tags

Best ShortStory Shayari, Status, Quotes, Stories, Poem

289 Stories- Find the Best ShortStory Shayari, Status, Quotes from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos.

  • 140 Followers
  • 289 Stories
  • Popular Stories
  • Latest Stories

""कविता" एक विवाह ऐसा भी chapter-1 -------------------- a short story read in discription"

"कविता"
एक विवाह ऐसा भी
chapter-1
--------------------
a short story
read in discription

कविता को आज कॉलेज पूरा किए 4 साल हो चुके हैं 24 वर्षीय कविता के लिए इन 4 सालों में कई रिश्ते आए मगर कुछ तो कविता के सांवले होने के कारण और कुछ तो दहेज़ न दे पाने के कारण बात आगे नहीं बढ़ी।अब तो कविता को भी लगने लगा था कि वह अपने घर वालों पर बोझ बन चुकी है।आज बड़े अरसे बाद कविता के लिए एक रिश्ता आया था लड़के के परिवार वालों ने कविता को देखा बात किया और उन्हें कविता पसंद आ गई।कविता थोड़ी देर की बात चीत के बाद अपने कमरे में चली गई उसे आज बहुत दिनों बाद अच्छा महसूस हो रहा था।कविता के पिता लडके वालों से दहेज़ के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि "भई हमें तो बस आपकी बेटी चाहिए बाकी समाज को दिखाने के लिए आपसे जो बन पड़ेगा आप कर दीजियेगा" उनका यह जवाब सुनकर कविता के पिता की आंखें नम हो गईं।मन ही मन में उन्हें लगने लगा कि हमारी बेटी इस घर में बहुत सुखी रहेगी।"हमारा बेटा मयंक अगले सप्ताह विदेश से आ जाएगा और एक बार लड़का लड़की भी एक दूसरे से मिल लें फिर बिना देर किए हम शादी की तैयारियां शुरू कर देंगे" इतना कहकर लड़के वालों ने मयंक की तस्वीर देते हुए कविता के पिता से जाने की इजाज़त मांगी।लड़के वालों के जाने के बाद कविता के पिता के चेहरे पर खुशी साफ साफ दिख रही थी।वो पड़ोसियों से जाकर अपनी खुशी जाहिर करने लगे कविता अपने पिता को इतना खुश बहुत दिनों बाद देखी थी।कविता अकेले कमरे में बैठ कर बस अपने पिता के ख़ुशी की दुआ मांग रही थी तभी उसकी मां मयंक की तस्वीर लेकर आईं और कविता से थोड़ी देर बात करने के बाद तस्वीर मेज पर रखते हुए कहीं की "बेटा एक बार लड़के की तस्वीर देख लेना बड़ी नसीब वाली हो तुम जो उनका परिवार मिल रहा है अब बस तुम्हारी शादी हो जाए तभी तुम्हारे पिता की खुशी पूरी होगी" इतना कहकर कविता की मां कमरे से बाहर आ गई।थोड़ी देर खिड़की से बाहर देखने के बाद कविता ने शर्माते शर्माते लिफ़ाफे से मयंक की तस्वीर को बाहर निकाला तस्वीर देखते ही कविता के पैरों तले जैसे ज़मीन खिसक गई।उसने फ़ौरन अपनी मां को आवाज लगाई उसकी मां ने सोचा की शायद कविता को वो लड़का पसंद आ गया है लेकिन जैसे ही वो कमरे में आईं उन्होंने देखा कि वह फूट फूट कर रो रही थी।मां के पूछने पर उसने कहा कि मां मुझे ये शादी नहीं करनी...
कहानी अभी जारी है...
Wait for chapter 2
दूसरे chapter k लिए अपने बहुमूल्य टिप्पणी ज़रूर दें
दूसरे पाठ में क्या हो सकता है ये कल्पना कर अवश्य बताएं
#कहानी #बचपन#की#कहानियां#ShortStory#लघुकथा#विवाह#कविता#sirjinojotostory#storytelling#nojotokahani#nojotonews#LoveStory

