tags

Best ChildrensDay2019 Shayari, Status, Quotes, Stories, Poem

Find the Best ChildrensDay2019 Shayari, Status, Quotes from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos.

  • 8 Followers
  • 8 Stories
  • Latest Stories

"मेरे दिल के किसी कोनें में इक मासूम सा बच्चा, बड़ों की देखकर दुनियाँ, बड़ा होने से डरता है. - सुरेंद्र सिंह"

मेरे दिल के किसी कोनें में इक मासूम सा बच्चा,
बड़ों की देखकर दुनियाँ, बड़ा होने से डरता है.

- सुरेंद्र सिंह

#ChildrensDay2019
.
.
#Quotes
#Shayari

5 Love

"तन से चंचल,मन के सच्चे थे हम, वो भी क्या दिन थे जब बच्चे थे हम, ना कल की फिक्र थी न किसी को खोने का डर, बस सुकून ही सुकून था चारो तरफ, अब जिम्मेदारियों के बोझ में दब गए हम, अक्सर सोचता हूँ कि बड़े क्यो हो गए हम, बचपन की वो रईसी न जाने कहाँ खो गयी, वो बरसात वाली नाव ना जाने किस नाले में खो गई, वो गैस वाला गुब्बारा जिसे मंदिर से लौटते वक्त लाते थे, और जिसके फूट जाने पर हम सबसे रूठ जाते थे, वो अम्मा की बेरी ना जाने किस गली की शोभा होगी, जिसे खाने के लिए हम रोज नए नए बहाने बनाते थे, वो मोहल्ले वाला क्रिकेट अब कहाँ खेल पाते है हम, अब कहाँ वो नेमा जी की पाइप, वो शर्मा जी की CFL तोड़ पाते है हम, वो लुक्का-छुपी का खेल भी तो कितना प्यारा लगता था, जिसमें छुपने में मजा और ढूढ़ने में दूसरो का सहारा लगता था, ऐसे तो सैकड़ो किस्से है कहाँ तक सुनाऊंगा, मैं कितनी भी कोशिश करूँ बच्चा नही बन पाऊंगा, वो उम्र, वो लहजा, वो आलम ही कुछ और था, जिंदगी खुलकर जीने का वो इकलौता दौर था, उम्मीद है इसे पढ़कर आपको भी कुछ याद आया होगा, शायद आपने भी अपने बचपन का एक अंश इन पंक्तियों में पाया होगा।"

तन से चंचल,मन के सच्चे थे हम,
वो भी क्या दिन थे जब बच्चे थे हम,
ना कल की फिक्र थी न किसी को खोने का डर,
बस सुकून ही सुकून था चारो तरफ,
अब जिम्मेदारियों के बोझ में दब गए हम,
अक्सर सोचता हूँ कि बड़े क्यो हो गए हम,
बचपन की वो रईसी न जाने कहाँ खो गयी,
वो बरसात वाली नाव ना जाने किस नाले में खो गई,
वो गैस वाला गुब्बारा जिसे मंदिर से लौटते वक्त लाते थे,
और जिसके फूट जाने पर हम सबसे रूठ जाते थे,
वो अम्मा की बेरी ना जाने किस गली की शोभा होगी,
जिसे खाने के लिए हम रोज नए नए बहाने बनाते थे,
वो मोहल्ले वाला क्रिकेट अब कहाँ खेल पाते है हम,
अब कहाँ वो नेमा जी की पाइप, वो शर्मा जी की CFL तोड़ पाते है हम,
वो लुक्का-छुपी का खेल भी तो कितना प्यारा लगता था,
जिसमें छुपने में मजा और ढूढ़ने में दूसरो का सहारा लगता था,
ऐसे तो सैकड़ो किस्से है कहाँ तक सुनाऊंगा,
मैं कितनी भी कोशिश करूँ बच्चा नही बन पाऊंगा,
वो उम्र, वो लहजा, वो आलम ही कुछ और था,
जिंदगी खुलकर जीने का वो इकलौता दौर था,
उम्मीद है इसे पढ़कर आपको भी कुछ याद आया होगा,
शायद आपने भी अपने बचपन का एक अंश इन पंक्तियों में पाया होगा।

#childrensDay2019 #children #trends #happychildrensday #Nojoto #nojotohindi

4 Love

To The Child In Everyone Of Us | Children's Day Special Video || Happy Children's Day
#ChildrensDay2019 #happychildrensday

280 Love
23776 Views
23 Share

"ना कुछ पाने की आशा ना कुछ खोने का डर, बस अपनी ही धुन, बस अपने सपनो का घर । "बचपन" #ChildrensDay2019"

ना कुछ पाने की आशा ना कुछ खोने का डर,
बस अपनी ही धुन, बस अपने सपनो का घर ।  "बचपन"
#ChildrensDay2019

#Happiness #nojoto

6 Love

"यादों की धुंध में वो लम्हा मुस्कुराया था जिस रात मेरे सपने में मेरा बचपन आया था।। मैं हंस रहा था , दोस्तों संग दौड़ रहा था खेल खेल में यादों का लम्हा बुन रहा था।। किसे पता था आज वो लम्हा ख्वाबों में आ जायेगा मैं तो अपनी थकान मिटाने के लिए ही सोया था एक झपकी लगी और बचपन दौड़ने लगा ये देख मैं खुद को भूलने लगा था।। आँख खुली तो हैरानी में उठ कर बैठ गया था चारों तरफ सिर घुमाकर वो बचपन ढूढ़ रहा था होश में आया तो हकीकत पे हँस रहा था आज रात मेरे सपने में मेरा बचपन आया था।।"

यादों की धुंध में वो लम्हा मुस्कुराया था
जिस रात मेरे सपने में मेरा बचपन आया था।।
मैं हंस रहा था , दोस्तों संग दौड़ रहा था
खेल खेल में यादों का लम्हा बुन रहा था।।

किसे पता था आज वो लम्हा ख्वाबों में आ जायेगा
मैं तो अपनी थकान मिटाने के लिए ही सोया था
एक झपकी लगी और बचपन दौड़ने लगा 
ये देख मैं खुद को भूलने लगा था।।

आँख खुली तो हैरानी में उठ कर बैठ गया था
चारों तरफ सिर घुमाकर वो बचपन ढूढ़ रहा था
होश में आया तो हकीकत पे हँस रहा था
आज रात मेरे सपने में मेरा बचपन आया था।।

#ChildrenDay #bachpan #ChildrensDay2019 #happychildrensday

14 Love
3 Share