tags

Best करुणा Shayari, Status, Quotes, Stories, Poem

Find the Best करुणा Shayari, Status, Quotes from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos.

  • 22 Followers
  • 116 Stories
  • Popular
  • Latest
  • Video

""

"ममता रस में पागी सी कुछ सोयी सी,कुछ जागी सी कुछ ठहरी सी,कुछ भागी सी कुछ भोली सी,कुछ भाली सी। भारत में ऐसी माँ देखी,माँ में ऐसी करुणा देखी दया भाव में डूबी सी,ऊषा किरण में ऊंगी सी सोच रही कुछ बैठी सी,हल्की गुस्सा में ऐंटी सी अंतरमन भाव में भेंटी सी,प्रेम प्रसंग में डूबी सी।। माँ की ऐसी सूरत देखी,करुणा की सी मूरत देखी माँ की ऐसी महिमा देखी,भारत में ऐसी माँ देखी भारत में ऐसी माँ देखी,माँ में ऐसी करुणा देखी।।।"

ममता रस में पागी सी
कुछ सोयी सी,कुछ जागी सी
कुछ ठहरी सी,कुछ भागी सी
कुछ भोली सी,कुछ भाली सी।
   
भारत में ऐसी माँ देखी,माँ में ऐसी करुणा देखी

दया भाव में डूबी सी,ऊषा किरण में ऊंगी सी
सोच रही कुछ बैठी सी,हल्की गुस्सा में ऐंटी सी
अंतरमन भाव में भेंटी सी,प्रेम प्रसंग में डूबी सी।।

माँ की ऐसी सूरत देखी,करुणा की सी मूरत देखी
माँ की ऐसी महिमा देखी,भारत में ऐसी माँ देखी  
भारत में ऐसी माँ देखी,माँ में ऐसी करुणा देखी।।।

#maa#motherlove

35 Love

""

"एक औरत चाहे तो गागर में सागर,सागर में पानी पानी में मोती, मोती में चमक चमक है स्त्री,स्त्री रूप करुणा करुणा है त्याग,त्याग है स्त्री स्त्री ही लक्ष्मी,लक्ष्मी है स्त्री साथ है स्त्री , भाव भी स्त्री सभी रूपो में नेक दिल स्त्री -आकिब जावेद #NojotoQuote"

एक औरत चाहे तो  
गागर में सागर,सागर में पानी
पानी में मोती, मोती में चमक
चमक है स्त्री,स्त्री रूप करुणा
करुणा  है त्याग,त्याग  है स्त्री
स्त्री  ही लक्ष्मी,लक्ष्मी  है स्त्री
साथ है  स्त्री , भाव  भी  स्त्री
सभी रूपो में नेक दिल  स्त्री

-आकिब जावेद #NojotoQuote

महिला दिवस

गागर में सागर,सागर में पानी
पानी में मोती, मोती में चमक
चमक है स्त्री,स्त्री रूप करुणा
करुणा है त्याग,त्याग है स्त्री
स्त्री ही लक्ष्मी,लक्ष्मी है स्त्री
साथ है स्त्री , भाव भी स्त्री

24 Love

#आखिर_क्यों#सवाल#सोचने_की_जरूरत_है #दया#मानवता #करुणा#स्वांग#चिंतनीय_विषय
#Talk_online

क्या हम इंसानियत को खो रहे हैं ?
क्या दया शब्द महज शब्द रह गया है ?
#आखिर_क्यों

19 Love
130 Views

#माँ#ममता#संस्कार#करुणा#माँ का प्यार

15 Love
44 Views

""

"ॐ नमः शिवाय - शिव कृपानिधी यानी बेहद करुणा से भरे देवता के रूप में पूजनीय है। धार्मिक आस्था से शिव का करुणा भाव ही सांसरिक जीवन में सुख का कारण है। शिव की ऐसी ही प्रसन्नता और कृपा के लिए शिव उपासना में पंचाक्षरी मंत्र यानी नम: शिवाय का ध्यान बहुत ही शुभ और प्रभावकारी माना गया है। शास्त्रों के मुताबिक पंचाक्षरी मंत्र का स्मरण व्यक्ति के जीवन में हर काम और मनोरथ को सिद्ध करने वाला होता है। इस मंत्र के ध्यान मात्र से ही शिव भक्त का जीवन कलह मुक्त रहता है। शिव अपार महिमा का महाग्रंथ शिवपुराण पंचाक्षरी मंत्र के जप, स्मरण से शीघ्र और मनचाहे नतीजों के लिए कुछ विशेष नियमों का पालन जरूरी बताया गया है। ॐ नमः शिवाय मंत्र नियम - - इस मंत्र को गुरु से प्राप्त करें। इससे इस मंत्र जप अधिक प्रभावी और मंगलकारी होता है। - देवालय, तीर्थ या घर में साफ, शांत व एकांत जगह बैठकर मंत्र जप करें। - इस मंत्र यानी नम: शिवाय के आगे हमेशा 'ॐ' लगाकर जप करें। यह षडाक्षरी मंत्र बन जाता है। - गुरु, पति, माता-पिता के प्रति सेवाभाव और सम्मान मंत्र जप काल के दौरान न भूलें। - नियत संख्या में पंचाक्षरी मंत्र जप की अवधि में व्यक्ति खान-पान, वाणी और इंद्रियों पर पूरा संयम रखे। #NojotoQuote"

ॐ नमः शिवाय -

शिव कृपानिधी यानी बेहद करुणा से भरे देवता के रूप में पूजनीय है। धार्मिक आस्था से शिव का करुणा भाव ही सांसरिक जीवन में सुख का कारण है। शिव की ऐसी ही प्रसन्नता और कृपा के लिए शिव उपासना में पंचाक्षरी मंत्र यानी नम: शिवाय का ध्यान बहुत ही शुभ और प्रभावकारी माना गया है।

शास्त्रों के मुताबिक पंचाक्षरी मंत्र का स्मरण व्यक्ति के जीवन में हर काम और मनोरथ को सिद्ध करने वाला होता है। इस मंत्र के ध्यान मात्र से ही शिव भक्त का जीवन कलह मुक्त रहता है।

शिव अपार महिमा का महाग्रंथ शिवपुराण पंचाक्षरी मंत्र के जप, स्मरण से शीघ्र और मनचाहे नतीजों के लिए कुछ विशेष नियमों का पालन जरूरी बताया गया है।

ॐ नमः शिवाय मंत्र नियम -

- इस मंत्र को गुरु से प्राप्त करें। इससे इस मंत्र जप अधिक प्रभावी और मंगलकारी होता है।

- देवालय, तीर्थ या घर में साफ, शांत व एकांत जगह बैठकर मंत्र जप करें।

- इस मंत्र यानी नम: शिवाय के आगे हमेशा 'ॐ' लगाकर जप करें। यह षडाक्षरी मंत्र बन जाता है।

- गुरु, पति, माता-पिता के प्रति सेवाभाव और सम्मान मंत्र जप काल के दौरान न भूलें।

- नियत संख्या में पंचाक्षरी मंत्र जप की अवधि में व्यक्ति खान-पान, वाणी और इंद्रियों पर पूरा संयम रखे। #NojotoQuote

 

14 Love