tags

Best englishbulldog Shayari, Status, Quotes, Stories, Poem

Find the Best englishbulldog Shayari, Status, Quotes from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos.

  • 1 Followers
  • 7 Stories
  • Latest
  • Video

""

"#OpenPoetry देखों सरकार की अंधी चाल कैसे डवाडोल हो रहा है, रोज रेप हो रहाऔर संसद में तीन तलाक बोल रहा है। तीन तलाक से क्या उन जिस्म के आदमखोरों को सजा मिल पाएगा, जो शादी की जोड़ा तक नहीं पहनी उन बेटियों को इंसाफ मिल जाएगा। कोर्ट कचहरी की चक्कर में मर गई पर रेपिस्ट को फांसी नहीं मिल रहा है। देखों सरकार की अंधी चाल कैसे डवाडोल हो रहा है, रोज रेप हो रहाऔर संसद में तीन तलाक बोल रहा है।"

#OpenPoetry देखों सरकार की अंधी चाल कैसे डवाडोल हो रहा है, 
रोज रेप हो रहाऔर संसद में तीन तलाक बोल रहा है। 

तीन तलाक से क्या उन जिस्म के 
आदमखोरों को सजा मिल पाएगा,
जो शादी की जोड़ा तक नहीं पहनी 
उन बेटियों को इंसाफ मिल जाएगा।
कोर्ट कचहरी की चक्कर में मर गई
पर रेपिस्ट को फांसी नहीं मिल रहा है। 
देखों सरकार की अंधी चाल कैसे डवाडोल हो रहा है, 
रोज रेप हो रहाऔर संसद में तीन तलाक बोल रहा है।

#OpenPoetry
#satyaprem #amandeep #ArunRena#NojotoVideo #shivisharma #najoto #najotovideo#nojotopower #englishbulldog #Comedy #sharyari#Bindasskudii

29 Love
1 Share

""

"पूछना है तुम्हें जो भी पूछ लो आज मुझसे, पर ये मत पूछना दिल टूटा है किस किस से। Kundan's poetry"

पूछना है तुम्हें जो भी पूछ लो आज मुझसे,
पर ये मत पूछना दिल टूटा है किस किस से।
Kundan's poetry

#follow and read #more such type of#quotes
#Kundan'spoetry#Hindipoem
#streetphotography #satyaprem #amandeep #ArunRena#NojotoVideo #shivisharma #najoto #najotovideo#nojotopower #englishbulldog #Comedy #sharyari #Bindasskudii

43 Love
2 Share

#तुम हो मेरे जीवन की दीपक
#मैं हूँ उसका बाती ।।
#follow and read #more such type of#quotes
#Kundan's poetry
#satyaprem #amandeep #ArunRena#NojotoVideo #shivisharma #najoto #najotovideo#nojotopower #englishbulldog #Comedy #sharyari #Bindasskudii

32 Love
60 Views

""

"खुशियों से भर जाये आंगन मिले सभी को प्यार, प्रातः की यह पहली किरण लाए हजारों बहार ।।"

खुशियों से भर जाये आंगन मिले सभी को प्यार,
प्रातः की यह पहली किरण लाए हजारों बहार ।।

#Good morning
#streetphotography
#amandeep #ArunRena #NojotoVideo #nojotost #shivisharma #najoto #Mittal #sharyari #englishbulldog #Englishwords

47 Love

""

