tags

Best श्रीराम Shayari, Status, Quotes, Stories, Poem

Find the Best श्रीराम Shayari, Status, Quotes from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos.

  • 85 Followers
  • 223 Stories
  • Popular
  • Latest
  • Video

"वो राम है"

वो राम है

Bol: Rakesh Soni (Advocate) ji
#dharm #aastha #धर्म #धर्म_और_आस्था #श्रीराम #ramayan #Rammandir #Nojoto #Trending #AyodhyaKeRam

241 Love
9.9K Views
2 Share

एक दुर्लभ कथा लक्ष्मण जी की

लक्ष्मण जी के त्याग की अदभुत कथा ।

एक अनजाने सत्य से परिचय---

-हनुमानजी की रामभक्ति की गाथा संसार में भर में गाई
जाती है।

140 Love
1 Share

""

"अगर मैं रावण होता तो अगर मैं रावण होता तो कहता मानव जात को, बंद करो यह अत्याचार, बस करो अब ये विनाश, मेरी किस्मत में लिखा था श्रीराम के हाथों मुक्ति पाना, इसलिए मैंने हरिप्रिया का किया था हरण, अधर्मी कह कर फिर मुझे पुकारा गया था, अधर्मी में अगर होता तो सीता मेरे राज्य में पवित्र ना रहती, और अपने पापों की सजा मैंने अपना कुल और राज्य खोकर चुकाई थी, अपना सम्मान मान प्रतिष्ठा भी मैंने सब कुछ गवाई थी, रावण का अहंकार-रावण का अहंकार कह कर तुम सबको ताना देते हो, अगर मैं रावण अहंकारी होता तो अंत में भी क्षमा की याचना नहीं करता, और ना ही श्रीराम लक्ष्मण को मेरे अंतिम दर्शन के लिए भेजते, पर आजकल का मानव तो दुष्टता की हर हद पार कर चुका है, उनमें ना दया बची है ना शर्मिंदगी, हर साल दशहरा मनाते हो बुराई पर अच्छाई की विजय का पर्व है, पर मन तो तुम्हारे मैल से सने हैं और तुम दशहरा मनाते हो, फिर किस अच्छाई की तुम उम्मीद लगाते हो, आखिर हर साल रावण जलाकर तुम क्या साबित करना चाहते हो, एक ही बार में अपने मन के रावण को क्यों नहीं जला देते, ताकि संसार से सारे अपराध ही खत्म हो जाए, पुरुष पराई स्त्री को मां बेटी बहन समान समझे, और स्त्री पराये पुरुष को पिता भाई पुत्र के समान समझे, किसी की भलाई ना कर सको तो किसी का बुरा तो ना करो, हां मैं रावण जिसे तुम हर साल जलाते हो, अपने मन के रावण को फिर भी तुम सब कुशल बचाते हो, असली दशहरा तो तभी जलेगा जब तुम अपने अंदर के रावण को खत्म कर दोगे, अपने मन की सारी बुराइयों को मिटा दोगे क्या तुम्हारा फर्ज नहीं बनता इस दशहरे अपने मन के रावण को जलाना।।"

