tags

Best poesia Shayari, Status, Quotes, Stories

Find the Best poesia Shayari, Status, Quotes from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos.

  • 28 Followers
  • 124 Stories
  • Latest
  • Popular
  • Video

""

"Jane kitni Damini, aur na Jane kitni Nirbhaya aayi,or kitni aayengi Aur na jane kitni Aasifa raajneeti ke bhet chadh jaengi Dekh tamasha iss circus ka,bass zinda laash ban reh jaoge tum Ha..kehne ko phir bhi tum toh insaan hi kehlaoge.."

Jane kitni Damini, aur na Jane kitni Nirbhaya aayi,or kitni aayengi
Aur na jane kitni Aasifa raajneeti ke bhet chadh jaengi
Dekh tamasha iss circus ka,bass zinda laash ban reh jaoge tum
Ha..kehne ko phir bhi tum toh insaan hi kehlaoge..

#poetryisnotdead #wordsofwisdom #poesia #Photography #Like #writersofindia #urdu #Stories #spokenword #beti

6 Love
1 Share

"Ek sauda karte hain"

Ek sauda karte hain

#poetryisnotdead #wordsofwisdom #follow #poesia #Music #Photography #instagood #instapoetry #poetsofig #Nojoto_Originals

3 Love
47 Views

#writingcommunity #poets #poesia #Music #Like #instapoetry #poetryisnotdead #Photography #poetsofig #urdu #instagood #Stories #igwriters #writersofindia #poetryporn #SAD #quotestagram #spokenword #instawriters #qotd #poemsofinstagram #Hindi #Inspiration #yourquote #Artist #spilledink #writeaway #igwritersclub #wordswag #feelings

7 Love
9 Views
2 Share

""

"अपना तो क्या ही बताऊँ क्या था मैं क्या हो गया वो आह उन नारों को रौंदती जब उसके कानों में पहुँची मेरा खुदा भी ला-मज़हब हो गया। - अभिमन्यु कमलेश राणा ।"

अपना तो क्या ही बताऊँ
क्या था मैं
क्या हो गया
वो आह
उन नारों को रौंदती जब उसके कानों में पहुँची
मेरा खुदा भी ला-मज़हब हो गया।
- अभिमन्यु कमलेश राणा ।

"ला-मज़हब"

अपना तो क्या ही बताऊँ
क्या था मैं
क्या हो गया
वो आह
उन नारों को रौंदती जब उसके कानों में पहुँची
मेरा खुदा भी ला-मज़हब हो गया।

12 Love

""

"उसे ढील दो है पतंग की डोर जो छूना चाहते गर आसमानों को औरों को भी उड़ने दो पेंच लड़ाने उलझे जो थाम लोगे अपनी उड़ान को सफर उन्हें भी तय करने दो काट दी भी कुछ डोर जो खींचोगे पतंग अपनी भी,नीचे को इस बात पर भी गौर दो डोर औरों को काटती जो घिसती,कमजोर भी करती खुद को असीमित है ब्रह्मांड नया सीखने पर जोर दो सुलझी होगी सोच जिसकी लक्ष्य पर ध्यान केंद्रित करेगा जो होगा चेहरे पर तेज अनुपम पाएगा वही उत्कृष्टता को उसे ढील दो है पतंग की डोर जो छूना चाहते गर आसमानों को ।।। -अभिमन्यु "कमलेश# राणा"

उसे ढील दो
है पतंग की डोर जो
छूना चाहते गर आसमानों को

औरों को भी उड़ने दो
पेंच लड़ाने उलझे जो
थाम लोगे अपनी उड़ान को

सफर उन्हें भी तय करने दो
काट दी भी कुछ डोर जो
खींचोगे पतंग अपनी भी,नीचे को

इस बात पर भी गौर दो
डोर औरों को काटती जो
घिसती,कमजोर भी करती खुद को

असीमित है ब्रह्मांड
नया सीखने पर जोर दो
सुलझी होगी सोच जिसकी
लक्ष्य पर ध्यान केंद्रित करेगा जो
होगा चेहरे पर तेज अनुपम
पाएगा वही उत्कृष्टता को

उसे ढील दो
है पतंग की डोर जो
छूना चाहते गर आसमानों को ।।।
                                   -अभिमन्यु "कमलेश#
                                                राणा

उसे ढील दो
है पतंग की डोर जो
छूना चाहते गर आसमानों को
औरों को भी उड़ने दो
पेंच लड़ाने उलझे जो
थाम लोगे अपनी उड़ान को
सफर उन्हें भी तय करने दो
काट दी भी कुछ डोर जो

8 Love