Best znmd Shayari, Status, Quotes, Stories, Poem

  • 20 Followers
  • 655 Stories

Suggested Stories

Best znmd Shayari, Status, Quotes, Stories & Poem. Also read about znmd Quotes, znmd Shayari, znmd Videos, znmd Poem and znmd WhatsApp Status in English, Hindi, Urdu, Marathi, Gujarati, Punjabi, Bangla, Odia and other languages on Nojoto.

  • Latest Stories
  • Popular Stories
खुद से भी किनारा करता हूँ।।।

टूटे बिखरे ज़मीर को अपने, अपलक निहारा करता हूँ।
अपने भी पीछे छूट गए, खुद से भी किनारा करता हूँ।

टूट साख गिरा जमीं पर, हवा न थी, पतझड़ भी नहीं,
रौशन भी नहीं, न तेज रहा, खुद को सितारा कहता हूँ।

मूक रहा, बधिर रहा, बापू के तीन बन्दर सा भी नहीं,
हाथ जुड़े औ पांव बंधे, नत आंखों से इशारा करता हूँ।

विवेक रहा संवादहीन, थी कलम रही निर्बल सी पड़ी,
धुलसनी किताब पड़ी, खुद को इल्म पिटारा कहता हूँ।

पनघट पे बैठ रहा प्यासा, पानी का आना जाना रहा,
मनभूमि बंजर थी पड़ी, नदियों को इजारा करता हूँ।

गैरों की बातें चुभने लगीं, अपने जला कर चले गए,
डूब रहा अब ग्लानि में, तिनके को शिकारा कहता हूँ।

©रजनीश "स्वछंद" #NojotoQuote

खुद से भी किनारा करता हूँ।।।

टूटे बिखरे ज़मीर को अपने, अपलक निहारा करता हूँ।
अपने भी पीछे छूट गए, खुद से भी किनारा करता हूँ।

टूट साख गिरा जमीं पर, हवा न थी, पतझड़ भी नहीं,
रौशन भी नहीं, न तेज रहा, खुद को सितारा कहता हूँ।

मूक रहा, बधिर रहा, बापू के तीन बन्दर सा भी नहीं,
हाथ जुड़े औ पांव बंधे, नत आंखों से इशारा करता हूँ।

विवेक रहा संवादहीन, थी कलम रही निर्बल सी पड़ी,
धुलसनी किताब पड़ी, खुद को इल्म पिटारा कहता हूँ।

पनघट पे बैठ रहा प्यासा, पानी का आना जाना रहा,
मनभूमि बंजर थी पड़ी, नदियों को इजारा करता हूँ।

गैरों की बातें चुभने लगीं, अपने जला कर चले गए,
डूब रहा अब ग्लानि में, तिनके को शिकारा कहता हूँ।

©रजनीश "स्वछंद"

#thought #shayri #Fun #Love #poem #Comedy #Meme #Nojoto #nojotohumour #NojotoMeme #NojotoFun #kalakaksh #znmd #TST
#Nojoto #nojotohindi #kavishala #Love #Quotes #Poetry #SAD #Motivation #Life #kalakaksh

35 Love
4 Comment

आज के शीर्ष कवि में प्रथम नाम देख कर खुशी हुई।।।आप सबों से साझा करने का विचार आया। आप सबों का धन्यवाद।
#thought #shayri #Fun #Love #poem #Comedy #Meme #Nojoto #nojotohumour #NojotoMeme #NojotoFun #kalakaksh #znmd #TST
#Nojoto #nojotohindi #kavishala #Love #Quotes #Poetry #SAD #Motivation #Life #kalakaksh

12 Love
1 Comment
मैं अविरल, मैं स्वच्छंद।।

मैं उन्मुक्त, स्वच्छंद, अविरल, भावुक,
बन्ध पाऊँ कैसे गागर के पानी मे।
मेरा ध्येय अनन्त, मेरी दिशा अनन्त,
बह जाऊं जैसे सागर के पानी मे।

सूक्ष्म सचेतन ज्वलित दीप लिए कर,
तम हरने का अडिग विश्वास लिए,
जीवन पथ को पग पग नापा करता हूँ,
धमनियों में स्वबल का अट्टहास लिए।

पथद्रष्टा नहीं, संगगामी नही, स्वामी स्वयं,
हर बाधा अविरल तय कर जाता हूँ।
जगबंधु, कण कण निजरूप की छाया में,
काम क्रोध गरल भी क्षय कर जाता हूँ।

