tags

Best मेरा Shayari, Status, Quotes, Stories, Poem

Find the Best मेरा Shayari, Status, Quotes from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos.

  • 5434 Followers
  • 35010 Stories
  • Popular
  • Latest
  • Video

""

"जो कल एक उम्मीद थी आज वो मेरा हौंसला है जो कल सिर्फ़ तिनके थे आज वो मेरा घोंसला है Internet Jockey #NojotoQuote"

जो कल एक उम्मीद थी
आज वो मेरा हौंसला है
जो कल सिर्फ़ तिनके थे
 आज वो मेरा घोंसला है
Internet Jockey #NojotoQuote

Hindi Motivational 2 lines
Motivational lines in Hindi

1.3K Love
58 Share

वो मेरा हमसफर भी था
वो मेरा रहगुज़र भी था
मंजिलें ही एक न थी
दरमियाॉ ये फासला भी था

1.1K Love
30 Share

आज खामोश हूँ क्योंकि वक्त पर नहीं जोर मेरा,
जब वक्त बदलेगा तो हर तरफ होगा शोर मेरा.

694 Love
14 Share

""

"शब का सफर मेरा , तेरे हिज़्र में यूं कटता है, रोज़ तेरे ज़िक्र में, एक पन्ना लिखा जाता है रोज़ तेरी फ़िक्र में, एक पन्ना मेरा फटता है"

शब का सफर मेरा ,
तेरे हिज़्र में यूं कटता है,
रोज़ तेरे ज़िक्र में, 
एक पन्ना लिखा जाता है
रोज़ तेरी फ़िक्र में, 
एक पन्ना मेरा फटता है

#shab #Nojoto

583 Love
43 Share

""

"ये रूहानी खुशी जो मुझमे झलकी हैं ये और कुछ नहीं तेरी लगी आदत की दिल्लगी हैं मिले थे हम जब पहली दफा एक अनछुआ ,अनकहा एहसास मात्र था देखो ना आज मेरी जिंदगी के हर हिस्से में मौजूद हैं ये और कुछ नहीं बस मुझे तेरी आदत हैं वो मुलाकाते वो देर जगके सुनी जो बात कुछ सुलझे कुछ अनसुलझे अल्फाज जो बयां हुए थे हमारे बीच ये और कुछ नहीं बस मुझे तेरी आदत हैं इसलिए तुझसे शिकायत जो रही अब फिर वो पल लाना नामुमकिन होता जा रहा पर फिर भी वो ही दिल को बहुत याद आ रहा ये और कुछ नहीं बस अब मुझे तेरी आदत हो रही इसीलिए शिकायत हो रही वो समय के साथ मेरी गुस्ताखियां बड़ी हसीन लगती थी क्योकि तुझे इंतज़ार कराने में मुझे खुशी मिलती थी ये और कुछ नहीं बस अब मुझे तेरी आदत हो गई इसलिए शिकायत हो रही वो लम्हा वही ठहरे ऐसा तो मैं चाहती ही थी पर ये सफर यूं ही चलता रहा बस कभी थमे नहीं पर वक़्त मेरा बेरी बन गया वो आज बड़ा जहरी लगा ये और कुछ नहीं तेरी आदत हो गई इसलिए तुजसे शिकायत हो रही हाथ थाम था जब तूने मेरा मैं एकेली थी तूने सम्भल था मुझे उसी अनजाने रिश्ते से आगे बढ़ी थी मैं जिंदगी भर के सफर के लिए ये और कुछ नहीं आदत हैं तेरी मुझे इसलिए शिकायत हो रही"

ये रूहानी खुशी जो मुझमे झलकी हैं
ये और कुछ नहीं तेरी लगी आदत की दिल्लगी हैं
मिले थे हम जब पहली दफा
एक अनछुआ ,अनकहा एहसास मात्र था
देखो ना आज मेरी जिंदगी के हर हिस्से में मौजूद हैं
ये और कुछ नहीं बस मुझे तेरी आदत हैं
वो मुलाकाते वो देर जगके सुनी जो बात
कुछ सुलझे कुछ अनसुलझे अल्फाज जो बयां हुए थे हमारे बीच
ये और कुछ नहीं बस मुझे तेरी आदत हैं
इसलिए तुझसे शिकायत जो रही
अब फिर वो पल लाना नामुमकिन होता जा रहा
पर फिर भी वो ही दिल को बहुत याद आ रहा
ये और कुछ नहीं बस अब मुझे तेरी आदत हो रही
इसीलिए शिकायत हो रही
वो समय के साथ मेरी गुस्ताखियां बड़ी हसीन लगती थी
क्योकि तुझे इंतज़ार कराने में मुझे खुशी मिलती थी
ये और कुछ नहीं बस अब मुझे तेरी आदत हो गई
इसलिए शिकायत हो रही
वो लम्हा वही ठहरे ऐसा तो मैं चाहती ही थी
पर ये सफर यूं ही चलता रहा बस कभी थमे नहीं
पर वक़्त मेरा बेरी बन गया वो आज बड़ा जहरी लगा
ये और कुछ नहीं तेरी आदत हो गई
इसलिए तुजसे शिकायत हो रही
हाथ थाम था जब तूने मेरा मैं एकेली थी तूने सम्भल था मुझे
उसी अनजाने रिश्ते से आगे बढ़ी थी मैं जिंदगी भर के सफर के लिए
ये और कुछ नहीं आदत हैं तेरी मुझे
इसलिए शिकायत हो रही

 

573 Love
2 Share