner
Skilz - Alex Ryan riding Belgian Steps at #CXNat
Fifty cones in twelve seconds. 
FLYCAPTAIN | HOVERBOARD
VAG KAV WHIP SLOW MOTION ACTION
IMPOSSIBLE FRONT FLIPS OVER 10 PEOPLE!! - PirlasV
Epic Gaza Parkour And Free Running
Jet Ski Flips - Aleksandar Petrovic
Dom Domari - Playing With Myself Surfing in the Ocean 
Triple kong vault outside
Behind the back Ping Pong Shot!
Tiny Home Adventure
Backflip from swing onto bike
Greek Calisthenics Movement
Slackline Double Backflip

PEOPLE ARE AWESOME 2015
Annual compilation of the web’s best viral videos of 2015!


List of Featured Awesome Things:
Russian BASE Jump Swing
Weightlifter Holds Up 100lbs While Doing Chair Splits
Faceteam invades Spain - FIBA Basketball World Cup Iberia Flyers
Boracay Skimboarding - GoPro HD
The Coke Opening Ping Pong Trick Shot | EditingSports
GoPro: Gainer off Ponderosa Bridge
Biggest bicycle jump into a lake
Climbing the invisible spiral staircase
Erfolg kommt dann, wenn du tust, was du liebst
Highest Flying Push-Up
EPIC PARKOUR JUMP
Blind Precision Jump
High Five
Patrick Laughlin pulls the first bike to bike transfer
When Brazil meets US football
Zoltan "The Magician" Torkos First Ever Darkslide Flip Surfing
Kuperkeikka!
Jeremiah Belledin BOSSIN Ollie Over 15 Decks
Found This Wave in My Laptop - Body Boarder 360
Overshooting a massive kong? Parkour Ukemi
Hippie jump in the event: Dance with me!
NDC Header Challenge
Individual Cycle Sport Stacking World Record 5.000 (William Orrell)
Acrobatic Surfers Perform Various Poses Riding Single Wave
Michal Navratil - jumped from hotel roof in St. Maarten
Man Jumps Over Speeding Car
Kong to underbar
Front Flip of Flat
Tallinn BASE boogie
I am Jenin - Showreel 2012 -
Softball player hits crazy home run
Fear God
Freestyle kayak loop
Arat, two year old gymnast
Over your gym partner
Skilz - Alex Ryan riding Belgian Steps at #CXNat
Fifty cones in twelve seconds.
FLYCAPTAIN | HOVERBOARD
VAG KAV WHIP SLOW MOTION ACTION
IMPOSSIBLE FRONT FLIPS OVER 10 PEOPLE!! - PirlasV
Epic Gaza Parkour And Free Running
Jet Ski Flips - Aleksandar Petrovic
Dom Domari - Playing With Myself Surfing in the Ocean
Triple kong vault outside
Behind the back Ping Pong Shot!
Tiny Home Adventure
Backflip from swing onto bike
Greek Calisthenics Movement
Slackline Double Backflip

1 Love
0 Comment

प्यार तो ऐसा ही होता है💛

जिंदगी अनिश्चित है,इसमें कभी भी कुछ भी हो सकता है,मगर प्यार...वो तो इस जिंदगी से भी दो कदम आगे है। ये कब होता है,किससे होता है और क्यों होता है,आज तक समझ में नहीं आया है।
जिंदगी और प्यार इन दोनों को ही समझने की पहली कोशिश मैंने बनारस में की है। इस शहर में जन्म-मृत्यु उतनी ही सहज है,जितना कि सुबह में जगना और रात को सो जाना सहज है। यह शहर हर चीज से मुक्त करता है,लेकिन खुद एक बन्धन हो जाता है। एक ऐसा बंधन जिससे मुक्ति संभव नही है। यह बंधन बनारस की हवाओं में बहते संगीत का है,घाटों पर गुजरती अकेली रातों का है। यह बंधन गंगा की पवित्रता का है,गलियों में गूँजते मंत्रो का है।
यहाँ भीड़ में रहकर भी तुम अकेले होते हो,और अपने अकेलेपन में भी तुम खुद के साथ होते हो।

