tags

Best जय Shayari, Status, Quotes, Stories, Poem

Find the Best जय Shayari, Status, Quotes from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos.

  • 1409 Followers
  • 6624 Stories
  • Popular
  • Latest
  • Video

"ये है संपूर्ण हनुमान द्वादशनाम स्तोत्र ॐ हनुमान् अंजनी सूनुर्वायुर्पुत्रो महाबलः, श्रीरामेष्टः फाल्गुनसंखः पिंगाक्षोऽमित विक्रमः। उदधिक्रमणश्चैव सीताशोकविनाशनः, लक्ष्मणप्राणदाता च दशग्रीवस्य दर्पहा।। एवं द्वादश नामानि कपीन्द्रस्य महात्मन:। स्वाल्पकाले प्रबोधे च यात्राकाले य: पठेत्।। तस्य सर्वभयं नास्ति रणे च विजयी भवेत्। राजद्वारे गह्वरे च भयं नास्ति कदाचन।। अर्थ:- हनुमान, अंजनीसुत, वायुपुत्र, महाबली, रामेष्ट, फाल्गुन सखा, पिंगाक्ष, अमित विक्रम, उदधिक्रमण, सीता शोक विनाशन, लक्ष्मण प्राणदाता, दशग्रीव दर्पहा। वानरराज हनुमान के इन 12 नामों का जाप सुबह, दोपहर, संध्याकाल और यात्रा के दौरान जो करता है। उसे किसी तरह का भय नहीं रहता, हर जग9ह उसकी विजय होती है।"

ये है संपूर्ण हनुमान द्वादशनाम स्तोत्र

ॐ हनुमान् अंजनी सूनुर्वायुर्पुत्रो महाबलः, श्रीरामेष्टः फाल्गुनसंखः पिंगाक्षोऽमित विक्रमः।

उदधिक्रमणश्चैव सीताशोकविनाशनः, लक्ष्मणप्राणदाता च दशग्रीवस्य दर्पहा।।

एवं द्वादश नामानि कपीन्द्रस्य महात्मन:। स्वाल्पकाले प्रबोधे च यात्राकाले य: पठेत्।।

तस्य सर्वभयं नास्ति रणे च विजयी भवेत्। राजद्वारे गह्वरे च भयं नास्ति कदाचन।।

अर्थ:- हनुमान, अंजनीसुत, वायुपुत्र, महाबली, रामेष्ट, फाल्गुन सखा, पिंगाक्ष, अमित विक्रम, उदधिक्रमण, सीता शोक विनाशन, लक्ष्मण प्राणदाता, दशग्रीव दर्पहा। वानरराज हनुमान के इन 12 नामों का जाप सुबह, दोपहर, संध्याकाल और यात्रा के दौरान जो करता है। उसे किसी तरह का भय नहीं रहता, हर जग9ह उसकी विजय होती है।

#जय हनुमान बजरंगबली की

13 Love

"#जय जय जय बजरंबली जो इस धरा पर शौर्य और त्याग के परिचायक है, शक्ति जिनकी अपार तीनो लोको के नायक है। प्रभु के चरणों के दास माँ सीता के उपासक है, सरकार मैया समेत जिनके ह्रदय के शासक है। प्रभु श्रीराम के सबसे प्रिय सबसे बड़े भक्त है पर्वत को जो उठा लाये अपने आप में सशक्त है। जिनके महिमा के चर्चे मशहूर है हर गली-गली, जय जय बजरंगबली, जय जय जय बजरंगबली। ©प्रतोष कुमार सिंह"

#जय जय जय बजरंबली

जो इस धरा पर शौर्य और त्याग के परिचायक है,
शक्ति जिनकी अपार तीनो लोको के नायक है।
प्रभु के चरणों के दास माँ सीता के उपासक है,
सरकार मैया समेत जिनके ह्रदय के शासक है।
प्रभु श्रीराम के सबसे प्रिय सबसे बड़े भक्त है
पर्वत को जो उठा लाये अपने आप में सशक्त है।
जिनके महिमा के चर्चे मशहूर है हर गली-गली,
जय जय बजरंगबली, जय जय जय बजरंगबली।

