tags

Best हिन्दीकविता Shayari, Status, Quotes, Stories, Poem

Find the Best हिन्दीकविता Shayari, Status, Quotes from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos.

  • 59 Followers
  • 607 Stories
  • Popular
  • Latest
  • Video

"नन्ही चिड़िया...🕊️🌸 रोज़ सवेरे आती चिड़िया, अंगना में बुदबुदाती चिड़िया... दाना चुगती छोटी चिड़िया, ची-ची कर जगाती चिड़िया! जाने क्या भाषा बोले चिड़िया, डाल-डाल पर चहकती चिड़िया। मेरे देश की प्यारी चिड़िया, रोज़ सवेरे आती चिड़िया। मन को आनंदित करती चिड़िया, फुदकती कैसे चंचल चिड़िया, छज्जे- खिड़की पर नाचे चिड़िया, पंख़ फ़ैलाए, उड़ती, नन्ही चिड़िया। धन्यवाद!🙏 ©श्वेतनिशा सिंह ~🕊️"

नन्ही चिड़िया...🕊️🌸

रोज़ सवेरे आती चिड़िया,
अंगना में बुदबुदाती चिड़िया...
दाना चुगती छोटी चिड़िया,
ची-ची कर जगाती चिड़िया!

जाने क्या भाषा बोले चिड़िया,
डाल-डाल पर चहकती चिड़िया।
मेरे देश की प्यारी चिड़िया,
रोज़ सवेरे आती चिड़िया।

मन को आनंदित करती चिड़िया,
फुदकती कैसे चंचल चिड़िया,
छज्जे- खिड़की पर नाचे चिड़िया,
पंख़ फ़ैलाए, उड़ती, नन्ही चिड़िया।

धन्यवाद!🙏

©श्वेतनिशा सिंह ~🕊️

नन्ही चिड़िया...🕊️🌸🍃

रोज़ सवेरे आती चिड़िया,
अंगना में बुदबुदाती चिड़िया...
दाना चुगती छोटी चिड़िया,
ची-ची कर जगाती चिड़िया!

जाने क्या भाषा बोले चिड़िया,

19 Love

".....आज नहीं, कुछ साल बाद, जब साहिल पर तूफां होगा, हम यादों की एक नाव लिए, मझधार चीर के जाएंगे... . . कि फ़िर जब भी, कोई भोर की किरणें, मन विचलित कर जाएंगी... हम साँझ की चादर ओढ़ कहीं, भीतर घर में छुप जाएंगे..... . . जब कच्ची माटी आंगन की, कोई ख़ुशी भरेगी दिल में तब, हम उसका रूप संजोए खुद से, खुद कुम्हार बन जाएंगे....!!!"

.....आज नहीं, कुछ साल बाद, 
जब साहिल पर तूफां होगा,
हम यादों की एक नाव लिए, 
मझधार चीर के जाएंगे...
.
.
कि फ़िर जब भी, 
कोई भोर की किरणें, 
मन विचलित कर जाएंगी...
हम साँझ की चादर ओढ़ कहीं, 
भीतर घर में छुप जाएंगे.....
.
.
जब कच्ची माटी आंगन की, 
कोई ख़ुशी भरेगी दिल में तब,
हम उसका रूप संजोए खुद से, 
खुद कुम्हार बन जाएंगे....!!!

#hindipoetry #Poetry #verses #thought #kavita #हिन्दीकविता #nojotopoets

24 Love
3 Share

"World Poetry Day 21 March सारांश... एक बूंद!🙏🌸 लेकर हम छंद-छंद, जीवन यूँ मंद-मंद, पिरोएं भव-सागर चंद में! भावविभोर तरंग, नौका काग़ज़ की, शब्दों की कश्ती तैरे गगन में! तेरी-मेरी दुनिया ओस, इंन्द्रधनुष महफ़िल, अंतर्मन बरसे पलक में! सारांश एक बूंद, नदी एहसासों की, द्रवित है द्वंद-द्वंद में! ©श्वेतनिशा सिंह 🌸~🕊️"

World Poetry Day 21 March सारांश... एक बूंद!🙏🌸

लेकर हम छंद-छंद,
जीवन यूँ मंद-मंद,
पिरोएं भव-सागर चंद में!

भावविभोर तरंग,
नौका काग़ज़ की,
शब्दों की कश्ती तैरे गगन में!

तेरी-मेरी दुनिया ओस,
इंन्द्रधनुष महफ़िल,
अंतर्मन बरसे पलक में!

सारांश एक बूंद,
नदी एहसासों की,
द्रवित है द्वंद-द्वंद में!

©श्वेतनिशा सिंह 🌸~🕊️

#विश्वकवितादिवस
#WorldPoetryDay
#nojotohindi
#हिन्दीकविता
#हिन्दीसाहित्य

12 Love

"वीडियो के लिए यूट्यूब चैनल तहरीरे अकेला पर जाएं!! धन्यवाद!!! नज़्म/कविता:किससे कहूँ? किससे कहूँ की क्या बात है, क्या दर्द है, क्या निजात है, कौन समझे, कौन पूछे, कौन अंगारे जैसे आँसू छू ले, किससे साझा करूँ, ये दुःख आधा करूँ, जो आंखें, चेहरा, और मन न पढ़ सकें, जो खामोशी तक न समझ सकें, वो जज़्बात क्या समझेंगे? "

वीडियो के लिए यूट्यूब चैनल तहरीरे अकेला पर जाएं!! धन्यवाद!!!
नज़्म/कविता:किससे कहूँ?

किससे कहूँ की क्या बात है,
क्या दर्द है, क्या निजात है,
कौन समझे, कौन पूछे,
कौन अंगारे जैसे आँसू छू ले,
किससे साझा करूँ,
 ये दुःख आधा करूँ,
जो आंखें, चेहरा, और मन न पढ़ सकें,
जो खामोशी तक न समझ सकें,
वो जज़्बात क्या समझेंगे?

#कविता #हिन्दीकविता #नज़्म #दर्दभरीकविता #sadpoem

15 Love

"वीडियो के लिए यूट्यूब चैनल तहरीरे अकेला पर जाएँ!! सधन्यवाद!! मुक्तक 3: पूछता रहा.. टूटा दिल लेकर घूमता रहा, मेहर में आशिक़ झूमता रहा, बेहद ज़िद्दी है, इश्क़ भी यहाँ, मैं ना करता,वो पूछता रहा । - आशीष सिंह ठाकुर 'अकेला'"

वीडियो के लिए यूट्यूब चैनल तहरीरे अकेला पर जाएँ!! सधन्यवाद!!

मुक्तक 3: पूछता रहा.. 

टूटा दिल लेकर घूमता रहा,
मेहर में आशिक़ झूमता रहा,
बेहद ज़िद्दी है, इश्क़ भी यहाँ,
मैं ना करता,वो पूछता रहा ।

- आशीष सिंह ठाकुर 'अकेला'

#हिन्दीकविता #हिंदीसाहित्य #हिन्दीमुक्तक #lovepoem

16 Love