बात तब की है जब बनारस में रहते हुए मुझे पूरा एक साल हो चुका था। मैं काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के कला संकाय में द्वितीय वर्ष का छात्र था। उसने मुझे पहली बार 19 सितम्बर 2015 की शाम को तब देखा जब दो महीनो की दिन रात की रिहर्सल के बाद पण्डित ओंकारनाथ ठाकुर ऑडिटोरियम में मेरे नाटक का पहला शो था। नाटक का नाम था "बिना ईश्वर के भी।" वो अपनी सहेलियों के साथ ये नाटक देखने आयी थी। मुझे नहीं पता मेरा अभिनय अच्छा था कि नहीं था लेकिन मैं पूरे आत्मविश्वास और जोश के साथ मंच पर जमा हुआ था।
नाटक के खत्म होने के बाद उस रात जब मैं अपने होस्टल आया और फ़ेसबुक पर लॉगइन किया तो उसके नाम की फ़्रेंड रिकवेस्ट देखी। मैंने उसका प्रोफ़ाइल देखा और उसकी फ़्रेंड रिकवेस्ट एक्सेप्ट कर ली। थोड़ी देर बाद उसका पहला मैसेज आया और इस तरह हम दोनो में पहली बार बात हुई,और ये बात रातभर चलती रही। इसके एक दो दिन बाद हम दोनो ने एक-दूसरे से मिलना तय किया। जिस दिन हमें मिलना था उस रात आंखो से नींद जैसे गायब थी। मैंने सारी रात इंतजार में गुजार दी। अगले दिन हम मिलने वाले थे।

"आज की रात मुश्किल है कि इन दो आंखो को नींद लगे,
एक ख्वाब से मिलना होगा कल,बस उसका इंतजार लगे।"

उस दिन शाम की छः बजे जब घड़ी के दोनो काटें एक-दूसरे के विपरीत लेकिन एक सीध में होते है हम लोग पहली बार मिले। हम दोनो ने एक दूसरे को देखा और मुस्कुरा दिए। हमने आपस में हाथ मिलाया और उसी वक़्त हल्की बारिश शुरू हो गयी,जैसे आज खुदा भी हमारे साथ था। फिर दोनो के बीच बातचीत का एक लंबा दौर चला और हमने एक दूसरे को जाना। मुझसे एक साल सीनियर ये लड़की बहुत खुबसुरत थी और अपने दिल की उतनी ही साफ भी थी। उसे गाने का जितना शौक़ था उससे कहीं अच्छा वो गाती थी। बच्चे उसे बहुत पसंद थे और उसकी हंसी भी बच्चों जैसी थी। बिल्कुल मासूम सी हंसी। जल्द ही दुबारा मिलने के वादे के साथ मैं वहाँ से लौट आया। वापस आते हुए तेज बारिश हो रही थी। मैं उसी बारिश में भीगते हुए वापस अपने हॉस्टल आ गया। तब से लेकर आज तक मुझे बनारस की बारिश बहुत पसंद है।

"याद है एक मुलाक़ात की,जो हुई थी भरी बरसात में,
जब भी होती है साथ मेरे वो बरसात होना जानती है।"

एक शाम मैंने उससे अपने साथ कहीं बाहर चलने के लिए पूछा और उसने हामी भर दी थी।
मुझे वो दिन अब भी अच्छे से याद है,23 सितम्बर 2015 का दिन। उस दिन विश्वविद्यालय में पंडित बिरजू महाराज का कोई शो था....तो हम दोनो वही देखने चले गये। बाद में पता चला आज ही के दिन उसका जन्मदिन भी है...तो हम दोनो वहां से विश्वनाथ मंदिर आ गए। उसकों कोल्ड कॉफी बहुत पसंद थी , हम दोनो ने दो कोल्ड कॉफ़ी मंगवाई और वो दिन बहुत अच्छे से मनाया। उस रात मैं दुनिया में सबसे खुश इंसान था। उसके जन्मदिन पर वो मेरे साथ थी इससे बेहतर कुछ नहीं हो सकता था। उसी दिन मुझे उससे प्यार हो गया। मैं बहुत खुश था। लेकिन मेरी किस्मत में शायद कुछ और ही लिखा था।