है अविनाशी कोई अम्बर में, तो हो,
स्वरचित छंदों से वज्र की संज्ञा पाता हूँ।
ना कोई दधीचि, ना कोई अश्वत्थामा,
निजकर्मो से भेदित, जग की प्रज्ञा पाता हूँ।

हर चौखट मेरा डेरा, हर मन मेरा सराय,
कह पाऊँ कैसे एक कहानी में।
मेरा ध्येय अनन्त, मेरी दिशा अनन्त,
बह जाऊं जैसे सागर के पानी मे।

©रजनीश "स्वछंद" #NojotoQuote

मैं अविरल, मैं स्वच्छंद।।

मैं उन्मुक्त, स्वच्छंद, अविरल, भावुक,
बन्ध पाऊँ कैसे गागर के पानी मे।
मेरा ध्येय अनन्त, मेरी दिशा अनन्त,
बह जाऊं जैसे सागर के पानी मे।

सूक्ष्म सचेतन ज्वलित दीप लिए कर,
तम हरने का अडिग विश्वास लिए,
जीवन पथ को पग पग नापा करता हूँ,
धमनियों में स्वबल का अट्टहास लिए।

पथद्रष्टा नहीं, संगगामी नही, स्वामी स्वयं,
हर बाधा अविरल तय कर जाता हूँ।
जगबंधु, कण कण निजरूप की छाया में,
काम क्रोध गरल भी क्षय कर जाता हूँ।

है अविनाशी कोई अम्बर में, तो हो,
स्वरचित छंदों से वज्र की संज्ञा पाता हूँ।
ना कोई दधीचि, ना कोई अश्वत्थामा,
निजकर्मो से भेदित, जग की प्रज्ञा पाता हूँ।

हर चौखट मेरा डेरा, हर मन मेरा सराय,
कह पाऊँ कैसे एक कहानी में।
मेरा ध्येय अनन्त, मेरी दिशा अनन्त,
बह जाऊं जैसे सागर के पानी मे।

©रजनीश "स्वछंद"

#thought #shayri #Fun #Love #poem #Comedy #Meme #Nojoto #nojotohumour #NojotoMeme #NojotoFun #kalakaksh #znmd #TST
#Nojoto #nojotohindi #kavishala #Love #Quotes #Poetry #SAD #Motivation #Life #kalakaksh

22 Love
0 Comment
मैं तो हूँ व्यापारी।।

मैं तो हूँ व्यापारी, बस सामान बेचता हूँ,
पैसों के अंधों को देखो ईमान बेचता हूँ।

प्रजातन्त्र के मंदिर का मैं एक पुजारी हूँ,
अंधे बहरों को आंख और कान बेचता हूँ।

सब होंगे खुशहाल, हर घर लक्ष्मी वास,
झूठ को भी देखो कैसे सच मान बेचता हूँ।

कोई भूख से मरता है, कोई चढ़ता फांसी,
इन भूखे नंगों को मुआवजे दान बेचता हूँ।

नारीशक्ति का नारा था, देवी तो बना दिया,
फिर बीच चौराहे उसका सम्मान बेचता हूँ।

कौन युवा है, कौन लड़ेगा, किसको चिंता,
नतमस्तक वीरों को तीर कमान बेचता हूँ।

निज धर्म निभाता हूँ, तेरा भी हुंकार रहे,
शब्दों में संदेश नहीं बस, प्राण बेचता हूँ।

©रजनीश "स्वछंद" #NojotoQuote

मैं तो हूँ व्यापारी।।

मैं तो हूँ व्यापारी, बस सामान बेचता हूँ,
पैसों के अंधों को देखो ईमान बेचता हूँ।

प्रजातन्त्र के मंदिर का मैं एक पुजारी हूँ,
अंधे बहरों को आंख और कान बेचता हूँ।

सब होंगे खुशहाल, हर घर लक्ष्मी वास,
झूठ को भी देखो कैसे सच मान बेचता हूँ।

कोई भूख से मरता है, कोई चढ़ता फांसी,
इन भूखे नंगों को मुआवजे दान बेचता हूँ।

नारीशक्ति का नारा था, देवी तो बना दिया,
फिर बीच चौराहे उसका सम्मान बेचता हूँ।

कौन युवा है, कौन लड़ेगा, किसको चिंता,
नतमस्तक वीरों को तीर कमान बेचता हूँ।

निज धर्म निभाता हूँ, तेरा भी हुंकार रहे,
शब्दों में संदेश नहीं बस, प्राण बेचता हूँ।

