tags

Best apnapan Shayari, Status, Quotes, Stories, Poem

Find the Best apnapan Shayari, Status, Quotes from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos.

  • 134 Followers
  • 169 Stories
  • Popular
  • Latest
  • Video

""

"हद से ज्यादा इंसानियत मत रखो इंसानियत उतनी ही रखो जहां तक इंसान कहलावो भगवान बनने की मत सोचो हर कोई फिर आपको स्वार्थ के लिए हि याद करेगा ✒Sunsakerapa ( sk writes ) #NojotoQuote"

हद से ज्यादा इंसानियत मत रखो 
इंसानियत उतनी ही रखो जहां तक इंसान कहलावो

भगवान बनने की मत सोचो 
हर कोई फिर  आपको स्वार्थ  के लिए हि याद करेगा

✒Sunsakerapa ( sk writes ) #NojotoQuote

हद से ज्यादा इंसानियत मत रखो
#इंसानियत उतनी ही रखो जहां तक इंसान कहलावो

#भगवान #बनने की मत #सोचो
हर कोई फिर आपको #स्वार्थ के लिए हि #याद करेगा

✒Sunsakerapa ( sk writes )

163 Love

""

"क्यूँ बोझ हो जाते है वो झुके हुए कंधे बच्चों के लिए जनाब, जिन पर चढ़ कर कभी वे दुनिया देखा करते थे !! #NojotoQuote"

क्यूँ बोझ हो जाते है वो झुके हुए
 कंधे बच्चों के लिए जनाब,
जिन पर चढ़ कर कभी वे दुनिया
देखा करते थे !! #NojotoQuote

इज़्ज़त भी मिलेगी तुम्हे,
दौलत भी मिलेगी....🙂
खिदमत करो माँ बाप की जन्नत भी मिलेगी!! 😊🙏😊
#izzat 😊 #pyaar 💕 #apnapan 🙂 #sath 🤗
#Khushi 😃😊 💕🌸😘
#jannat 🙂 #maa 😘
#Papa 😊😘
#Nojoto_hindi 🖋

131 Love

#Dil#Rishta#apnapan#Nojoto#Nojotohindi

99 Love
1 Share

""

"मौसम की तरह क्या खूब बदलते है सूरत लोगो की हर रोज बदलती है अपने बन सब दिखावे के रंग बदलते है फितरत लोगो की क्या खूब पलटती है झूठ का लेके पर्दा हर रोज निकलते है आईने की भी क्या खूब सच्चाई झलकती है बातों की उनपे करके भरोसा हर रोज पिघलती है ये महबूबा उनकी इस आग में हर रोज जलती है जैसी मूरत की चाह सबको रहती है इस दुनिया में वैसी हर रोज ये सादगी बन फिर ठहरती है वो हमारी यारी की कैसी सहूलियत चाहते है हमारी हर उम्मीद उन्ही से सँवरती है कैसे कहे वो बेवजह की जो वजह पलती है वो हमारी दोस्ती की मोहब्बत हर रोज निखरती है अफसोस ये गलतफहमी हमारी ही बनती है उनको तो बस झूठी बात ही अच्छी लगती है यारी की सारी सौगात कच्ची सी लगती है हम उनको सच्ची दोस्ती की कश्ती समझते है वो यारी तो बस मुझ तक ही सच्ची लगती है"

मौसम की तरह क्या खूब बदलते है
सूरत लोगो की हर रोज बदलती है
अपने बन सब दिखावे के रंग बदलते है
फितरत लोगो की क्या खूब पलटती है
झूठ का लेके पर्दा हर रोज निकलते है
आईने की भी क्या खूब सच्चाई झलकती है
बातों की उनपे करके भरोसा हर रोज पिघलती है
ये महबूबा उनकी इस आग में हर रोज जलती है
जैसी मूरत की चाह सबको रहती है इस दुनिया में
वैसी हर रोज ये सादगी बन फिर ठहरती है
वो हमारी यारी की कैसी सहूलियत चाहते है
हमारी हर उम्मीद उन्ही से सँवरती है
कैसे कहे वो बेवजह की जो वजह पलती है
 वो हमारी दोस्ती की मोहब्बत हर रोज निखरती है
अफसोस ये गलतफहमी हमारी ही बनती है
उनको तो बस झूठी बात ही अच्छी लगती है
यारी की सारी सौगात कच्ची सी लगती है
हम उनको सच्ची दोस्ती की कश्ती समझते है
वो यारी तो बस मुझ तक ही सच्ची लगती है

nojotoapp#dosti #yari#Bharosa#Love#expectation#saccharishta#apnapan#Sab juthe rishte#

94 Love

""

"अपनो का आशियाना सजाते सजाते खुद को भूल जाता हूं। रात को घर से बेघर और दिन में उसके दीदार में उलझा रहता हूं। नाजाने कब तक ये यूंही चलता रहेगा ना भूखा रह पाता हूं ना भूख मिटा पाता हूं।"

अपनो का आशियाना सजाते सजाते खुद को भूल जाता हूं।
रात को घर से बेघर और दिन में उसके दीदार में उलझा रहता हूं।
नाजाने कब तक ये यूंही चलता रहेगा
ना भूखा रह पाता हूं ना भूख मिटा पाता हूं।

#apnapan #Challange #Collab #challangaccepted #apnepraye

61 Love
4 Share