"हम दोनों तकरीबन हर सप्ताह मिला करते थे।
वो मेरे नाटक देखने आया करती थी और उसके बाद हम लोग देर तक साथ वक़्त बिताते। उसे मेरा लिखा हुआ पढ़ना पसन्द था और मैं अक्सर उससे कोई गाना सुनाने के लिए कहता था। ये प्यार ही तो था जो हमें और करीब ला रहा था।
कुछ महीनो बाद एक शाम हम दोनो कैम्पस में बाबा विश्वनाथ मंदिर के बाहर जायका रेस्टोरेंट से खाना खाकर वापस उसके हॉस्टल जा रहे थे।
हम दोनो एक दूसरे का हाथ थामें हुए थे। शाम खूबसूरत और शांत थी। हम दोनो ही चुप थे। तब उसने मेरे कहने पर एक गाना गाया था...
"हम जो चलने लगे है,
तो चलने लगे है ये रास्ते"
उसकी आवाज में एक जादू था। ऐसी सुहानी शाम में उसका तुम्हारे साथ होना और इतना खूबसूरती के साथ उसका गाना तुम्हें उससे प्यार हो जाये इसके लिए काफी हैं।"

तो ये 23 सितम्बर का दिन मेरे लिए बहुत ख़ास है,मेरी जिंदगी में प्यार की शरुआत इसी दिन जो हुई थी। एक जिंदगी में प्यार तो कई बार हो जाता है पर पहले प्यार में जो ईमानदारी होती है,जो भोलापन होता है, जो अनुभवहीनता होती है वो एक जिंदगी में दूसरी बार कभी भी नहीं हो सकती हैं।
एक दिन और भी है जो याद आता है....8 फरवरी,2016 का दिन। शायद वो मेरी जिंदगी का सबसे भयानक दिन था। मुझे पहले दिन से ही उससे प्यार हो गया था जब हम मिले ...पर मैंने कभी उससे कहा नहीं था। कुछ वक़्त तक तो मुझे ही नहीं पता था की मैं उसके प्यार में हूँ और बाद में जब इस प्यार का अहसास हुआ तो मैं सही वक़्त का इंतजार करने लगा। प्यार के इजहार के लिए बनारस में फरवरी की सर्दियों से अच्छा कोई वक़्त नहीं होता है। ये महीना प्यार का है और यह इतना खुबसुरत है कि अगर इस दिन कोई तुमसे तुम्हारी सबसे प्यारी चीज भी मांग ले तो तुम इंकार नहीं कर पाओगे। महीनो इंतजार के बाद जब ये वक़्त आया तो 8 फरवरी की शाम मैं अस्सी घाट पर गया। वो उस वक़्त वही पें सीढ़ियों पर बैठी थी। हम मिले हमेशा की तरह, थोड़ा इधर-उधर की बात करते रहे।
और तभी एकदम से मैंने उससे कह दिया-
'मुझे तुमसे प्यार है।' वो चुप रही।
मैंने आगे कहना जारी रखते हुए उससे पूछा- 'क्या तुम भी मुझसे प्यार करती हो?'
वो इस बार भी चुप रही।
मुझे हमेशा से लगता था कि वो भी मुझसे प्यार करती है और मुझे पहली बार देखते ही उसने मुझे पसंद कर लिया होगा। पर शायद ऐसा नहीं था। वो मेरी दोस्त बने रहना चाहती थी । मेरा प्यार बनने के बारें में तो उसने कभी सोचा तक नहीं था। इस रिश्ते में गलती किसी की नहीं थी। मेरा उससे प्यार हो जाना और उसका मुझे एक अच्छा दोस्त समझना अपनी अपनी जगह बिल्कुल सही था।
तो जब मैंने उससे पूछा कि क्या तुम भी मेरे लिए प्यार महसूस करती हो,तो उसने थोड़ी देर बाद कहा - 'नहीं,मुझे तो ऐसा कुछ नहीं लगता।मैं तो तुम्हें एक अच्छा दोस्त मानती हूँ,और तुम्हें मुझसे प्यार कब हो गया??
'जब मैं तुमसे पहली बार मिला तभी से मैं तुमसे प्यार करता हूँ।' मैंने थोड़ा अस्पष्ट शब्दों में कहा। अक्सर इनकार तुम्हें असहज कर देती है।
दिल का टूटना क्या होता है, मैंने उसी दिन जाना। सीने के बीच में कहीं पर एक दर्द सा उठता है, तुम्हारा चेहरा सूख जाता है, हजारों विचार एक साथ दिमाग में चल रहे होते है, पर मुँह से एक शब्द नहीं निकल पाता हैं और लगता है कि ये दुनिया आज ही खत्म क्यों नहीं हो जाती। मुझे भी उस वक़्त कुछ ऐसा ही लग रहा था। लेकिन मैंने उम्मीद नहीं छोड़ी।
मैंने आगे पूछा,'चलो प्यार नहीं है ना सही लेकिन क्या अब इसकी शुरुआत करना चाहोगी? मुझे तुमसे प्यार है, क्या तुम मेरा प्यार बनना चाहोगी।'
उसने कहा- नहीं,बिल्कुल नहीं।
