tags

Best Worldteachersday Shayari, Status, Quotes, Stories, Poem

Find the Best Worldteachersday Shayari, Status, Quotes from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos.

  • 171 Followers
  • 182 Stories
  • Popular Stories
  • Latest Stories

"कैसे मोहब्बत करूं बहुत गरीब हूं ,, लोग बिकते हैं और मैं खरीद नहीं पाता,,."

कैसे मोहब्बत करूं बहुत गरीब 
हूं ,,
        
लोग बिकते हैं और मैं खरीद नहीं 
पाता,,.

#Worldteachersday LoVe YoU # @Sonu Dhaka @इं. अंकुर सिंह @tr.soumya chaudhary (madhubala) @🇦 🇳 🇰 🇮 🇹 🇮🇳 🇲OTIVATIO🇳0️⃣6️⃣

96 Love

"जिसने मुझे सही माने में जिंदगी जीना सिकाई वह है मेरे माता पिता और गुरु जन जिसने मुझे शिक्षा दी और श्रद्धा सही मार्ग पर चलना सिखाया और कांटो के मार्ग से बचाया फोटो फूलों की सेहेज पर चलाया"

जिसने मुझे सही माने में जिंदगी जीना सिकाई वह है मेरे माता पिता और  गुरु जन जिसने मुझे शिक्षा दी और श्रद्धा सही मार्ग पर चलना सिखाया और कांटो   के मार्ग से बचाया फोटो फूलों की  सेहेज पर चलाया

#Worldteachersday

16 Love

"खाली समय का सबसे अच्छा साथी " किताबें " हैं।"

खाली समय
 का 
सबसे अच्छा साथी 
 " किताबें "
 हैं।

खाली समय का सबसे अच्छा साथी किताबें हैं।



#Worldteachersday @Arsh @Mr. MANEESH @विवेक.... @नितिन पंडित @OM BHAKAT "MOHAN,(कलम मेवाड़ की)

22 Love

"पोथी पढ़ी पढ़ी जग मुआ पंडित हुआ न कोई ढाई आखर प्रेम का पढ़े सो पंडित होय।"

पोथी पढ़ी पढ़ी जग मुआ पंडित हुआ न कोई ढाई आखर प्रेम का पढ़े सो पंडित होय।

#Worldteachersday किताबे सब पढ़ पढ़ते हैं एवं पढ़ाते हैं लेकिन सिर्फ लाया है ही नहीं शिष्टाचार का ज्ञान होना भी बहुत एक बड़ी उपलब्धि है।

21 Love
1 Share

"{{{ गुरु चरणों मे समर्पित }}} गुरु जी गर साथ न मुझको तुम्हारा मिला होता । पूँछ विहीन पशु के समान मैं कहीं पे पड़ा होता ।। कुम्भार बन इस निराकार को आकार न दिया होता , जीवन के इस खूबसूरत सफ़र में फिर मैं कहाँ होता ।१। अगर गुरु पतवार न होता तो कोई भवपार न होता ! गुरु उपदेश के बगैर किसी को आत्मसात् न होता ।। कहीं क़द्र न होता विद्या और विद्वानो का इस जहाँ में , यदि देव,दैत्य,मानव को गुरु का साक्षात्कार नही होता !२! ~~ कवि राहुल पाल ~~"

{{{ गुरु चरणों मे समर्पित }}}

गुरु जी गर साथ न  मुझको तुम्हारा  मिला  होता ।
पूँछ  विहीन पशु के समान मैं कहीं पे पड़ा होता ।।
   कुम्भार बन इस निराकार को आकार न दिया होता ,
     जीवन के इस खूबसूरत सफ़र में फिर मैं कहाँ होता ।१।
अगर गुरु पतवार न होता तो कोई भवपार न होता !
गुरु उपदेश के बगैर किसी को आत्मसात् न होता ।।
  कहीं क़द्र न होता विद्या और विद्वानो का इस जहाँ में ,
      यदि देव,दैत्य,मानव को गुरु का साक्षात्कार नही होता !२!

                                     ~~  कवि राहुल पाल ~~

#Worldteachersday

{{{ गुरु चरणों मे समर्पित }}}

गुरु जी गर साथ न मुझको तुम्हारा मिला होता ।
पूँछ विहीन पशु के समान मैं कहीं पे पड़ा होता ।।
कुम्भार बन इस निराकार को आकार न दिया होता ,
जीवन के इस खूबसूरत सफ़र में फिर मैं कहाँ होता !१!

83 Love
1 Share