tags

Best कवी Shayari, Status, Quotes, Stories, Poem

Find the Best कवी Shayari, Status, Quotes from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos.

  • 29 Followers
  • 34 Stories
  • Popular
  • Latest
  • Video

""

"कल्पना "जहाँ न पहुंचे रवि, वहाँ पहुंचे कवी" हां! सूरज की किरण का प्रकाश भी जिस स्थान पर नहीं जा सकता, वहाँ कवी जा सकता है। अर्थात् कवी की कल्पनाशक्ति ही ऐसी होती है। आसमान हो या पाताल, धरा हो या भूचाल, संस्कृति हो या संस्कार, बाग़ हो या बागबान। या हो कोई वस्तु प्राणी या इंसान, सभी तक कवी की कल्पना पहुँच ही जाती है।"

कल्पना "जहाँ न पहुंचे रवि, वहाँ पहुंचे कवी"
हां! सूरज की किरण का प्रकाश भी 
जिस स्थान पर नहीं जा सकता,
वहाँ कवी जा सकता है।
अर्थात् कवी की कल्पनाशक्ति ही ऐसी होती है।
आसमान हो या पाताल, धरा हो या भूचाल,
संस्कृति हो या संस्कार, बाग़ हो या बागबान।
या हो कोई वस्तु प्राणी या इंसान,
सभी तक कवी की कल्पना पहुँच ही जाती है।

#कल्पना

97 Love

""

"ये पैसे वाले हमको अपनी दौलत से क्या तौलेंगे हम तो किसी की वाह के बदले नज्में बेचा करते है।"

ये पैसे वाले हमको अपनी दौलत से क्या तौलेंगे 
हम तो किसी की वाह के बदले नज्में बेचा करते है।

#लेखक #कवी #आशिक़

63 Love

""

"कवी कितना कुछ लिख लेते हैं हम स्त्रियों के बारे में......... कभी चहरे की गोराई,होठों की सुर्खियत,आँखों की गहराई के बारे मे........ क्या बस इतना ही लिखने को है हमारे बारे मे........? एक देह मात्र की खूबसूरती पर लिखा जा सकता है जितना,वो लिख देते उन सब के बारे में......... लोग लिखते,सुनते ,पढते है जो उन्हे पसंद हैं सिर्फ उस बारे में........ मगर इससे भी ज्यादा बहुत कुछ हैं लिखने को हमारे बारे मे........ लिखो ना कभी आँखों के जगमागाते सपने,साँवले रंग वाले आत्मविश्वास से लबरेज मुस्कुराहट,एक दाग वाले चहरे मगर बेदाग,श्वेत,निश्छल मन के बारे मे ....... लिखो ना हमारे कुछ करने की ज़िद,ठोकर खा कर फिर उठने की हिम्मत और विफलताओ की डगर से सफलताओ के सफर की हमारी कहानी के बारे में......... ऐसा कुछ क्यू नहीं लिखा जाता है हमारे बारे मे.......? क्यू नहीं लिखा जाता हमारे कुशलताओ,क्षमताओ,कलाओ के बारे में.........? क्या सचमुछ इन सब से ज़रूरी है हम स्त्रियों के रंग-रुप और सुन्दरता के बारे मे.........? क्यू इंसानों से अलग लिखा जाता है मुझे रुप की देवी की तरह, मुझे लिखा जाये सिर्फ वैसे ही जैसे लिखा जाता है इंसानों के बारे में........... हम स्त्रियां सिर्फ वैसे ही नहीं है जैसा लिखते है कवी हमारे बारे मे............"

कवी कितना कुछ लिख लेते हैं हम स्त्रियों के बारे में.........
कभी चहरे की गोराई,होठों की सुर्खियत,आँखों की गहराई के बारे मे........
क्या बस इतना ही लिखने को है हमारे बारे मे........?
एक देह मात्र की खूबसूरती पर लिखा जा सकता है जितना,वो लिख देते उन सब के बारे में.........
लोग लिखते,सुनते ,पढते है जो उन्हे पसंद हैं सिर्फ उस बारे में........
मगर इससे भी ज्यादा बहुत कुछ हैं लिखने को हमारे बारे मे........
लिखो ना कभी आँखों के जगमागाते सपने,साँवले रंग वाले आत्मविश्वास से लबरेज मुस्कुराहट,एक दाग वाले चहरे मगर बेदाग,श्वेत,निश्छल मन के बारे मे .......
लिखो ना हमारे कुछ करने की ज़िद,ठोकर खा कर फिर उठने की हिम्मत और विफलताओ की डगर से सफलताओ के सफर की हमारी कहानी के बारे में.........
ऐसा कुछ क्यू नहीं लिखा जाता है हमारे बारे मे.......?
क्यू नहीं लिखा जाता हमारे कुशलताओ,क्षमताओ,कलाओ के बारे में.........?
क्या सचमुछ इन सब से ज़रूरी है हम स्त्रियों के रंग-रुप और सुन्दरता के बारे मे.........?
क्यू इंसानों से अलग लिखा जाता है मुझे रुप की देवी की तरह,
मुझे लिखा जाये सिर्फ वैसे ही जैसे लिखा जाता है इंसानों के बारे में...........
हम स्त्रियां सिर्फ वैसे ही नहीं है जैसा लिखते है कवी हमारे बारे मे............

#hum_striyon_ke_baare_me
#Chanchal_mann#hindinojoto#Shayari#Quote#Poetry

44 Love
1 Share

""

"कभी इकबाल बनकर सारे जहाँ से अच्छा गाते हों, कभी बिस्मिल बनकर सरफ़रोशी की तमन्ना बताते हों। कभी सुभद्रा बनके झाँसी की रानी की कहानी सुनाते हो, हे कवी! कितने रूप हैं तुम्हारे, कभी कोशिश करने वालो के लिए कवी बच्चन बन जाते हो।"

कभी इकबाल बनकर सारे जहाँ से अच्छा गाते हों, 
कभी बिस्मिल बनकर सरफ़रोशी की तमन्ना बताते हों।
कभी सुभद्रा बनके झाँसी की रानी की कहानी सुनाते हो,
हे कवी! कितने रूप हैं तुम्हारे,
कभी कोशिश करने वालो के लिए कवी बच्चन बन जाते हो।

#Nojoto#NojotoHindi#kaviRoop#hindipoetry

39 Love

""

"सार्‍याच दुःखांणा सोबत घेऊन मी सोहळा करत आहे मीच आपल्या आयूष्यची मैफिल करून स्वतःला ग्रेस करत आहे ..... शशी केंद्रे.."

सार्‍याच दुःखांणा सोबत घेऊन मी सोहळा करत आहे 
मीच आपल्या आयूष्यची मैफिल 
करून स्वतःला ग्रेस करत आहे ..... शशी केंद्रे..

#"#कवी #ग्रेस#दुःख #सोहळा #मराठी #सेट्स

21 Love
2 Share