24 Love
2 Share

"-:झूले पर मौत:- a horror story of a cute girl read in discription"

-:झूले पर मौत:-
a horror story
of a
cute girl
read in discription

अपनी 12वीं जन्म दिन पर मुस्कान अपने नानी के यहां गई थी।मामा के लड़के रोहन से मिलकर वह बहुत खुश थी।रात होने पर अक्सर मुस्कान रोहन को भूत प्रेत की कहानियां सुनाकर डराया करती थी उसे डरते देख मुस्कान उसपर बहुत हंसती थी।
एक रोज रात में सोते समय रोहन ने मुस्कान को गांव में एक बगीचे के बारे में बताया कि उस बगीचे में एक भूतनी रहती है उस बगीचे में सब जाने से सभी डरते हैं ऐसा कहा जाता है कि जब वो कहीं से गुजरती है तो गुलाब की खुश्बू आने लगती है।मुस्कान उस रात बस उसी बगीचे के बारे में सोचती रही।
अगले दिन वह रोहन से उस बगीचे को दिखाने की ज़िद कर बैठी रोहन के लाख मना करने के बाद भी वह नहीं मानी और मजबूरी में रोहन को उसे वहां ले जाना ही पड़ा ,लेकिन रोहन ने वादा किया था कि बस दूर से ही देखकर आ जायेंगे मुस्कान ने भी हामी भर दी थी।दोनों बगीचे की तरफ चल पड़े वहां पहुंचकर मुस्कान ने बगीचे के एक पेड़ पर झूला लटका देखा। मुस्कान रोहन से झूला झूलने की ज़िद करने लगी रोहन ने साफ इंकार कर दिया तो मुस्कान ने कहा कि ठीक है तुम यहीं रहो मैं बस थोड़ी देर झूल कर आती हूं।रोहन उसे रोकने की पूरी कोशिश की मगर वह नहीं रुकी जैसे ही वह बगीचे की तरफ बढ़ने लगी रोहन वहां से घर की तरफ भाग निकला।
गांव से अंजान मुस्कान को बस झूला झूलने की पड़ी थी।वह पेड़ पर लगे झूले पर बैठ कर बड़े मजे से झूला झूलने लगी थोड़ी देर झूलते झूलते मुस्कान को एक महक आने लगी मुस्कान झूले पर बैठे ही इधर उधर देखने लगी, धीरे धीरे वह पहचानने लगी कि वह महक उसी गुलाब की खुश्बू की तरह है जैसा की रोहन ने बताया था।अब वह थोड़ी सी सहमी हुई लग रही थी उसने हर तरफ देखा कहीं कोई नहीं था लेकिन थोड़ी देर बाद उस पेड़ के पत्ते झड़ने लगें उसने जैसे ही सिर ऊपर किया तो उसे वही भूतनी नज़र आयी जिसकी बात रोहन कर रहा था उसने देखा कि वो भूतनी पेड़ पर उल्टी लटकी हुई है उसके बाल से पत्ते गिर रहे थे उसकी धड़कने मानो थम सी गई थी उसने वहां से भागने के लिए झूले से छलांग लगाई और गिर पड़ी।
उसकी आंख में धूल पड़ जाने के कारण वह अपनी आंखें मलने लगी और जैसे ही उसने आंखें खोली ,उसने देखा की अब वह उस भूतनी को खुद झूला झुला रही थी उसके हाथ पैर जैसे जम चुके थे वो चाह कर भी हिल नहीं पा रही थी और अगले ही पल वह अपने आप को उसी भूतनी की तरह पेड़ से उल्टी लटकी पाई मुस्कान मदद के लिए चिल्ला रही थी थोड़ी देर बाद रोहन घर वालों को लेकर वहां आ पंहुचा गया जैसे ही सब मुस्कान को बचाने के लिए उसकी ओर बढ़ें भूतनी ने मुस्कान को पेड़ से गिरा दिया और वह वहां से गायब हो गई। मुस्कान का सिर खून से लथपथ हो चुका था जब तक उसके घर वाले कुछ करते उसकी जान जा चुकी थी।

आज भी गांव के लोगों को मुस्कान अक्सर उसी झूले पर झूलते नज़र आ जाती है।
#भूतप्रेत#आत्मा#रूहानी#दुष्टात्माएं#horror#Sirji#nojotostory#nojotohindi#story#ShortStory#horrorstory

57 Love
5 Share

Tried something different 😅
#voiceover
#nojotohindi #nojoto #nojotowriters #story #ShortStory #horror #horrorstory #nojotonews

51 Love
116 Views
4 Share

"Khuda toh sabko khwab deta hai,magar bhookha pet khwabon ko kha Jata hai."