"#OpenPoetry पैसा हम कमाते हैं, पर सामान समाज से लाते हैं, अपनी खुद़गर्जी के लिए खाना कचरा में बहाते हैं। रोब  तो  हम  ऐसे  दिखाते  हैं जैसे  दुनियाँ  हमारी जागीर हो, दूसरों से हम कम नहीं के फेर में अपनी औकात भी भूल जाते हैं। जहाँ  चार  पूड़ी  की  जरूरत वहाँ  हम  दस  पूड़ी  मंगाते हैं। ओरों का समझ पत्ते में यूंही छोड़ हम हाथ  धोकर  चले  जाते  हैं।। पैसा हम कमाते हैं, पर सामान समाज से लाते हैं, अपनी खुद़गर्जी के लिए खाना कचरा में बहाते हैं। दोस्तों में अपनी इमेज बने दो के बदले तीन प्लेट मंगाते हैं, आधा अधूरा खाकर हम यूंही छोड़ चले जाते हैं।। जहाँ पानी की नहीं जरूरत वहाँ बोतलों का बोतल बहाते हैं, अपनी नीच सोच के कारण पैसा फेक कर चले जाते हैं।। पैसा हम कमाते हैं, पर सामान समाज से लाते हैं, अपनी खुद़गर्जी के लिए खाना कचरा में बहाते हैं। इसी सोच के कारण आज शहरों का बहुत बुरा हाल है, हर कचरे के डब्बे में परा भोजन  का  भंडार  है ।। गली मोहल्ले चौराहों में फैला बदबू का जाल है, महामारी और हैजा भी हम इंसानों का अहंकार है। पैसा हम कमाते हैं, पर सामान समाज से लाते हैं, अपनी खुद़गर्जी के लिए खाना कचरा में बहाते हैं। किसी देश या राष्ट्र को उन्नत शुध्द भोजन जल व हवा बनाता है, भूखमरी जल व बीमारी जैसे आर्थिक संकट से बचाता है।। यह तभी संभव होगा जब हम अन्न का महत्व समझ जाएंगे , खुद के स्वार्थ से उपर उठ कर, भोजन को बर्बाद होने से बचाएंगे। पैसा हम कमाते हैं, पर सामान समाज से लाते हैं, अपनी खुद़गर्जी के लिए खाना कचरा में बहाते हैं। _Kund@n"

#OpenPoetry   पैसा हम कमाते हैं, पर सामान समाज से लाते हैं,
अपनी खुद़गर्जी के लिए खाना कचरा में बहाते हैं।
रोब  तो  हम  ऐसे  दिखाते  हैं
जैसे  दुनियाँ  हमारी जागीर हो, 
दूसरों से हम कम नहीं के फेर में 
अपनी औकात भी भूल जाते हैं।
जहाँ  चार  पूड़ी  की  जरूरत 
वहाँ  हम  दस  पूड़ी  मंगाते हैं। 
ओरों का समझ पत्ते में यूंही छोड़ 
हम हाथ  धोकर  चले  जाते  हैं।। 
पैसा हम कमाते हैं, पर सामान समाज से लाते हैं,
अपनी खुद़गर्जी के लिए खाना कचरा में बहाते हैं।
दोस्तों में अपनी इमेज बने
दो के बदले तीन प्लेट मंगाते हैं,
आधा अधूरा खाकर हम
यूंही छोड़ चले जाते हैं।।
जहाँ पानी की नहीं जरूरत
वहाँ बोतलों का बोतल बहाते हैं,
अपनी नीच सोच के कारण
पैसा फेक कर चले जाते हैं।।
पैसा हम कमाते हैं, पर सामान समाज से लाते हैं,
अपनी खुद़गर्जी के लिए खाना कचरा में बहाते हैं।
इसी सोच के कारण आज 
शहरों का बहुत बुरा हाल है, 
हर कचरे के डब्बे में परा 
भोजन  का  भंडार  है ।। 
गली मोहल्ले चौराहों में
फैला बदबू का जाल है, 
महामारी और हैजा भी 
हम इंसानों का अहंकार है। 
पैसा हम कमाते हैं, पर सामान समाज से लाते हैं,
अपनी खुद़गर्जी के लिए खाना कचरा में बहाते हैं।
किसी देश या राष्ट्र को उन्नत 
शुध्द भोजन जल व हवा बनाता है, 
भूखमरी जल व बीमारी जैसे 
आर्थिक संकट से बचाता है।। 
यह तभी संभव होगा जब हम 
अन्न का महत्व समझ जाएंगे , 
खुद के स्वार्थ से उपर उठ कर, 
भोजन को बर्बाद होने से बचाएंगे। 
पैसा हम कमाते हैं, पर सामान समाज से लाते हैं,
अपनी खुद़गर्जी के लिए खाना कचरा में बहाते हैं।
_Kund@n

#OpenPoetry
''पैसा हम कमाते हैं, पर सामान समाज से लाते हैं,
अपनी खुद़गर्जी के लिए खाना कचरा में बहाते हैं।''

पैसा हम कमाते हैं, पर सामान समाज से लाते हैं,
अपनी खुद़गर्जी के लिए खाना कचरा में बहाते हैं।
रोब  तो  हम  ऐसे  दिखाते  हैं
जैसे  दुनियाँ  हमारी जागीर हो,

61 Love
6 Share