©रजनीश "स्वछंद"

#thought #shayri #Fun #Love #poem #Comedy #Meme #Nojoto #nojotohumour #NojotoMeme #NojotoFun #kalakaksh #znmd #TST
#Nojoto #nojotohindi #kavishala #Love #Quotes #Poetry #SAD #Motivation #Life #kalakaksh

31 Love
0 Comment
कुछ कह देता तो अच्छा होता।

चुपचाप रहा सहते, कुछ कह देता तो अच्छा होता।
रहे खफा यूँ भी वो, कुछ सह लेता तो अच्छा होता।

नादां था मैं, नादां थे वो, थी नादां जरा मुहब्बत भी, 
सच तो मालूम रहा, कुछ कह देता तो अच्छा होता।

कभी चांद, तारे कभी, कभी आशियाँ ख्वाबों भरे,
गुमसुदा था मैं जरा, कुछ कह देता तो अच्छा होता।

हर पन्ने पे लिखना नाम उनका, छुपा के औरों से,
पन्नो से निकल जरा, कुच्छ कह देता तो अच्छा होता।

रखना छुपाये तस्वीर, देखना उसे  छुप अकेले में,
उनसे मिल मैं जरा, कुच्छ कह देता तो अच्छा होता।

पढ़ना रातों को देर तलक, अंधेरों में ढूंढना उनको,
दिन के वक़्त जरा, कुच्छ कह देता तो अच्छा होता।

कॉलेज की सीढ़ियों पर, ले किताब देखना उनको,
रोक उनको जरा, कुच्छ कह देता तो अच्छा होता।

क्यूँ चल रहा तन्हा, अश्कों से पलकेँ भिंगोये हुए,
एक कदम पे जरा, कुछ कह देता तो अच्छा होता।

हैँ वो आज दूर बहुत, किसी पराये की बांहों में,
जब था संग जरा, कुछ कह देता तो अच्छा होता।

खुद से करता था बातें, जो अब भी हूँ करता मैं,
बात दिल की जरा, कुछ कह देता तो अच्छा होता।

©रजनीश "स्वछंद" #NojotoQuote

कुछ कह देता तो अच्छा होता।

चुपचाप रहा सहते, कुछ कह देता तो अच्छा होता।
रहे खफा यूँ भी वो, कुछ सह लेता तो अच्छा होता।

नादां था मैं, नादां थे वो, थी नादां जरा मुहब्बत भी,
सच तो मालूम रहा, कुछ कह देता तो अच्छा होता।

कभी चांद, तारे कभी, कभी आशियाँ ख्वाबों भरे,
गुमसुदा था मैं जरा, कुछ कह देता तो अच्छा होता।

हर पन्ने पे लिखना नाम उनका, छुपा के औरों से,
पन्नो से निकल जरा, कुच्छ कह देता तो अच्छा होता।

रखना छुपाये तस्वीर, देखना उसे छुप अकेले में,
उनसे मिल मैं जरा, कुच्छ कह देता तो अच्छा होता।

पढ़ना रातों को देर तलक, अंधेरों में ढूंढना उनको,
दिन के वक़्त जरा, कुच्छ कह देता तो अच्छा होता।

कॉलेज की सीढ़ियों पर, ले किताब देखना उनको,
रोक उनको जरा, कुच्छ कह देता तो अच्छा होता।

क्यूँ चल रहा तन्हा, अश्कों से पलकेँ भिंगोये हुए,
एक कदम पे जरा, कुछ कह देता तो अच्छा होता।

हैँ वो आज दूर बहुत, किसी पराये की बांहों में,
जब था संग जरा, कुछ कह देता तो अच्छा होता।

खुद से करता था बातें, जो अब भी हूँ करता मैं,
बात दिल की जरा, कुछ कह देता तो अच्छा होता।

©रजनीश "स्वछंद"

#thought #shayri #Fun #Love #poem #Comedy #Meme #Nojoto #nojotohumour #NojotoMeme #NojotoFun #kalakaksh #znmd #TST
#Nojoto #nojotohindi #kavishala #Love #Quotes #Poetry #SAD #Motivation #Life #kalakaksh

5 Love
2 Comment