tags

Best akhbaar Shayari, Status, Quotes, Stories, Poem

Find the Best akhbaar Shayari, Status, Quotes from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos.

  • 30 Followers
  • 47 Stories
  • Popular Stories
  • Latest Stories

#shahar
#akhbaar

11 Love
76 Views

"बसना चाहती हूँ उनमें संसार की तरह संग रहना चाहती हूँ उनके यार की तरह पढ़ना चाहती हूँ उनको अखबार की तरह कैसे कहूँ ये मैं उनसे दिलदार की तरह....."

बसना चाहती  हूँ  उनमें  संसार  की तरह
संग रहना  चाहती  हूँ उनके  यार की तरह
पढ़ना  चाहती हूँ उनको अखबार  की तरह
कैसे  कहूँ ये मैं उनसे दिलदार की तरह.....

#akhbaar #Pyar

35 Love

"अख़बार कत'आ कभी गम कभी गम ख्वार ने सोने न दिया, कमबख्त दिल ए बीमार ने सोने न दिया, सुबह देखा तो खून में डूबा हुआ था, हमें तो आज के "अखबार" ने सोने न दिया। शेर मेरी ग़ज़लें छपी हैं माथे पर, उर्दू "अखबार" हो गए हो तुम। मतल'आ सच्चा एक "अखबार" होना चाहिए था, जीना कुछ दुश्वा र होना चाहिए था।"

अख़बार कत'आ
कभी गम कभी गम ख्वार ने सोने न दिया,
कमबख्त  दिल ए बीमार  ने सोने न दिया,
सुबह  देखा  तो  खून  में  डूबा  हुआ था,
हमें तो आज के "अखबार" ने सोने न दिया।

शेर
मेरी  ग़ज़लें छपी  हैं  माथे पर,
उर्दू "अखबार" हो गए हो तुम।

मतल'आ
सच्चा एक "अखबार" होना चाहिए था,
जीना  कुछ  दुश्वा र होना  चाहिए था।

#OpenPoetry #Challenge
#नए_शायर #hbsahil #नोजोटो #nojotohindi #rekhta #shair #Quote #Stories #akhbaar #qotd #Quoteoftheday #wordporn #Quotestagram #wordswag #wordsofwisdom #inspirationalquotes #writeaway #Thoughts #Poetry #instawriters #writersofinstagram #writersofig #writersofindia #igwriters #igwritersclub

62 Love

"Akhbaar ki trh use subh roz pdhne ki aadt si h mujhe."

Akhbaar ki trh use
subh roz pdhne
ki aadt si h
mujhe.

#akhbaar

162 Love
2 Share

"हर सुबह अखबार खून से लथपथ मेरे घर पर आता है घंटा फर्क नहीं पड़ता इससे कि, मेरा हिंदुस्तान अब भाईचारा चाहता है एक जमाना था जब अहमियत हुआ करती थी इस कागज़ के टुकड़े की रात को न्यूज़ चैनलों पर और सुबह सबके घरों पर यह नफरत पहुंचाता है 😠 #गुस्सा"

हर सुबह अखबार खून से लथपथ मेरे घर पर आता है

घंटा फर्क नहीं पड़ता इससे कि, मेरा हिंदुस्तान अब भाईचारा चाहता है

एक जमाना था जब  अहमियत हुआ करती थी इस कागज़ के टुकड़े की

रात को न्यूज़ चैनलों पर और सुबह सबके घरों पर यह नफरत पहुंचाता है 😠
#गुस्सा

#akhbaar #gussa #vichar

11 Love