अगर मैं रावण होता तो अगर मैं रावण होता तो कहता मानव जात को,
बंद करो यह अत्याचार, बस करो अब ये विनाश,
मेरी किस्मत में लिखा था श्रीराम के हाथों मुक्ति पाना,
इसलिए मैंने हरिप्रिया का किया था हरण,
अधर्मी कह कर फिर मुझे पुकारा गया था,
अधर्मी में अगर होता तो सीता मेरे राज्य में पवित्र ना रहती,
और अपने पापों की सजा मैंने अपना कुल और राज्य खोकर चुकाई थी,
अपना सम्मान मान प्रतिष्ठा भी मैंने सब कुछ गवाई थी,
रावण का अहंकार-रावण का अहंकार कह कर तुम सबको ताना देते हो, 
अगर मैं रावण अहंकारी होता तो अंत में भी क्षमा की याचना नहीं करता, 
और ना ही श्रीराम लक्ष्मण को मेरे अंतिम दर्शन के लिए भेजते,
पर आजकल का मानव तो दुष्टता की हर हद पार कर चुका है,
उनमें ना दया बची है ना शर्मिंदगी,
हर साल दशहरा मनाते हो बुराई पर अच्छाई की विजय का पर्व है,
पर मन तो तुम्हारे मैल से सने हैं और तुम दशहरा मनाते हो,
फिर किस अच्छाई की तुम उम्मीद लगाते हो,
आखिर हर साल रावण जलाकर तुम क्या साबित करना चाहते हो,
एक ही बार में अपने मन के रावण को क्यों नहीं जला देते,
ताकि संसार से सारे अपराध ही खत्म हो जाए,
 पुरुष पराई स्त्री को मां बेटी बहन समान समझे,
और स्त्री पराये पुरुष को पिता भाई पुत्र के समान समझे,
किसी की भलाई ना कर सको तो किसी का बुरा तो ना करो,
हां मैं रावण जिसे तुम हर साल जलाते हो,
अपने मन के रावण को फिर भी तुम सब कुशल बचाते हो,
असली दशहरा तो तभी जलेगा जब तुम अपने अंदर के रावण को खत्म कर दोगे,
अपने मन की सारी बुराइयों को मिटा दोगे
क्या तुम्हारा फर्ज नहीं बनता इस दशहरे अपने मन के रावण को जलाना।।

#अगर #मैं #रावण #होता #तो
अगर आज रावण होता तो रावण भी आज के समाज की दुर्दशा देखकर कहता कि अच्छा हुआ मैं बहुत पहले भगवान के हाथों मारा गया🙏🙏🙏🙏🙏
अगर मैं रावण होता तो कहता मानव जात को,
बंद करो यह अत्याचार, बस करो अब ये विनाश,
मेरी किस्मत में लिखा था श्रीराम के हाथों मुक्ति पाना,
इसलिए मैंने हरिप्रिया का किया था हरण,
अधर्मी कह कर फिर मुझे पुकारा गया था,
अधर्मी में अगर होता तो सीता मेरे राज्य में पवित्र ना रहती,

85 Love
1 Share

""

"ना शर्मिन्दगी ना खौफ ना था कोई मलाल ना हिन्दू ना मुसलमान य़े थे सिर्फ धर्म के दलाल (Read in caption )"

ना  शर्मिन्दगी  ना  खौफ  ना  था  कोई  मलाल 
ना हिन्दू  ना  मुसलमान  य़े  थे  सिर्फ  धर्म  के  दलाल 


(Read in caption )

#Afsana

जीसस ने कल रात श्रीराम जी को फोन लगा दिया और पूछा तेरे नाम पर यह मुसलमानों का घर किसने जला दिया
सुनकर श्रीराम जी फिर नम हो गए बिना किसी गलती के वो सरेआम शर्मिंदा हो गए

थोड़ी देर में जीसस ने एक और फोन घुमाया इस बार यह फोन अल्लाह को था आया
जीसस बोले मैं बात कर तो रहा था ना फिर क्यों तेरे बन्दो ने जाकर उस हिंदू का घर जलाया

66 Love

""

"जीसस ने कल रात श्रीराम जी को फोन लगा दिया और पूछा तेरे नाम पर यह मुसलमानों का घर किसने जला दिया सुनकर श्रीराम जी फिर नम हो गए बिना किसी गलती के वो सरेआम शर्मिंदा हो गए New poetry in making tell me if it looks good"

जीसस ने कल रात श्रीराम जी को फोन लगा दिया और पूछा  तेरे नाम पर यह मुसलमानों का घर किसने जला दिया 
सुनकर श्रीराम जी फिर नम हो गए बिना किसी गलती के वो  सरेआम शर्मिंदा हो गए

New poetry in making tell me if it looks good

#Afsana

61 Love