एक और बार इंकार तुम्हें निराश कर देने के लिए काफी होती है जबकि वो तुम्हे तुम्हारे पहले प्यार से मिले। वो भी तब जब तुम्हे उससे हां ही मिलेगी ऐसा विश्वास हो। हालांकि मैंने ये सब उससे अस्पष्ट शब्दों में पूछा था। पहली इनकार के बाद मुझमें उसे खोने का डर बैठ चुका था। मैं उससे बात करने में अपनी पूरी ताक़त लगा रहा था लेकिन शब्द थे कि बाहर आते आते लड़खड़ा ही जाते थे।
मैंने फिर पूछा-' क्यों?...क्या किसी और से प्यार है?'
उसने कहा-' नहीं ऐसा कुछ भी नहीं हैं। '
इनकार मिलने के बाद अब मेरा सारा ध्यान इस और था कि बस किसी तरह उसके इंकार की वजह पता चल जाये। इसलिए मैंने उससे बात करना जारी रखा इस उम्मीद में कि असल वजह पता चल जाये तो शायद कोई हल निकल आएं।
यों तो इनकार मिलने के बाद मैं वहाँ से भाग जाना चाहता था......किसी कोने में जाकर भरी हुई और भारी हो रही आंखो से जी भरकर रो लेना चाहता था पर वहां से अचानक से कैसे चला जाऊँ। वो क्या सोचेगी। उससे बात पूरी होने तक मैं खुद को किसी तरह वहाँ रोके रहा।
और फिर मैंने एक आखिरी सवाल किया-' तो फिर मुझे क्यों मना कर रही हो?
अब मेरी सारी उम्मीद इस आखरी सवाल पर टिकी थी। मैं हर तरह से निराश बस उसको देखता रहा और उसने आखिरकार वो कहा जिसका मुझे सबसे ज्यादा डर था।
उसने कहा-'क्योंकी मैं नही करती तुमसे प्यार। तुमसे क्या किसी से भी नही। मैं अभी प्यार ही नहीं करना चाहती किसी से और ना किसी के साथ किसी रिश्ते में में होना चाहती हूँ।'
उसकी आवाज में इस बार मजबूती थी और वो मुझे पूरी तरह से इनकार कर देना चाहती थी। उसने आगे कहा-'तुम मेरे दोस्त हो अच्छे। अगर चाहों तो ये दोस्ती भी खत्म कर सकते हो।'
इसके बाद जो हुआ मुझे याद नहीं। एक ख्वाब बिखर चुका था,जिसे समेटना मुझे आता नहीं था। एक तूफ़ान आकर गुजर चुका था, और अपने साथ सब कुछ उड़ा ले गया था । इस प्यार का एक दूसरा पहलू मेरे हिस्से में आ चुका था।
मैं कुछ देर चुपचाप उसके साथ वहीं बैठा रहा...और फिर वहां से चला आया।
पहली बार दिल टूटने पर केवल दो दिन तक अपने कमरें में बंद होकर रोते रहना और उसे याद करना जो इस सबकी वजह है....शायद कम होता होगा,लेकिन मेरे साथ यही हुआ।
इन दो दिनों में मैं बस सोचता रहा- "आखिर ये मेरे साथ ही क्यों हुआ? क्या मेरा उससे प्यार करना ग़लत था या ये सोचना कि वो भी मुझसे उतना ही प्यार करती है जितना की मैं उससे? आखिर उसने मुझे उसी वक़्त क्यों मना कर दिया? क्या उसे इसके बारें में सोचना नहीं चाहिए था जवाब देने से पहले ? क्यों नहीं उसने अगले दिन तक का वक़्त मांग लिया ताकि सोच समझ के जवाब दे सके?शायद उसे पता रहा होगा कि मैं उससे आज इजहार करने वाला हूँ और वो पहले से ही इसके लिए तैयार रही होगी।
क्यों उसने ये सब इतनी आसानी से खत्म कर दिया? उसने पहले दिन ही क्यों नहीं कह दिया मुझसे कि मैं उससे प्यार न करूँ बस दोस्त ही बना रहूँ।" पर नहीं....अब ये सब सोचने और रोने का कोई फायदा नहीं था। वो प्यार अब खत्म हो चुका था। पर इस दिल का क्या जो अब भी ये मानने को तैयार नहीं था। इसे कैसे समझाऊं ? मैं ऐसे ही सोचते सोचते सो गया और जब तीसरे दिन उठा तो सब कुछ शांत सा लग रहा था। मैंने खुद को एक नए इंसान के रूप में बदलते देखा। मेरी दुनिया में सब कुछ बदल चुका था। अब मैं पहले से कहीं अधिक शांत और गहराई लिए हुए था। हर काम समय पर कर लिया करता था। अब किसी से बे बात उलझता नहीं था। पढ़ाई पर पहले से कहीं ज्यादा ध्यान देने लगा था। हर वक़्त खुद को किसी न किसी काम में लगाये रहता। मैं उसे पूरी तरह भूल जाना चाहता था।