Khuda toh sabko khwab deta hai,magar 
bhookha pet khwabon ko kha Jata hai.

#ShortStory #Nojoto #faiziqbalsays #Motivation #Love #Education #Life #kavishala #Quotes #Poetry #nojotokhabri #nojotohindi #2liner #TST

15 Love

"छुट्टी(कुदरत) की अटल मुक्की 👊 के सामने जरा आके तो दिखाएँ! 'काल के कपाल' में छुट्टी की अटल मुक्की 👊 जब पड़ती है, तो काल के कपाल को चक्कर 😇 दिला देती है! काल की भी सिट्टी-पिट्टी गुम हो जाती है, उसको फिर अपनी ड्यूटी समझ नहीं आती है, कि अपनी सुई ड्यूटी करूँ कहाँ से और छुट्टी करूँ कहाँ पर, जब छुट्टी की अटल मुक्की 👊 दिख रही है सारे जहाँ पर! छुट्टी की अटल मुक्की👊😇 अटल थी, अटल है और अटल ही रहेगी, काल के कपाल की तो वो छुट्टी करके रहेगी! धन्यवाद _बधाई हो छुट्टी की अटल👊😇 मुक्की की🙏"

छुट्टी(कुदरत) की
अटल मुक्की 👊 के सामने 
जरा आके तो  दिखाएँ!
'काल के कपाल' में
छुट्टी की अटल मुक्की 👊 जब पड़ती है,
तो काल के कपाल को चक्कर 😇 दिला देती है!
काल की भी सिट्टी-पिट्टी गुम हो जाती है,
उसको फिर अपनी ड्यूटी समझ नहीं आती है,
कि
अपनी सुई ड्यूटी करूँ कहाँ से और छुट्टी करूँ कहाँ पर,
जब छुट्टी की अटल मुक्की 👊 दिख रही है सारे जहाँ पर!
छुट्टी की अटल मुक्की👊😇
अटल थी, अटल है और अटल ही रहेगी,
काल के कपाल की तो वो छुट्टी करके रहेगी!
धन्यवाद
_बधाई हो छुट्टी की अटल👊😇 मुक्की की🙏

बाधाएँ आती हैं आएँ,
छुट्टी(कुदरत) की अटल मुक्की 👊 के सामने जरा आके तो दिखाएँ!
'काल के कपाल' में छुट्टी की अटल मुक्की 👊 जब पड़ती है,
तो काल के कपाल को चक्कर 😇 दिला देती है!
काल की भी सिट्टी-पिट्टी गुम हो जाती है,
उसको फिर अपनी ड्यूटी समझ नहीं आती है,
कि
अपनी सुई ड्यूटी करूँ कहाँ से और छुट्टी करूँ कहाँ पर,
जब छुट्टी की अटल मुक्की 👊 दिख रही है सारे जहाँ पर!
छुट्टी की अटल मुक्की👊😇
अटल थी, अटल है और अटल ही रहेगी,
काल के कपाल की तो वो छुट्टी करके रहेगी!
धन्यवाद

_बधाई हो छुट्टी की अटल👊😇 मुक्की की🙏

#BadhaiHoChuttiKi
#AtalBihariVajpayee
#अटलबिहारीवाजपेयी #भारतरत्न #bharatratan #CTL #Turth #कालकेकपालपर #छुट्टी #holiday
#dearjindgi #Dosti
#thought #Quote #Humour
#Inspiration #philosophy #Love #Life #ShortStory #Poetry #story #Shayari

12 Love