tags

Best Punjabipoetry Shayari, Status, Quotes, Stories, Poem

Find the Best Punjabipoetry Shayari, Status, Quotes from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos.

  • 214 Followers
  • 797 Stories
  • Popular
  • Latest
  • Video

"ਨੂਰ jehde gabru hon shokin qurbaniyan de ona nu jag salam karda aive hi nayi tute pateya nu rukh apne kolo juda karda jhalna painda a aag haneriyan nu aive hi nayi koi phool asmaan ban da thok k chaatti turje heer layi kandeya Te koi aive hi nayi ranjha bhule Shah fakir ban da"

ਨੂਰ jehde gabru hon shokin qurbaniyan de ona nu jag salam karda 
aive hi nayi tute pateya nu rukh apne kolo juda karda 
jhalna painda a aag haneriyan nu aive hi nayi koi phool asmaan ban da 
thok k chaatti turje heer layi kandeya Te koi aive hi nayi ranjha bhule Shah fakir 
ban da

my first Punjabi post ✍️❤#nojotopunjabi#nojoto #nojotohindi #Poetry#story#Quotes#erotica#Music#Video#song#Love#Life#parindey#udaan#honsle#chintiyan#pahad#salam#ranjha#majnu#heer#laila#TikTok#hindishayri#nojotoquotes#nojotopoetry#naam#manzil#asman#kavitagautam#divyajoshi#Aisha#aahnaverma#BinaBabi#achalsharma#chhayayadav#nishiignatius#dikshitagarg#AkashiParmar#aadarshasingh#DeepikaDubey#DeepaRajput#shalijas#HaimiKumari#madhukaur#EshaJoshi#KalavatiKumari#leelawatisharma#smrutirekhadash#parulsharma#

206 Love

"ज़िन्दगी जीना सीखा गए,कमीने यार ऐसी यारी निभा गए. करली बरसात मुठी में बंद खामोश बादलों को गर्जना सीखा गए. समंदर की लहरों पे नाचे संग,,मस्ती मस्ती में किनारों पे आ गये. खेली होली रंगों से भीड़ में जब,,रंगीन दुनिया की काली नियत दिखा गए."

ज़िन्दगी जीना सीखा गए,कमीने यार ऐसी यारी निभा गए.

करली बरसात मुठी में बंद खामोश बादलों को गर्जना सीखा गए.

समंदर की लहरों पे नाचे संग,,मस्ती मस्ती में किनारों पे आ गये.

खेली होली रंगों से भीड़ में जब,,रंगीन दुनिया की काली नियत दिखा गए.

#friendship#friends#december#nojotonews#nojotohindi#Poetry#hindishayari#Punjabipoetry#urdupoetry
कमीने यार--Tittle--यारी

@shitanshu "AAWARA" @Amit Gautam @कुमार संदीप @Govind Kumar indin @muba writes @Virat Suthar

205 Love
5 Share

"वाहवाही मेरे लफ़्ज़ों की आम है कहते है लोग अमन बड़ा बदनाम है. लिखने का रखता गरूर है ना जाने कैसा ये इंसान है. कैसे बताऊं यारो सूरज के घरोंदे में मेरा मकान है,,जला बहुत हूं मतलबी दुनियां में इस लिए घुमान है. मंज़िल मेरी में जानता हूं,,इस इंसानी जंगल में जवान शेर को सलाम,बूढ़े शेर का कत्लेआम है।"

वाहवाही मेरे लफ़्ज़ों की आम है कहते है लोग अमन बड़ा बदनाम है.

लिखने का रखता गरूर है ना जाने कैसा ये इंसान है.

कैसे बताऊं यारो सूरज के घरोंदे में मेरा मकान है,,जला बहुत हूं मतलबी दुनियां में इस लिए घुमान है.

मंज़िल मेरी में जानता हूं,,इस इंसानी जंगल में जवान शेर को सलाम,बूढ़े शेर का कत्लेआम है।

😊✍️6.1aman💥💥

कौन पहचाने मुझे अनजान सफर की रेत हूं.✍️6.1aman

#hindishayari#nojotohindi#Punjabipoetry#urdushayari#Love
@🅿️®️❗N©️E___Ⓜ️🅰️🅰️N @@ @@Ghulam Sarwar @@Tahir ansari @@Prince Raj Smarty @@Annapurna Tripathi

201 Love
3 Share

"दुश्मन जैसे दोस्त लुटेरों के शहर में रहता हूं,,दोस्त ही दुश्मन हैं यहां. आग के दरिया में बहता हूं,,राख ही मंज़िल है यहां. गिद्धों सी नियत है इंसानियत की,,मरने के बाद भी नोचते है यहां."

दुश्मन जैसे दोस्त लुटेरों के शहर में रहता हूं,,दोस्त ही दुश्मन हैं यहां.

आग के दरिया में बहता हूं,,राख ही मंज़िल है यहां.

गिद्धों सी नियत है इंसानियत की,,मरने के बाद भी नोचते है यहां.

#Enemy #Friendship #december
#nojotohindi#nojotonews#hindipoetry#Punjabipoetry#urdushayari

दुश्मन जैसे दोस्त--Tittle--लुटेरों का शहर

written by me ✍️6.1aman💥💥

@aditi pandey @mahi.6021 @Devika sharma @kaur B 😊😊 @Nisha khan varsha

196 Love
2 Share

"किसी के जिगर के टुकड़े को वेहशियों ने मास समझ के चबा डाला. हवस नशे में दुत्त ज़ालिमों ने ज़िन्दा फूल आग में जला डाला. ना डर ना कोई खौफ रह गया,,हैवानियत ने फिर इंसानियत को शर्मशार कर डाला. ना रहम ना डर इन ज़ालिमों को,,क्या बच्ची क्या बड़ी इनकी नियत ने कितनी औरतों का दामन नोच डाला. वो भी क्या तड़पी होगी जब होगा उसपे पेट्रोल डाला,,लोग मारते है घर के आगे खड़े जानवर को पत्थर नाजाने क्यों ऐसे दरिंदों को अबतक बख़्स डाला. read full post in mention⬇️⬇️⬇️⬇️⬇️⬇️⬇️⬇️⬇️"

किसी के जिगर के टुकड़े को वेहशियों ने मास समझ के चबा डाला.

हवस नशे में दुत्त ज़ालिमों ने ज़िन्दा फूल आग में जला डाला.
 
ना डर ना कोई खौफ रह गया,,हैवानियत ने फिर इंसानियत को शर्मशार कर डाला.

ना रहम ना डर इन ज़ालिमों को,,क्या बच्ची क्या बड़ी इनकी नियत ने कितनी औरतों का दामन नोच डाला.

वो भी क्या तड़पी होगी जब होगा उसपे पेट्रोल डाला,,लोग मारते है घर के आगे खड़े जानवर को पत्थर नाजाने क्यों ऐसे दरिंदों को अबतक बख़्स डाला.

read full post in mention⬇️⬇️⬇️⬇️⬇️⬇️⬇️⬇️⬇️

#Relationships #Heart #december #nojotohindi #nojotonews #hindipoetry #Punjabipoetry #urdupoetry

जिगर का टुकड़ा Tittle--जागो(awake)


((((((((((जागो))))))))))

184 Love
3 Share