जिंदगी में जब तूफान आकर चला जाता है तो आपको बिखेर तो देता है पर साथ ही साथ पहले से कहीं ज्यादा मजबूत भी बना कर जाता है। मैं इस तूफान से गुजर चुका था। मैं इस प्यार की आग से निकलकर कुंदन हो चुका था। इस सबके बाद उसके बारें में...उस दिन से एक बार भी नहीं सोचा। हां कभी कभी याद आ जाती थी पर कुछ अच्छी यादें, जो मन को सुकून देती। एक दर्द भरा सुकून,और यहीं मेरे लिए सबकुछ था।
कुछ वक़्त के बाद विश्वविद्यालय की परीक्षाये शुरू हो गयी और ये उसका आखरी साल था। वो परीक्षा देकर उस शहर से कहीं दूर अपने घर चली गयी।
लेकिन कहानी यहीं पर खत्म नहीं होती है। वक़्त हमें अक्सर उन्हीं लोगो से मिला देता है, जिनसे हम दूर जाना चाहते है। एक वक़्त के बाद हम दोनो फिर मिले.....क्योंकि उसने उसी शहर के एक दुसरे कॉलेज में अपनी आगे की पढ़ाई के लिए एडमिशन ले लिया था। इस बार जब हम मिले तो दोनो ही पहले से अधिक समझदार थे और जानते थे कि प्यार नहीं करना है। इस बार वैसे भी प्यार नहीं होना था। कुछ दिनों बाद हम पता नहीं क्यों बहुत अच्छे दोस्त बन गए। और बिना किसी की गलती के एक- दूसरे को माफ़ भी कर दिया।
सब कुछ सही चलता रहा। वक़्त यों ही गुजरता रहा और एक बार फिर परीक्षाएं शुरू हुई इस बार मेरा आखरी साल था विश्वविद्यालय में... और परीक्षा देकर मैंने वो शहर छोड़ दिया।
अब हम दोनो एक दूसरे से दूर है, पर फिर भी साथ हैं। कभी कभी बात हो जाती है फोन पर लेकिन रोज- रोज बात करने की कोई जिद नहीं रहती है। अब उसे खोने का कोई डर नहीं है क्योंकि उसे पाना अब मेरा ख्वाब नहीं हैं।
और यही वजह है कि जब ये डर चला गया। उसे खोने के डर...तो मैं उससे ज्यादा अच्छे से बात कर पाता हूँ।
आज 23 सितम्बर 2017 को इस बात को 2 साल पूरे हो गए है। लगता है ये सब जैसे कल की ही बात हो। हालांकि इस बीच बहुत कुछ बदल चुका है,पहले ही दिन मुझे उससे प्यार हो चुका था,जबकी दोस्त हम बाद में बने। एक दिन मैंने उससे अपने प्यार का इजहार किया जो उसने इनकार कर दिया था। इस वजह से एक वक़्त तक दोनों में बात बंद सी हो गयी थी। एक दिन फिर से नई शुरुआत हुई। दोस्ती की शुरुआत। प्यार के बाद वाली दोस्ती भी ना बहुत खूबसूरत होती है। शायद प्यार से भी ज्यादा खूबसूरत। इस दोस्ती में प्यार पहले से भी ज्यादा होता है पर उससे कहीं ज्यादा एक समझ होती है, जो बिना कहे-सुने सब समझा देती है।
कभी कभी वो कहती है....तुम अच्छा लिखने लगे हो अब। इतने लोगों पर लिख रहे हो। तुम हम पर कुछ क्यों नहीं लिखते हो? तुम्हे हम पर लिखना चाहिए आखिर हम तुम्हारे सबसे खास जो है। मैंने भी कह दिया कि तुम पर लिखने के लिए तो एक साल भी कम होगा और फिर हम दोनो जोर से हँस पड़े।
अब उस पर क्या लिखूँ ? लिखूं भी या ना लिखूं?
यही सब इतने दिन चलता रहा और देखो 23 सितम्बर 2017 यानी आज का दिन आ गया। आज उसका जन्मदिन है। उसके लिए कुछ अच्छा सा लिखने को सुबह से बैठा हूँ। उसके लिए कोई कविता लिखना चाहता था लेकिन जब लिखने बैठा तो एक पूरी कहानी लिख दी फिर भी कहने को बहुत कुछ बाकी रह गया है।
कभी कभी वो पूछा करती थी-' अरे यार!तुम लिखते हो ना। तुम्हे तो पता ही होगा। तुम्ही बताओ ना ये प्यार कैसा होता है?'
तो बस यहीं बात उसे बताने के लिए ही लिखा है कि ये प्यार ना बस हो जाता है, ये कब होता है;कहाँ होता है;क्यों होता है;कैसे होता है,कोई नहीं जानता हैं। इसका कोई रंग नहीं है,लेकिन ये किसी भी और रंग से ज्यादा रंगीन है। इसका कोई रूप नही है,लेकिन ये हर रूप में है। ये दिखायी नहीं देता लेकिन ये हर जगह महसूस होता है। एक दिन था जब तुम नहीं थी। जब मैं नही था,लेकिन प्यार तब भी था। एक दिन आएगा जब हम दोनो फिर नहीं होंगे लेकिन प्यार तब भी रहेगा। प्यार ना ऐसा ही होता है।

