• Popular Stories
  • Latest Stories
"छोटी कहानी , बड़ा सन्देश"

हैलो सर , मैं "वृद्धाश्रम" से बोल रहा हूँ , अखबार में आपके कुत्ते का फ़ोटो और विज्ञापन देखा कि वह लापता हो गया है , आपका कुत्ता हमारे वृद्धाश्रम में आ गया है और आपकी "माताजी" के साथ खेल रहा है ,

आप यहाँ आकर अपने "कुत्ते" को ले जा सकते हैं। 

#_Viku

#nojotohindi
#Mother
#newspepar

20 Love
कितना भी आगे बढ़ जाओ, शुरुआत में कहां खड़े थे तुम ये ना कभी भूलना माँ ने सिखलाया है
कितना भी ऊँचे चढ़ जाओ, जमीं को नहीं भूलना माँ ने सिखलाया है
हो राह कितना भी मुश्किल,तुम ना हिम्मत हारना माँ ने सिखलाया है
हो जाये कितना भी नाम दुनिया में,शुरुआत से जो साथ थे उसे ना कभी भूलना माँ ने सिखलाया है
हो कितना भी भीड़ पीछे,दोस्तों को ना कभी भूलना माँ ने सिखलाया है
माँ का ही आशीर्वाद है जो यूँ आगे बढ़ रहा हूँ 
दोस्तों का ही साथ है जो उंचाईयों को छू रहा रहा हूँ
उनका जो विश्वास है मैं ना कभी तोडूंगा सच्चाई के राहों पर चलना ना कभी छोडूंगा
✍️नवीन

प्यारे दोस्तों मेरी ये रचना आप सब को समर्पित है उम्मीद है आपको पसंद आएगी!कुछ दोस्त जो मुझसे नाराज चल रहे है मैं उन सब से माफ़ी माँगना चाहूंगा समय के आभाव में मैं उनकी रचना नहीं देख पा रहा हूँ लेकिन मैं भरोसा दिलाता हूँ जैसे ही सब ठीक हो जायेगा मैं आप सबकी रचनाएँ देखूंगा🙏🙏🙏
#Trust#Mother#Love#Life#aloneboy @King 👑of🔱Prince @Tarannum Sana @Rupam rajbhar @Kumari Nishi @Sarmistha Das mr.writer

101 Love
ज़ब मैं छोटा बच्चा था तुनक तुनक कर रोता था 
माँ मुझको पास बुलाती थी फिर मुझको गले लगाती थी
मैं और भी जोर से रोता था क्योंकी मैं जन्नत का सुख वहाँ पाता था
मैं ज़ब थी गलती करता था माँ मुझको समझती थी
उन्होंने ही बतलाया है सबको प्यार करना सिखलाया है
उनके ही अच्छे संस्कारों ने दुनिया में इतना नाम दिलाया है 
✍️नवीन

प्यारे दोस्तों अगर आपको मेरी रचना पसंद आये तो like और 🔔👈दबा दे🙏🙏🙏🙏
#Mother#Love#aloneboy @Hidden Diary @Sarmistha Das @Mr. MANEESH @KUNDAN KASHYAP @Jiya Awasthi Payal Singh

92 Love
#OpenPoetry 🥰Meri Ammi🌹
लफ्ज़-ए-माँ को लफ्जो में बांध सकू, हरगिज़ मुमकिन नहीं लगता,
मोहब्बत मां की, मां भी करीब हों, काम कोई नामुमकिन नहीं लगता।
शहंशाहों के वो किस्से, बालों का सहलाना कर देती थी मदहोश हमें,
महसूस होती आज भी तेरी महफूज़ वों आगोश हमें।
तेरी चुनरियों की छाव ने जलती धूप में चलना सिखाया
तेरी उंगलियों के सहारे ने गिर कर खुद से उठना सिखाया
शरारतों को तहजीब सिखाती, मिसाल बनी तू सब्र की
इल्तज़ा बस यही कि, तू ही बने मिट्टी मेरे कब्र की!
तू तो वो अफताब है, करीब आने से तपिश गमों की चार-सू हो जाती
चोट लगी तो रूह से निकलती पहली पुकार मां, अम्मी, वालिदा कहलाती...

#OpenPoetry #my #Mother #Love #toward #me #and #same #for #Her #in #my #Heart
#this #is #true #Love

31 Love
लफ्ज़-ए-माँ को लफ्जो में बांध सकू, हरगिज़ मुमकिन नहीं लगता,
मोहब्बत मां की, मां भी करीब हों, काम कोई नामुमकिन नहीं लगता।
शहंशाहों के वो किस्से, बालों का सहलाना कर देती थी मदहोश हमें,
महसूस होती आज भी तेरी महफूज़ वों आगोश हमें।
तेरी चुनरियों की छाव ने जलती धूप में चलना सिखाया
तेरी उंगलियों के सहारे ने गिर कर खुद से उठना सिखाया
शरारतों को तहजीब सिखाती, मिसाल बनी तू सब्र की
इल्तज़ा बस यही कि, तू ही बने मिट्टी मेरे कब्र की!
तू तो वो अफताब है, करीब आने से तपिश गमों की चार-सू हो जाती
चोट लगी तो रूह से निकलती पहली पुकार मां, अम्मी, वालिदा कहलाती...

🥰Meri Ammi🙏

#Mother #baby #Love #Relationship #is #the #Purest #thing #in #this #world

41 Love