tags

Best तो Shayari, Status, Quotes, Stories, Poem

Find the Best तो Shayari, Status, Quotes from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos.

  • 306 Followers
  • 459 Stories
  • Popular
  • Latest
  • Video

""

"बचपन के आंगन पे दौड़ रही है मेरी कलम,,जरा जवान तो होने दे. तेरी बेवफ़ाई के दर्द की कहानी को,,वाहवाही में ना बदल दुं तो कहना।"

बचपन के आंगन पे दौड़ रही है मेरी कलम,,जरा जवान तो होने दे.
तेरी बेवफ़ाई के दर्द की कहानी को,,वाहवाही में ना बदल दुं तो कहना।

#तो#कहना✍️ #Love #Poetry #Hindi
@Ruchika @varsha swaroop @Nisha khan @kaur B 😊😊 @suman# @✍️priyanka

181 Love
3 Share

""

"#BestFriend'sDay दोस्त हो तो नेक हो हमारी खुशियों में सारिक हो हमारे गमों का हिस्सेदार हो ना की उसके मन में किसी का प्रकार कोई मैल हो और ना ही वो दिल फेंक हो सच्चा नेक दिल बांदा हो जो साफ नीयत के साथ नेक राह पर चलता हो।"

#BestFriend'sDay दोस्त हो तो नेक हो हमारी खुशियों में सारिक हो हमारे गमों का
 हिस्सेदार हो ना की उसके मन में किसी का प्रकार कोई मैल हो 
और ना ही वो दिल फेंक हो सच्चा नेक दिल बांदा हो जो साफ नीयत के 
साथ नेक राह पर चलता हो।

#nojotohindi #Storie #दोस्त #हो #तो...........

136 Love
2 Share

""

"खुशियाँ तो हमारे भीतरी मन में छुपी होती है बस उन्हे हमारे द्धारा एक सकारात्मक माहौल देने की जरूरत होती है।"

खुशियाँ तो हमारे भीतरी मन में छुपी होती है
बस उन्हे हमारे द्धारा एक सकारात्मक माहौल देने की 
जरूरत होती है।

#nojotohindi #Storie #खुशियाँ #तो............

99 Love
3 Share

""

"वादें टूट जाते हैं जब ख़ुशी देने वाले अपने तो होते ही है, पर गम देने वाले भी अजनबी नहीं होते !! -- Ankitmotivation06"

वादें टूट जाते हैं जब ख़ुशी देने वाले अपने तो होते ही है,
पर गम देने वाले भी अजनबी नहीं होते !!
 --  
Ankitmotivation06

✍️✍️✍️#Nojoto #nojotoapp #Shayari #poem #kavita #Poetry #Stories #Love #Motivation #शायरी #कविता #विचार #सफलता #कामयाबी #जोश #जूनून #ख़ुशी #देने #वाले #अपने #तो #होते #ही #है #गम #देने #वाले #भी #अजनबी #नहीं #होते #दिलकेअल्फाज #रूहकीआवाज #रूहकेलफ्ज #प्यार #कविताये #लक्ष्य @Shibani🌹 @Internet Jockey @Pooja @Satyaprem Upadhyay Rashmi Jha ( Heart❤Drive )

87 Love
3 Share

""

