tags

Best दी Shayari, Status, Quotes, Stories, Poem

Find the Best दी Shayari, Status, Quotes from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos.

  • 1165 Followers
  • 8181 Stories
  • Popular Stories
  • Latest Stories

#ज़िंदगी #तूने #मुझे #क़ब्र #से #कम #दी #है #ज़मीं , #पाँव #फैलाऊँ #तो #दीवार #में #सर #लगता #है ,

35 Love
287 Views

"शुभ दीपावली साफ़ सुथरी दिवाली मनाते चलो, गीत गाना खुशी से तुम गाते चलो , कोशिश करो यार अबकी दिवाली, कोई गरीब न रह जाये खाली, मनाने से अपनी वो happy दिवाली, सींमा का प्रहरी वो सूरज की लाली, देश के सैनिक को नमन हो ये happy दिवाली, शहीदों को भी तुम अबकी करना सलाम्, इस दिवाली एक दिया भारत के शहीदों के नाम । शुभ दीपावली.... ✍️rahulyadav"

शुभ दीपावली 
 साफ़ सुथरी दिवाली मनाते चलो, 
गीत गाना खुशी से तुम गाते चलो ,
कोशिश करो यार अबकी दिवाली, 
कोई गरीब न रह जाये खाली, 
मनाने से अपनी वो happy दिवाली,
सींमा का प्रहरी वो सूरज की लाली,
देश के सैनिक को नमन हो ये happy दिवाली, 
शहीदों को भी तुम अबकी करना सलाम्,
इस दिवाली एक दिया भारत के शहीदों के नाम ।

शुभ दीपावली.... 
✍️rahulyadav

#Diwali #खुशिओं_से_भरी_हो_सबकी_दिवाली ...#जय #माता #दी

28 Love

"आज भगवान ने मुझे आगे बढ़ाना शुरू कर दिया है दिन_ब_दिन मेरी प्रगति होती ही जा रही है और आज उस ऊपरवाले ने मुझे एक नयी दोस्त भी दी है इसने मेरी ज़िन्दगी में आते ही मुझे खुशिया दी है उस फ्रेंड का नाम भी इत्तफाक से यही है प्रगति"

आज भगवान ने मुझे आगे बढ़ाना शुरू कर दिया है 
दिन_ब_दिन मेरी प्रगति होती ही जा रही है 
और आज उस ऊपरवाले ने मुझे एक नयी
 दोस्त भी दी है
 इसने मेरी ज़िन्दगी में आते ही मुझे खुशिया दी है 
उस फ्रेंड का नाम भी इत्तफाक से यही है
प्रगति

#pragati WRITER BY RAJAL THAKKAR 😍🥰😘😇🤗😘😘😇😘😚😘😊😍🥰🤗

35 Love

"माँ हो, माँ का अवतार तो तुम इस जीवन के सृजन का आधार हो तुम, बहन हो, बेटी हो, हर कुल की रक्षक कभी लक्ष्मी, कभी सरस्वती, तो कभी दुर्गा का अवतार हो तुम..."

माँ हो, माँ का अवतार तो तुम
इस जीवन के सृजन का आधार हो तुम,
बहन हो, बेटी हो, हर कुल की रक्षक
कभी लक्ष्मी, कभी सरस्वती,
तो कभी दुर्गा का अवतार हो तुम...

Happy Navaratri Guys... ☺️☺️
Read in Caption..
Comment, share and tag if you like it...
🔹🔸🔹🔸🔹🔸🔹🔸🔹🔸🔹🔸🔹🔸
..............................................................
|| जय माता दी ||
..............................................................

115 Love
2 Share

"भोर की बेला में निकल जाता है पोटली में बांधे गरम गरम रोटियां। रामकिशुन कुछ प्याज के टुकड़े और गुड़ भी रख दी है ! नई नवेली मेहरारु ने। धरती को चीरना है ' कड़ा श्रम भरी दुपहरी पसीने से नहाया बदन । धरती को चीरता रामकिशुन ! अनगिनत सपनों को साकार करने का भ्रम । सपने तो सपने ही होते हैं ! पुरा भी हुआ एक सपना जब ब्याह कर लाया था ! सुंदर सुघड़ कजरारे नैनो वाली मरद होने का अहसास कराकर शर्म हया से सकुचाई ! रगों मे भर दी थी एक नयी उर्जा । अब अकेला नही है रामकिशुन उसकी संगिनी है साथ में ! स्री धर्म को निभाने के लिये । हारा नहीं है मौसम ने लाख दुश्मनी निभायी । बढता रहा है कर्म पथ पर ! कभी न कभी वो सुबह तो आयेगी ! दूर तलक खेतों में सोने जैसी फसल लहलहायेगी। संजय श्रीवास्तव"

भोर की बेला में
निकल जाता है 
पोटली में बांधे 
गरम गरम रोटियां। 
रामकिशुन
कुछ प्याज के टुकड़े 
और गुड़ भी रख दी है !
नई नवेली मेहरारु ने।
धरती को चीरना है '
कड़ा श्रम भरी दुपहरी 
पसीने से नहाया बदन ।
धरती को चीरता रामकिशुन !
अनगिनत सपनों को 
साकार करने का भ्रम । 
सपने तो सपने ही होते हैं !
पुरा भी हुआ एक सपना 
जब ब्याह कर लाया था !
सुंदर सुघड़ कजरारे नैनो वाली 
मरद होने का अहसास कराकर 
शर्म हया से सकुचाई !
रगों मे भर दी थी एक नयी उर्जा ।
 अब  अकेला नही है रामकिशुन 
उसकी संगिनी है साथ में !
स्री धर्म को निभाने के लिये ।
हारा नहीं है 
मौसम ने लाख दुश्मनी निभायी ।
बढता रहा है कर्म पथ पर !
कभी न कभी 
वो सुबह तो आयेगी !
दूर तलक खेतों में
सोने जैसी फसल लहलहायेगी। 
संजय श्रीवास्तव

रामकिशुन

13 Love
1 Share