कभी-कभी,
यूँ ही हो जाता है,
अचानक से,प्यार।
सिर्फ इसलिए,
क्योंकि वो तुम्हें देख मुस्कुराई थी,
तुम उसके हो जाते हो,
और देख लेते हो,
उसके साथ होने का,
एक सुनहरा ख्वाब।

उससे बात करते हुए,
तुम उसकी बातों में खो जाते हो,
और उसके चेहरे से,
अपनी नज़रें नहीं हटा पाते हो,
जब उसके साथ होते हो,
तो खुद को भूल जाते हो,
हर शाम घड़ी की सुइयों का,
एक सीध में आने का इंतजार करते हो,
क्योंकि ये वक़्त उससे मिलने का है,
और ये इंतज़ार करना भी,
तुम्हें अच्छा लगता है,
बस इतनी सी बात भी
कभी-कभी बन जाती है,
प्यार की वजह।

कभी-कभी,
जब अकेले में उदास हो,
और उसकी याद आते ही,
चेहरे पर आ जाती है मुस्कान,
रात को सोने से पहले,
उसके साथ बिताएं वक़्त के बारें में,
सोचने लगते हो तुम,
रात नींद में भी उसका ही,
आता हो ग़र तुम्हे ख्वाब,
और उठकर सबसे पहले,
उससे बात करना,
अगर पसंद है तुमको,
तो समझ लो तुमको भी,
हो गया है प्यार।

तुम्हें क्या बताऊँ,
मैं कैसे समझाऊं,
ये प्यार कैसा होता है?
जब तुम तुम ना रहो,
तुम वही हो जाओ,
जब खुद को सिर्फ,
उसके लिए सजाओं,
हर दुआ में उसे मांगो,
अपने लिए उसे ही चाहों,
सुनाई दे उसकी ही आवाज,
खुद में भी उसी को पा जाओं,
बातों में उसी का जिक्र हो,
जब तुम बस उसी को गाओं,
तो ध्यान से देखना,
खुद के भीतर,
जो हो रहा उसे महसूस करना,
तुम्हें पता चल जायेगा कि,
प्यार तो ऐसा ही होता हैं।

-विकास रावल, 23 सितंबर 2017

6 Love
0 Comment