                          ©प्रतोष कुमार सिंह

#hanuman_jayanti

12 Love
1 Share

"शुभ मंगलवार श्री हनमते नमः स्वरचित कविता शीर्षक - संसार का उद्धार (प्रार्थना) सारी सृष्टि के आधार, हे ईश्वर हे प्राणनाथ। संकट रहित करो संसार, विनय करूंँ मैं बारम्बार। जल में, थल में, नीलगगन में तुम, तुम ही हो निराकार। तेरे अनन्न भक्त हैं भगवान, कर दो भक्तों का उद्धार। हे जग के स्वामी अन्तर्यामी, तुम ही हो तारणहार। त्रुटियांँ सारी क्षमा करो प्रभु, विनय करे "मन" बारम्बार। बीच धार में नैया है प्रभु , इस पार करो या उस पार। अन्तिम आश आप पर भगवन, दुखिया जन की सुन लो पुकार। आज अगर न सुना किसी की , दुनिया कहेगी निराधार। सारे जीव सुखमय हो जाएंँ, कर दो प्रभु कुछ चमत्कार। जय श्री राम 🙏🚩🇮🇳🇮🇳 रचनाकार मौर्यवंशी मनीष "मन" भरवारी कौशांबी (उ.प्र.)"

शुभ मंगलवार
श्री हनमते नमः

स्वरचित कविता
शीर्षक - संसार का उद्धार (प्रार्थना)


सारी सृष्टि के आधार, हे ईश्वर हे प्राणनाथ। 
संकट रहित करो संसार, विनय करूंँ मैं बारम्बार।

जल में, थल में, नीलगगन में तुम, तुम ही हो निराकार।
तेरे अनन्न भक्त हैं भगवान, कर दो भक्तों का उद्धार।

हे जग के स्वामी अन्तर्यामी, तुम ही हो तारणहार।
त्रुटियांँ सारी क्षमा करो प्रभु, विनय करे "मन"  बारम्बार।

बीच धार में नैया है प्रभु , इस पार करो या उस पार।
अन्तिम आश आप पर भगवन, दुखिया जन की सुन लो पुकार।

आज अगर न सुना किसी की , दुनिया कहेगी निराधार।
सारे जीव सुखमय हो जाएंँ, कर दो प्रभु कुछ चमत्कार।
 
जय श्री राम 🙏🚩🇮🇳🇮🇳

रचनाकार
मौर्यवंशी मनीष "मन"
भरवारी कौशांबी (उ.प्र.)

#ईश्वर #प्रार्थना #शुभमंगल
#आधार #जय #श्रीराम @milli kavi Ajay maurya(#आश्वस्त🇮🇳) @Dee... @Dear Diary✍🏻 @Devendra Kumar

11 Love

"""जय महाकाल"" रोशन सा दिपक लेकर , आया था कोई, "आशिकों कि बस्ती में" गम भूलाने को हमारे, डुबा दिया उसने, "भांग कि मस्ती में" और लगायी जो बैठक उसनें , "श्मशान कि धरती में" हम लीन हुए महाकाल, "तेरी भक्ति में" © मनु कि कलम से ✍️✍️✍️✍️✍️"

""जय महाकाल""

रोशन सा दिपक  लेकर ,
आया था कोई,
"आशिकों कि बस्ती में"

गम भूलाने को हमारे,
 डुबा दिया उसने,
"भांग कि मस्ती में"

और
 
लगायी जो बैठक उसनें ,
"श्मशान कि धरती में"

हम लीन हुए महाकाल,
 "तेरी भक्ति में"

                © मनु कि कलम से
                 ✍️✍️✍️✍️✍️

#जय महाकाल

16 Love

"चलो सब मिलकर कुछ ऐसे देश को सजाये... दीये का कुमकुम और बिंदिया लगाये... #जय भारत #"

चलो सब मिलकर कुछ ऐसे देश को सजाये... 
दीये का कुमकुम और बिंदिया लगाये...  
#जय भारत #

#India

13 Love