tags

Best जी Shayari, Status, Quotes, Stories, Poem

Find the Best जी Shayari, Status, Quotes from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos.

  • 1548 Followers
  • 10445 Stories
  • Popular
  • Latest
  • Video

""

"#Chandrayaan2 लो जी, अब जो हम चाँद पर उतरने वाले है ओ जी, मेरे चंदा तेरे राज़ खुलने वाले है"

#Chandrayaan2 लो जी, अब जो हम चाँद पर उतरने वाले है 
ओ जी, मेरे चंदा तेरे राज़ खुलने वाले है

#Chandrayaan2
ओ जी, मेरे चंदा तेरे राज़ खुलने वाले है

537 Love
2 Share

" #NojotoVoice"

 #NojotoVoice

बेफिक्र होके जी ले ज़रा..

बेफ़िक्र होके तू जी ले ज़रा
पहन के ताज आफताब का
मान भी ले तू है मल्लिका-ए-खुशी
एक अल्हड़ हसी
झीलों संग जो बहती है
वो मदमस्त हवा

272 Love
3.5K Views
24 Share

""

"मैंने उससे बहुत कुछ इस दफा पूछना था सामने आते ही भूल गया कि क्या पूछना था वो मुझसे पूछने लगे हाँ जी बोलिये क्या हुआ मै हड़बड़ाहट में बोला जी वो एक पता पूछना था"

मैंने  उससे   बहुत   कुछ   इस   दफा पूछना था 
सामने  आते  ही  भूल  गया  कि  क्या पूछना था 

वो मुझसे  पूछने  लगे  हाँ जी  बोलिये  क्या  हुआ 
मै हड़बड़ाहट में बोला जी वो  एक पता पूछना था

#nojotohindi #NojotoWODHindiquotestatic #Love

197 Love
19 Share

""

"विधयक जी पूँछ बैठे हाउ इज द जोश सांसद जी हौक दिये जूते खो कर के होश #NojotoQuote"

विधयक जी पूँछ बैठे हाउ इज द जोश
सांसद जी हौक दिये जूते खो कर के होश
 #NojotoQuote

Indian Politics
#Nojoto #Politics

171 Love
13 Share

""

"जाने किसकी दुआओं से जी रहा हूँ मैं ज़हर ये ज़िंदगी का रोज़ पी रहा हूँ मैं दामने ज़ीस्त तो हमेशा ही से चाक रहा हूँ पुर उम्मीद इसे फिर भी सी रहा हूँ मैं प्यास बुझती भी मेरी तो किस तरह बुझती तमाम उम्र सराबों में ही रहा हूँ मैं हूँ मुत्मयिन कि अब हश्र कुछ भी हो मेरा हूँ बेख्याल कि बेमाने जी रहा हूँ मैं मेरी तारीक ज़िंदगी का कोई जश्न तो हो कि तीरगी के करीब भी रहा हूँ मैं समर से और क्या उम्मीद है ज़माने को कभी ज़माने का होकर नही रहा हूँ मैं #NojotoQuote"

जाने किसकी दुआओं से जी रहा हूँ मैं 
ज़हर ये ज़िंदगी का रोज़ पी रहा हूँ मैं 
दामने ज़ीस्त तो हमेशा ही से चाक रहा
हूँ पुर उम्मीद इसे फिर भी सी रहा हूँ मैं 
प्यास बुझती भी मेरी तो किस तरह बुझती
तमाम उम्र सराबों में ही रहा हूँ  मैं 
हूँ मुत्मयिन कि अब हश्र कुछ भी हो मेरा
हूँ बेख्याल कि बेमाने जी रहा हूँ मैं
मेरी तारीक ज़िंदगी का कोई जश्न तो हो
कि तीरगी के करीब भी रहा हूँ मैं 
समर से और क्या उम्मीद है ज़माने को
कभी ज़माने का होकर नही रहा हूँ मैं #NojotoQuote

 

166 Love
20 Share