"अगर मैं रावण होता तो अगर मैं रावण होता तो कहता मानव जात को, बंद करो यह अत्याचार, बस करो अब ये विनाश, मेरी किस्मत में लिखा था श्रीराम के हाथों मुक्ति पाना, इसलिए मैंने हरिप्रिया का किया था हरण, अधर्मी कह कर फिर मुझे पुकारा गया था, अधर्मी में अगर होता तो सीता मेरे राज्य में पवित्र ना रहती, और अपने पापों की सजा मैंने अपना कुल और राज्य खोकर चुकाई थी, अपना सम्मान मान प्रतिष्ठा भी मैंने सब कुछ गवाई थी, रावण का अहंकार-रावण का अहंकार कह कर तुम सबको ताना देते हो, अगर मैं रावण अहंकारी होता तो अंत में भी क्षमा की याचना नहीं करता, और ना ही श्रीराम लक्ष्मण को मेरे अंतिम दर्शन के लिए भेजते, पर आजकल का मानव तो दुष्टता की हर हद पार कर चुका है, उनमें ना दया बची है ना शर्मिंदगी, हर साल दशहरा मनाते हो बुराई पर अच्छाई की विजय का पर्व है, पर मन तो तुम्हारे मैल से सने हैं और तुम दशहरा मनाते हो, फिर किस अच्छाई की तुम उम्मीद लगाते हो, आखिर हर साल रावण जलाकर तुम क्या साबित करना चाहते हो, एक ही बार में अपने मन के रावण को क्यों नहीं जला देते, ताकि संसार से सारे अपराध ही खत्म हो जाए, पुरुष पराई स्त्री को मां बेटी बहन समान समझे, और स्त्री पराये पुरुष को पिता भाई पुत्र के समान समझे, किसी की भलाई ना कर सको तो किसी का बुरा तो ना करो, हां मैं रावण जिसे तुम हर साल जलाते हो, अपने मन के रावण को फिर भी तुम सब कुशल बचाते हो, असली दशहरा तो तभी जलेगा जब तुम अपने अंदर के रावण को खत्म कर दोगे, अपने मन की सारी बुराइयों को मिटा दोगे क्या तुम्हारा फर्ज नहीं बनता इस दशहरे अपने मन के रावण को जलाना।।"

अगर मैं रावण होता तो अगर मैं रावण होता तो कहता मानव जात को,
बंद करो यह अत्याचार, बस करो अब ये विनाश,
मेरी किस्मत में लिखा था श्रीराम के हाथों मुक्ति पाना,
इसलिए मैंने हरिप्रिया का किया था हरण,
अधर्मी कह कर फिर मुझे पुकारा गया था,
अधर्मी में अगर होता तो सीता मेरे राज्य में पवित्र ना रहती,
और अपने पापों की सजा मैंने अपना कुल और राज्य खोकर चुकाई थी,
अपना सम्मान मान प्रतिष्ठा भी मैंने सब कुछ गवाई थी,
रावण का अहंकार-रावण का अहंकार कह कर तुम सबको ताना देते हो, 
अगर मैं रावण अहंकारी होता तो अंत में भी क्षमा की याचना नहीं करता, 
और ना ही श्रीराम लक्ष्मण को मेरे अंतिम दर्शन के लिए भेजते,
पर आजकल का मानव तो दुष्टता की हर हद पार कर चुका है,
उनमें ना दया बची है ना शर्मिंदगी,
हर साल दशहरा मनाते हो बुराई पर अच्छाई की विजय का पर्व है,
पर मन तो तुम्हारे मैल से सने हैं और तुम दशहरा मनाते हो,
फिर किस अच्छाई की तुम उम्मीद लगाते हो,
आखिर हर साल रावण जलाकर तुम क्या साबित करना चाहते हो,
एक ही बार में अपने मन के रावण को क्यों नहीं जला देते,
ताकि संसार से सारे अपराध ही खत्म हो जाए,
 पुरुष पराई स्त्री को मां बेटी बहन समान समझे,
और स्त्री पराये पुरुष को पिता भाई पुत्र के समान समझे,
किसी की भलाई ना कर सको तो किसी का बुरा तो ना करो,
हां मैं रावण जिसे तुम हर साल जलाते हो,
अपने मन के रावण को फिर भी तुम सब कुशल बचाते हो,
असली दशहरा तो तभी जलेगा जब तुम अपने अंदर के रावण को खत्म कर दोगे,
अपने मन की सारी बुराइयों को मिटा दोगे
क्या तुम्हारा फर्ज नहीं बनता इस दशहरे अपने मन के रावण को जलाना।।

#अगर #मैं #रावण #होता #तो
अगर आज रावण होता तो रावण भी आज के समाज की दुर्दशा देखकर कहता कि अच्छा हुआ मैं बहुत पहले भगवान के हाथों मारा गया🙏🙏🙏🙏🙏
अगर मैं रावण होता तो कहता मानव जात को,
बंद करो यह अत्याचार, बस करो अब ये विनाश,
मेरी किस्मत में लिखा था श्रीराम के हाथों मुक्ति पाना,
इसलिए मैंने हरिप्रिया का किया था हरण,
अधर्मी कह कर फिर मुझे पुकारा गया था,
अधर्मी में अगर होता तो सीता मेरे राज्य में पवित्र ना रहती,

84 Love
1 Share