tags

Best Hindi Shayari, Status, Quotes, Stories, Poem

Find the Best Hindi Shayari, Status, Quotes from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos about hindi song, i hindi songs, i songs hindi.

  • 5729 Followers
  • 35992 Stories
  • Popular Stories
  • Latest Stories

"वो गालिब की जुबां से बयां शायरी है मीर की खुदा की खता से मिल गई वो तुझे बिष्ट वरना तेरे सजदे में इतनी शिद्दत कहा जो ठुकरा दे खुदा से मन्नत किसी पीर की"

वो गालिब की जुबां से बयां शायरी है मीर की

खुदा की खता से मिल गई वो तुझे बिष्ट

वरना तेरे सजदे में इतनी शिद्दत कहा
जो ठुकरा दे खुदा से मन्नत किसी पीर की

#Love #Shayari #urdu #Hindi #Galib #mir

11 Love

"#Joker जब तक जिंदा रहूं मुझे मेरे कर्मों का अहसास दिलाते रहना हर मौड़ पर इन्सानियत सिखाते रहना ऐ खुदा जब तक जिंदा रहूँ मुझे मेरी औकात बताते रहना"

#Joker जब तक जिंदा रहूं

मुझे मेरे कर्मों का अहसास 
दिलाते रहना
हर मौड़ पर इन्सानियत
सिखाते रहना
ऐ खुदा जब तक जिंदा रहूँ
मुझे मेरी औकात बताते रहना

Heart Breaking Quotes Ever #sachinkumar #sadquotes #Hindi

12 Love

"दुखों का रोना... रोया ना कर, दर्द को अपने... भुलाया ना कर। सँवार कर.. उसको .., कुछ इस तरह... निकाला कर। देख.....खुदा...बोल उठे.... मिर्ज़ा मिर्ज़ा ग़ालिब ग़ालिब...। इत्तु सा..."

दुखों का रोना...
रोया ना कर,
दर्द को अपने...
भुलाया ना कर।
सँवार कर.. 
उसको ..,
कुछ इस तरह...
निकाला कर।
देख.....खुदा...बोल उठे....
मिर्ज़ा मिर्ज़ा ग़ालिब ग़ालिब...।

इत्तु सा...

इत्तु सा पैग़ाम दुखड़े के नाम।

दुखों का रोना रोया ना कर,
दर्द को अपने भुलाया ना कर।
सँवार कर.. उसको ..,
कुछ इस तरह निकाला कर।
देख.....खुदा...बोल उठे....
मिर्ज़ा मिर्ज़ा ग़ालिब ग़ालिब...।

22 Love

"दिल धड़कता है तो धड़कने दो जान थोड़ी है ये इश्क विश्क का चक्कर छोड़ो ईमान थोड़ी है पत्थर से ढक रहे है अपनों को मचान थोड़ी है अपनों से गद्दारी कर दे हम लोग बेइमान थोड़ी है इतना अपना जमीर बेचा नहीं है बेकार खून थोड़ी है धड़कते सीने में जो दिल है अपना आरिफ बेजान थोड़ी है"

दिल धड़कता है तो धड़कने दो
जान थोड़ी है 

ये इश्क विश्क का चक्कर छोड़ो
ईमान थोड़ी है

पत्थर से ढक रहे है अपनों को
मचान थोड़ी है

अपनों से गद्दारी कर दे हम लोग
बेइमान थोड़ी है

इतना अपना जमीर बेचा नहीं है
बेकार खून थोड़ी है

धड़कते सीने में जो दिल है अपना
आरिफ बेजान थोड़ी है

दिल धड़कता है तो धड़कने दो
जान थोड़ी है

ये इश्क विश्क का चक्कर छोड़ो
ईमान थोड़ी है

पत्थर से ढक रहे है अपनों को
मचान थोड़ी है

27 Love

#Kabira #ghazal #mohabbat #Dillagi #ishq #Shayari #urdu #Hindi #urdushayari #musashayar

12 Love
86 Views